पहली बार प्रेग्नेंसी चेकअप के दौरान आपके साथ क्या-क्या होता है?

Medically reviewed by | By

Update Date मई 7, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Share now

अगर आप पहली बार गर्भवती हुई हैं, तो आपकी पहली बार प्रेग्नेंसी चेकअप का शेड्यूल आपके लिए काफी उलझन भरी भी हो सकती है। पहली बार प्रेग्नेंसी चेकअप के दौरान आपको कब डॉक्टर के पास जाना चाहिए, अपने डॉक्टर से किस तरह के सवाल पूछ सकते हैं जैसे कई सवाल आपके मन को परेशान कर सकते हैं। इसके अलावा, पहली बार प्रेग्नेंसी चेकअप के दौरान डॉक्टर आपके शरीर के किन अंगों की जांच करेंगे या आपके डॉक्टर आपसे किस तरह के सवाल पूछ सकते हैं, इसे भी लेकर मन में कई आशंका हो सकती है।

तो चलिए हैलो स्वास्थ्य के इस आर्टिकल में आप पहली बार प्रेग्नेंसी चेकअप से जुड़े अपने सभी सवालों के जवाब जान सकती हैं। पढ़ें ये आर्टिकल।

यह भी पढ़ेंः गर्भावस्था में लिनिया नाइग्रा: क्या ये प्रेग्नेंसी में त्वचा संबधी बीमारी है?

पहली बार प्रेग्नेंसी चेकअप क्या है?

पहली बार प्रेग्नेंसी चेकअप से मतलब है कि, गर्भधारण करने के बाद पहली बार अपनी शारीरिक जांच कराने के लिए डॉक्टर से संपर्क करना। कई महिलाएं प्रेग्नेंसी धारण करने से पहले अपने डॉक्टर की उचित सलाह लेती हैं और जरूरी टेस्ट भी करवाती हैं। लेकिन अगर आप गर्भवती होने से पहले अपने डॉक्टर से नहीं मिली थीं, तो आपको अपनी पिछले माह के आए मासिक धर्म के लगभग 8 सप्ताह बाद अपने डॉक्टर से मिलना चाहिए। अगर इन 8 सप्ताह के बाद भी आपको पीरियड्स नहीं आते हैं और प्रेग्नेंसी किट से घर पर प्रेग्नेंसी पॉजिटिव का रिजल्ट आता है, तो ऐसी स्थिति में आपको अपने डॉक्टर से मिलना चाहिए। अगर आप इस दौरान गर्भवती हुई, तो इसे आप पहली बार प्रेग्नेंसी चेकअप ही मान सकती हैं। इसके अलावा भले ही आपने प्रेग्नेंसी कंसीव करने से पहले अपने डॉक्टर की पूरी सलाह ली थी, इसके बाद भी आपको गर्भधारण करने के लगभग आठ हफ्तों में अपने डॉक्टर से पास अपनी पहली बार प्रेग्नेंसी चेकअप के लिए जाना चाहिए।

पहली बार प्रेग्नेंसी चेकअप के लिए कहां जाएं?

कोशिश करें कि आपने जहां पर पहली बार प्रेग्नेंसी चेकअप के लिए विजिट किया है, बच्चे के जन्म तक वहीं पर विजिट करें। ताकि, आपके डॉक्टर को आपके गर्भावस्था की पिछली सारी जानकारियां मौजूद हों। इसके लिए आपको अपने डॉक्टर का चुनाव बेहतर तरीके से करना चाहिए। इसके लिए आप अपने परिवार की मदद और सलाह ले सकते हैं। अगर आपके कोई फैमिली डॉक्टर हैं, तो आप उनकी भी मदद ले सकते हैं। अगर आप शर्मिली स्वभाव की हैं, तो आप अपने लिए किसी महिला डॉक्टर का भी चुनाव कर सकते हैं। लेकिन, एक बात का ध्यान रखें कि, आपने जिस भी डॉक्टर का चुनाव किया है आपको उन्हें अपनी प्रेग्नेंसी और शारीरिक बदलाव के साथ-साथ मानसिक बदलाव के बारे में भी पूरी जानकारी देनी होगी। तभी वो आपके लक्षणों के अनुसार आपके शरीर की उचित देखभाल कर पाएंगे।

यह भी पढ़ेंः प्रेग्नेंसी में ड्रैगन फ्रूट खाना सेफ है या नहीं?

पहली बार प्रेग्नेंसी चेकअप के लिए खुद को कैसे तैयार करें?

पहली बार प्रेग्नेंसी चेकअप के लिए आपको कैसे खुद को तैयार करना चाहिए, इसके लिए आप अपने घर के बड़े और अनुभवी सदस्यों की भी मदद ले सकते हैं। साथ ही, करीबी दोस्तों से भी सलाह ले सकते हैं। इसके अलावा आपको कुछ जरूरी बातों पर भी ध्यान देना चाहिए, जिसमें शामिल हो सकते हैंः

  • अगर आपको कोई स्वास्थ्य समस्या है, तो उसे नोट करें, जैसे- डायबिटीज, बीपी की समस्या, अस्थमा या अन्य
  • आपका दैनिक आहार
  • अगर आप किसी भी तरह के हर्बल्स या ड्रग्स का इस्तेमाल करते हैं, तो उनकी जानकारी नोट करें
  • आप अपना दिन सामान्य तौर पर कैसे बिताते हैं, जैसे- आपकी शारीरिक गतिविधियां
  • शारीरिक संबंध में सक्रियता
  • कोई पुरानी स्वास्थ्य समस्या या सर्जरी, जिसका हाल ही में आपने उपचार करवाया हो
  • आपके परिवार के स्वास्थ्य की हेल्थ हिस्ट्री
  • कोई आनुवांशिक बीमारी
  • आपके साथी या उसके परिवार में किसी को आनुवंशिक विकार का इतिहास
  • आपके गर्भवती होने का तरीका, यानी आप अपने साथी के शुक्राणु या अंडे से गर्भवती हुई हैं, या डोनर की मदद से, आदि।

पहली बार प्रेग्नेंसी चेकअप के लिए क्लीनिक में मुझे किसके साथ जाना चाहिए?

पहली बार गर्भवास्था से जुड़ी जांच कराने जा रही हैं, तो अपने साथी को साथ ले जाएं। साथ ही, घर के किसी बड़े और अनुभवी सदस्या को भी साथ ले जाएं। ताकि आपकी स्थिति और डॉक्टर द्वारा बताई गई सलाह को अच्छे से समझने में वे आपकी मदद कर सकें। हालांकि, अगर आप दूसरी प्रेग्नेंसी के दौरान पहली बार प्रेग्नेंसी चेकअप के लिए जा रही हैं, तो आप सिर्फ साथी के साथ या अकेले भी जा सकती हैं। क्योंकि, पहली बार किसी अनुभवी को साथ ले जाने से मलतब होता है कि उन्हें इस बात का अंदाजा होता है कि, इस दौरान किन बातों के बारे में डॉक्टर से जरूर पूछना चाहिए।

यह भी पढ़ेंः गर्भावस्था से ही बच्चे का दिमाग होगा तेज, जानिए कैसे?

पहली बार प्रेग्नेंसी चेकअप के दौरान क्या होगा?

आमतौर पर अगर कोई किसी डॉक्टर के पास पहली बार अपनी गर्भावस्था की जांच कराने जाता है, तो डॉक्टर के पास भी इसके लिए एक लिस्ट हो सकती है। जिसमें उनकी सारी प्रक्रियाएं हर किसी के लिए समान हो सकती हैं, जिसमें शामिल हो सकती हैंः

आपकी जांच करना

  • सबसे पहले डॉक्टर आपके शरीर का सामान्य स्वास्थ्य परीक्षण करेंगे। इस दौरान वे आपके दिल के धड़कने की दर, फेफड़े के कार्य, स्तन और पेट में आए बदलाव की जांच कर सकते हैं।
  • इसके बाद आपके शरीर का कद, वजन और ब्लड प्रेशर की भी जांच कर सकते हैं।
  • प्रग्नेंसी के दौरान आपको किस तरह के जोखिम हो सकते हैं, इसकी जांच करन के लिए वे पैल्विक टेस्ट भी कर सकते हैं। जिसमें डॉक्टर गर्भाशय के आकार और आपके श्रोणि के आकार का आकलन कर सकते हैं।

मेडिकल टेस्ट करना

  • फिर आपके गर्भावस्था की जांच करने के लिए डॉक्टर यूरिन टेस्ट कर सकते हैं। ताकि क्लीनिकल तौर पर आपके प्रेग्नेंसी की जांच की जा सके। इसके अलावा ब्लड टेस्ट भी कर सकते हैं।
  • यूरिन टेस्ट से आपके मूत्र में प्रोटीन, ग्लूकोज, श्वेत रक्त कोशिकाओं, खून और बैक्टीरिया की जांच की जा सकती है।
  • ब्लड टेस्ट से आपके खून का प्रकार और आरएच की स्थिति निर्धारित करने और एनीमिया की जांच करने के लिए किया जा सकता है। इसके अलावा, गर्भावस्था के दौरान कुछ बीमारियों, जैसे- रूबेला और चिकन पॉक्स से आपके शरीर की सुरक्षा करने के लिए आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली कितनी मजबूत है और शरीर में विटामिन डी की कमी का भी पता लगाया जा सकता है।
  • जेनेटिक कैरियर स्क्रीनिंग टेस्ट करेंगे। जिससे आनुवंशिक स्थितियों का पता लगाया जा सके।
  • एसटीडी टेस्ट भी किया जाएगा। ताकि, गर्भावस्था के दौरान मां और बच्चा दोनों ही सुरक्षित तरीके से विकास करें। इससे आपके डॉक्टर हेपेटाइटिस बी, सिफलिस, गोनोरिया, क्लैमाइडिया और एचआईवी जैसे यौन संचारित संक्रमणों का पता लगा सकते हैं।

यह भी पढ़ेंः प्रेग्नेंसी में हर्बल टी से शिशु को हो सकता है नुकसान

पहली बार गर्भावस्था का चेकअप कराने के लिए मुझे किन बातों का ध्यान रखना चाहिए?

इस दौरान आपको निम्न बातों का ध्यान रखना चाहिए, जैसेः

  • आपको ढीलें कपड़े पहन कर जाना चाहिए। ताकि, सामान्य शारीरिक जांच में आपको और डॉक्टर को आसानी हो।
  • क्लीनिक विजिट से पहले अपाइमेंट फिक्स कराएं। ताकि, वहां जाकर आपको अधिक इंतजार न करना पड़े।
  • अगर आप गर्भवती हैं, तो आपको इस दौरान क्या खाना चाहिए, क्या नहीं, इससे जुड़े सवालों की लिस्ट बनाएं। ताकि, आप डॉक्टर से इन जरूरी बातों को पूछना न भूलें।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की कोई भी मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है। अगर इससे जुड़ा आपका कोई सवाल है, तो अधिक जानकारी के लिए आप अपने डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं।

और पढ़ेंः-

प्रेग्नेंसी के दौरान खराब पॉश्चर हो सकता है मां और शिशु के लिए हानिकारक

रमजान का महीना जानें प्रेग्नेंसी में उपवास या रोजा कैसे करें?

प्रेग्नेंसी में पानी का सेवन गर्भवती महिला और शिशु के लिए कैसे लाभकारी है?

जानें मिसकैरेज से कैसे बाहर आएं?

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

प्रेगनेंसी में कॉफी पीना फायदेमंद या नुकसानदेह?

प्रेग्नेंसी में कॉफी का सेवन करना चाहिए या नहीं, जाने कॉफी की सही मात्रा कितनी होती है। Intake of coffee during pregnancy in Hindi.

Written by Shivam Rohatgi
आहार और पोषण, स्वस्थ जीवन मई 19, 2020 . 3 मिनट में पढ़ें

इंट्रायूटेराइन इंफेक्शन क्या है? क्या गर्भ में पल रहे बच्चे के लिए हो सकता है हानिकारक

इंट्रायूटेराइन इंफेक्शन क्या है, इंट्रायूटेराइन इंफेक्शन के लक्षण और कॉरियोएम्नियॉनिटिस का इलाज क्या है, intrauterine infection chorioamnionitis in Hindi.

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Shayali Rekha
डिलिवरी केयर, प्रेग्नेंसी मई 13, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

क्या कम उम्र में गर्भवती होना सही है?

20 से 30 साल की उम्र में गर्भवती होना सही है? कम उम्र में गर्भवती होना क्या सही है? कम उम्र में गर्भवती होना क्यों है अच्छा सेहत के लिए?

Medically reviewed by Dr. Shruthi Shridhar
Written by Nidhi Sinha

प्रेग्नेंसी में बुखार: कहीं शिशु को न कर दे ताउम्र के लिए लाचार

प्रेग्नेंसी में बुखार के कारण शिशु में स्पाइन और ब्रेन की समस्या शुरू कर सकता है? गर्भावस्था में बुखार से बचने के क्या हैं उपाय? fever in pregnancy in hindi

Medically reviewed by Dr Sharayu Maknikar
Written by Nidhi Sinha