बुजुर्गों में डिहाइड्रेशन होने पर करें ये उपाय

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट मई 29, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

बुजुर्गों में डिहाइड्रेशन होना एक सामान्य परेशानी है। जहां हो सकता है कि एक बुजुर्ग को अन्य वयस्कों की तरह प्यास महसूस नहीं होती है, वहीं दूसरे व्यक्ति को हलकी प्यास लगती रहती है। इसके अलावा, कुछ बुजुर्ग लोगों में डिहाइड्रेशन के जोखिम अधिक होते हैं जिसके कई अन्य कारण हैं। सबसे पहले, शरीर का औसत पानी उम्र के साथ घटता है (पुरुषों में 60 प्रतिशत से 52 प्रतिशत और महिलाओं में 52 से 46 प्रतिशत तक)। इसलिए, 60 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों को डिहाइड्रेशन होने से पहले कम पानी पीने की आदत सी लग जाती है। पुरानी बीमारियां, न्यूरोलॉजिक स्थिति और कुछ डॉक्टर ने सुझाई दवाइयां इसका कारण बन सकते हैं।

बुजुर्गों में डिहाइड्रेशन क्या है?

डिहाइड्रेशन की स्थिति न सिर्फ बुजुर्गों को प्रभावित करती है, बल्कि यह किसी भी उम्र के पुरुष और महिला को प्रभावित कर सकती है। यह स्थिति तब होती है जब आप अपने शरीर से अधिक तरल पदार्थ (अधिकतर पानी) और खनिज खोने लगते हैं। और आपने जितना पानी पिया है उससे आपके शरीर से बाहर जानेवाला पानी की मात्रा ज्यादा होती है| सामान्यतौर पर हम पेशाब, पसीने के रूप में अपने शरीर से पानी की मात्रा खोते रहते हैं। जो शरीर की एक सामान्य और दैनिक गतिविधि हैं। लेकिन जब हम बहुत अधिक मात्रा में पानी खोने लगते हैं, तो शरीर का चयापचय नियंत्रण से बाहर जा सकता है। यह बहुत गम्भीर स्वरुप धारण करने की सम्भावना होती है। जिसका समय रहते उपचार करना भी जरूरी हो जाता है। इसलिए जरूरी है कि बुजुर्गावस्था में फिट रहा जाए।

बुजुर्गों में डिहाइड्रेशन के लक्षण कैसे पहचानें जा सकते हैं?

बुजुर्गों में डिहाइड्रेशन के निम्न लक्षण देखें जा सकते हैं, जिनमें शामिल हैंः

  • बार-बार बुखार होना
  • बार-बार किसी तरह का संक्रमण होना
  • बार-बार उल्टी और दस्त होने की समस्या
  • डायबिटीज (मधुमेह) की समस्या होना
  • कमजोरी होना, जिसकी वजह से सही तरह का भोजन और पानी न सेवन करने में मुश्किल हो रहा हो
  • खाना खाने के बाद उल्टी हो जाना
  • मुंह में छाले होना
  • गंभीर त्वचा रोग होना, जिनमें से पानी जैसा पदार्थ बह रहा हो।

यह भी पढ़ेंः बुढ़ापे में डिप्रेशन क्यों होता हैं, जानिए इसके कारण

बुजुर्गों में डिहाइड्रेशन की समस्या बढ़ने के क्या कारण हो सकते हैं?

बुजुर्गों में डिहाइड्रेशन के लिए जोखिम कारक

इस परेशानी के कई जोखिम कारक हैं, देखभाल करने वालों को यह पहचानना चाहिए कि आपके डिहाइड्रेशन का विकास रोगियों के लिए जोखिम बढ़ा सकता है। इन जोखिम कारकों को समझना और अपने रोगियों को पहचानने में उनकी मदद करना जरूरी है। कारकों में शामिल हैं:

  • पार्किंसंस रोग या मनोभ्रंश के कारण होने वाले विकारों को बढ़ना
  • मोटापा
  • 85 साल से अधिक उम्र के मरीज
  • व्याकुल होना
  • दस्त, उल्टी या अत्यधिक पसीना आना
  • 5 से अधिक दवाइयां लेना
  • बुढ़ापे में डर की भावना बढ़ने से पानी कम पीना

बुजुर्ग रोगियों में पुरानी निर्जलीकरण शरीर पर कहर बरपा सकता है, हालांकि यह हमेशा स्पष्ट रूप से स्पष्ट नहीं होता है।

उदाहरण के लिए, बुजुर्ग रोगियों के अध्ययन से पता चला है कि डिहाइड्रेशन से कब्ज, मूत्र पथ के संक्रमण, रेस्पिरेटरी ट्रैक्ट के संक्रमण, किडनी स्टोन और दवा का साइड इफेक्ट का खतरा बढ़ जाता है। इसके अलावा, अध्ययन से पता चलता है कि डिहाइड्रेशन में वृद्धि हो सकती है और व्यक्ति लंबे समय तक रिहैब सेंटर में रह रहा हो।

यह भी पढ़ें: वयस्कों में प्रोस्टेट कैंसर क्या है? इसके बारे में और जानें

बुजुर्गों में डिहाइड्रेशन की रोकथाम करने के लिए उपचार क्या हैं?

बुजुर्गों में डिहाइड्रेशन को रोकने में मदद करने के लिए आप निम्न बातों का ध्यान रख सकते हैं, जिनमें शामिल हैंः

थोड़ी-थोड़ी मात्रा में दें पानी

बुजुर्गों को दिन भर में थोड़ी थोड़ी मात्रा में तरल पदार्थ पीने के लिए प्रोत्साहित करें, बजाय एक बार में बड़ी मात्रा में पीने के।

पानी की मात्रा का रखें ध्यान

प्रतिदिन पांच पानी के गिलास बुजुर्ग रोगियों के लिए एक अच्छा उपाय है। हालांकि हर किसी की ज़रूरतें अलग-अलग होती हैं, लेकिन अध्ययनों से पता चला है कि 5 गिलास पानी पीने वाले बुजुर्ग वयस्क कोरोनरी हृदय रोग की कम दर का अनुभव करते हैं।

आहार में लिक्विड डायट की मात्रा बढ़ाएं

उन्हें स्वेच्छा से अधिक तरल पदार्थ पीना आसान बनाएं। वृद्ध वयस्कों को हर भोजन के साथ पानी, दूध या जूस पीने के लिए प्रोत्साहित करें और पास में पसंदीदा पेय पदार्थ पिलाएं।

बुजुर्गों में डिहाइड्रेशन के शुरुआती लक्षणों की करें पहचान

देखभाल करने वालों और उनके रोगियों को निर्जलीकरण के शुरुआती चेतावनी संकेतों को पहचानना चाहिए। चेतावनी के संकेतों में थकान, चक्कर आना, प्यास, सिरदर्द, शुष्क मुंह / नाक, शुष्क त्वचा और ऐंठन शामिल हैं।

यह भी पढ़ेंः बुजुर्गों के लिए टेक्नोलॉजी गैजेट्स में शामिल करें इन्हें, लाइफ होगी आसान

आहार में उच्च खाद्य पदार्थ करें शामिल

ताजे फल, सब्जियां और कुछ डेयरी उत्पाद, आपके रोगियों को उनकी दैनिक पानी की जरूरतों को पूरा करने में मदद कर सकते हैं। रोगियों को ज्यादा मात्रा में पानी वाले पदार्थ लेने के लिए प्रोत्साहित करें।

अकेलापन न महसूस होने दें

बुढ़ापे में डर की भावना बढ़ने से एक मरीज की स्वेच्छा से पानी पिने की इच्छा को कम कर सकता है। इसलिए, रोगियों को दिन के दौरान अधिक पीने और बिस्तर से पहले पानी पीने को सीमित करने के लिए प्रोत्साहित करें। इसके अतिरिक्त, दिन भर में कम मात्रा में पानी पीने से मदद मिल सकती है।

दवाओं का सहारा लें

ऐसी कई दवाइयां पाउडर के रूप में मौजूद होती हैं, जो डॉक्टर बुजुर्ग रोगियों सूचित करते हैं। यह हर दिन पीने के लिए अच्छा स्वाद लता है, और यह इलेक्ट्रोलाइट्स और जल्दी से डिहाइड्रेशन को कम करने मदद करती है। इसे अपने स्थानीय फार्मेसी में खोजें।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की कोई भी मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है। अगर इससे जुड़ा आपका कोई सवाल है, तो अधिक जानकारी के लिए आप अपने डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं।

और पढ़ें:-

वृद्धावस्था में दवाइयां लेते समय ऐसे रखें ध्यान, नहीं होगा कोई नुकसान

कैसे प्लान करें अपने लिए एक हेल्दी और हैप्पी रिटायरमेंट?

बुजुर्गों के लिए योगासन, जो उन्हें रखेंगे फिट एंड फाइन

जानें वृद्धावस्था में त्वचा संबंधी समस्याएं और उनसे बचाव

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

पेट की खराबी से राहत पाने के लिए अपनाएं यह आसान घरेलू उपाय

पेट की खराबी के घरेलू उपाय, जानिए कौन से घरेलू उपचार दिला सकते हैं आपको पेट की समस्याओं जैसे कब्ज या दस्त से राहत, Upset Stomach Home Remedies in Hindi

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Anu sharma
हेल्थ टिप्स, स्वस्थ जीवन अगस्त 18, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

Lactihep Syrup : लैक्टिहेप सिरप क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

लैक्टिहेप सिरप की जानकारी in hindi, दवा के साइड इफेक्ट क्या है, लैक्टिटॉल (lactitol) दवा किस काम में आती है, कब्ज की दवा, रिएक्शन, उपयोग, Lactihep Syrup

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha

Cremalax Tablet: क्रीमैलेक्स टैबलेट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

क्रीमैलेक्स टैबलेट की जानकारी in hindi वहीं इसके डोज, उपयोग, साइड इफेक्ट्स के साथ सावधानियां और चेतावनी के साथ रिएक्शन जानने के लिए पढ़ें यह आर्टिकल।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh

जानिए डिमेंशिया के लक्षण पाए जाने पर क्या करना चाहिए

डिमेंशिया के लक्षण आमतौर पर बुजुर्गों में दिखाई देते हैं, क्योंकि यह उम्र से संबंधित एक मानसिक समस्या है। जानिये इसके कारण और लक्षण।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Surender aggarwal
सीनियर हेल्थ, स्वस्थ जीवन जून 29, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

बिसाकोडिल दिला सकती है कब्ज से राहत

जब कब्ज और एसिडिटी कर ले टीमअप, तो ऐसे जीतें वन डे मैच!

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Toshini Rathod
प्रकाशित हुआ जनवरी 11, 2021 . 8 मिनट में पढ़ें
बुजुर्गों की देखभाल क्विज

बुजुर्गों की देखभाल के समय रखनी पड़ती है सावधानी, अगर आपको है जानकारी तो खेलें क्विज

के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ अक्टूबर 29, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें
पाचन तंत्र सुधारने वाले खाद्य पदार्थ

डाइजेशन को बेहतर बनाने के लिए डाइट में शामिल करें ये 15 फूड्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ सितम्बर 18, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
पाचन समस्याएं (Digestion problem)

क्या हैं पाचन समस्याएं कैसे करें इन समस्याओं का निदान?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ सितम्बर 15, 2020 . 9 मिनट में पढ़ें