home

What are your concerns?

close
Inaccurate
Hard to understand
Other

लिंक कॉपी करें

क्या जिम में एसी (AC) होना सेफ है?

क्या जिम में एसी (AC) होना सेफ है?

फिट रहने के लिए आजकल हर कोई जिम को प्राथमिकता दे रहा है। जिम भी अब बहुत अधिक मॉडर्न हो गए हैं। इनमें आधुनिक उपकरण, हर तरह के व्यायाम, स्वस्थ रहने की तकनीक, पूरी तरह से निपुण ट्रेनर के साथ-साथ शॉवर रूम, स्पा आदि का भी इंतजाम होता है। ताकि, वहां आने वाले लोगों को कोई समस्या न हो। इसके साथ ही, उन्हें एक ही जगह पर सभी सहूलतें मिल जाएं। इतनी सहूलतों वाले जिम में एसी न हो, ऐसा तो हो ही नहीं सकता। कई लोग ऐसा मानते हैं कि एसी स्वास्थ्य के लिए बहुत हानिकारक होता है। अब सवाल यह है कि क्या जिम में एसी का होना सेफ है या नहीं? कुछ लोग इसे सेफ मानते हैं तो कुछ नहीं। आइए, जानें जिम में एसी होना सेफ या नहीं।

और पढ़ें : हाइट बढ़ाने के लिए बेस्ट हैं ये एक्सरसाइज

जिम में एसी क्यों लगाया जाता है?

जिम में एसी होना सेफ है या नहीं, इस बारे में जानने से पहले जानते हैं कि जिम में एसी लगाया क्यों जाता है? जिम में एसी वहां मौजूद लोगों के आराम और सहूलियत के लिए लगाया जाता है। इसके अलावा, एक कारण यह भी है कि एसी के होने से वहां के जीवाणु भी मर जाते हैं और साथ ही शरीर में आने वाला पसीना भी सूख जाता है। आजकल लोग अधिक गर्मी में रहना पसंद नहीं करते। ऐसा भी कहा जा सकता है कि तापमान के अधिक होने के कारण कोई भी शारीरिक गतिविधि करना मुश्किल हो जाता है। इसलिए, गर्मी या सर्दी से राहत पाने के लिए जिम में भी एसी लगाया जाता है।

और पढ़ें : चमकदार त्वचा चाहते हैं तो जरूर करें ये योग

जिम में ए.सी. होने के क्या फायदे हैं?

जिम में एसी होने से ये फायदे होते हैं :

  • जिम में एसी होने से लोग तापमान से परेशान नहीं होते। जिसके कारण वो आराम से व्यायाम कर पाते हैं। मतलब उनका ध्यान नहीं भटकता।
  • बाहर के गर्म तापमान से आराम मिलता है।
  • अगर बाहर के तापमान से जिम का तापमान कम होगा, तो आपकी मांसपेशियों को कम हानि पहुंचेगी।
  • जिम में ए.सी. होने से आप का शरीर जल्दी गर्म नहीं होगा जिससे आप कई समस्याओं से बचे रहेंगे।

और पढ़ें : वेट लॉस से लेकर जॉइंट पेन तक, जानिए क्रैब वॉकिंग के फायदे

जिम में एसी होने के क्या नुकसान हैं?

जिम में ए.सी. होने से नीचे बताए गए नुकसान होते हैं :

  • हम जिम इसलिए जाते हैं ताकि, शरीर से पसीने के माध्यम से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकाल सकें। लेकिन, अगर जिम में एसी है, तो आपका पसीना तुरंत सूख जाएगा, जिससे आपको जल्दी अच्छे परिणाम नहीं मिलेंगे।
  • नॉन एसी जिम में वॉर्मअप करने में आसानी होती है।
  • एसी नहीं होगा, तो शरीर जल्दी गर्म हो जाएगा, जिससे आप व्यायाम नहीं कर सकते हैं।
  • अगर आप एसी वाले जिम या एरिया में वर्कआउट करते हैं तो आप यह भी नोटिस करेंगे कि आपको वार्मअप में सामान्य से अधिक समय लगेगा।
  • यह सच है कि एसी वाले जिम में शरीर बहुत जल्दी ठंडा हो जाता है। इसलिए, अगर आप आराम कर रहे हैं या ब्रेक ले रहे हैं, तो इस बात का ध्यान रखें कि इस दौरान भी कुछ न कुछ करते रहें, ताकि आपकी मांसपेशियां न अकड़ें।

एसी के न होने का प्रभाव

हमारे देश में गर्मी में तापमान बहुत अधिक होता है। इतने तापमान में आप एक जगह खड़े भी नहीं हो सकते। तो ऐसे में वर्कआउट की कल्पना भी करना मुश्किल है। इसलिए हमारे देश में बिना एसी के वर्कआउट करना बहुत ही मुश्किल है। यही नहीं, बिना एसी के वर्कआउट करना हमारे स्वास्थ्य के लिए भी हानिकारक हो सकता है। अगर आप बिना एसी के वर्कआउट करोगे, तो आपके शरीर का तापमान अचानक बढ़ जाएगा, जिससे आपके लिए सांस लेना या कोई भी काम करना मुश्किल हो जाएगा। यही नहीं, अधिक गर्मी होने से आप वर्कआउट में भी आप ध्यान नहीं लगा पाएंगे, जिससे आपका जिम में आने का कोई फायदा नहीं होगा।

लगातार बदलते तापमान के कारण शहरों में तो अब नॉन एसी जिमों का मिलना भी मुश्किल हो गया है, क्योंकि लोग अब एसी जिम में ही वर्कआउट करना चाहते हैं ताकि वो अधिक देर तक बिना किसी परेशानी के वर्कआउट कर सके।

और पढ़ें : लाफ लाइंस से छुटकारा दिलाएंगी ये एक्सरसाइज

क्या एक्सरसाइज करते वक्त पसीना निकलना जरूरी है?

ऐसा माना जाता कि अगर आप वर्कआउट करते हैं, तो आपका अधिक पसीना निकलना आवश्यक है। पसीना निकलने को हमारे वर्कआउट का अच्छा परिणाम माना जाता है। लेकिन विशेषज्ञों का मानना है कि फिटनेस या अधिक कैलोरी के खर्च होने में पसीने का कुछ लेना देना नहीं है। विशेषज्ञों की मानें, तो एसी का वर्कआउट पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता। यह जेनेटिक है।आपके शरीर में स्वेट पोर्स पर यह बात निर्भर करती है कि आपको अधिक पसीना निकलेगा या नहीं। इसलिए, अगर आपके जिम में एसी है, तब भी आपको अपने वर्कआउट से वही परिणाम मिलेंगे, जो नॉन एसी जिम में वर्कआउट करने से मिलते हैं।

जिम में ए.सी. होना सेफ है या नहीं, अक्सर लोगों में चर्चा का विषय बना रहता है। ऐसा भी माना गया है कि अगर आपको वजन कम करना है, तो नॉन एसी जिम को चुनना चाहिए, जबकि अगर आपको मसल्स या बॉडी बनानी है, तो एसी जिम का चुनाव करें। जिम में एसी है या नहीं इसके अलावा भी और कई कारण हैं, जिन्हे आपको अपने वर्कआउट के समय ध्यान रखना चाहिए, जैसे उचित व्यायाम और पौष्टिक भोजन

इसलिए, ऐसा कहना सही होगा कि एसी या नॉन एसी जिम दोनों से ही आप फिट रह सकते हैं और शरीर को सुडौल बना सकते हैं। एसी का होना या न होना, केवल आपके आराम और सुविधा पर निर्भर करता है। एसी का जिम में होना पूरी तरह से सुरक्षित है।

इस लेख में हमने लोगों की जिम में एसी होना चाहिए या नहीं को लेकर कंफ्यूजन को दूर करने की कोशिश की है। हम आशा करते हैं आपको हमारा यह लेख पसंद आय़ा होगा। यदि आपको इस लेख जुड़ी अन्य कोई जानकारी चाहिए तो आप हमसे कमेंट कर पूछ सकते हैं।

health-tool-icon

बीएमआई कैलक्युलेटर

अपने बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) की जांच करने के लिए इस कैलक्युलेटर का उपयोग करें और पता करें कि क्या आपका वजन हेल्दी है। आप इस उपकरण का उपयोग अपने बच्चे के बीएमआई की जांच के लिए भी कर सकते हैं।

पुरुष

महिला

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Anu sharma द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 05/05/2021 को
डॉ. हेमाक्षी जत्तानी के द्वारा मेडिकली रिव्यूड