जानें बच्चों में अंधापन क्यों होता है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट April 4, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

“मेरी डेढ़ साल की बेटी है। मैं प्रेग्नेंसी के दौरान स्वस्थ थी लेकिन, मन में कई सवाल उठते थे कि मेरा बच्चा जन्म के बाद कैसा होगा? हेल्दी होगा या नहीं? और न जाने ऐसे ही कई सवाल लेकिन, जब मेरी बेटी का जन्म हुआ और मुझे पता चला वह बिलकुल ठीक है तो मैंने राहत भरी सांस ली।” यह कहना है दिल्ली की रहने वाली 34 वर्षीय शिल्पा सरदाना का। एक मीडिया रिपोर्ट के अनुसार साल 2020 के दस्तक देने के साथ ही दुनिया भर में लगभग 400,000 शिशुओं का जन्म हुआ था। जिसमें भारत में जन्में शिशुओं की संख्या 67,385 थी। जरा सोचिये इन बच्चों के पेरेंट्स की ख्वाइश यही होगी की उनका जन्म लेने वाला बच्चा स्वस्थ हो। उसमें कोई शारीरिक परेशानी न हो।

हालांकि लाख कोशिशों के बाद भी कुछ शिशुओं में कोई न कोई शारीरिक परेशानी होने के साथ ही बच्चों में अंधापन भी हो जाता हैं। कुछ बच्चों में जन्म से ही देखने की क्षमता कम या न के बराबर होती है। जन्म लेने वाले शिशु के शारीरिक विकास की तरह ही आंखों का भी विकास होता है। नवजात बच्चा अपनी आंखें कम खोलता है लेकिन, माता-पिता को ध्यान रखना चाहिए की वो जब आंख खोले तो उसके दोनों आंखों की आई बॉल की मूवमेंट होती है या नहीं। आप अपनी उंगली की मदद से इसे समझ सकते हैं। शिशु जब आंख खोले तो बस आप अपनी उंगली की मूवमेंट करें और देखें बच्चा उस ओर देखता है या नहीं।

यह भी पढ़ें:- प्रेग्नेंसी में म्यूजिक क्यों है जरूरी?

बच्चों में अंधापन के क्या हैं कारण?

बच्चों में अंधापन होने के निम्नलिखित कारण हो सकते हैं। जैसे:-

  • विजन प्रॉब्लम गर्भ में पल रहे शिशु को गर्भावस्था के दौरान भी शुरू हो सकती है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि जब गर्भ में शिशु का विकास हो रहा होता है उस दौरान आंख ठीक तरह से विकसित न होने की स्थिति में विजन प्रॉब्लम शुरू हो जाती है। अगर मस्तिष्क का विकास भी ठीक तरह से न होने की स्थिति में भी बच्चों में अंधापन की समस्या हो सकती है। दरअसल ऑप्टिक नर्व मस्तिष्क को तस्वीर भेजने का काम करती है और मस्तिष्क से ही संदेश मिलने के बाद देखने की समस्या नहीं होती है। यह सारी प्रक्रिया काफी तेजी से होती है।
  • बच्चों में अंधापन जेनेटिकल भी हो सकती है, जिसका अर्थ है कि यह समस्या माता-पिता से या ब्लड रिलेशन में ऐसी परेशानी होने पर हो सकती है।  
  • बच्चों में अंधापन किसी दुर्घटना के कारण भी हो सकती है। अगर कोई चीज आंख को नुकसान पहुंचाती है। ऐसा नवजात शिशु में भी हो सकता है। 
  • अगर बच्चे में डायबिटीज की समस्या है, तो ऐसी स्थिति में भी बच्चों में अंधापन हो सकता है।

यह भी पढ़ें: शिशु में विजन डेवलपमेंट से जुड़ी इन बातों को हर पेरेंट्स को जानना है जरूरी

इन कारणों के साथ-साथ बच्चों में अंधापन निम्नलिखित कारणों की वजह से भी हो सकती है। जैसे:-

  • शिशु के आंख में इंफेक्शन होना और ऐसी स्थिति में नवजात की आंखें गुलाबी हो जाना
  • आंसू आने वाले डक्ट ब्लॉक हो जाना
  • मोतियाबिंद
  • क्रॉस्ड आई
  • कॉनजेनाइटल ग्लूकोमा
  • पल्कों का झुका हुआ होना
  • आंखों का विकास सामान्य से धीमा होना

यह भी पढ़ेंः नवजात शिशु का मल उसके स्वास्थ्य के बारे में क्या बताता है?

बच्चों में अंधापन के लक्षण क्या हैं?

बच्चों में अंधापन के लक्षण निम्नलिखित हैं। जैसे:-

शिशुओं एवं बच्चों में अंधापन होने पर आंखों में लालिमा होना,पानी आना, आंखों का बड़ा होना, किसी भी वस्तु पर ध्यान केंद्रित नहीं कर पाना, ऐसे काम करने की इच्छा न होना जिसमें ठीक तरह से देखकर करना हो और कॉर्निया में परेशानी होना। इसके साथ ही अलग लक्षण हो सकते हैं। इस दौरान यह समझना बेहद जरूरी है कि शिशु में अंधापन अलग-अलग तरह की भी हो सकती है।

यह भी पढ़ेंः मल्टिपल गर्भावस्था के लिए टिप्स जिससे मां-शिशु दोनों रह सकते हैं स्वस्थ

बच्चों में अंधापन का इलाज कैसे किया जाता है?

शिशुओं में अंधेपन के इलाज के लिए निम्नलिखित बिंदुओं को ध्यान रखें। जैसे:-

  • सबसे पहले नेत्र रोग विशेषज्ञ के साथ अपॉइंटमेंट तय करें, यदि आप अपने बच्चे में ऊपर बताये गए लक्षण या आंखों से जुड़ी अन्य समस्या को नोटिस कर रहे हैं। ऐसे वक्त या ऐसी स्थिति में घबराये नहीं और वक्त बर्बाद न करते हुए इलाज शुरू करवाएं। 
  • डॉक्टर आमतौर पर आपके द्वारा देखे गए बच्चें में उन लक्षणों के बारे में पूछेंगे और समझने की कोशिश करेंगे। इस दौरान बच्चे की आई चेकअप की जायेगी।
  • कुछ बच्चों को चश्मा या कॉन्टैक्ट लैंस लगाने की सलाह डॉक्टर देते हैं।
  • बच्चों में अंधापन होने पर कई बार डॉक्टर सर्जरी की सलाह देते हैं। आई सर्जरी की मदद से बच्चे फिर से देख सकते हैं। 
  • कई बार बच्चों में अंधापन पौष्टिक आहार, विटामिन और खनिज तत्वों की कमी की वजह से भी हो सकती है। ऐसी स्थिति में उन बच्चों के डायट पर खास ध्यान रखा जाता है।

यह भी पढ़ेंः शिशु के जन्म का एक और विकल्प है हिप्नोबर्थिंग

बच्चों में विजुअल इम्पेयरमेंट होने पर क्या करना चाहिए?

  • अगर आपका शिशु या बच्चा देखने में असमर्थ होता है, तो ऐसे बच्चों को माता-पिता का पूर-पूरा सपोर्ट मिलना चाहिए।
  • बच्चे को ब्रेल सीखने के लिए प्रोत्साहित करें। ब्रेल सिखने से दृष्टिहीन बच्चे आसानी से पढ़ सकते हैं। उसे अच्छी-अच्छी किताबे पढ़ने दें। 
  • नेत्रहीन बच्चों के लिए स्कूल भी होते हैं, जहां आप अपने बच्चे को पढ़ने के लिए भेज सकते हैं। यहां वो अपने जैसे अन्य बच्चों से मिलकर अपने आपको अकेला महसूस नहीं करेगा। 
  • आपका बच्चा जो पसंद करता है उसे वह करने की आजादी दें न की उसे रोकें या जबरदस्ती उसे कुछ और करने को कहें।
  • अपने बच्चे को नई-नई टेक्नोलॉजी और डॉक्टर के साथ संपर्क में रखें। ऐसा करने से आपके बच्चे को उसकी दृष्टि वापस लाने में मदद मिल सकती है। क्योंकि बढ़ती टेक्नोलॉजी की मदद से वह वापस इस खूबसूरत दुनिया को देख सकता है और अपनी जिंदगी बिना किसी पर आश्रित हुए जी सकता है।  
  • किसी भी माता-पिता के लिए अपने बच्चे के अंधेपन के बारे में जानना एक बड़ा झटका हो सकता है लेकिन, आपको ऐसे वक्त में यह समझने की जरूरत  है कि आपके बच्चे को  इलाज से भी पहले अगर किसी की जरूरत होती तो आप होंगे। इसलिए अपने आपको स्ट्रॉन्ग बनायें और उसपर ब्लाइंडनेस न हाबी होने दें। कई माता-पिता अपने बच्चे की कमजोर दृष्टि के बारे में दोषी महसूस करते हैं। ऐसा किसी भी पेरेंट्स को नहीं सोचना चाहिए। सिर्फ इच्छा शक्ति मजबूत रखनी चाहिए। 

अगर आप बच्चों में अंधापन से जुड़े किसी तरह के कोई सवाल का जवाब जानना चाहते हैं तो विशेषज्ञों से समझना बेहतर होगा। हैलो हेल्थ ग्रुप किसी भी तरह की मेडिकल एडवाइस, इलाज और जांच की सलाह नहीं देता है।

और पढ़ेंः-

नवजात शिशु का मल उसके स्वास्थ्य के बारे में क्या बताता है?

Osteomyelitis : ऑस्टियोमाइलाइटिस क्या है?

MTHFR गर्भावस्था: पोषक तत्व से वंचित रह सकता है आपका शिशु!

शिशुओं की सुरक्षा के लिए फॉलो करें ये टिप्स, इन जगहों पर रखें विशेष ध्यान

शिशु की देखभाल के जानने हैं टिप्स तो खेलें क्विज

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

Was this article helpful for you ?
happy unhappy
सूत्र

संबंधित लेख:

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    जानें बच्चे को बिजी रखने के टिप्स, आसानी से निपटा सकेंगी अपना काम

    जानिए बच्चे को बिजी रखने के टिप्स क्या-क्या हैं? कैसे बच्चे को बिजी रखने के टिप्स को अपनाने के साथ-साथ आपके बच्चे हो जाएंगे और भी स्मार्ट।

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Shruthi Shridhar
    के द्वारा लिखा गया Kanchan Singh

    आंखों पर स्क्रीन का असर हाेता है बहुत खतरनाक, हो सकती हैं कई बड़ी बीमारियां

    आंखों पर स्क्रीन का असर तब होता है जब हम ज्यादा देर तक टीवी, कंप्यूटर, फोन चलाते हैं। उससे होने वाली बीमारी व लक्षण के साथ बचाव पर आर्टिकल।

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Satish singh

    क्या पलकें झड़ रही हैं? दोबारा पलकें आना है आसान, अपनाएं टिप्स

    पलकों का झड़ना कैसे रोकें, दोबारा पलकें आना कैसे शुरू हो, दोबारा पलकें क्या आ जायेंगे, पलक झड़ने के घरेलू उपाय, eyelashes shed off grow again in Hindi.

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha

    आंखों का टेढ़ापन क्या है? जानिए इससे बचाव के उपाय

    आंखों का टेढ़ापन क्यों होता है। आंखों का टेढ़ापन कैसे दूर किया जा सकता है। फोन और कंप्यूटर के इस्तेमाल के कारण ये समस्या हो सकती है। कम उम्र में जांच कराए तो इसका इलाज संभव है।

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Satish singh
    आंख की बीमारी, आंखों की देखभाल April 15, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

    Recommended for you

    बार-बार तेल गर्म करना

    बार-बार तेल गर्म करना पड़ सकता है सेहत पर भारी, जानें कैसे?

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
    प्रकाशित हुआ July 8, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
    थायराइड डाइट प्लान

    थायराइड डाइट प्लान अपनाकर पाएं हेल्दी लाइफस्टाइल, बीमारी से रहे दूर

    के द्वारा लिखा गया Satish singh
    प्रकाशित हुआ July 6, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें
    बेबी हार्ट मर्मर

    बेबी हार्ट मर्मर के क्या लक्षण होते हैं? कैसे करें देखभाल

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Satish singh
    प्रकाशित हुआ May 19, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
    बच्चों को खुश रखने के टिप्स -how to keep your kids happy

    क्या आप जानते हैं बच्चों को खुश रखने के टिप्स?

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Shruthi Shridhar
    के द्वारा लिखा गया Kanchan Singh
    प्रकाशित हुआ May 15, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें