आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

Birth Plan: बर्थ प्लान करते समय इन बातों का रखें विशेष ध्यान

    Birth Plan: बर्थ प्लान करते समय इन बातों का रखें विशेष ध्यान

    आपने गर्भावस्था के नाजुक नौ महीने बहुत ही ध्यान से बिताए हैं। अब आपके प्रसव की नियत तिथि करीब आने वाली है। जल्द ही नन्हीं-सी जान जिसे नौ महीने अपने गर्भ में रखा आपकी गोद में होगा। आपके मन में अब बहुत सवाल आ रहे होंगे। एक सवाल मैं पूछना चाहता हूं कि क्या आपने शिशु के स्वागत के लिए तैयारियां कर ली हैं? नहीं, तो यहां जानें कि शिशु के स्वागत की कैसी तैयारियां (बर्थ प्लान) करनी चाहिए।

    और पढ़ें: एमनियॉटिक फ्लूइड क्या है? गर्भ में पल रहे शिशु के लिए के लिए ये कितना जरूरी है?

    जन्म योजना (बर्थ प्लान) क्या है?

    बर्थ प्लान एक तरह का डॉक्यूमेंटेशन होता है जो आपकी मेडिकल टीम को आपकी प्रसव और लेबर (Labour) संबंधी प्राथमिकताओं के बारे में बताता है। यहां यह ध्यान रखें कि आप प्रसव और उसके हर पहलू को कंट्रोल नहीं कर सकती। आपको प्रसव के दौरान बहुत फ्लेक्सिबल होना चाहिए ताकि डिलिवरी के समय डॉक्टर्स जरूरत पड़ने पर आपकी प्राथमिकताओं से अलग कुछ कर सके। हालांकि, यदि आपके पास प्रिंटेड बर्थ प्लान है तो वे आपकी प्राथमिकताओं को तरजीह दे सकते हैं। वे आपसे या आपके पार्टनर से वक्त की अहमियत को समझते हुए प्रसव के लिए जरूरी कदम उठाने पर बात कर सकते हैं।

    और पढ़ें : लेबर पेन के शुरू होने की तरफ इशारा करते हैं ये 7 संकेत

    बर्थ प्लान में क्या शामिल है?

    एक बर्थ प्लान में न सिर्फ लेबर और डिलिवरी संबंधी आपकी प्राथमिकताओं का जिक्र होता है, बल्कि शिशु के जन्म के बाद घर पहुंचने पर की जाने वाली चेकलिस्ट भी शामिल होती हैं। इसमें निम्नलिखित तैयारियां शामिल हैं।

    1. बर्थ प्लान में बताएं कि आप शिशु को कैसे अपने पास रखना चाहती हैं

    नॉर्मल डिलिवरी (Normal delivery) के बाद शिशु को आमतौर पर आपके ऊपर रखा जाता है और गर्म कंबल के साथ कवर किया जाता है। आप अपने डॉक्टर या नर्स को बता सकती हैं कि आप प्रसव के तुरंत बाद अपने शिशु को पकड़ना पसंद करेंगी। आप उन्हें यह भी बता सकती हैं कि आप चाहती हैं कि आपका बच्चा पहले थोड़ा ड्राई हो जाए या उसे साफ किया जाए।

    और पढ़ें : प्रेग्नेंट हैं? लेबर की स्टेज के बारे में जरूर जानें

    2. प्लान बर्थ में घर को शिशु के लिए रेडी रखना शामिल करें

    गर्भावस्था में नौ महीने शिशु को लेकर कई सपने संजोए होंगे। अब वक्त आ गया है कि आप उन्हें हकीकत में बदल सकती हैं। अगर आपको घर में कुछ खास डेकोरेशन करवानी हो तो इनके बारे में लेबर से पहले ही प्लान तैयार कर लें। आप शिशु के साथ एक ही बेड पर सोने वाली हैं या उसे अलग सुलाएंगी यह कंफर्म कर लें। शिशु के लिए बेड सुरक्षित और मुलायम हो इस बात का विशेष ध्यान रखें। कमरे में शिशु की नैपी, कपड़े, बाथ प्रोडक्ट्स और अन्य चीजों के लिए अलग अलमारी रखें। शिशु का सामान एक जगह पर होगा तो शिशु के घर आने पर आपके लिए आसानी होगी।

    3. बर्थ प्लान बनाते वक्त शॉपिंग लिस्ट तैयार कर लें

    कई परिवारों में शिशु के लिए सामान जन्म से पहले नहीं खरीदने की परंपरा होती है। यदि आपके यहां भी शिशु के जन्म से पहले उसके लिए शॉपिंग न करने की परंपरा है, तो आप उन सब की लिस्ट पहले से ही तैयार कर लें। आप लिस्ट में अपनी सहूलियत के लिए सामान के आगे किसी शॉप का नाम लिख सकती हैं। आप अभी इस हालात में नहीं हैं कि खुद शॉपिंग करने जाएं। इसलिए ये लिस्ट शॉपिंग के लिए जाने वाले घर के सदस्य को सामान ढूंढने में मदद करेगी।

    और पढ़ें : फॉल्स लेबर पेन के लक्षण : न खाएं इनसे धोखा

    4. घर का साफ और सेफ रखना बर्थ प्लान की पहली प्राथमिकता में शामिल करें

    अगर आपको घर को डेकोरेट करना पसंद है तो शिशु के स्वागत के लिए घर को तैयार कर इसका पूरा फायदा उठाएं। आप चाहें तो इसमें किसी की मदद भी ले सकती हैं। हालांकि, यह सलाह है कि खुद को थकाएं नहीं और साफ-सफाई के उत्पादों को लेकर सावधानी बरतें। क्योंकि इनमें से कुछ उत्पाद गर्भवती महिला और नवजात शिशु की मां के लिए सुरक्षित न हों। बेहतर है कि आप अपनी हेल्पर से इन उत्पादों के इस्तेमाल के लिए कहें।

    5. खुद की देखभाल के लिए किसी को पास रखना भी बर्थ प्लान में करें शामिल

    शिशु के जन्म के बाद जितना जल्दी हो सके उतना जल्दी आप अपनी मदद के लिए किसी को अपने पास रखें। बर्थ प्लान में यह योजना भी बना लें कि जब आप थकी होंगी तो आपकी मदद कौन कर सकता है। यदि आपकी सास, मां, बहन या परिवार का कोई सदस्य तैयार है, तो उनके साथ पहले से ही घर के कामकाज और रसोई की जिम्मेदारियों को लेकर योजना बना लें। अगर घर में कोई मौजूद न हों तो इन-हाउस मेड का विकल्प चुन सकती हैं।

    और पढ़ें : गर्भावस्था में पालतू जानवर से हो सकता है नुकसान, बरतें ये सावधानियां

    6. बर्थ प्लान में इस बात को न करें इग्नोंर

    नन्हें शिशु के स्वागत के लिए केवल आप और आपके पति को ही बदलाव करने की जरुरत नहीं है, बल्कि आपके पेट्स को भी इसके लिए तैयार होना पड़ता है। यदि आपका पालतू कुत्ता या बिल्ली आपके बिस्तर पर सोता रहा है तो उनके सोने का इंतजाम घर में किसी और जगह कर दें। ताकि उन्हें कमरे से बाहर रहने की आदत हो जाए।

    बर्थ प्लान प्रसव और लेबर के दौरान तथा डिलिवरी के बाद की प्राथमिकताओं का एक रिकॉर्ड होता है। जो आपके डॉक्टर या परिवार को आपकी मानसिक स्थिति और तैयारियों के बारे में अवगत कराता है।

    अगर आप सिजेरियन डिलिवरी के जरिए शिशु को जन्म देने वाली हैं और आपको पहले से ही इसकी जानकारी है तो आप सी-सेक्शन बर्थ प्लान (C-section birth plan) कर सकती हैं।

    और पढ़ें: हनीमून के बाद बेबीमून, इन जरूरी बातों का ध्यान रखकर इसे बनाएं यादगार

    सी-सेक्शन बर्थ प्लान के दौरान कुछ बातों का रखें ध्यान (Tips for C-section birth plan)

    अगर आपका सिजेरियन इलेक्टिव है तो आप सी-सेक्शन बर्थ प्लान कर सकती हैं। आपको इसके लिए हॉस्पिटल नर्स से बात करनी होगी जैसे कि-

    • सी-सेक्शन बर्थ प्लान (C-section birth plan) करते समय ये निश्चित करें कि जन्म के समय आपके साथ कौन रहना चाहता है?
    • सी-सेक्शन बर्थ प्लान करते वक्त ये जरूर पूछें कि आप जन्म के समय अगर बच्चे की तस्वीर ले सकती हैं।
      अगर आप बच्चे को पैदा होते हुए देखना चाहती हैं तो इसके लिए स्क्रीन की जरूरत पड़ेगी। आपको इसके लिए हॉस्पिटल में पहले से बात करनी होगी।
    • अगर आप सबसे पहले अपने बच्चे से बात करना चाहती हैं तो इसके लिए भी सी-सेक्शन बर्थ प्लान करते वक्त तैयारी कर सकती हैं ताकि सभी डॉक्टर्स कुछ समय के लिए आवाज न करें।
    • सर्जरी के दौरान खून की कमी होने पर खून चढ़ाने की जरूरत होती है। आप ऐसे व्यक्ति को भी अपने साथ ला सकती हैं जिसका ब्लड ग्रुप (Blood Group) आपसे मिलता हो। वैसे तो डॉक्टर अपने पास इंतजाम रखते हैं, लेकिन अगर आप ऐसा कर सके तो भी ठीक है। सी-सेक्शन बर्थ प्लान करते वक्त इस बात का भी ध्यान रखें।

    हम उम्मीद करते हैं कि बर्थ प्लान पर आधारित यह आर्टिकल आपको पसंद आया होगा। बर्थ प्लान के सबंध में किसी प्रकार की जानकारी के लिए डॉक्टर से पहले ही कंसल्ट कर लें। हैलो हेल्थ ग्रुप किसी प्रकार की चिकित्सा सलाह, उपचार और निदान प्रदान नहीं करता।

    health-tool-icon

    ड्यू डेट कैलक्युलेटर

    अपनी नियत तारीख का पता लगाने के लिए इस कैलक्युलेटर का उपयोग करें। यह सिर्फ एक अनुमान है - इसकी गैरेंटी नहीं है! अधिकांश महिलाएं, लेकिन सभी नहीं, इस तिथि सीमा से पहले या बाद में एक सप्ताह के भीतर अपने शिशुओं को डिलीवर करेंगी।

    सायकल लेंथ

    28 दिन

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    सूत्र

    My birth plan/https://www.nhs.uk/conditions/pregnancy-and-baby/documents/birth-plan-blank-form-nhs-choices-pregnancy-baby.pdf/Accessed on 29/12/2021

    What to include in your birth plan/https://medlineplus.gov/ency/patientinstructions/000567.htm/Accessed on 29/12/2021

    Evolution of the Birth Plan/https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC1948092/Accessed on 29/12/2021

    Developing a birth plan/https://www.betterhealth.vic.gov.au/health/servicesandsupport/developing-a-birth-plan/Accessed on 29/12/2021

    Your Guide to a Healthy Birth/https://www.health.ny.gov/publications/2935.pdf/Accessed on 29/12/2021

    Effect of Implementing A Birth Plan on Womens’ Childbirth Experiences and Maternal & Neonatal Outcomes/https://files.eric.ed.gov/fulltext/EJ1083654.pdf/Accessed on 29/12/2021

     

     

     

    लेखक की तस्वीर badge
    Nikhil Kumar द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 29/12/2021 को
    डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
    Next article: