एक्सपर्ट ने बताए लॉकडाउन में स्ट्रेचिंग के फायदे, जिससे खुद को रख सकते हैं एक्टिव

के द्वारा लिखा गया

अपडेट डेट जून 17, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

कोरोना संकट का दौर हमारी जिंदगी के लिए कठिन दौरों में से एक है। इसके लिए हम सभी को घर में ही रह कर कोरोना से लड़ना होगा। इसी लिए भारत सरकार ने लॉकडाउन जैसा अहम कदम उठाया है, ताकि हम और आप सभी लोग कोरोना के संक्रमण से बच सकें। ऐसे में जिम जैसी फिटनेस वाली जगहों को भी बंद कर दिया गया है। जिस कारण से लोग वर्कआउट नहीं कर पा रहे हैं और घर पर रहते-रहते आलसी होते जा रहे हैं। इस समय में सबसे बड़ी समस्या है कि घर पर रहते हुए खुद को एक्टिव कैसे रखें। इसके लिए विटाबायोटिक्स के वाइस प्रेसिडेंट और फिटनेस व न्यूट्रिशन एक्सपर्ट रोहित शेलात्कर लॉकडाउन में स्ट्रेचिंग के फायदे और एक्टिव रहने के टिप्स बता रहे हैं। 

यह भी पढ़ें : स्ट्रेचिंग एक्सरसाइज के दौरान सावधानी रखना है जरूरी, स्ट्रेच करने से पहले जानें ये बातें

लॉकडाउन में स्ट्रेचिंग के फायदे 

एक्सपर्ट का मानना है कि देश भर में लॉकडाउन के कारण बंद हुई जिम सेवाओं को तो खोला नहीं जा सकता है, लेकिन घर पर एक्सरसाइज करने से फिट रहने में मदद मिल सकती है। साथ ही लोगों के मानसिक स्वास्थ्य की स्थिति को भी ठीक रखने में मदद मिल सकती हैं। हालांकि, किसी भी फिजिकल एक्टिविटी को करने से पहले और करने के बाद में कुछ स्ट्रेचिंग प्रैक्टिस करना जरूरी होता है। स्ट्रेचिंग ना केवल शरीर को रिलैक्स करने देता है, बल्कि एक्सरसाइज करने से पहले वार्म अप और एक्सरसाइज करने के बाद कूल डाउन करना बहुत जरूरी होता है। वार्म अप और कूल डाउन में कई तरह की चीजें की जाती हैं, जैसे – स्टेटिक स्ट्रेच, प्रोप्रियोसेप्टिव न्यूरोमस्कुलर फैसिलिटेशन (PNF), डायनेमिक स्ट्रेच और बैलिस्टिक स्ट्रेच।

स्ट्रेचिंग का सबसे सामान्य और प्रचलित अभ्यास स्टैटिक स्ट्रेच है। जिसमें आप खड़े हो जाएं और अपने मसल्स को एक प्वॉइंट तक खीचें, जहां पर आपको परेशानी का अनुभव हो वहीं पर रूक जाएं और वापस नॉर्मल स्थिति में आ जाएं। शुरुआत में इस स्थिति को कम से कम 30 सेकंड के लिए करें। फिर धीरे-धीरे स्ट्रेचिंग करने की पोजिशन और स्टेप्स को करने का समय बढ़ाएं। इस तरह से आप लॉकडाउन में स्ट्रेचिंग के फायदे जानकर आप स्ट्रेचिंग को अपने एक्सरसाइज में शामिल कर के खुद को एक्टिव रख सकते हैं। 

यह भी पढ़ें : ये स्ट्रेचिंग एक्सरसाइज कमर दर्द से दिलाएंगी छुटकारा

लॉकडाउन में स्ट्रेचिंग के फायदे निम्न हैं :

लॉकडाउन में स्ट्रेचिंग के फायदे : शरीर की फ्लैक्सिबिलिटी बढ़ती है

लगातार स्ट्रेचिंग करने से व्यक्ति के शरीर के लचीलेपन को बढ़ाने में मदद मिलती है, जिसे किसी के लिए भी अच्छे स्वास्थ्य के लिए जरूरी माना जाता है। इसके अलावा, शरीर का लचीलापन लोगों को प्रतिदिन के कामों को ज्यादा आसानी और आराम से करने में मदद करता है। अगर आपकी उम्र 35 साल के ऊपर हो गई है तो आपके शरीर की गतिशीलता कम होने लगती है, ऐसे में स्ट्रेचिंग करने से आपके शरीर का लचीलीपन बना रहता है।

लॉकडाउन में स्ट्रेचिंग के फायदे : शरीर का मोशन बढ़ता है

जब आप स्ट्रेचिंग करते हैं तो आपके जोड़ों की जकड़न दूर होती है। इस तरह से रोजाना एक्सरसाइज में स्ट्रेचिंग करने से आपके शरीर में मोशन बढ़ेगा और आपको कोई काम करने में परेशानी भी नहीं होगी। 

यह भी पढ़ें: महिलाओं के लिए बॉडी टोनिंग वर्कआउट के आसान तरीके

लॉकडाउन में स्ट्रेचिंग के फायदे : शरीर का स्टेमिना बढ़ता है

किसी भी तरह की फिजिकल एक्टिविटी करने से पहले सही तरीके से स्ट्रेचिंग जरूरी है। लॉकडाउन में स्ट्रेचिंग के फायदे और ज्यादा जरूरी हो जाते हैं। शरीर में स्टेमिना बढ़ाने में स्ट्रेचिंग बहुत मददगार हो सकता है। स्ट्रेचिंग आपके शरीर को एक्सरसाइज करने के लिए तैयार करता है। जब आपका शरीर एक्सरसाइज करने के लिए तैयार हो जाता है तो स्वतः ही उसकी स्टेमिना बढ़ जाती है। इसलिए जब कोई व्यक्ति बिना स्ट्रेचिंग के एक्सरसाइज शुरू करता है तो उन्हें अपनी मांसपेशियों में दर्दका अनुभव होता है और सुस्ती के साथ थकान भी महसूस होती है।

यह भी पढ़ें : लॉकडाउन में वजन नियंत्रण करने के लिए अपनाएं ये टिप्स 

लॉकडाउन में स्ट्रेचिंग के फायदे : मन को शांत करता है

लॉकडाउन में घर पर रह कर लोग कई तरह की मानसिक परेशानियों से गुजरते हैं। ऐसे में जब कोई व्यक्ति तनाव में होता है, तो उसकी मांसपेशियों में कसाव महसूस होने लगता है। लॉकडाउन में स्ट्रेचिंग के फायदे से इन मांसपेशियों को आराम पहुंचाया जा सकता है। जिसके कारण तनाव से मुक्ति मिल सकती है। शरीर में गर्दन, कंधे और पीठ के ऊपरी हिस्से तनाव का असर पड़ता है। ऐसे में इन अंगों की मांसपेशियों पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए। इसके अलावा, मेडिटेशन करने से भी शांति मिलती है। मेडिटेशन नकारात्मक विचारों से दूर रखता है और मन को शांत करने में मदद करता है। 

लॉकडाउन में स्ट्रेचिंग के फायदे : शरीर का पॉश्चर होता है सही

मांसपेशियों में असंतुलन होना आम बात है, जिसका सबसे बड़ा कारण हमारे शरीर का पॉस्चर होता है। एक अध्ययन में पाया गया कि किसी विशेष मांसपेशी के ग्रुप को मजबूत करने और स्ट्रेचिंग के कॉम्बिनेशन से मस्कुलोस्केलेटल दर्द में कमी आ सकती है। जिससे हमें एक सही पॉश्चर भी मिल सकता है। 

लॉकडाउन में स्ट्रेचिंग के फायदे : मांसपेशियों तक ब्लड फ्लो बढ़ाता है

स्ट्रेचिंग के फायदे सबसे ज्यादा आपको मांसपेशियों के लिए होते हैं। ऐसे में जब आप एक्सरसाइज में स्ट्रेचिंग को करते हैं तो आप के शरीर में ब्लड फ्लो बढ़ता है, जिससे मांसपेशियों तक पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन और ब्लड पहुंचता है। इससे एक्सरसाइज के दौरान मांसपेशियों में होने वाली टूट-फूट की मरम्मत जल्द ही होने लगती है। इसके साथ ही मस्कुलोस्केलेटल दर्द भी नहीं होता है। 

यह भी पढ़ें: ध्यान मेडिटेशन किस तरह मेंटल स्ट्रेंथ के लिए फायदेमंद है?

लॉकडाउन में स्ट्रेचिंग के फायदे : बैक पेन से मिलती है राहत

मांसपेशियों में जकड़ने के कारण हमारी मूवमेंट में कमी हो सकती है। जब ऐसा होता है, तो हम अंगड़ाई लेने लगते हैं, जिससे पीठ में मांसपेशियों पर तनाव पड़ता है। इसके बाद हम थोड़ी राहत महसूस करते हैं। स्ट्रेचिंग को सही तरीके से करने से पीठ दर्द में राहत मिल सकती है। वहीं, अगर पीठ में चोट लगी है तो आप अपने डॉक्टर की सलाह के अनुसार स्ट्रेचिंग कर के पीठ दर्द से राहत पा सकते हैं। नियमित रूप से स्ट्रेचिंग कर के आप पीठ की मांसपेशियों को मजबूत करके और मांसपेशियों में खिंचाव के रिस्क को कम कर सकते हैं। साथ ही पीठ दर्द से भी खुद को बचा सकते हैं।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

एक्सपर्ट रोहित शेलात्कर द्वारा बताए गए स्ट्रेचिंग के फायदे से आप खुद को घर में भी एक्टिव रख सकते हैं। ऐसे में आप खुद के शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य का ध्यान रख सकते हैं। अधिक जानकारी के लिए आप अपने डॉक्टर से संपर्क भी कर सकते हैं। 

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की कोई मेडिकल जानकारी नहीं दे रहा है। 

और पढ़ें : 

इटली के वैज्ञानिकों ने कोविड-19 वैक्सीन बनाने का किया दावाः जानिए इस खबर की पूरी सच्चाई

लॉकडाउन में दोस्ती पर क्या पड़ा है असर? कोई रूठा तो कोई आया पास

कोरोना महामारी में कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग (Contact Tracing) कैसे कर रही है काम, जानिए

रमजान: कोविड-19 के खिलाफ वरदान साबित हो सकते हैं ये 7 ईटिंग हैक्स

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"
सूत्र

एक्सपर्ट से डॉ. रोहित शेलात्कर

कार्बोहाइड्रेट से परहेज करना, शरीर में इन समस्याओं को देता है दावत

शरीर के लिए कार्बोहाइड्रेट क्यों जरूरी है? शरीर के लिए गुड कार्ब्स जरूरी हैं। डायट में अच्छे कार्बोहाइड्रेट्स को शामिल करने के लिए मछली, फूलगोभी, ब्रोकली, अंडे, पत्तेदार हरी सब्जियां, ब्राउन राइस शामिल करें।

के द्वारा लिखा गया डॉ. रोहित शेलात्कर
शरीर के लिए कार्बोहाइड्रेट

एक्सपर्ट ने बताए लॉकडाउन में स्ट्रेचिंग के फायदे, जिससे खुद को रख सकते हैं एक्टिव

लॉकडाउन में स्ट्रेचिंग के फायदे क्या हैं, लॉकडाउन में स्ट्रेचिंग के फायदे इन हिंदी, Stretching benefits in lockdown in Hindi.

के द्वारा लिखा गया डॉ. रोहित शेलात्कर
लॉकडाउन में स्ट्रेचिंग के फायदे

लॉकडाउन में इन हेल्थ टिप्स की मदद से रखें अपनी सेहत का ख्याल

लॉकडाउन में हेल्थ टिप्स इन हिंदी, लॉकडाउन में हेल्थ टिप्स क्या हैं, लॉक डाउन में कैसे रखें खुद को बिजी, Lockdown health tips in Hindi.

के द्वारा लिखा गया डॉ. रोहित शेलात्कर
लॉकडाउन में हेल्थ टिप्स

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

जिम जाने का मन नहीं करता? तो ये वर्कआउट मोटिवेशनल टिप्स करेंगे आपकी मदद

जानिए वर्कआउट मोटिवेशनल टिप्स क्या हैं और यह आपके वर्कआउट पर किस तरह असर डालते हैं। वर्कआउट के लिए मोटिवेशनल टिप्स फ्यूल का काम करते हैं, जो आपको प्रोत्साहित करते हैं।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Surender Aggarwal
फिटनेस, स्वस्थ जीवन फ़रवरी 10, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

मल्टिपल गर्भावस्था के लिए टिप्स जिससे मां-शिशु दोनों रह सकते हैं स्वस्थ

गर्भ में एक से ज्यादा शिशु होने की स्थिति को मल्टिपल गर्भावस्था कहा जाता है। ऐसा होने पर क्या करें? Multiple pregnancy से जुड़ी अहम जानकारियां क्या हैं? मल्टिपल गर्भावस्था की जानकारी in hindi.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr Sharayu Maknikar
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रेग्नेंसी प्लानिंग, प्रेग्नेंसी दिसम्बर 6, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

क्या ऑफिस वर्क से बढ़ रहा है फैट? अपनाएं वजन घटाने के तरीके

जानिए वजन घटाने के तरीके in Hindi, ऑफिस में कौन सी एक्सरसाइज करें, Weight Loss Diet Chart, वजन घटाने के लिए डायट चार्ट, इंटरमिटेंट फास्टिंग डायट, वजन घटाने के तरीके क्या हैं।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr Sharayu Maknikar
के द्वारा लिखा गया Dr. Pranali Patil
हेल्थ सेंटर्स, मोटापा नवम्बर 25, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

तीसरी प्रेग्नेंसी के दौरान इन बातों का रखना चाहिए विशेष ख्याल

तीसरी प्रेग्नेंसी में किन बातों का रखें ध्यान, तीसरी प्रेग्नेंसी में कैसे करें देखभाल, प्रेग्नेंसी के दौरान क्या खाएं क्या ना खाएं, Third Pregnancy,और जानें

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Shruthi Shridhar
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रेग्नेंसी प्लानिंग, प्रेग्नेंसी नवम्बर 12, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

Pistol Squats- पिस्टल स्क्वैट्स

बॉडी के लोअर पार्ट को स्ट्रॉन्ग और टोन करती है पिस्टल स्क्वैट्स, और भी हैं कई फायदे

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Surender Aggarwal
प्रकाशित हुआ अप्रैल 16, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
स्ट्रेचिंग एक्सरसाइज के दौरान सावधानी- precautions during stretching exercise

स्ट्रेचिंग एक्सरसाइज के दौरान सावधानी रखना है जरूरी, स्ट्रेच करने से पहले जान लें ये बातें

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Ankita Mishra
प्रकाशित हुआ मार्च 20, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
जिम जाने के कपड़े कैसे हों, gym wear

जिम जाते वक्त पहनने चाहिए कैसे कपड़े, क्या जानते हैं आप?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया indirabharti
प्रकाशित हुआ फ़रवरी 17, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Post Workout Meal - पोस्ट वर्कआउट मील

एक्सरसाइज के बाद खाएं ये चीजें, बढ़ेगी ताकत और दमदार होंगे मसल्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Surender Aggarwal
प्रकाशित हुआ फ़रवरी 10, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें