क्या बढ़ती उम्र में डायबिटीज का खतरा भी बढ़ जाता है?

Medically reviewed by | By

Update Date जनवरी 21, 2020
Share now

बढ़ती उम्र में बीमारियों से दूरी बनाए रखना बेहद जरूरी है। लेकिन, कुछ ऐसी भी बीमारी है जो उम्र के साथ शुरू भी हो जाती है। इन बीमारियों की लिस्ट में हाई ब्लड प्रेशर, डायबिटीज (मधुमेह) या जोड़ों में दर्द जैसी परेशानी शामिल है। डायबिटीज अन्य बिमारियों को भी न्योता देती है। इसलिए, मधुमेह से बचाव है। हैलो स्वास्थ्य के इस आर्टिकल में आज जानेंगे बढ़ती उम्र में डायबिटीज (diabetes) की बीमारी से कैसे बचा जाए या अगर आप डायबिटीज से पीड़ित हैं, तो आपको शुगर लेवल कैसे नियंत्रित रखना चाहिए।

डायबिटीज कैसे होती है?

शरीर को जितनी इंसुलिन की जरूरत होती है उतनी पैंक्रिया नहीं बना पाता है। इंसुलिन की कमी की वजह से शरीर में ब्लड शुगर लेवल बढ़ जाता है। ऐसा होने पर शरीर में कई तरह के बदलाव होने लगते हैं जैसे वजन का बढ़ना, बार-बार पेशाब लगना, शरीर में कहीं चोट लगी हो तो उसका जल्दी ठीक न होना आदि लक्षण हो सकते हैं। इसके अलावा ये लक्षण भी दिखाई देते हैं। जैसे-

बढ़ती उम्र में डायबिटीज से बचने के लिए ऊपर बताए गए संकेतों पर ध्यान दें। इससे जल्द से जल्द लक्षणों को पहचान करके मधुमेह का इलाज करना आसान और प्रभावी हो सकता है।

यह भी पढ़ें : डायबिटीज के साथ बच्चे के जीवन को आसांन बनाने के टिप्स

डायबिटीज दो तरह की होती है

टाइप-1 डायबिटीज (Type-1 diabetes)

जब शरीर में इंसुलिन बनना बंद हो जाता है तब टाइप-1 डायबिटीज होता है। ऐसे में ब्लड शुगर लेवल को नॉर्मल रखना पड़ता है। जिसके लिए मरीज को पूरी तरह से इंसुलिन इंजेक्शन पर आश्रित रहना पड़ता है। टाइप-1 डायबिटीज बच्चों और वयस्कों में होने वाली डायबिटीज की बीमारी है। बच्चों और वयस्कों में यह अचानक से हो सकती है। शरीर में पैंक्रियाज से इंसुलिन नहीं बनने की स्थिति में ऐसा होता है। हेल्थ एक्सपर्ट्स के अनुसार दवा से इसका इलाज संभव नहीं हो पाता है। इसलिए इंजेक्शन की मदद से इंसुलिन लेना अनिवार्य है हर दिन। ऐसे में बढ़ती उम्र में डायबिटीज के खतरे को कम करने के लिए नियमित रूप से ब्लड शुगर लेवल की जांच करनी जरूरी है।

टाइप-2 डायबिटीज: अगर शरीर में इंसुलिन की मात्रा कम होने लगे और शरीर उसे ठीक से इस्तेमाल नहीं कर पाता है, तो ऐसे स्थिति में बढ़ती उम्र में डायबिटीज टाइप-2 की शिकायत शुरू हो जाती है। बढ़ती उम्र में डायबिटीज टाइप-2 बहुत ही सामान्य है और यह 40 से ज्यादा उम्र के लोगों को होता है। ऐसा नहीं कि सिर्फ बढ़ती उम्र में डायबिटीज टाइप-2 देखने को मिलता हो। यह बीमारी किसी भी उम्र में किसी को भी हो सकता है।

यह भी पढ़ें : डायबिटीज के कारण खराब हुई थी सुषमा स्वराज की किडनी, इन कारणों से बढ़ जाता मधुमेह का खतरा

रिसर्च के अनुसार डायबिटीज को एक उभरती हुई महामारी कहा गया है। विकासशील देशों में डायबिटीज ज्यादातर 45-64 साल के लोगों में होता है। वहीं बढ़ती उम्र में डायबिटीज टाइप-2 एक बड़ी समस्या है लेकिन, कुछ बातों को ध्यान में रखकर बढ़ती उम्र में डायबिटीज (शुगर लेवल) को ठीक रखा जा सकता है।

मधुमेह की जटिलताएं

हाई ब्लड शुगर बॉडी पार्ट्स और ऊतकों को नुकसान पहुंचाता है। रक्त शर्करा जितनी ज्यादा होती है जटिलताओं के लिए आपका रिस्क उतना ही अधिक होता है। इससे निम्न तरह की स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं। जैसे-

यह भी पढ़ें : जानें गर्भावस्था में मोटापा कैसे बन सकता है दुश्मन?

बढ़ती उम्र में डायबिटीज से बचने के लिए कैसा हो आपका आहार?

उम्र बढ़ने के साथ ही आपको नीचे बताई गई बातों पर ध्यान देना चाहिए ताकि बढ़ती उम्र में डायबिटीज की संभावना को कम किया जा सके। मधुमेह से बचाव के लिए सबसे अच्छा तरीका है अपने आहार पर ध्यान देना। इसके लिए

  • कम मीठे फलों का सेवन करें जैसे मौसमी, संतरा, सेव, अनार और पपीते जैसे फलों का सेवन करें।
  • हरी पत्तीदार सब्जियां जैसे मेथी, पालक, बैगन और सीजनल सब्जियों (seasonal vegetables) को जरूर शामिल करें।
  • सलाद और अंकुरित खाद्य पदार्थों को अवश्य खाएं।
  • नारियल पानी पिएं।
  • दिन और रात के खाने में दाल, हरी सब्जी, गेंहू के आंटे की रोटी और सलाद खाएं।

यह भी पढ़ें : ब्लड प्रेशर की समस्या है तो अपनाएं डैश डायट (DASH Diet), जानें इसके चमत्कारी फायदे

आहार के साथ-साथ एक्सरसाइज भी करें, जैसे:

बढ़ती उम्र में डायबिटीज से बचाव के लिए सबसे प्रभावी तरीका है कि हेल्दी लाइफस्टाइल अपनाई जाए। इसके लिए-

  • रोज सुबह-शाम वॉक करें (पैदल टहलें)।
  • अपने शरीर की क्षमता और एक्सपर्ट्स के सलाह अनुसार एक्सरसाइज करें।
  • योग एक्सपर्ट से भी सलाह लेकर योग करें।
  • शरीर को सुस्त न करें। इसलिए हल्के काम करते रहें।
  • ऐसे खाद्य पदार्थों का सेवन करें जिनमें कैलोरी की मात्रा कम हो।

यह भी पढ़ें : जानें कैसे (Sweat Sensor) करेगा डायबिटीज की पहचान

इनका सेवन न करें

ब्लड शुगर लेवल को नियंत्रित करने के लिए डायट में कुछ खाद्य पदार्थों का सेवन नहीं करना चाहिए। जैसे –

  • कोल्ड ड्रिंक, डिब्बा बंद जूस, एल्कोहॉल और शराब।
  • घी, मलाई युक्त दूध, मक्खन (बटर), अंडे के पीले वाले भाग आदि।
  • तली हुई और फ्रोजन खाद्य पदार्थ।
  • काजू, किशमिश, खजूर, मूंगफली
  • आलू, शकरकंद (sweet potato), शलजम, अरबी।
  • अत्यधिक मीठे फल जैसे आम, केला, चीकू, अंगूर, लीची।
  • अत्यधिक मीठा खाद्य पदार्थ जैसे मिठाई, लड्डू,हलवा, केक, चॉकलेट।

यह भी पढ़ें : Diabetes insipidus : डायबिटीज इंसिपिडस क्या है ?

बढ़ती उम्र में डायबिटीज से बचाव के लिए रखें इन बातों का खास ख्याल:

बढ़ती उम्र में डायबिटीज का खतरा बढ़ता जाता है। गाइडलाइंस के मुताबिक देश में 30 साल से ज्यादा उम्र के हर इंसान को शुगर लेवल की जांच समय-समय पर करानी चाहिए। साथ ही नीचे बताए गए टिप्स भी फॉलो करें-

  • रोजाना एक्सरसाइज करें (एक्सरसाइज की आदत पहले से बनाएं)
  • लाइफस्टाइल हेल्दी रखें।
  • डायबिटीज के बारे में जानकारी हासिल करें।
  • आहार में फैट (वसा) कम शामिल करें।
  • वजन नियंत्रित रखें।
  • समय-समय शुगर लेवल की जांच करें।
  • ध्रूमपान न करें।
  • डिसलिपिडिमिया (dyslipidemia) का इलाज करवाएं।
  • ब्लड प्रेशर नियंत्रित रखें।
  • खुद से दवाओं का चयन न करें।

अगर आपको भी बढ़ती उम्र में डायबिटीज की समस्या से बचाव करना है तो ऊपर बताई गई बातों पर ध्यान दें। साथ ही अगर आप पहले से ही मधुमेह से पीड़ित हैं तो डॉक्टर से संपर्क करके उनके द्वारा बताए गई सलाह का पालन कर इस गंभीर बीमारी से छुटकारा पा सकते हैं या शुगर लेवल को नियंत्रित रखकर हेल्दी रह सकते हैं।

और पढ़ें :

क्या है नाता विटामिन-डी का डायबिटीज से?

मुंह की समस्याओं का कारण कहीं डायबिटीज तो नहीं?

क्या होती है लीन डायबिटीज? हेल्दी वेट होने पर भी होता है इसका खतरा

डायबिटीज में फल को लेकर अगर हैं कंफ्यूज तो पढ़ें ये आर्टिकल

संबंधित लेख:

    क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
    happy unhappy"

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    स्वास्थ्य और सुरक्षा के लिहाज से लंबे समय तक बैठ कर काम करना है खतरनाक

    स्वास्थ्य और सुरक्षा की दृष्टि से ऑफिस में लगातार बैठकर काम करने से कई प्रकार की शारीरिक समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। यहां ऑफिस में स्वास्थ्य और सुरक्षा से जुड़े कुछ टिप्स बताए जा रहे हैं।

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Bhawana Awasthi

    Diabetic Retinopathy: डायबिटिक रेटिनोपैथी क्या है?

    डायबिटिक रेटिनोपैथी (Diabetic Retinopathy) की जानकारी in hindi, निदान और उपचार, डायबिटिक रेटिनोपैथी के क्या कारण हैं, लक्षण क्या हैं, घरेलू उपचार, जोखिम फैक्टर, डायबिटिक रेटिनोपैथी का खतरा, जानिए जरूरी बातें |

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Shilpa Khopade

    नेचुरल डिजास्टर से स्वास्थ्य पर पड़ता है बुरा असर, हो सकती हैं कई बीमारियां

    प्राकृतिक आपदा में स्वास्थ्य बुरी तरह प्रभावित होता है। नेचुरल डिजास्टर के बाद बीमारियों से बचने के उपाय। ...natural disaster's health affects on human

    Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
    Written by Shikha Patel

    Pyridium- पायरिडियम क्या है? जानिये इसके साइड इफेक्ट्स और उपयोग

    जानिए पायरिडियम क्या है, पायरिडियम के कारण, जोखिम और उपचार क्या है, pyridium को ठीक करने के लिए आप इस तरह के घरेलू उपाय अपना सकते हैं। Pyridium in Hindi.

    Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
    Written by Poonam