home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

आंख से कीचड़ आना हो सकता है इन बीमारियों का संकेत, जान लें इनके बारे में

आंख से कीचड़ आना हो सकता है इन बीमारियों का संकेत, जान लें इनके बारे में

आपको लगता होगा कि आंख से कीचड़ आना एक सामान्य बात है, लेकिन क्या कभी सोचा है कि आंख से कीचड़ आने की वजह क्या है और इसके पीछे का क्या कारण है? आंख से कीचड़ आना और उसके रंग हमारी आंखों की सेहत के बारे में बहुत कुछ कहते हैं। इस आर्टिकल में आंख से कीचड़ आने के लक्षण और इलाज के बारे में जानेंगे। उससे पहले हम जानेंगे कि एक्सपर्ट की नजर में क्या है आंख से कीचड़ आना?

और पढ़ें : घर पर आंखों की देखभाल कैसे करें? अपनाएं ये टिप्स

आंख से कीचड़ आना : जानें एक्सपर्ट की राय

उत्तर प्रदेश के वाराणसी स्थिति टंडन नर्सिंग होम के नेत्र रोग विशेषज्ञ डॉ. अनुराग टंडन से हैलो स्वास्थ्य ने बात की। डॉ. अनुराग टंडन ने बताया कि, ”आंख से कीचड़ आना हमारी आंखों के लिए जरूरी है। दिन भर हम अपनी पलकों को झपकाते रहते हैं, इसलिए हमारी आंखों की गंदगी साफ होती रहती है, लेकिन रात में सोते समय हमारी आंखें लगातार बंद रहती है, जिससे हमारी आंखों से म्यूकस स्रावित होता है। ये म्यूकस हमारी आंखों में एक तरफ जा कर इकट्ठा हो जाता है, जिसे हम आंख से कीचड़ आना कहते हैं, लेकिन अगर ज्यादा मात्रा में आंख से कीचड़ आना शुरू हो जाए तो ये आंखों से जुड़ी एक समस्या है। इस स्थिति में आपको तुरंत डॉक्टर से मिलना चाहिए और आंखों का इलाज कराना चाहिए। ”

और पढ़ें : डब्लूएचओ : एक बिलियन लोग हैं आंखों की समस्या से पीड़ित

आंख से कीचड़ आने के कारण क्या हैं?

जैसा कि पहले ही बताया गया है कि आंख से कीचड़ आना एक सामान्य बात है, लेकिन जब आंख से कीचड़ आना बढ़ जाता है तो आंख से संबंधित कोई न कोई समस्या होती है। आंख से कीचड़ आने के कारण निम्न हैं :

आंख में एलर्जी (Eye Allergy)

आंख में एलर्जी को एलर्जिक कंजक्टिविटीस (allergic conjunctivitis) के नाम से भी जाना जाता है। आंख में जलन पैदा करने वाले किसी भी पदार्थ के संपर्क में आने पर आंख इनके प्रति प्रतिक्रिया देती है, जिसकी वजह से आंख में एलर्जी पैदा होती है। इन पदार्थों को एलर्जेंस (allergens) कहा जाता है। शरीर के इनको प्रतिक्रिया देने पर एलर्जिक रिएक्शन पैदा होता है। सामान्यतः इन नुकसानदायक वायरस या बैक्टीरिया के प्रति हमारा इम्यून सिस्टम शरीर की रक्षा करता है। यह वायरस और बैक्टीरिया होते हैं, जो बीमारी फैलाते हैं।

हालांकि, आंख में एलर्जी वाले लोगों में इम्यून सिस्टम इन एलर्जेंस के प्रति एक गलती करता है। इसकी वजह से इम्यून सिस्टम एक प्रकार का केमिकल बनाता है, जो इन एलर्जेंस से लड़ता है। इन दोनों के आपस में होने वाले रिएक्शन से कई प्रकार के जलन के लक्षण जैसे खुजली, लालिमा, वॉटरी आइज और आंख से कीचड़ आना आदि समस्याएं होती हैं। कुछ लोगों में आंख में एलर्जी एग्जेमा (Eczema) और अस्थमा से जुड़ी होती है।

और पढ़ें : कंप्यूटर पर काम करने से पड़ता है आंख पर प्रेशर, आजमाएं ये टिप्स

कंजंक्टिवाइटिस (Conjunctivitis)

कंजंक्टिवाइटिस, जिसे पिंक आई भी कहा जाता है, एक ऐसी स्थिति है, जिसमें पलक की आंतरिक सतह और आंख के सफेद भाग की बाहरी सतह में सूजन आ जाती है। इससे आंखें लाल हो जाती हैं और खुजली होती है। कुछ लोग इसे आंख आना भी कहते हैं। यह समस्या दोनों आंखों में हो सकती है। कंजंक्टिवाइटिस एक संक्रामक रोग है, इसलिए दूसरों को संक्रमित होने से बचाने के लिए आपको अलग रहना चाहिए और जल्द से जल्द आंखों का इलाज करवाना चाहिए

आई एनाटॉमी के बारे में जानने के लिए देखें ये 3डी मॉडल:

पलकों की सूजन या ब्लेफेराइटिस (Blepharitis)

ब्लेफेराइटिस आंखों की एक आम समस्या है जिसमें पलकें लाल, पपड़ीनुमा हो जाती हैं और बहुत दर्द होता है। यह समस्या बहुत आम है और हर उम्र के लोगों को प्रभावित कर सकती है, लेकिन सही समय पर उपचार से पलकों की सूजन ठीक हो जाती है और इससे आंखों को किसी तरह का नुकसान नहीं होता

आई स्टाइ या गुहेरी (Sty)

आई स्टाइ लाल और पीड़ादायक पस भरी गांठ होती है, जो इंफेक्शन की वजह से होती है। स्टाइ को होर्डियोलम भी कहा जाता है। वैसे तो यह अधिकांश लोगों को पलकों के बाहर होता है, लेकिन कुछ को पलकों के अंदर भी हो सकता है। स्टाइ के कारण बहुत दर्द होता है और आपको पलकें भारी-भारी और असहज महसूस होती हैं। स्टाइ आमतौर पर कुछ दिनों में अपने-आप गायब हो जाता है। इस बीच दर्द और असहजता से राहत पाने के लिए गर्म कपड़े से पलकों को सेंक सकते हैं।

और पढ़ें : Bulging Eyes : कुछ लोगों की आंखें ऊभरी हुई क्यों होती है?

आंख से कीचड़ आना : कीचड़ के रंग से जानें क्या समस्या है?

गाढ़े हरे या ग्रे रंग का आंख से कीचड़ आना

गाढ़े हरे या ग्रे रंग का आंख से कीचड़ आना गंभीर हो सकता है। आपकी आंखों से आने वाला हरे या भूरे रंग का डिस्चार्ज बैक्टीरिया के कारण होने वाले आंखों के संक्रमण के लिए जिम्मेदार हो सकता है। बैक्टीरियल कंजंक्टिवाइटिस के कारण आपकी पलक पूरी तरह से सुबह जागने के बाद भी बंद हो सकती है। इस तरह का आंखों का संक्रमण मवाद या पस पैदा करने वाले (Pyogenic) बैक्टीरिया के कारण होता है। जिससे आंखों में लालिमा और जलन जैसे लक्षण पैदा हो सकते हैं।

अगर सुबह उठने के बाद आपकी आंख नहीं खुल पा रही है या चिपकी सी लग रही है तो इसका मतलब है कि आपको कंजंक्टिवाइटिस हो गया है। हमारी आंखों में कंजंक्टिवा एक साफ म्यूकस झिल्ली होती है, जो हमारी आईलिड के सफेद भाग के अंदर की तरफ पाया जाता है।

और पढ़ें : आईबॉल में कराया टैटू, चली गई ‘ड्रैगन वुमेन’ की आंखों की रोशनी

पीले रंग का आंख से कीचड़ आना

पीले रंग का आंख से कीचड़ आना आपकी आंखों में गुहेरी के कारण हो सकता है। आंखों की पलकों पर गुहेरी होने पर पलकों के द्वारा आंखों के किनारे पर पस जैसा पीले रंग का कीचड़ दिखाई देता है। आंखों की पलकों पर स्टाइ के कारण जो फुंसी हो जाती है, पलक झपकाने के कारण उस पर दबाव पड़ने से पस बाहर आने लगता है।

स्टाइ के लक्षण सामने आने पर डॉक्टर के पास जाने चाहिए। डॉक्टर द्वारा दी गई आई ड्रॉप या एंटीबैक्टीरियल क्रीम दिया जाएगा। अगर इससे भी आपको आराम नहीं मिलता है, तो डॉक्टर सूजन वाली जगह पर बारीक सा छेद कर सकते हैं, जिससे पस बाहर निकल जाए और आपको आराम मिले।

पीले या सफेद रंग के कीचड़ के बॉल्स

पीले या सफेद रंग का बॉल की तरह आंख से कीचड़ आना डाइसैरोसाइटिस के लक्षण हो सकते हैं। नैसोलैक्रिमल थैली या आंसू निकलने के सिस्टम में संक्रमण को ही डाइसैरोसाइटिस कहा जाता है। जिससे आंखों से पीले या सफेद रंग का कीचड़ आने लगता है। यदि आपको डैक्रीकोस्टाइटिस है, तो आपके चेहरे में दर्द, लालिमा और पलक व नाक के आसपास सूजन की शिकायत हो सकती है। यह स्थिति गंभीर हो सकती है, इसलिए आपको तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। डॉक्टर एंटीबायोटिक दवाओं से इंफेक्शन का इलाज करते हैं।

गाढ़ा क्रस्टी म्यूकस

पलकों का मोटा होना और आंखों से गाढ़ा क्रस्टी म्यूकस ब्लेफेराइटिस नामक स्थिति के कारण हो सकता है। ब्लेफेराइटिस कभी-कभी आपकी त्वचा पर पाए जाने वाले बैक्टीरिया के कारण होता है। बैक्टीरिया पलकों और आईलिड को संक्रमित कर सकता है, जिससे आईलिड पर लालिमा और सूजन हो सकती है। पलकें मोटी हो जाती हैं और पलकों पर डैंड्रफ जैसा दिखने लगता है।

ब्लेफेराइटिस का इलाज अक्सर आईलिड को स्क्रब करने के बाद गर्म सिंकाई करके किया जाता है। आईलिड स्क्रब कई अलग-अलग तरीकों से किया जा सकता है। आंखों को बंद कर के साफ गीले कपड़े की मदद से आंखों को पीछे की तरफ सर्कुलर मोशन में स्क्रब करें। बेबी शैंपू की मदद से भी आंखों को स्क्रब कर सकते हैं। बेबी शैंपू आपकी आंखों में लगेगा भी नहीं।

और पढ़ें : आंखों के लिए बेस्ट हैं योगासन, फायदे जानकर हैरान रह जाएंगे

रेशेदार सफेद रंग का आंख से कीचड़ आना

आंखों से रेशेदार, सफेद म्यूकस आना एलर्जी कंजंक्टिवाइटिस का संकेत हो सकता है। आंखों की एलर्जी से आपको खासी परेशानी हो सकती है। एलर्जी के कारण जब रेशेदार और सफेद रंग की आंख से कीचड़ आना शुरू होता है तो हमारी पलकें एक दूसरे में चिपक सकती हैं। जिससे आपको काफी अजीब महसूस होता है और आप अपनी आंखों से म्यूकस को हमेशा खींचते रहते हैं। जब आंखों की एलर्जी गंभीर हो जाती है, तो आई ड्रॉप के अलावा ओरल दवाओं के साथ इलाज किया जाता है।

पानी जैसा आंखों से कीचड़ आना

आंख में कीचड़ की थोड़ी मात्रा के साथ आंसू आना वायरल कंजंक्टिवाइटिस के लक्षण हो सकते हैं। वायरल कंजंक्टिवाइटिस में विभिन्न प्रकार के लक्षण सामने आ सकते हैं, जैसे- पलक में सूजन, धुंधला दिखाई दोना, आंखों में लालपन और आंखों में गया हुआ महसूस होना। वायरल कंजंक्टिवाइटिस अक्सर ऊपरी रेस्पायरेटरी वायरल बीमारियों के कारण होने वाली समस्या है। सूजन और आंखों में जलन के कारण आंख से ज्यादा आंसू आते हैं।

छोटा और सूखा कीचड़

जागने के बाद आपकी आंखों के कोनों में पाए जाने वाले कीचड़ के छोटे, सूखे कण ड्राई आई सिंड्रोम की ओर इशारा करती हैं। इंसान के आंसू पानी, म्यूकस और तेल से बने होते हैं। जब आंसू में पानी कम हो जाता है, तो सुबह में म्यूकस और तेल एक साथ चिपक जाते हैं। इसके बाद वे हवा के संपर्क में आने पर सूख जाते हैं।

आंखों से कीचड़ आने का घरेलू इलाज क्या है?

आंख से कीचड़ आना और उसके कारण के बारे में आप जान चुके हैं। आइए आब जानते हैं कि इसके घरेलू इलाज क्या हैं?

कोलॉस्ट्रम (Breast Milk)

कोलॉस्ट्रम Breast Milk

अक्सर नवजात शिशु को ही आंखों में संक्रमण होता है। मां का दूध नवजात शिशु में हुए आई इंफेक्शन के लक्षणों को ठीक करता है। कोलॉस्ट्रम में हाई लेवल के एंटीबॉडी होते हैं जो संक्रमण से लड़ने में मदद करते हैं और नवजात शिशु में कंजंक्टिवाइटिस को कम करते हैं। एक ड्रॉपर की मदद से बच्चे की आंखों में ब्रेस्ट मिल्क की कुछ बूंदे डालें। इसके पांच मिनट बाद इसे धो दें। ऐसा दिन में दो बार करें।

और पढ़ें : बेहद आसानी से की जाने वाली 8 आई एक्सरसाइज, दूर करेंगी आंखों की परेशानी

ग्रीन टी बैग

ग्रीन टी का एक्सट्रैक्ट बायोएक्टिव कम्पाउंड्स से भरपूर होता है। जिसमें एंटी-इंफ्लमेटरी गुण होते हैं। ग्रीन टी बैग्स का उपयोग करने से आंखों की सूजन कम होती है, लेकिन अभी तक कोई साइंटिफिक प्रूफ नहीं मिला है कि जिससे आई इंफेक्शन का इलाज किया जा सकता है। आप इस्तेमाल किए हुए दो ग्रीन टी बैग लें। उसे फ्रिज में रखें, इसके बाद 15 से 20 मिनट के लिए आपनी आंखों पर रखें। इससे आपको राहत मिलेगी और फिर आंखों को धो लें। ऐसा दिन में दो बार करने से आपकी आंखों की सूजन और दर्द कम हो जाएगा।

शहद

मनुका शहद-Manuka Honey
शहद का उपयोग आंखों के संक्रमण जैसे ब्लेफेराइटिस, केराटाइटिस और केरैटोकंजंक्टिवाइटिस के इलाज के लिए किया जाता है। शहद में एंटी-इंफ्लमेटरी और एंटीमाइक्रोबियल गुण होते हैं। यह आई इंफेक्शन को कम करने में मदद करता है। एक कप पानी उबालें और इसमें शहद की कुछ बूंदें मिलाएं। इसे ठंडा होने दें। दोनों आंखों में ड्रॉपर की मदद से एक बूंद डालें। पांच मिनट बाद आंखों को धो लें। ऐसा दिन में दो से तीन बार करें।

और पढ़ें : प्याज का तेल होता है लाभकारी, जानिए क्या-क्या हैं इसके फायदे?

हल्दी

Turmeric: <a target=हल्दी का उपयोग” width=”602″ height=”370″ />

हल्दी में करक्यूमिन बायोएक्टिव कम्पाउंड के रूप में पाया जाता है। इसके एंटी-इंफ्लमेटरी और एंटीमाइक्रोबियल गुण आई इंफेक्शन के लक्षणों को कम करने में मदद कर सकते हैं। आई इंफेक्शन के लिए हल्दी एक अच्छा घरेलू इलाज हो सकता है।

एक कप पानी उबालें और इसमें एक चम्मच हल्दी मिलाएं। इसे थोड़ी देर के लिए ठंडा होने दें। इस घोल में एक साफ कपड़े को भिगाएं। इस कपड़े से गर्म सिंकाई करें। इस प्रक्रिया को दोनों आंखों पर बारी-बारी से दोहराएं और आंखों को गुनगुने पानी से धुल लें। ऐसा दिन में एक बार करें।

और पढ़ें : आंखों का टेढ़ापन क्या है? जानिए इससे बचाव के उपाय

लेमन जूस

नींबू-Lemon

कभी-कभी किसी चीज से एलर्जी या मौसम में बदलाव के कारण आंखों में संक्रमण हो सकता है। अपने एंटी-इंफ्लमेटरी और एंटीऑक्सिडेंट गुणों के कारण, नींबू का रस आई इंफेक्शन और उनके लक्षणों से लड़ने में मदद कर सकता है, लेकिन ध्यान रखें कि डॉक्टर से पूछने के बाद ही आई इंफेक्शन में लेमन जूस लें। नींबू से रस निकालें। इसे एक गिलास गर्म पानी में डालें और अच्छी तरह मिलाएं। फिर इसे पी लें। ऐसा दिन में एक बार करें।

एसेंशियल ऑयल

टी ट्री, पेपरमिंट और रोजमेरी के एसेंशियल ऑयल में एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं। इसलिए, वे माइक्रोबियल इंफेक्शन को रोकने में मददगार हो सकते हैं। एक बड़े कटोरे में पानी गर्म करें और उसमें एसेंशियल ऑयल की 3-4 बूंदें डालें। खुद को एक तौलिए से कवर करें और कटोरे के ऊपर झुककर 5 से 6 मिनट तक भांप लें। ऐसा दिन में दो बार करें। आंखों के आस-पास एसेंशियल ऑयल को न लगने दें वरना आंखों में जलन हो सकती है।

 

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Common eye infections https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC6003010/ Accessed on 25/3/2020

Conjunctivitis  https://www.cdc.gov/conjunctivitis/about/symptoms.html Accessed on 25/3/2020

Quick Home Remedies for Pink Eye https://www.aao.org/eye-health/diseases/pink-eye-quick-home-remedies Accessed on 25/3/2020

Blepharitis: https://www.mayoclinic.org/diseases-conditions/blepharitis/diagnosis-treatment/drc-20370148 Accessed on 03/07/2020

The use of tea tree oil in treating blepharitis and meibomian gland dysfunction: https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5848340/ Accessed on 03/07/2020

 

लेखक की तस्वीर badge
Shayali Rekha द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 17/05/2021 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
x