जानें कैसा होना चाहिए आपका वर्कआउट प्लान!

By Medically reviewed by Dr. Hemakshi J

अच्छी फिटनेस चाहते हैं तो वर्कआउट प्लान बनाना न भूलें। इसमें हर प्रकार की एक्सरसाइज को तो रखें ही इसके साथ ही उस एक्सरसाइज के प्रकार के अनुसार डायट प्लान भी तैयार करें। ध्यान रहे सिर्फ वर्कआउट या सिर्फ डायट से फिटनेस नहीं बनती। दोनों में बैलेंस बनानकी की जरूरत होती है।

कार्डियो एक्सरसाइज क्या है?

कार्डियो एक्सरसाइज का अर्थ उसके नाम में ही निहित है। कार्डियो यानी दिल से जुड़ी एक्सरसाइज। इसमें आपके दिल की धड़कन बढ़ जाती है। यह आपके दिल के लिए तो अच्छी होती ही है। इसके साथ ही यह वजन कम करने और फेफड़ों के लिए भी लाभदायक होती है। दौड़ना चाहे ट्रेडमिल हो या जिम से बाहर व साइक्लिंग आदि इस तरह की एक्ससाइज होती हैं। माना जाता है कि हर रोज करीब आधे घंटे के लिए कार्डियो एक्सरसाइज करनी चाहिए। इसलिए अपने वर्कआउट प्लान में कार्डियो को प्राथमिकता दें।

क्या खाएं?

कार्डियो एक्सरसाइज करने के बाद खुद को हाइड्रेट करना बहुत जरूरी हो जाता है। चूंकि इस दौरान बहुत पसीना आता है और बॉडी डिहाइड्रेट होती है। इसके साथ ही यदि आप भागना-दौड़ना कर रहे हैं तो का​र्बोहाइड्रेट पर ध्यान दें। एक के​ला, नट्स, अनाज से बना हुआ खाना, फल आदि अच्छा विकल्प हो सकते हैं।

यह भी पढ़ें— हेल्दी लंग्स पाने के लिए करें ये लंग्स एक्सरसाइज

पिलाटेस (Pilates)

पिलाटेस के जन्मदाता जोसेफ पिलाटेस के नाम पर ही इसका नाम रखा गया है। पिलाटेस के दौरान आप कार्डियो की तरह पसीना नहीं बहाते हैं। हां, यह जरूर है कि इससे आपकी बॉडी का बैलेंस बनता है, मसल स्ट्रेंथ बढ़ती है और बॉडी टोन होती है।

क्या खाएं?

खाने के विषय में बात करें तो यह इसपर भी लागू होता है कि आप किस लक्ष्य के लिए पिलाटेस कर रहे हैं? यदि आपका लक्ष्य वजन कम करना है तो आप एक घंटे के वर्कआउट के बाद न्यूट्रियंट रिच मील लें। वहीं यदि आप स्ट्रेंथ के लिए पिलाटेस कर रहे हैं तो प्रोटीन ज्यादा लें। प्रोटीन के लिए अंडे और लीन मीट ले सकते हैं यदि आप मांसाहारी हैं और पनीर आदि का प्रयोग कर सकते हैं यदि आप शाकाहारी हैं।

योगा

योगा आजकल देश-दुनिया हर जगह लोकप्रिय है। योगा मन व मस्तिष्क दोनों के लिए फायदेमंद है।

यह भी पढ़ें— घर पर मसल्स डेवलपमेंट (Muscles development) के लिए करें ये 5 एक्सरसाइज

क्या खाएं?

योगा के अनुसार यदि आप भोजन भी लेते हैं तो यह आपके लक्ष्य प्राप्ती में ज्यादा मददगार साबित होता है। योगा के बाद आपको प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, फल और सब्जियों की जरूरत होती है।

स्ट्रेंथ एक्सरसाइज

वर्कआउट प्लान बना रहे हैं तो कार्डियो के साथ स्ट्रेंथ एक्सरसाइज को जरूर जोड़ें। वेट मशीन और डंबल के साथ एक्सरसाइज करना स्ट्रेंथ एक्सरसाइज में आते हैं। स्ट्रेंथ ट्रेनिंग की मदद चर्बी तो कम होती है इसके साथ ही मसल्स को मजबूती भी मिलती है। वैसे बता दें कि कई लोग वजन बढ़ाने के लिए भी स्ट्रेंथ एक्सरसाइज करते हैं।

क्या खाएं?

स्ट्रेंथ एक्सरसाइज में यदि आपका लक्ष्य मांसपेशियों को मजबूत बनाना है, तो पर्याप्त मात्रा में प्रोटीन के साथ ऊर्जा युक्त आहार लें। विशेषज्ञ कहते हैं कि ऐसी वर्कआउट करने पर आपको कम वसा और ज्यादा पोषक तत्वों से परिपूर्ण खाना खाना चाहिए। स्ट्रेंथ एक्सरसाइज करने पर प्रोटीन के साथ कार्बोहाइड्रेट का भी सेवन करना चाहिए। मांसपेशियों को ताकत मिलती है। केला, अंडा, पनीर, स्मूदी, दूध आदि इसके विकल्प हैं।

एक्सरसाइज के अनुसार खाना क्यों जरूरी है?

वजन कम करना हो या वजन बढ़ाना हो एक्सरसाइज और डायट दोनों ही बहुत अहम भूमिका अदा करते हैं। सिर्फ एक ही तरह की एक्सरसाइज भी कई बार बोरिंग और लाभ ना देने वाली हो सकती है। वहीं एक्सरसाइज के अनुरूप डायट ना लेना भी नुकसानदायक हो सकता है। आपको हाइपोग्लाइसीमिया (Hypoglycemia), थकान, कार्यस्थल में परर्फोमेंस में कमी, चक्कर आना, मसल्स में दर्द होना आदि हो सकते हैं। बता दें कि पोषण के साथ ही हर रोज एक्सरसाइज करना भी बहुत जरूरी है। यदि आप अपने वर्कआउट प्लान को रूटीन नहीं बना पाएंगे तो फिटनेस गोल को पूरा नहीं कर पाएंगे और फायदे की जगह आपको उल्टा नुकसान हाेने लगेगा।

एक्सरसाइज चाहे आप किसी भी वजह से कर रहे हों उसके लिए वर्कआउट प्लान बहुत जरूरी हो जाता है। तभी आप अपने लक्ष्य की प्राप्ती कर सकते हैं।

और पढ़ें— फैट कम करने में इस तरह मदद करेगा जुंबा डांस

पुरानी एक्सरसाइज से हो गए हैं बोर तो ट्राई करें केलेस्थेनिक्स वर्कआउट

Share now :

रिव्यू की तारीख नवम्बर 18, 2019 | आखिरी बार संशोधित किया गया दिसम्बर 4, 2019

शायद आपको यह भी अच्छा लगे