सही मात्रा में कीवी का सेवन न करने से होने वाले दुष्परिणाम

Medically reviewed by | By

Update Date जुलाई 13, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Share now

किवी एक ऐसा फल है जिसके बहुत से स्वास्थ्य लाभ हैं। यह फल जहां पाचन क्रिया में मदद करता है वहीं ब्लड प्रेशर को भी नियंत्रित रखता है। शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता भी किवी के सेवन से बेहतर होती हैं और वजन घटाने के लिए भी आप किवी को अपने आहार का हिस्सा बना सकते हैं। हल्के हरे रंग का यह फल जिसके काले बीज को भी खाया जा सकता है स्वाद में खट्टा होता है। यह फल मधुमेह नियंत्रण में मदद करता है। इतना कुछ बेहतर करने के बाद भी किवी का सेवन कुछ अनचाहे नुकसान लेकर भी आता है। अगर सही मात्रा में किवी का सेवन नहीं किया तो सेहत के लिए इसके कई दुष्परिणाम हो सकते हैं। आइए जानते हैं, किवी के सेवन से पहले कि कीवी क्या है?

किवी फ्रूट कैसा होता है?

कीवी फ्रूट की पहचान के बारे में बात करें तो यह फल बाहर से भूरा और अंदर से हरे रंग का होता है। इसके अंदर छोटे-छोटे काले रंग के बीज होते हैं। जिन्हें फल के साथ ही खाया जाता है। बात करें तो इसके स्वाद कि तो यह खाने में मीठा होता है। कीवी फ्रूट चाइनीस फल है जिसे वैज्ञानिक भाषा में एक्‍टीनीडिया डेलीसिओसा (Actinidia deliciosa) के नाम से जाना जाता है। कीवी फ्रूट अनेकों तरह के पोषक तत्वों से भरपूर है। इसमें विटामिन के (Vitamin K), विटामिन ई (Vitamin E), फ्लोटेड (floated), विटामिन सी ( Vitamin C) और पोटेशियम (potassium) पोषक तत्व पाया जाता है। इसकी वजह से कीवी फ्रूट खाने के फायदे अनगिनत हैं। कीवी में एंटीऑक्सीडेंट भरपूर मात्रा में पाया जाता है। इसके कारण स्किन के लिए कीवी के लाभ बहुत हैं।

क्विज से समझें अपना आहार : उचित नूट्रिशन (आहार-पोषण) के बारे में जानने के लिए क्विज खेलें

5 नुकसान जो किवी का सेवन ज्यादा करने से आपको हो सकते हैं वो यहां विस्तार से बताये गये हैं: 

1. रक्तस्राव संबंधी परेशानियां

किवी का सेवन ज्यादा करने से खून जमने की परेशानी होती है। किवी खून को जमने के समय को बढ़ा देता है जिस वजह से शरीर पर कहीं भी कटने या छिलने पर खून जल्दी नहीं रुकता और भारी मात्रा में रक्तस्राव (bleeding) हो जाता है। सिद्धांतों के अनुसार, वो लोग जो किवी ज़्यादा मात्रा में खाते है, उनकी सर्जरी के दौरान ज़्यादा खून बहने या नुकसान हो जाने की संभावना रहती है। 

और पढ़ें : दांतों की परेशानियों से बचना है तो बंद करें ये 7 चीजें खाना

2. एलर्जी (allergy)

कुछ लोग कुछ खास किस्म के फलों से एलर्जिक होते हैं। ऐसे में ज्यादा मात्रा में किवी खाने से आपको कई प्रकार की एलर्जी हो सकती है। क्रॉस सेंसिटाईजेशन (Cross sensitization) इनमें से एक अहम एलर्जी है, जिसमें आपको किसी भी दर्द या पीड़ा का अनुभव सामान्य से ज़्यादा होने लगता है। ऐसी स्थिति में छोटी सी लगी चोट भी आपको अधिक दर्द देती है। 

और पढ़ें : एलर्जी से हैं परेशान? तो खाएं ये पावर फूड

3. ओरल एलर्जी सिंड्रोम (oral allergy syndrome)

किवी के ज्यादा सेवन से कई लोगों को मुंह में सूजन की शिकायत भी होती है। कई बार होंठ और जीभ भी इस समस्या से प्रभावित हो जाती है। समय रहते इलाज ना करने कर मुँह की सूजन के साथ साथ गले में खुजली और झुनझुनी की भी समस्या का सामना करना पड़ सकता है। 

और पढ़ें : होंठों को बड़ा करने के 9 मेकअप हैक, जरूर करें ट्राई

4. जी मचलना:

ज्यादा किवी खाने से जो समस्या ज्यादातर लोगों में मुख्य रूप से पायी जाती है, वो है उबकाई आना, जी मचलना और डायरिया। कई बार उलटी होने की भी संभावना होती है। इन परेशानियों के बढ़ने से चक्कर आना और खाना पचने में भी समस्या आ सकती है। 

और पढ़ें : ब्यूटी एक्सपर्ट का दिया हुआ ये मंत्रा अपना कर दें एजिंग को मात

5. डर्माटिटिस (Dermatitis):

डर्माटिटिस एक स्किन की समस्या है जिसमें शरीर के विभिन्न अंगों पर लाल चक्त्तों के साथ ही सूजन होती हैं। इन चकत्तों में लगातार खुजली और चुनचुनाहट होती हैं जिससे यह ज्यादा पीड़ादायक बनती हैं। ये समस्या भी किवी ज्यादा खाने से होती है। 

किवी फल विटामिन-सी का भरपूर स्रोत है। यह एक कम कैलोरी का फल है। इसमें फैट की मात्रा भी कम है। परंतु इसके अधिक सेवन से शरीर में विभिन्न प्रकार की जटिलता और उलझने शुरू हो सकती हैं।

और पढ़ें : विटामिन-सी की कमी होने पर क्या करें? जानें इसके उपाय

कीवी का सेवन कैसे करें?

किवी फल खाने का तरीका और इसकी सही मात्रा के बारे में इन बातों पर ध्यान देना चाहिए-

  • किवी फ्रूट का सेवन आम फल की तरह ही खाया जा सकता है।
  • कीवी का जूस भी आप पी सकते हैं।
  • किवी का सेवन सलाद के रूप में भी किया जा सकता है।

कीवी का सेवन कब करें?

किवी फ्रूट को खाने का कोई निर्धारित समय नहीं है। फिर भी इसे सुबह या शाम को नाश्ते में लिया जा सकता है।

और पढ़ें : कोकोनट वॉटर से वेट लॉस होता है, क्या आप इस बारे में जानते हैं?

किवी का सेवन कितनी मात्रा में करें?

  • एक स्वस्थ इंसान रोजाना दो किवी का सेवन कर सकता है।
  • किडनी की समस्या से ग्रस्त व्यक्तियों को पोटैशियम का सेवन सीमित मात्रा में करना चाहिए। इसलिए, गुर्दे-रोग से पीड़ित इंसान को किवी का सेवन सीमित मात्रा में करना चाहिए या हो सके तो इसके सेवन से बचना चाहिए।

और पढ़ें : Kidney Stones : गुर्दे की पथरी क्या है?

किवी का सेवन आहार में कैसे करें?

कीवी फ्रूट को दैनिक आहार में शामिल करने के कुछ तरीके इस प्रकार हैं-

  • किवी को दूसरे फलों के साथ मिलाकर फ्रूट चाट के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है।
  • कीवी का सेवन कस्टर्ड के रूप में किया जा सकता है। व्हिप्ड क्रीम और ढेर सारे फ्रूट इसके स्वाद को बेहतर बनाएंगे।
  • भोजन के साथ सलाद के तौर पर भी किवी का सेवन किया जा सकता है।
  • किवी का शेक भी आप बना सकते हैं।
  • कीवी को पालक, नाशपाती और सेब के साथ मिलाकर भी मिक्स जूस के रूप में भी आहार में शामिल कर सकते हैं।
  • कीवी फ्रूट का आप सूप भी बनाकर पी सकते हैं। इस तरह किया गया किवी का सेवन पानी की कमी को दूर करता है और आप दिनभर एनर्जेटिक महसूस करते हैं।
  • कीवी का इस्तेमाल डिटॉक्स ड्रिंक, स्मूदी आदि में भी किया जा सकता है।
  • किवी फ्रूट को छोटे-छोटे टुकड़ों में काटकर इसमें थोड़ा सा शहद मिलाकर भी आप इसको खा सकते हैं।

आमतौर पर किवी का सेवन लाभकारी और सुरक्षित होता है। लेकिन, जिन लोगों को किसी तरह की स्वास्थ्य समस्या है, वे कीवी फ्रूट का उपयोग डॉक्टर की सलाह से ही करें। किवी फल का अवश्‍यक्‍ता से ज्‍यादा सेवन स्वास्थ्य के लिए हानिकारक भी हो सकता है। इसलिए, बेहतर है किवी के लाभ आपको पूरी तरह से मिल सके, इसके लिए किवी का सेवन सीमित मात्रा में करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

हाइपरग्लेसेमिया : जानिए इसके लक्षण, कारण, निदान और उपचार

हाइपरग्लेसेमिया क्या है, हाइपरग्लेसेमिया के कारण, लक्षण, उपचार, पाइये कुछ आसान टिप्स, Hyperglycemia in diabetes in Hindi.

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Anu Sharma
हेल्थ सेंटर्स, डायबिटीज जुलाई 7, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

Glycomet SR 500 : ग्लाइकोमेट एसआर 500 क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

ग्लाइकोमेट एसआर 500 की जानकारी in hindi, ग्लाइकोमेट एसआर 500 के साइड इफेक्ट क्या है, मेटफॉर्मिन दवा किस काम में आती है, रिएक्शन, उपयोग, Glycomet SR 500.

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Shayali Rekha
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल जुलाई 6, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

डायबिटीज और इरेक्टाइल डिसफंक्शन – जानिए कैसे लायें सुधार

डायबिटीज और इरेक्टाइल डिसफंक्शन क्या है, डायबिटीज और इरेक्टाइल डिसफंक्शन में संबंध क्या है, कैसे करें sildenafil citrate , diabetes and Erectile Dysfunction

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Anu Sharma
हेल्थ सेंटर्स, डायबिटीज जुलाई 3, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Glizid M : ग्लिजिड एम क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

ग्लिजिड एम की जानकारी in hindi, ग्लिजिड एम के साइड इफेक्ट क्या है, ग्लिक्लाजिड और मेटफॉर्मिन दवा किस काम में आती है, रिएक्शन, उपयोग, Glizid M

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Shayali Rekha
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल जुलाई 3, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें