home

आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

चेहरे और बालों से होली का रंग हटाने के आसान टिप्स

चेहरे और बालों से होली का रंग हटाने के आसान टिप्स

होली का त्योहार आ गया है। रंगों का ये त्योहार है, हमें जीवन को रंग-बिरंगा रखने यानी खुशी से जीने की प्रेरणा देता है। लेकिन खुशी के इस त्यौहार में केमिकल युक्त रंग आपको नुकसान पहुंचा सकते हैं, इतना ही नहीं ये शरीर पर जिंद्ददी दाग भी छोड़ सकते हैं। ऐसे में कुछ आसान तरीकों से आप होली का रंग आसानी से हटा सकते हैं और इन समस्याओं से बच सकते हैं। इस आर्टिकल में जानें चेहरे, बाल और त्वचा से होली का रंग हटाने के घरेलू उपाय क्या हैं और स्वस्थ व सुरक्षित होली मनाएं।

और पढ़ें : Holi Special : घर पर ही तैयार ऐसे तैयार करें होली के हेल्दी रंग, मजा हो जाएगा दोगुना

होली का रंग लगाने से होने वाली शारीरिक समस्याएं क्या हैं?

होली का रंग हटाने के लिए आसान तरीके या उपाय जानने से पहले, जानते हैं होली का रंग रह जाने या शरीर, त्वचा, बाल या चेहरे पर लग जाने से होने वाली शारीरिक समस्याएं क्या हैं। दरअसल, बाजार में उपलब्ध अधिकतर रंगों में कुछ न कुछ केमिकल की मात्रा होती है। जिससे, आपको इन समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। हालांकि, अच्छी सलाह यही है कि आप हर्बल रंगों का इस्तेमाल करें।

होली के रंग

आपको होली का रंग लगाने से कई प्रकार की एलर्जी हो सकती हैं। जैसे-

  • एग्जिमा एक स्किन एलर्जी है, जो कि आर्टिफिशियल रंग से हो सकती है। इससे त्वचा पर रैशेज और जलन होने लगती है। इसके साथ ही इस समस्या में दाने भी हो सकते हैं। जिससे आपको काफी खुजली की समस्या हो सकती है।
  • होली का रंग लगाने से या नाक में जाने से नाक में होने वाली एलर्जी को राइनाइटिस कहा जाता है। इसमें नेजल मेंब्रेन में सूजन आ जाती है, जिससे नेजल डिस्चार्ज, कंजेशन, खुजली और छींक आने की समस्या हो सकती है।
  • नाक के द्वारा शरीर के अंदर केमिकल वाला होली का रंग जाने से निमोनाइटिस एलर्जी की समस्या हो सकती है। इस समस्या में बुखार, छाती में कसाव, थकान और सांस लेने में दिक्कत हो सकती है।
  • इसके अलावा, होली के रंगों से अस्थमा एलर्जी के मरीज लोगों को और समस्या हो सकती है। जिससे काफी खतरनाक स्थिति बन सकती है।
  • होली के रंगों से आपको त्वचा की एक और एलर्जी यानि डर्माटाइटिस हो सकती है। जिससे त्वचा में खुजली, लालपन और दाने हो सकते हैं।

और पढ़ें : स्मोकिंग स्किन को कैसे करता है इफेक्ट?

अन्य शारीरिक समस्याएं…

  • होली के रंग में केमिकल की मात्रा होने से उससे आपको बाल झड़ने या रूखे बालों की समस्या हो सकती है।
  • आंखों में रंग जाने की वजह से आपको आंख में दर्द, आंख से पानी आने की समस्या या एलर्जी हो सकती है।
  • इसके अलावा, चेहरे की त्वचा काफी संवेदनशील होती है, जिसे होली का रंग नुकसान पहुंचा सकता है।

केमिकल युक्त होली का रंग कितना खतरनाक है?

केमिकल युक्त होली का रंग इस्तेमाल करने से आपको कई जानलेवा शारीरिक बीमारियों या समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। आइए, कौन-से होली के रंग में कौन-सा केमिकल हो सकता है और उससे होने वाली खतरनाक समस्या।

  1. काले रंग में लीड ऑक्साइड होता है, जिससे रीनल फैल्यिर हो सकता है।
  2. हरे रंग में कॉपर सल्फेट होता है, जिससे आंख में एलर्जी, सूजन और अस्थाई अंधापन आ सकता है।
  3. सिल्वर रंग में एलुमिनयम ब्रोमाइड होता है, जिससे कार्सिनोजेनिक की समस्या हो सकती है।
  4. नीले रंग में प्रूसियन ब्लू कैमिकल होता है, जिससे कॉन्ट्रैक्ट डर्माटाइटिस हो सकता है।
  5. लाल रंग में मरक्युरी सल्फाइट केमिकल होता है, जिससे स्किन कैंसर जैसी समस्या हो सकती है, जो कि काफी खतरनाक व जानलेवा हो सकती है।

और पढ़ें : स्किन कैंसर के 10 लक्षण, जिन्हें आप अनदेखा न करें

[mc4wp_form id=”183492″]

होली का रंग हटाने के लिए आसान टिप्स

Removing Holi Colour- होली का रंग

होली का रंग आसानी से हटाने के लिए आपको होली खेलने के बाद या पहले कुछ सावधानियां अपनानी होती हैं, ताकि होली का रंग त्वचा या बालों की जड़ों तक न जा पाए। आइए, इन टिप्स के बारे में जानते हैं।

  1. होली खेलने से पहले बालों में कैस्टर ऑयल या ऑलिव ऑयल का इस्तेमाल करें। इसके लिए, आपको कैस्टर ऑयल या ऑलिव ऑयल से बालों और बालों की जड़ों पर मसाज करनी होती है, यह तेल आपकी स्कैल्प और बालों को सुरक्षा प्रदान करते हैं और रंग इन तक पहुंच नहीं पाता है। इन तेल की जगह आप नारियल तेल का भी उपयोग कर सकते हैं।
  2. बालों से होली का रंग निकालने के लिए होली खेलने के तुरंत बाद शैंपू न करें। बल्कि शैंपू से पहले करीब 45 मिनट तक अपने बालों पर अंडे का पीला हिस्सा और दही का मास्क लगाकर रखें। इससे बालों को पहुंचने वाला नुकसान कम होगा और बालों को पोषण मिलेगा।
  3. बालों को होने वाले डैमेज को कम करने के लिए कोकोनट मिल्क भी फायदेमंद तरीका है। होली खेलने से पहले अपने बालों पर कोकोनट मिल्क लगाएं और शैंपू से पहले भी एक घंटे कोकोनट मिल्क लगा रहने दें। इसके बाद शैंपू करें।
  4. चेहरे, हाथ, पैरों की त्वचा को सही रखने के लिए होली खेलने से पहले ही अपनी त्वचा पर मॉश्चराइजर का इस्तेमाल करें।
  5. इसके अलावा, नाखूनों पर होली का रंग रह जाना सबसे आम समस्या है और वह नाखूनों की सुंदरता को भी कम करता है। इसके लिए, होली खेलने से पहले ही नाखूनों पर डार्क नेल पेंट करें। इससे नाखूनों पर निशान नहीं पड़ेगा।
  6. होली खेलने से पहले चेहरे पर फाउंडेशन का इस्तेमाल करने से ड्राई कलर से त्वचा को सुरक्षा मिलती है और नमी बनी रहती है।
  7. होली खेलने जाने से पहले होठों पर वैसलीन का इस्तेमाल करें। इससे आपके होठों की केयर होगी और उनमें मॉश्चर बना रहेगा।

और पढ़ें : दो मुंहे बाल और डैंड्रफ को कम कर सकता है ऑलिव ऑयल

होली का रंग हटाने के लिए इन टिप्स का भी रखें ध्यान

  1. होली का रंग हटाने के लिए ठंडे पानी का इस्तेमाल करें, क्योंकि गर्म पानी से रंग हटाना मुश्किल होता है।
  2. चेहरे से रंग हटाने के लिए रुई को नारियल तेल में भिगोकर रखें और फिर चेहरे पर मौजूद रंग को उससे हटाएं।
  3. होली खेलने के एक हफ्ते बाद ही फेशियल, ब्लीच, हेयर कलर आदि करवाएं।
  4. भीगे हुए अमचूर पाउडर से भी होली का रंग बटाया जा सकता है।
  5. त्वचा पर कैलामाइन लोशन का इस्तेमाल करें, इससे त्वचा पर होने वाली खुजली आदि से छुटकारा मिलता है।

अधिक जानकारी के लिए आप अपने डॉक्टर या स्किन विशेषज्ञ की भी मदद ले सकते हैं।

खेलें यह क्विज

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

The Nasty World Of Chemical Holi Colours – https://satavic.org/the-nasty-world-of-chemical-holi-colours/ -Accessed On 10 October, 2020.

Pneumonitis – https://www.mayoclinic.org/diseases-conditions/pneumonitis/symptoms-causes/syc-20352623.

Accessed On 10 October, 2020.

Atopic dermatitis (eczema) – https://www.mayoclinic.org/diseases-conditions/atopic-dermatitis-eczema/symptoms-causes/syc-20353273. Accessed On 10 October, 2020.

Infographics: Useful Eye Care Tips for Holi. http://www.sfgc.edu.tt/sunglasses.asp?blog/holi-eye-care-tips/. Accessed On 10 October, 2020.

Dermatoses among Children from Celebration of “Holi,” the Spring Festival, in India: A Cross-sectional Observational Study. https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5029238/. Accessed On 10 October, 2020.

लेखक की तस्वीर badge
Surender aggarwal द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 12/10/2020 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड