सेक्स को लेकर हमेशा रहे जागरूक, ताकि सुरक्षित सेक्स कर बीमारियों से कर सकें बचाव

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट जुलाई 20, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

सबके जीवन में सेक्स अहम हिस्सा है, लेकिन जरूरी है कि इसे सुरक्षित तौर पर किया जाए ताकि बीमारियों से बचा जा सके। इसलिए हम यहां बात सुरक्षित सेक्स को लेकर कर रहे हैं, यह तभी संभव है जब हम खुलकर सेक्स जैसे विषय पर चर्चा करेंगे। शर्मिंदगी, पिछड़ापन, अंधविश्वास जैसे कारणों की वजह से भारत में आज भी लोग खुलकर सेक्स पर बात नहीं करते हैं, लेकिन जागरूकता तभी संभव है जब हम सेफ सेक्स या सुरक्षित सेक्स को लेकर खुलकर बात करेंगे। सिर्फ डॉक्टर और किताबों में सेक्स की बातें सिमटकर न रह जाए इसलिए सार्वजनिक मंच सुरक्षित सेक्स जैसे विषय पर बात करना जरूरी हो गया है, ऐसा करने से व जागरूकता लाने से सेक्स संबंधी बीमारियों में कमी होगी।

सुरक्षित सेक्स के लिए हमारी कोशिश होनी चाहिए कि हमें संभोग करने के बाद सेक्सुअली ट्रांसमिटेड डिजीज न हो, खासतौर पर एचआईवी, हर्पिस, सिफलिस जैसी बीमारी। सुरक्षित सेक्स के लिए आप अपने पार्टनर से बात कर इसमें काफी हद तक सुधार कर सकते हैं। जैसा कि नाम है सुरक्षित सेक्स, इसमें भी कुछ हद तक रिस्क छिपे होते हैं, लेकिन बिना प्रोटेक्शन के सेक्स से यह काफी असुरक्षित है। कुल मिलाकर कहा जाए तो सेफ सेक्स उसे कहते हैं जिसमें संभोग क्रिया के दौरान सावधानी बरती जाए, जैसे

  • कंडोम के साथ ओरल सेक्स, डेंटल डैम या प्लास्टिक रैम का इस्तेमाल कर ओरल सेक्स
  • वजाइना सेक्स के लिए मेल और फीमेल कंडोम का इस्तेमाल
  • एनल सेक्स के लिए मेल और फीमेल कंडोम का इस्तेमाल कर

और पढ़ें : प्रेग्नेंसी में STD से बचाव: प्रेग्नेंसी में यौन संचारित रोगों से बचने के टिप्स

लोगों को कैसे होती है एसटीडी

झारखंड की यूनिवर्सल संस्था के साथ मिलकर एचआईवी मरीजों के लिए काम कर रहे जमशेदपुर के होमियोपैथिक डॉक्टर नागेन्द्र शर्मा ने कहा- एसटीडी को सेक्सुअली ट्रांसमिटेड डिजीज कहा जाता है। यह बीमारी वजाइनल, ओरल या एनल सेक्स से फैल सकती है। एसटीडी के तहत होने वाली बीमारी में ज्यादातर बीमारी सीमेन, ब्लड, वजाइनल फ्लूड और स्किन में होने वाले इंफेक्शन के कारण होती है। एसटीडी के अंदर आने वाली सामान्य बीमारियों में सिफलिस, गोनोरिया, ह्यूमन पैपिलोमा वायरस एचपीवी (human papillomavirus), एचआईवी (ह्यूमन इम्यूनोडिफिशिएंसी वायरस), हेपेटाइटिस ए, जेनाइटिस हर्पिस, फंगल इंफेक्शन सहित अन्य बीमारियां सामान्य हैं। जरूरी है कि एसटीडी से बचाव किया जाए।

सुरक्षित सेक्स का अर्थ यही होता है कि अपने पार्टनर का सिमेन, वजाइनल फ्लूइड व्यक्ति के वजाइना, एनस, पेनिस और मुंह में ही रह जाता है। सुरक्षित सेक्स के लिए जरूरी है कि स्किन से स्किन के संपर्क को भी कम करना चाहिए ताकि एसटीडी की बीमारी न फैले। असुरक्षित सेक्स में कट्स, सोर और ब्लीडिंग के साथ गम के कारण एक से दूसरे व्यक्ति में बीमारी फैल सकती है। जो भी व्यक्ति असुरक्षित यौन संबंध कायम करे उसे एसटीडी की बीमारी हो सकती है। वैसे वयस्क जिनके एक से अधिक पार्टनर हैं, गे, बायसेक्सुअल लोगों में एसटीडी की बीमारी होने की संभावनाएं अन्य की तुलना में अधिक रहती है। हो सकता है कि सेक्स करने के तुरंत बाद आपको कोई लक्षण न दिखाई दे, क्योंकि लक्षण बीमारियों पर निर्भर करते हैं। इसे जानने का सही तरीका यही है कि आप एसटीडी की जांच कराएं।

और पढ़ें : सेक्स के दौरान वीर्य स्खलन की मर्यादा (इजैक्युलेशन) को कैसे बढ़ाएं?

सुरक्षित सेक्स या सेफ सेक्स क्या है?

एचआईवी और एसटीडी की बीमारी से बचाव का एक ही तरीका है कि आप सिंगल पार्टनर के साथ सेक्सुअल हाइजीन बनाए रखते हुए संभोग करें। सुरक्षित सेक्स का दूसरा सही तरीका यही है कि दो ऐसे व्यक्ति सेक्स करें, जिनको न तो एचआईवी है और न ही एसटीडी, वहीं ये लोग किसी प्रकार के इंजेक्टेबल ड्रग्स का भी इस्तेमाल न करते हों। ऐसा कर सुरक्षित सेक्स किया जा सकता है और बीमारियों से भी काफी हद तक बचा जा सकता है। आप चाहे तो कॉन्ट्रासेप्टिव का नियमित इस्तेमाल कर सकते हैं, वहीं एक से अन्य पार्टनर के साथ सेक्स करने से बचना चाहिए।  वहीं जब आपको आपके पार्टनर की सेक्स हिस्ट्री के बारे में पता न हो तब आप इन सुरक्षित उपायों को आजमा सकते हैं, जैसे

और पढ़ें : लेस्बियन सेक्स कैसे होता है? जानें शुरू से लेकर अंत तक

एसटीडी होने पर कैसे करें सुरक्षित सेक्स

कुछ एसटीडी की बीमारी कभी ठीक नहीं होती। कुछ केस में बीमारी से प्रभावित होने के बावजूद उनमें लक्षण नहीं दिखते हैं। लेकिन आप इस परिस्थिति में भी सुरक्षित सेक्स कर अपने पार्टनर को एसटीडी की बीमारी से बचा सकते हैं। इसके लिए जरूरी है कि अपने नए साथी के साथ खुलकर इस मुद्दे पर चर्चा करें, उन्हें अपने पुराने साथी के बारे में बताएं, एसटीडी की हिस्ट्री के बारे में बताएं और आप पूर्व में किसी प्रकार का ड्रग्स का सेवन करते थे तो उसके बारे में भी पार्टनर को बताएं।

सुरक्षित सेक्स के लिए जब भी आपने ज्यादा शराब पी रखी हो या फिर ड्रग्स का सेवन किया हो तो ऐसे में आपको सेक्स नहीं करनी चाहिए। संभावना रहती है कि ऐसी स्थिति में आप कंडोम लगाना भूल जाएं और अपनी जान को और भी ज्यादा जोखिम में डाल दें। सुरक्षित सेक्स के लिए आप नियमित तौर पर मेडिकल एक्सपर्ट से सलाह ले सकते हैं। वहीं यदि आपको या आपके पार्टनर को किसी प्रकार का घाव हो, कट मार्क हो, रैशेज हो या फिर डिस्चार्ज आए तो उस स्थिति में भी डॉक्टरी सलाह लेने के बाद ही सेक्स करना चाहिए।

आप सोचते हैं कि सेक्स करने के बाद आप प्राइवेट पार्ट को धो लेंगे तो इससे कोई बीमारी नहीं होगी, यह सही नहीं है, क्योंकि ऐसा कर आप एसटीडी से बचाव नहीं कर सकते हैं। लेकिन प्राइवेट पार्ट को धोने से इंफेक्शन का खतरा कम हो जाता है।

कोरोना और सेक्स लाइफ के बीच कनेक्शन जानने के लिए खेलें क्विजक्या कोरोना वायरस और सेक्स लाइफ के बीच कनेक्शन है? अगर जानते हैं इस बारे में तो खेलें क्विज

आपके पार्टनर को एचआईवी होने पर सुरक्षित सेक्स

यदि आपके पार्टनर को एचआईवी है तो बेहतर यही होगा कि सेक्स करने के पूर्व आप डॉक्टरी सलाह लें। इस स्थिति में भी सुरक्षित सेक्स कर आप एसटीडी और उससे जुड़ी अन्य बीमारियों से बच सकते हैं। वहीं डॉक्टर के सुझाए अनुसार आप इलाज करा सकते हैं।

सुरक्षित सेक्स में आने वाली रुकावटें

सेक्स के दौरान बैरियर अपनाकर कई प्रकार के इंफेक्शन से बच सकते हैं, जैसे वायरस और बैक्टीरिया से बचाव कर सकते हैं। ज्यादातरपुरुष लेटेक्स से बने कंडोम का इस्तेमाल करते हैं। यदि आपका मेल पार्टनर कंडोम का इस्तेमाल नहीं करता है तो आप महिला को फीमेल कंडोम का इस्तेमाल करने की बात कह सकते हैं। यह कंडोम महिलाओं के वजाइना में फिट हो जाता है। यह पुरुषों के कंडोम की तुलना में अधिक कीमती है, वहीं इसे कैसे इस्तेमाल करना है उसके दिशा निर्देशों की जानकारी होनी भी जरूरी है।

और पढ़ें : कौन-कौन से हैं सेक्स से जुड़े महत्वपूर्ण सवाल और पाइए उनके जवाब

इन स्टेप को अपनाएं, जब आप कंडोम का इस्तेमाल करें

  • हमेशा सेफ सेक्स के लिए बैरियर का इस्तेमाल करें, जैसे कंडोम
  • हमेशा लेटेक्स कंडोम का ही इस्तेमाल करें, इनकी डिजाइनिंग इस प्रकार से की जाती है जिससे आप कई प्रकार की बीमारी से बच सकते हैं। आप इसे बिना डॉक्टर के लिखित ही खरीद सकते हैं। यदि आपको लैटेक्स से एलर्जी है तो पोलीयूरीथेन कंडोम का इस्तेमाल कर सकते हैं या फिर ऑयल बेस्ट या वाटर बेस्ट लूब्रिकेंट का इस्तेमाल कर सकते हैं।
  • लेटेक्स कंडोम के साथ हमेशा वाटर बेस्ड लूब्रिकेंट का ही इस्तेमाल करें, जैसे के वाई जेली, आप तेल या पेट्रोलियम बेस्ट लूब्रिकेंट का इस्तेमाल न करें, जैसे वैसलीन, हैंड लोशन। सेक्स के दौरान यह ब्रेक की तौर पर रुकावट बन सकते हैं।
  • कंडोम को हमेशा ठंडी जगह पर रखें, इसे सूर्य की सीधी किरणों से बचाकर रखें। कंडोम को एक बार में अपने पर्स में कुछ घंटों से ज्यादा समय तक न रखें
  • वैसे कंडोम का इस्तेमाल न करें जो स्टिकी, रंग उतर गया हो, डैमेज हुआ हो या फिर कट मार्क हो।
  • ओरल सेक्स के दौरान जेनाइटल व एनल एरिया को अच्छी तरह से कवर लें, इसके लिए आप चाहें तो डेंटल डैम का इस्तेमाल कर सकते हैं। लेटेक्स स्कवायर को आप मेडिकल स्टोर से खरीद सकते हैं।
  • जब आपको या आपके पार्टनर में से किसी को एचआईवो हो तो आप सर्जिकल ग्लव्स का इस्तेमाल कर एक-दूजे के पास जाएं। हाथों से एक छोटा सा कट आपके पार्टनर को एचआईवी संक्रमित कर सकता है।

और पढ़ें : ये 7 बातें बताती हैं सेक्स की लत के शिकार हैं आप

सुरक्षित सेक्स के लिए जागरूकता जरूरी

सुरक्षित सेक्स के लिए हम लोगों को जागरूक होना जरूरी होता है। क्योंकि सुरक्षित सेक्स को अपनाकर विभिन्न प्रकार की बीमारी से बच सकते हैं। वहीं यदि आपको सुरक्षित सेक्स को लेकर जानकारी नहीं है तो आपको सेक्सोलॉजिस्ट या डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

महिलाओं और पुरुषों को आखिर क्यों होता है सेक्स के दौरान दर्द?

सेक्स के दौरान दर्द होने के कारण, लक्षण के साथ इससे कैसे बचाव किया जाए जानें। वहीं महिला हो या पुरुष सेक्स के दौरान दर्द से कैसे पाए निजात जानें।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish Singh

लॉकडाउन में बढ़ी सेक्स टॉय की बिक्री, एक सर्वे में सामने आई कई चौंकाने वाली बातें

लॉकडाउन में बढ़ी सेक्स टॉय की बिक्री, कैसे लॉकडाउन में बढ़ी सेक्स टॉय की बिक्री, सेक्स प्रोडक्ट्स क्या है, Sex toy का इस्तेमाल कैसे करते हैं, sale of Sex toy in lockdown

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha

बढ़ती उम्र और सेक्स में क्या है संबंध, जानें बुजुर्गों को सेक्स के दौरान किन-किन बातों का रखना चाहिए ख्याल

बढ़ती उम्र और सेक्स बेहद ही जरूरी है, कैसे करें, किन बातों का ख्याल सकें, अपने आपको सेक्सुअली तौर पर कैसे फिट रखें जानने के लिए पढ़ें यह आर्टिकल।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish Singh

सेक्स कब और कितनी बार करें, जानें बेस्ट सेक्स टाइम

सेक्स कब और कितनी बार करें यह हर इंसान के लिए अहम है। दिनभर में कितनी बार सेक्स करना फायदेमंद होता है और कौन-सा समय सेक्स के लिए बेस्ट है जानें।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish Singh

Recommended for you

रोते हुए सेक्स

जानें, रोते हुए सेक्स और बाद में रोना क्या सामान्य है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish Singh
प्रकाशित हुआ अगस्त 6, 2020 . 8 मिनट में पढ़ें
सेक्स फैक्ट्स/sex facts

सेक्स के प्रेमी हैं तो जरूर जाने इससे जुड़े सेक्स फैक्ट्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया shalu
प्रकाशित हुआ अगस्त 4, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
संभोग सुख - sex orgasm

सेक्स लाइफ बेहतर बनाने के लिए कैसे प्राप्त करें संभोग सुख

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish Singh
प्रकाशित हुआ अगस्त 4, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
पहली तिमाही में सेक्स

पहली तिमाही में सेक्स करना है कितना घातक, किस प्रकार की हो सकती है समस्याएं

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish Singh
प्रकाशित हुआ जुलाई 30, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें