home

What are your concerns?

close
Inaccurate
Hard to understand
Other

लिंक कॉपी करें

डायबिटीज में वेट लॉस एक्सरसाइज: आसानी से कर सकते हैं डायबिटीज पेशेंट इन 7 एक्सरसाइज

डायबिटीज में वेट लॉस एक्सरसाइज: आसानी से कर सकते हैं डायबिटीज पेशेंट इन 7 एक्सरसाइज

कहते हैं “मंजिल सिर्फ सोचने से नहीं मिला करती, उसके लिए काम भी करना पड़ता है”… इस कहावत को अगर फिटनेस से जोड़कर भी देखा जाए तो गलत नहीं होगा। मैं ऐसा इसलिए कह रही हूं कि हममें से ज्यादातर लोग फिट रहने के लिए सबसे पहले जिम जाने के बारे में सोचते हैं और फिर मेंबरशिप लेने के बाद कुछ दिन जाते हैं और फिर जिम जाना बंद कर देते हैं यानी एक्सरसाइज (Exercise) करना बंद! वहीं देखा जाए तो बदलती लाइफ स्टाइल में लाइफ स्टाइल डिजीज की लिस्ट में शामिल डायबिटीज (Diabetes) की समस्या भी सामान्य है, लेकिन इग्नोर किया जाए तो यह बीमारी गंभीर हो सकती है और हार्ट डिजीज जैसी गंभीर बीमारियों को दावत दे सकती है। इसलिए आज इस आर्टिकल में डायबिटीज में वेट लॉस एक्सरसाइज (Weight loss exercise for diabetics) से जुड़ी जानकारी शेयर करूंगी।

डायबिटीज में वेट लॉस एक्सरसाइज इसलिए भी जरूरी है, क्योंकि नैशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इन्फॉर्मेशन (National Center for Biotechnology Information) के अनुसार, बढ़ता वजन भी डायबिटीज की समस्या को दावत दे सकता है। इसलिए डायबिटीज में वेट लॉस एक्सरसाइज शरीर को स्वस्थ रखने के लिए एवं ब्लड शुगर लेवल बैलेंस में रखने के लिए आवश्यक है। चलिए आर्टिकल में आगे एक-एक कर डायबिटीज में वेट लॉस वर्कआउट (Weight loss exercise for diabetics) डिटेल्स शेयर करते हैं।

और पढ़ें : कहीं बढ़ता ब्लड शुगर लेवल हायपरग्लायसेमिक हायपरोस्मोलर सिंड्रोम का कारण ना बन जाए?

डायबिटीज में वेट लॉस एक्सरसाइज (Weight loss exercise for diabetics)

डायबिटीज में वेट लॉस एक्सरसाइज (Weight loss exercise for diabetics)

डायबिटीज में वेट लॉस वर्कआउट: निम्नलिखित वर्कआउट ब्लड शुगर लेवल (Blood Sugar Level) को बैलेंस रखने के लिए किया जा सकता है। जैसे:

1. डायबिटीज में वेट लॉस एक्सरसाइज: वॉकिंग (Walking)

डायबिटीज में वेट लॉस वर्कआउट के लिए वॉकिंग यानी टहलना लाभकारी माना जाता है। वहीं सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (Center for Disease Control and Prevention) में पब्लिश्ड रिपोर्ट के अनुसार नियमित रूप से आधे घंटे टहलने से ब्लड शुगर लेवल (Blood Sugar Level) एवं वजन (Weight) दोनों को संतुलित रखने में मदद मिलती है। इसलिए टाइप 1 डायबिटीज (Type 1 Diabetes) या टाइप 2 डायबिटीज (Type 2 Diabetes) के पेशेंट्स को रोजाना टहलने की आदत डालनी चाहिए।

2. डायबिटीज में वेट लॉस वर्कआउट: साइकलिंग (Cycling)

“बचपन का प्यार साइकलिंग”…ऐसा मैं इसलिए कह रही हूं, क्योंकि तकरीबन सभी छोटे बच्चों के लिए साइकलिंग किसी एडवेंचर एवं शौक से कम नहीं। हालांकि अगर आपका ब्लड शुगर लेवल इम्बैलेंस रहता है, तो ऐसे में नैशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इन्फॉर्मेशन (National Center for Biotechnology Information) में पब्लिश्ड रिपोर्ट के अनुसार रोजाना साइकलिंग आपके लिए बेस्ट ऑप्शन माना जाता है। इसलिए अगर आप यंग हैं तो आप अपने दिनचर्या में नियमित साइकलिंग (Cycling) करें और ब्लड शुगर लेवल को बैलेंस रखें।

3. डायबिटीज में वेट लॉस एक्सरसाइज: तैरना (Swimming)

रोजाना तैरने से आप डायबिटीज जैसी कई अन्य गंभीर बीमारियों के खतरों को कम करने में मदद मिल सकती है। तैरना भी कार्डियोवैस्कुलर एक्सरसाइज की एक टाइप है। इसीलिए स्विमिंग करने से हार्ट डिजीज (Heart disease), स्ट्रोक (Stroke), और टाइप 2 डायबिटीज (Type 2 Diabetes) से बचाव में मदद मिल सकती है। तैरने से वेट लॉस करने में मदद मिलती है और साथ ही कैलोरी भी बर्न होती है, जिससे ब्लड शुगर लेवल (Blood Sugar Level) कंट्रोल रहता है। अगर आपको हाय कोलेस्ट्रॉल (High Cholesterol) की समस्या है, तो भी आपको स्वीमिंग से लाभ मिल सकता है। स्वीमिंग करने से बैड एलडीएल कोलेस्ट्रॉल (LDL Cholesterol) कम होगा और गुड एचडीएल कोलेस्ट्रॉल (HDL Cholesterol) बढ़ेगा।

4. डायबिटीज में वेट लॉस एक्सरसाइज: वेट ट्रेनिंग एक्सरसाइज (Weight training exercise)

नैशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इन्फॉर्मेशन (National Center for Biotechnology Information) में पब्लिश्ड रिपोर्ट के अनुसार बॉडी में ग्लूकोज (Glucose) लेवल कंट्रोल करने के लिए वेट ट्रेनिंग एक्सरसाइज लाभकारी हो सकता है। वहीं वेट ट्रेनिंग एक्सरसाइज (Weight training exercise) करने से बॉडी में इन्सुलिन (Insulin) भी ठीक तरह से काम करता है।

और पढ़ें : Huminsulin N: जानिए डायबिटीज पेशेंट के लिए ह्युमिनसुलिन एन के फायदे और नुकसान

5. डायबिटीज में वेट लॉस वर्कआउट: पिलाटे एक्सरसाइज (Pilates Exercise)

दि जर्नल ऑफ स्ट्रेंथ एंड कंडिशनिंग रिसर्च (The Journal of Strength and Conditioning Research) में पब्लिश्ड रिपोर्ट के अनुसार डायबिटीज में वेट एक्सरसाइज के ऑप्शन में पिलाटे एक्सरसाइज (Pilates Exercise) को शामिल किया जा सकता है। दरअसल बेली फैट भी डायबिटीज के कई कारणों में से एक है और ऐसे में पिलाटे एक्सरसाइज कमर के आसपास के फैट को कम करने में कारगर माना गया है। वहीं बॉडी के एक्स्ट्रा फैट (Extra fat) को कम करने के साथ-साथ पिलाटे एक्सरसाइज कैलोरी बर्न करने में भी आपकी सहायता करता है। अगर इसे एक उदाहरण की सहायता से समझा जाए, तो आपका वजन 150 पाउंड यानी कि 68 किलोग्राम है और आप रोजाना 50 मिनट तक पिलाटे एक्सरसाइज कर रहे हैं। 50 मिनट के पिलाटे एक्सरसाइज से आपकी 175 कैलोरी बर्न होगी। इसके अलावा अगर आप एडवांस लेवल का पिलाटे एक्सरसाइज करते हैं तो आपकी 254 कैलोरी बर्न होगी।

6. डायबिटीज में वेट लॉस एक्सरसाइज: रस्सी कूदना (Jump rope)

अगर आप वजन कम करना चाहते हैं या डायबिटीज की समस्या से पीड़ित हैं, तो ऐसे में रस्सी कूदना आपके लिए बेहतर विकल्प साबित हो सकता है। रिसर्च रिपोर्ट्स के अनुसार नियमित रूप से 15 मिनट रस्सी कूदने से 200 कैलोरी बर्न की जा सकती है। इसके अलावा रस्सी कूदने से हायपरटेंशन (Hypertension) एवं ब्लड शुगर लेवल (Blood Sugar Level) को भी बैलेंस रखने में मदद मिल सकती है।

7. डायबिटीज में वेट लॉस एक्सरसाइज: एरोबिक्स एक्सरसाइज (Aerobic Exercise)

एरोबिक्स एक्सरसाइज डायबिटीज पेशेंट्स के लिए लाभकारी बताया गया है। नियमित रूप से एरोबिक्स एक्सरसाइज करने से फिटनेस लेवल बढ़ता है। वहीं ये एक्सरसाइज दिल से जुड़ी बीमारियों (Heart disease) को और इन्सुलिन (Insulin) को कंट्रोल करने में मददगार है

ऊपर बताये इन 7 अलग-अलग वर्कआउट को डायबिटीज पेशेंट अपने नियमित दिनचर्या में शामिल कर सकते हैं। अगर आप चाहें तो एक्सरसाइज की योग का भी विकल्प अपना सकते हैं। ऐसा करने से ब्लड शुगर लेवल बैलेंस में रखने में मदद मिल सकती है।

नोट: ज्यादा उम्र के डायबिटीज पेशेंट्स को डॉक्टर से कंसल्टेशन के बाद ही एक्सरसाइज करना चाहिए या उनके लिए आसान योग या फिर नियमित टहलना लाभकारी हो सकता है।

और पढ़ें : डायबिटीज है? तो ये प्रोटीन शेक हैं सिर्फ आपके लिए

डायबिटीज पेशेंट को किन-किन बातों का ध्यान रखें? (Things to follow regularly)

डायबिटीज पेशेंट को ब्लड शुगर लेवल बैलेंस में रखने के लिए एक्सरसाइज के साथ-साथ निम्नलिखित बातों का ध्यान रखना चाहिए। जैसे:

  • शरीर का वजन (Weight) संतुलित रखें।
  • मीठे (Sweets) के सेवन से दूरी बनायें।
  • ब्लड शुगर लेवल (Blood Sugar Level) समय-समय पर चेक करें।
  • तनाव (Tension) से दूर रहें।
  • तेल-मसाले या प्रोसेस्ड फूड (Processed food) का सेवन ना करें।
  • डायबिटीज की दवाओं (Diabetes medicine) का सेवन समय पर करें।
  • इंसुलिन इंजेक्शन (Insulin injection) समय पर लें।
  • शुगर लेवल बढ़ाने वाले फलों (Fruits) का सेवन न करें।
  • 7 से 9 घंटे की नींद रोजाना लें।

इन बातों को ध्यान में रखकर ब्लड शुगर लेवल (Blood sugar level) को बैलेंस रखने में मदद मिल सकती है।

अगर आपको इंसुलिन या फिर टाइप 1 डायबिटीज के बारे में अधिक जानकारी चाहिए, तो आप डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं। बेहतर लाइफस्टाइल, वेट को कंट्रोल कर और पौष्टिक आहार का सेवन (Eating nutritious food) कर आप डायबिटीज के खतरे को कम कर सकते हैं।

और पढ़ें : Insulin R: जानिए डायबिटीज पेशेंट के लिए इन्सुलिन आर के फायदे और नुकसान

अगर आप डायबिटीज में वेट लॉस एक्सरसाइज (Weight loss exercise for diabetics) से जुड़ी किसी तरह की कोई जानकारी पाना चाहते हैं, तो हमें कमेंट बॉक्स में पूछ सकते हैं हमारे हेल्थ एक्सपर्ट आपके सवालों का जवाब देंगे। हालांकि अगर आप डायबिटीज की समस्या से परेशान हैं और डायबिटीज में वेट लॉस एक्सरसाइज (Weight loss exercise for diabetics) की मदद से ब्लड शुगर लेवल बैलेंस रखना चाहते हैं, तो डॉक्टर एवं फिटनेस एक्सपर्ट से कंसल्ट करें। क्योंकि डॉक्टर ब्लड शुगर की समस्या को ध्यान में रखकर डायबिटीज की दवा एवं वर्कआउट करने की सलाह दे सकते हैं। अगर आप डायबिटीज के पेशेंट है और वेट लॉस एक्सरसाइज की मदद ले रहें हैं, तो आप अपना एक्सपीरियंस भी कमेंट बॉक्स में शेयर कर सकते हैं।

डायबिटीज की समस्या होने पर हेल्दी डायट (Healthy diet) फॉलो करना बेहद जरूरी है। डॉक्टर से द्वारा प्रिस्क्राइब्ड ड्रग्स भी समय पर लें और नियमित योगासन करें। योग के फायदे और करने का तरीका जानिए नीचे दिए इस वीडियो लिंक में।

health-tool-icon

बीएमआई कैलक्युलेटर

अपने बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) की जांच करने के लिए इस कैलक्युलेटर का उपयोग करें और पता करें कि क्या आपका वजन हेल्दी है। आप इस उपकरण का उपयोग अपने बच्चे के बीएमआई की जांच के लिए भी कर सकते हैं।

पुरुष

महिला

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Nidhi Sinha द्वारा लिखित आखिरी अपडेट कुछ हफ्ते पहले को
डॉ. हेमाक्षी जत्तानी के द्वारा मेडिकली रिव्यूड