आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

null

कितना सुरक्षित है पीरियड में सेक्स? जानें यहां

    कितना सुरक्षित है पीरियड में सेक्स? जानें यहां

    आपके रिप्रोडक्टिव सालों के दौरान आपको महीने में एक बार पीरियड्स होते है। बहुत सारे लोग पीरियड में सेक्स को लेकर कंफ्यूज होते हैं। कुछ लोग कहते हैं कि इसके कई फायदे हैं, वहीं कुछ लोगों का मानना है कि यह सुरक्षित नहीं होता है। बहुत सारे लोग पीरियड में सेक्स करने से बचते हैं। आइए जानते हैं पीरियड में सेक्स को लेकर एक्सपर्ट की क्या राय है…

    गायनेकोलॉजिस्ट अंजू वर्मा बताती हैं- यदि दोनों पार्टनर पीरियड्स के दौरान सेक्स करने में कंफर्टेबल है तो इसमें कोई परेशानी नहीं है। लेकिन पीरियड्स में सेक्स करते वक्त कुछ बातों का ध्यान रखना जरूरी होता है। यदि इस दौरान आपके पार्टनर को किसी तरह का दर्द हो रहा है तो आप उन्हें इसके लिए फोर्स न करें। इसके अलावा किसी भी तरह के इंफेक्शन से बचाव के लिए मेल पार्टनर को इस दौरान कॉन्डम का इस्तेमाल जरूर करना चाहिए। सेक्स करने से पहले और बाद में प्राइवेट पार्ट को अच्छे से साफ करें।

    पीरियड में सेक्स

    जब तक आपको कोई एलर्जी नहीं हैं तो आपको पीरियड्स के दौरान यौन गतिविधियों से बचने की कोई जरूरत नहीं है। हालांकि कुछ लोगों के लिए पीरियड में सेक्स थोड़ा परेशानीदायक हो सकता है लेकिन यह सुरक्षित है। जब आपके पीरियड्स चल रहे है और ऐसे में आप यौन संबंध बनाते हैं तो पीरियड्स की ऐंठन से राहत सहित कुछ फायदे मिल सकते हैं।

    और पढ़ेंः पीरियड्स के दर्द से छुटकारा दिला सकता है मास्टरबेशन, जानें पूरा सच

    पीरियड में सेक्स सही है या गलत (Sex During Your Periods is Good or Bad)?

    मासिक धर्म के दौरान सेक्स (Period Sex) करना महिलाओं के स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है या लाभदायक? यह सवाल कई लोगों के मन में बना रहता है। कुछ लोग इस बारे में खुलकर बात कर लेते हैं, तो वहीं कुछ लोग इस बारे में बात करते हुए संकोच महसूस करते हैं।

    कई अध्ययनों में इस बात को भी स्वीकारा गया है कि महिलाएं पीरियड में सेक्स का ज्यादा आनंद लेती हैं। हालांकि, इस पीरियड में सेक्स करना उनकी सेहत के लिए कैसा रहता है, इस बारे में कई विचार बने हुए हैं। इस लेख में हम पीरियड में सेक्स से जुड़ी जरूरी बातों पर चर्चा करेंगे।

    पीरियड में सेक्स का कनेक्शन (Connection Between Sex & Period)

    सबसे पहले तो यह जान लें कि मासिक-धर्म (पीरियड) महिलाओं के शरीर में होने वाली एक प्रक्रिया है, जो पूरी तरह से प्राकृतिक है। एक स्वस्थ महिला को यह हर महीने एक निश्चित अंतराल के बाद आता है और अपने आप ही ठीक हो जाता है। प्राकृतिक रूप से यह महिलाओं के फर्टिलिटी सिस्टम से जुड़ा है। समय-समय पर पीरियड्स आना महिलाओं के अच्छे स्वास्थ्य का संकेत होता है।

    और पढ़ेंः सेक्स के दौरान ज्यादा दर्द को मामूली न समझें, हो सकती है गंभीर समस्या

    पीरियड में सेक्स (Periods Sex) करना है सुरक्षित

    पीरियड में सेक्स करना या पीरियड्स के दौरान शारीरिक संबंध सुरक्षित माना गया है। अभी तक किसी भी रिसर्च में यह सामने नहीं आया कि पीरियड में सेक्स करने से महिला या पुरुष को किसी तरह की बीमारी होने का खतरा हो सकता है। दरअसल, पीरियड्स के दौरान अधिकतर लोगों के मन में निकलने वाले ब्लड को लेकर गंदगी का डर बना रहता है। यही कारण है कि कुछ लोग पीरियड में सेक्स करने से कतराते हैं।

    पीरियड में सेक्स करने के फायदे (Sex benefits during Period)

    1.पीरियड्स के दर्द में कमी (Reduce Periods Pain)

    पीरियड्स के दौरान बहुत-सी महिलाओं को तेज दर्द होता है। ऐसे में सेक्स करने से इस दर्द में राहत मिलती है। पीरियड में सेक्स करने से शरीर में ऑक्सीटोसिन, डोपामाइन हार्मोन्स और ऐंडोरफिंस का स्तर बढ़ जाता है। यह पीरियड्स के दौरान होने वाले दर्द में पेन किलर गोलियों का काम करते हैं। ऐसा कहा जाता है कि पीरियड्स के दौरान सेक्स करने से मैन्स्ट्रयुअल पेन से राहत देता है। बहुत सी महिलाओं को पीरियड्स के दौरान अधिक दर्द होता है जिनको पीरियड में सेक्स करने से दर्द से राहत मिलती है।

    2.चिड़चिड़ापन दूर करे (Reduce irritability)

    पीरियड शुरू होने के कुछ दिनों पहले से ही महिलाओं के स्वभाव में चिड़चिड़ापन आ जाता है। ऐसे में सेक्स के दौरान शरीर से निकलने वाले ऐंडोरफिंस और ऑक्सीटोसिन दिमाग में प्लेजर सेंटर्स को सक्रिए करते हैं, जिससे ऑर्गैज्म का एहसास होता है, जिससे तनाव दूर होता है। पीरियड में सेक्स करने से इस दौरान होने वाले मूड स्विंग से राहत मिलती है। जो महिलाएं पीरियड्स के दौरान चिड़चिड़ापन महसूस करती है उनको पीरियड्स में यौन संबंध बनाने से काफी आराम मिलता है।

    और पढ़ेंः प्रेग्नेंसी में सेक्स, कैफीन और चीज को लेकर महिलाएं रहती हैं कंफ्यूज

    3.गर्भ ठहरने का खतरा नहीं

    आम दिनों में सेक्स करने से गर्भ ठहरने की संभावना बनी रहती है, लेकिन पीरियड्स में सेक्स से गर्भधारण की संभावना काफी कम हो जाती है। इस दौरान प्रेग्नेंट होने के सिर्फ 15 प्रतिशत ही संभावना होती है। पीरियड्स में यौन संबंध बनाने का एक और फायदा यह है कि इस दौरान प्रेग्नेंट होने के चांसेस न के बराबर होते हैं।

    [mc4wp_form id=”183492″]

    4. पीरियड्स की समय सीमा का कम होना (Reduce Period Time)

    सेक्स करने से पीरियड्स की समय सीमा कम हो जाती है। ऑर्गैज्म के दौरान मसल कॉन्ट्रैक्शन होता है, जिससे गर्भाशय तेजी से भरने लगता है। यही कारण है कि सेक्स के दौरान पीरियड्स की समय सीमा कम हो सकती है।

    और पढ़ें: लॉकडाउन: महामारी के समय पीरियड्स नहीं रुकते, फिर सेनेटरी पैड की बिक्री भी नहीं रुकनी थी

    5. कामोत्तेजना में बढ़ोतरी (Sexual arousal)

    मासिक धर्म के दौरान आपकी लिबिडो साइकिल बदलती रहती है। इसके पीछे की वजह हॉर्मोनल फ्लक्चुएशन होती है। जहां ज्यादातर लोगों का मानना है कि ओव्यूलेशन के समय यानी पीरियड्स से 2 हफ्ते पहले सेक्स ड्राइव बढ़ जाती है, वहीं रिपोर्ट्स की माने तो कई लोगों ने पीरियड्स के दौरान टर्न ऑन होने के बारे में बताया है।

    और पढ़ें: गर्भनिरोधक दवाइयों से हो सकता है कैंसर, कहीं आप तो नहीं करती भरोसा गर्भनिरोधक से जुड़े मिथ पर

    6. प्राकृतिक ल्युब्रिकेशन (Natural Lubrication)

    आमतौर पर सेक्स के दौरान जैली से बने ल्युब्रिकेंट की जरूरत पढ़ती है। हालांकि, पीरियड्स के दौरान ब्लड एक प्राकृतिक ल्युब्रिकेंट की तरह कार्य करता है।

    7. सिरदर्द से मिलता है आराम

    माइग्रेन-Migraine headaches

    करीबन आधी से ज्यादा महिलाओं को पीरियड्स के दौरान सिरदर्द की समस्या होती है। वैसे तो पीरियड्स में होने वाले माइग्रेन के दौरान महिलाएं सेक्स करने से परहेज करती हैं। लेकिन जो महिलाएं पीरियड्स में सेक्स करती हैं, उन्होंने बताया कि उनका सिरदर्द इससे काफी हद तक या पूरी तरह ठीक हो जाता है।

    और पढ़ें: स्टेप-बाय-स्टेप जानिए महिला कंडोम (Female Condom) का इस्तेमाल कैसे करें

    इन बातों पर भी दें ध्यान

    सेक्स चाहे आप आम दिनों के दौरान करें या फिर पीरियड्स के दौरान, अगर सुरक्षा में लापरवाही बरतते हैं, तो यह सेहत के लिए नुकसानदायक हो सकता है। पीरियड्स में यौन संबंध बनाने से कुछ गंभीर बीमारियों का खतरा बढ़ा जाता है।

    • पीरियड्स के दौरान सेक्स करने से महिलाओं में एचआईवी जैसे यौन संक्रमित संक्रमण होने का खतरा बढ़ सकता है। ऐसे में इस बात का पूरा ध्यान रखें कि आपका साथी यौन संक्रमित न हो।
    • एचआईवी या हेपेटाइटिस जैसे यौन संचारित संक्रमण (एसटीआई) फैलाने वाले वायरस खून में रहते हैं। वे पीरियड्स के खून के संपर्क में आने पर सेहत के लिए गंभीर बीमारी का कारण बन सकते हैं। इसलिए, पीरियड्स के दौरान भी यौन संबंध बनाने के लिए कंडोम का उपयोग करना चाहिए

    और पढ़ें: सेक्स के दौरान या बाद में ऐंठन के कारण और उनसे राहत पाने के उपाय

    पीरियड्स में संबंध बनाना सुरक्षित है, बस आपको संबंध बनाते समय सफाई का खास ध्यान रखने की जरूरत होती है, ताकि आप और आपके साथी को इन्फेक्शन का खतरा ना हो। इसलिए कोशिश करें कि आप संबंध बनाने से पहले और बाद में अपने प्राइवेट पार्ट को पानी से अच्छी तरह साफ कर लें। पीरियड्स के दौरान सेक्स करना कई कपल्स इंजॉय करते हैं क्योंकि इस दौरान महिलाओं की वजायना नैचुरली लुब्रिकेंट होती है।

    ऐसे में पुरूष इस दौरान सेक्स को ज्यादा इंजॉय करते हैं। लेकिन पीरियड्स में सेक्स करने के दौरान सफाई का ध्यान रखना बहुत जरूरी होता है। इस दौरान महिलाओं से पुरूष में संक्रमण फैलने का खतरा अधिक होता है। अगर आपको पीरियड के दौरान सेक्स करना पसंद हैं तो इसके बारे में थोड़ी सावधानी बरतने की जरूरत है।

    आप अपने हिसाब से सेक्स के दौरान सफाई के लिए इंतजाम कर सकते हैं। सफाई का ध्यान रखते हुए आप पीरियड में सेक्स इंजॉय कर सकते हैं।

    और पढ़ें: प्रेग्नेंसी में सेक्स के दौरान ब्लीडिंग क्यों होता है? जानें कुछ सुरक्षित सेक्स पोजिशन

    क्या पीरियड्स में सेक्स करने से प्रेग्नेंसी होती है?

    अगर आप कंसीव करने का प्लान नहीं कर रही हैं तो कंडोम का इस्तेमाल करना एक बेहतर विकल्प होगा। क्योंकि प्रेग्नेंसी का रिस्क पूरी मेंस्ट्रुअल साइकिल में रहता है। हालांकि, पीरियड्स में सेक्स करने पर प्रेग्नेंसी की संभावना कम होती है, लेकिन इस दौरान भी महिलाएं प्रेग्नेंट हो सकती हैं। यानी पीरियड्स में सेक्स करते समय प्रेग्नेंसी और संक्रमण से बचने के लिए प्रोटेक्शन का इस्तेमाल बेहद जरूरी होता है।

    प्रेग्नेंसी की सबसे अधिक संभावना ओव्यूलेशन के दौरान होती है, जो कि पीरियड्स शुरू होने से 2 हफ्ते पहली आती है। लेकिन हर महिला की साइकिल की समय सीमा अलग होती है और साइकिल हर महीने बदल भी सकती है।

    अगर आपकी मेंस्ट्रुअल साइकिल छोटी है, तो आपके गर्भ धारण करने की संभावना अधिक होती है।

    इसके साथ ही स्पर्म महिलाओं के अंदर 7 दिन तक जीवित रह सकते हैं। तो अगर आपकी मेंस्ट्रुअल साइकिल 22 दिन की है और आप पीरियड्स आने के तुरंत बाद ओव्युलेट करने लगती हैं तो आपके रिप्रोडक्टिव ट्रैक्ट में जीवित स्पर्म के रिलीज हुए अंडे में जाने की संभावना हो सकती है।

    और पढ़ें: फर्स्ट टाइम सेक्स के बाद ब्लीडिंग होना सामान्य है या असामान्य, इसके पीछे का कारण जानें

    क्या पीरियड्स में कंडोम (Condom uses in Periods) या प्रोटेक्शन का यूज करना चाहिए?

    प्रोटेक्शन की मदद से आप सेक्शुअल ट्रांसमिटेड डिजीज से खुद को बचा सकते हैं। पीरियड्स में सेक्स करने से न केवल एसटीआई होने की आशंका बढ़ती है बल्कि आप खुद भी अपने पार्टनर को संक्रमित कर सकते हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि एचआईवी जैसे संक्रमण मेंस्ट्रुअल ब्लड में पाए जाते हैं।

    क्या आप या पार्टनर प्रेग्नेंसी और एसटीआई की आशंका को कम करने के लिए हर बार सेक्स करते समय लेटेक्स कंडोम का इस्तेमाल करते हैं? यदि हां, तो जान लें कि लेटेक्स से एलर्जी होने पर समस्या बढ़ सकती है। अपने डॉक्टर से परामर्श कर के यह जान लें कि आपको लेटेक्स से एलर्जी तो नहीं है और साथ ही कंडोम का अन्य कौन-सा विकल्प आपके लिए बेहतर रहेगा।

    और पढ़ें: प्रेग्नेंसी के दौरान अल्फा फिटोप्रोटीन टेस्ट(अल्फा भ्रूणप्रोटीन परीक्षण) करने की जरूरत क्यों होती है?

    पीरियड्स में सेक्स करने के लिए टिप्स

    यहां कुछ ऐसे टिप्स हैं जिनकी मदद से आप पीरियड्स में सेक्स को और अधिक आरामदायक बना सकते हैं –

    • बिस्तर के पास में वेट वाशक्लॉथ या वेट वाइप्स रखें ताकि सेक्स के बाद खून को साफ करने के लिए आप तुरंत उनका इस्तेमाल कर सकें।
    • अपने पार्टनर को कंडोम का इस्तेमाल करने को जरूर कहें। यह प्रेग्नेंसी से बचाने के साथ दोनों को ही संक्रमण से भी दूर रखेगा।
    • अगर आपको किसी पुजिशन में असुविधा महसूस होती है तो कोई और पुजिशन ट्राय करें।
    • अपने पार्टनर से सभी बातें शेयर करें। उन्हें बताएं कि आपको पीरियड्स के दौरान सेक्स करने में कैसा महसूस होता है और उनसे भी पूछें कि क्या उन्हें यह अच्छा लगता है या नहीं? अगर आप दोनों में से किसी को भी असुविधा महसूस होती है तो उनसे इसके कारण के बारे में बात करें और कोई बेहतर उपाय ढूंढें।
    • अगर आप ने टैम्पॉन लगा रखा है तो कडल करने से पहले ही उसे हटा दें।
    • बिस्तर पर सेक्स करने से पहले एक गहरे रंग के तौलिये या चादर को बिछा लें ताकि खून के धब्बे न पढ़ें। इसके अलावा खून की गंदगी से बचने के लिए आप चाहें तो शॉवर सेक्स भी कर सकते हैं।

    और पढ़ें: Quiz : सेक्स, जेंडर और LGBT को लेकर मन में कई सवाल लेकिन हिचकिचाहट में किससे पूछें जनाब?

    निष्कर्ष

    पीरियड्स के कारण अपनी सेक्स लाइफ पर रोक न लगने दें। अगर आप पहले से ही थोड़ी तैयारी कर लेंगी तो सेक्स उतना ही अच्छा महसूस होगा, जितना कि वह सामान्य दिनों में होता है। हालांकि, आपको शायद यह जानकार हैरानी भी हो सकती है कि आपको पीरियड्स में सेक्स करने में अधिक अच्छा लगता है।

    उम्मीद है इस लेख में दी गई जानकारी आपके काम आएगी और आप पीरियड्स में यौन संबंध का आनंद उठा पाएंगे।

    ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

    ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

    अपने पीरियड सायकल को ट्रैक करना, अपने सबसे फर्टाइल डे के बारे में पता लगाना और कंसीव करने के चांस को बढ़ाना या बर्थ कंट्रोल के लिए अप्लाय करना।

    ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

    अपने पीरियड सायकल को ट्रैक करना, अपने सबसे फर्टाइल डे के बारे में पता लगाना और कंसीव करने के चांस को बढ़ाना या बर्थ कंट्रोल के लिए अप्लाय करना।

    ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

    सायकल की लेंथ

    (दिन)

    28

    ऑब्जेक्टिव्स

    (दिन)

    7

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    सूत्र

    Sex during Period: https://youngwomenshealth.org/2010/08/25/sex_during_period/ Accessed on 8/10/2020

    Sex during Period: https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pubmed/8885071 Accessed on 8/10/2020

    Period Problems: https://www.womenshealth.gov/menstrual-cycle/period-problems Accessed on 8/10/2020

    The Impact of Sexual Activity on Idiopathic Headaches: https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/23430983/ Accessed on 8/10/2020

    HIV Transmission: https://www.cdc.gov/hiv/basics/transmission.html Accessed on 8/10/2020

    लेखक की तस्वीर badge
    Ankita mishra द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 05/07/2022 को
    डॉ. हेमाक्षी जत्तानी के द्वारा मेडिकली रिव्यूड