एक्सरसाइज से पहले खाएं ये चीजें, बढ़ेगी ताकत और दमदार होंगे मसल्स

Medically reviewed by | By

Update Date फ़रवरी 10, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
Share now

काफी लोग दमदार बॉडी और मसल्स बनाने के लिए जिम जाते हैं। जिम में भारी-भारी एक्सरसाइज करते हैं, काफी पसीना बहाते हैं, लेकिन नतीजे उतने बेहतर नहीं मिल पाते। इसके बाद उन्हें लगने लगता है कि शायद वो कम एक्सरसाइज कर रहे हैं और फिर शारीरिक क्षमता से ज्यादा वजन उठाते हैं और चोट या शारीरिक समस्या को न्यौता दे बैठते हैं। मगर, वो ये नहीं जान पाते कि सिर्फ वर्कआउट या एक्सरसाइज करने से दमदार मसल्स और बॉडी नहीं बनती। बल्कि, इसके लिए आपको वर्कआउट के साथ-साथ अपनी डायट का भी ध्यान रखना चाहिए। जो आपकी मसल्स और एनर्जी को रिकवर करने में मदद करती है और आपको बेहतर नतीजे प्राप्त होते हैं। इसलिए, आपको अपनी पोस्ट वर्कआउट मील में कुछ खास फूड्स शामिल करने चाहिए, जिनके सेवन से आपको बहुत फायदा मिलेगा।

यह भी पढ़ें : ये हैं बेस्ट लेग एक्सरसाइज, जो देंगी टोंड लेग्स

पोस्ट वर्कआउट मील क्या है?

जब आप वर्कआउट करते हैं, तो शरीर की ऊर्जा का बहुत बड़ा स्तर खर्च हो जाता है। ऊर्जा का स्तर कम होने की वजह से शरीर वर्कआउट के बाद खुद को पूरी तरह रिकवर नहीं कर पाता। लेकिन, वर्कआउट के बाद सेवन किए जाने वाले फूड यानी पोस्ट वर्कआउट मील की मदद से एक्सरसाइज के 20 से 30 मिनट के अंदर दोबारा से शारीरिक ऊर्जा की भरपाई की जा सकती है। जिसके बाद शरीर को खुद को आसानी से रिकवर कर लेता है। पोस्ट वर्कआउट मील का दूसरा फायदा यह है कि इसके सेवन से मसल्स को तुरंत पोषण मिल जाता है और उनमें ताकत बढ़ने लगती है।

home cooks cooking GIF by Masterchef

पोस्ट वर्कआउट मील का महत्व

अगर मेडिकल भाषा में समझें तो, एक्सरसाइज के दौरान आपकी मसल्स शरीर में संग्रहित करके रखे गए ग्लूकोज का इस्तेमाल करते हैं, जिसे ग्लाइकोजन (Glycogen) कहा जाता है और इसका स्तर कम हो जाता है। इसके अलावा, वर्कआउट की वजह से मसल्स में छोटी-छोटी जगहों पर टेयर (फट जाना) हो जाता है। रनिंग, स्विमिंग आदि एंड्यूरेंस (Endurance) स्पोर्ट्स में पूरे शरीर की मसल्स एक्टिव होती हैं, जिस वजह से इसमें ग्लाइकोजन का अधिक इस्तेमाल होता है। इस वजह से वर्कआउट के बाद पोषणयुक्त फूड खाने से थकान दूर हो जाती है और शरीर में एनर्जी का लेवल बढ़ जाता है। इसके अलावा, एक्सरसाज की वजह से जो आपकी मसल्स को नुकसान हुआ है, वह रिकवर हो जाता है और आपका शरीर अगले वर्कआउट के लिए तैयार होने लगता है।

यह भी पढ़ें : व्यायाम शुरू करने वाले हैं, तो अपनाएं ये तरीके

पोस्ट वर्कआउट मील कैसी होनी चाहिए?

पोस्ट वर्कआउट मील में सभी पोषण का समावेश होना चाहिए। जैसे कि, उसमें शारीरिक मसल्स की रिकवरी और ग्रोथ के लिए प्रोटीन, कार्ब्स और हेल्दी फैट्स होने चाहिए। आइए, जानते हैं कि इन पोषण को पोस्ट वर्कआउट मील में क्यों शामिल करना चाहिए और इनसे क्या मदद मिलती है।

पोस्ट वर्कआउट मील में कार्बोहाइड्रेट्स

आपका शरीर वर्कआउट के दौरान शरीर में संग्रहित ग्लाइकोजन को फ्यूल की तरह इस्तेमाल करता है और शरीर में इसका स्तर कम हो जाता है। आपके शरीर में ग्लाइकोजन की खपत आपके द्वारा की जा रही एक्सरसाइज पर निर्भर करती है। क्योंकि, जिन एक्सरसाइज में ज्यादा शारीरिक मसल्स का इस्तेमाल होता है, उसमें ग्लाइकोजन की खपत ज्यादा होती है। अगर आप वर्कआउट के तुरंत 30 मिनट के भीतर अपने शारीरिक भार के प्रति किलोग्राम पर 1.5 ग्राम तक कार्ब्स का सेवन करते हैं, तो ग्लाइकोजन का स्तर दोबारा पर्याप्त हो जाता है। लेकिन, इसके साथ प्रोटीन का सेवन करके ऊर्जा संग्रहण की प्रक्रिया को और ज्यादा बेहतर बना सकते हैं।

पोस्ट वर्कआउट मील में प्रोटीन

वर्कआउट में शामिल एक्सरसाइज की इंटेंसिटी के मुताबिक मसल्स प्रोटीन ब्रेकडाउन होता है। लेकिन, वर्कआउट के बाद प्रोटीन की पर्याप्त मात्रा का सेवन करने से आपके शरीर को अमिनोएसिड मिलते हैं। जो कि मसल्स की रिपेयरिंग और शरीर में हुए मसल्स के प्रोटीन ब्रेकडाउन की भरपाई करते हैं। इसके अलावा, प्रोटीन नए मसल्स टिश्यू के निर्माण में मदद करते हैं और आपको बेहतर और दमदार मसल्स प्राप्त होती हैं। आपको वर्कआउट के बाद जल्द से जल्द अपने शारीरिक भार के प्रति किलो पर 0.14-0.23 ग्राम प्रोटीन का सेवन करना चाहिए।

यह भी पढ़ें : लोअर बॉडी को टोन करना चाहते हैं? ये एक्सरसाइज आएगी आपके काम

पोस्ट वर्कआउट मील में फैट्स

कई लोग सोचते हैं कि वर्कआउट के बाद फैट्स का सेवन करने से पाचन प्रक्रिया धीरे हो जाती है और शरीर में पोषण का अवशोषण होने में बाधा उत्पन्न होती है। आपको बता दें कि, कुछ फैट्स का सेवन करने पर यह बात मानी जा सकती है, लेकिन सभी तरह के फैट्स के साथ ऐसा नहीं है। कुछ स्टडी में सामने आया है कि मसल्स ग्रोथ के लिए क्रीम रहित दूध के मुकाबले शुद्ध दूध ज्यादा फायदेमंद रहता है। लेकिन, ध्यान रखें कि आपके द्वारा सेवन किए जा रहे हेल्दी फैट्स की मात्रा भी सीमित हो।

पोस्ट वर्कआउट मील में पानी

ufc 207 take a drink GIF

एक्सरसाइज या वर्कआउट के बाद शरीर में पानी की मात्रा कम हो जाती है। क्योंकि, वर्कआउट के दौरान शरीर द्वारा हीट उत्पादित करने पर त्वचा उसको ठंडा करने के लिए पानी का इस्तेमाल करती है, जिसे हम पसीना भी कहते हैं। इसलिए, वर्कआउट के बाद शरीर में डिहाइड्रेशन होने की आशंका रहती है। लेकिन, आप एक्सरसाइज के बाद पर्याप्त पानी पी सकते हैं। आप पानी के अलावा इलेक्ट्रोलाइट ड्रिंक का सेवन भी कर सकते हैं। यह शरीर में पानी की मात्रा को संतुलित रखता है और उसे डिहाइड्रेट होने से बचाता है।

वर्कआउट के कितने समय बाद तक ले सकते हैं पोस्ट वर्कआउट मील

वर्कआउट सेशन के बाद का समय शरीर में पोषण अवशोषण के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण होता है। क्योंकि, इस समय आपके शरीर में ऊर्जा व पोषण की कमी हो जाती है और शरीर अतिरिक्त पोषण की मांग करता है, जिस वजह से पोषण अवशोषण की गति तेज होती है। अगर आप इस समय शरीर को पर्याप्त पोषण देते हैं, तो आपको बेहतर नतीजे प्राप्त होते हैं। लेकिन, सलाह दी जाती है कि वर्कआउट के बाद जितनी जल्दी हो सके, उतनी जल्दी पोस्ट वर्कआउट मील का सेवन कर लेना चाहिए। फिर भी एक अनुमान के मुताबिक वर्कआउट के 45 मिनट बाद तक आपको पोस्ट वर्कआउट मील का सेवन कर लेना चाहिए।

यह भी पढ़ें:पुरुषों और महिलाओं दोनों के लिए हैं स्क्वैट्स के लाभ, जानिए कैसे

पोस्ट वर्कआउट मील में क्या शामिल करें?

पोस्ट वर्कआउट मील का सबसे अहम उद्देश्य शरीर को जरूरी पोषण देना होना चाहिए। मतलब है कि पोस्ट वर्कआउट मील में प्रोटीन, कार्ब्स व अन्य जरूरी मिनरल शामिल होने चाहिए।

पोस्ट वर्कआउट मील में प्रोटीन के लिए कौन-से फूड लें

पोस्ट वर्कआउट मील में शरीर को प्रोटीन प्रदान करने के लिए निम्नलिखित फूड्स को डाइट में शामिल किया जा सकता है। जैसे-

  • पीनट बटर
  • ग्रीक योगर्ट
  • अंडे
  • कॉटेज चीज
  • प्रोटीन शेक
  • टोफू
  • चिकन
  • चॉकलेट मिल्क
  • टूना फिश

पोस्ट वर्कआउट मील में कार्ब्स के लिए कौन-से फूड लें

पोस्ट वर्कआउट मील में शरीर को कार्ब्स प्रदान करने के लिए निम्नलिखित फूड्स को डाइट में शामिल किया जा सकता है।

  • केला, सेब आदि फल
  • ओटमील
  • शकरगंद
  • साबुत अनाज
  • चिया सीड्स
  • किनोआ
  • चावल

यह भी पढ़ें: महिलाओं के लिए 5 बेस्ट स्‍क्वैट एक्सरसाइज

पोस्ट वर्कआउट मील में हेल्दी फैट्स के लिए कौन-से फूड लें

पोस्ट वर्कआउट मील में शरीर को हेल्दी फैट्स प्रदान करने के लिए निम्नलिखित फूड्स को डाइट में शामिल किया जा सकता है।

  • फ्लैक्स सीड्स
  • नट्स
  • नट बटर
  • एवाकाडो
  • कोकोनट ऑइल

पोस्ट वर्कआउट मील में डिश

पोस्ट वर्कआउट मील में आप निम्नलिखित डिश को शामिल कर सकते हैं, जिनमें न सिर्फ पोषण होता है बल्कि यह टेस्टी भी होती हैं।

पीनट बटर के साथ शकरकंद

आप शकरकंद को स्टीम या भूनकर बीच में से काट लें और फिर उस पर पीनट बटर और कुछ जेली लगा लें। इसके बाद आप इसे ऐसे ही खा सकते हैं। पोस्ट वर्कआउट मील में इस स्नैक को शामिल किया जा सकता है, जो कि बड़ी आसानी और जल्दी से बन जाता है। इस डिश में प्रोटीन और कॉम्प्लैक्स कार्ब्स का अच्छा मिश्रण होता है, जो कि वर्कआउट के बाद शरीर को रिकवरी करने में काफी मदद करता है।

अंडा और टोस्ट

इस डिश को बनाने के लिए आप साबुत गेहूं के टोस्ट पर उबला अंडा रखकर खाएं। इससे आपको प्रोटीन और कार्ब्स का अच्छा मिश्रण प्राप्त होता है। जिससे वर्कआउट के बाद हुए मसल्स के प्रोटीन ब्रेकडाउन की भरपाई हो जाती है और शरीर में ग्लाइकोजन का स्तर दोबारा संतुलित हो जाता है।

यह भी पढ़ें:इस तरह स्क्वैट्स (squats) पैर टोन करने में करते हैं मदद

ग्रीक योगर्ट और फ्रूट

इस डिश को बनाने के लिए आपको एक कप ग्रीक योगर्ट में अपने मनपसंद फ्रूट को काटकर मिलाना होगा। लेकिन, बेहतर होगा कि आप केला, सेब आदि फलों को मिलाएं, क्योंकि यह ज्यादा फायदेमंद साबित होगा। आप इसमें जामुन को भी मिला सकते हैं, जिससे आपको एंटीऑक्सीडेंट के गुण प्राप्त होंगे। यह वर्कआउट के बाद खोई हुई ऊर्जा को प्राप्त करने का बेहतर तरीका है। इस डिश की मदद से अगर एक्सरसाइज के बाद आपकी मसल्स में सूजन आई है, तो वह भी कम हो जाती है।

शकरकंद और सैल्मन फिश

सैल्मन फिश में भारी मात्रा में ओमेगा 3 होता है, जो कि हेल्दी फैट है। सेल्मन आपकी मसल्स की सूजन को कम करने में मदद करता है। इसके साथ आप शकरकंद को भी मिला सकते हैं। जिससे आपको कार्ब्स भी प्राप्त होगा और शरीर में एनर्जी का लेवल दोबारा संयमित हो जाएगा। आपको इस डिश के सेवन से इम्यून सिस्टम को मजबूती देने वाला विटामिन-ए भी प्राप्त हो जाएगा, जिससे शरीर की संक्रमण और बीमारियों से लड़ने की क्षमता बढ़ जाती है। लेकिन, इसमें उच्च कैलोरी वाला मक्खन और क्रीम को शामिल करने से बचें।

चिकन, ब्राउन राइस और हरी सब्जियां

चिकन में प्रोटीन काफी मात्रा में होती है और इसके अलावा आपको विटामिन बी-6 भी प्राप्त होता है। प्रोटीन की मात्रा मसल्स रिपेयरिंग में मदद करती है और विटामिन बी6 आपके शरीर में खून का स्वास्थ्य सुधारता है। चिकन के साथ ब्राउन राइस और हरी सब्जियां मिलाने से हेल्दी कार्ब्स और मिनरल्स प्राप्त होता है।

लाल मसूर की दाल

पोस्ट वर्कआउट मील में लाल मसूर की दाल को शामिल किया जा सकता है। लाल मसूर की दाल में प्रोटीन काफी मात्रा में होता है, जो कि आपकी मसल्स को रिकवर करने के साथ-साथ नये मसल्स टिश्यू का भी विकास होता है। जिससे आपकी मसल्स बढ़ती हैं।

हैलो हेल्थ ग्रुप किसी भी तरह की मेडिकल एडवाइस, इलाज और जांच की सलाह नहीं देता है।

और पढ़ें : 

फिटनेस के लिए कुछ इस तरह करें घर पर व्यायाम

ओवेरियन सिस्ट (Ovarian cyst) से राहत दिलाएंगे ये 6 योगासन

बेली फैट कम करने के लिए व्यायाम

फिट रहने के लिए घर पर ही कैसे करें एक्सरसाइज?

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

    क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
    happy unhappy"
    सूत्र

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    जब घर से न निकल पाये तब ट्राई करें यह होम वर्कआउट टिप्स

    होम वर्कआउट टिप्स क्या है, होम वर्कआउट टिप्स इन हिंदी, घर पर एक्सरसाइज कैसे करें, डंबल, स्क्वैट्स, Home Workout tips in Hindi.

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Shayali Rekha
    फिटनेस, स्वस्थ जीवन मई 8, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

    बॉडी के लोअर पार्ट को स्ट्रॉन्ग और टोन करती है पिस्टल स्क्वैट्स, और भी हैं कई फायदे

    जानिए पिस्टल स्क्वैट्स क्या है, pistol squats in hindi, पिस्टल स्क्वैट्स के फायदे क्या हैं, pistol squats kaise karein, best leg exercises, पिस्टल स्क्वैट कैसे करें।

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Surender Aggarwal
    फिटनेस, स्वस्थ जीवन अप्रैल 16, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

    Intermittent Fasting: क्या प्रेग्नेंसी में इंटरमिटेंट फास्टिंग करना सही निर्णय है?

    जानिए इंटरमिटेंट फास्टिंग डायट क्या हैं in hindi. क्या गर्भवती महिलाओं को इंटरमिटेंट फास्टिंग डायट चार्ट फॉलो करना चाहिए ? Intermittent Fasting के अलावा कैसे रखें वजन संतुलित?

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Nidhi Sinha
    प्रेग्नेंसी स्टेजेस, प्रेग्नेंसी मार्च 30, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

    स्ट्रेचिंग एक्सरसाइज के दौरान सावधानी रखना है जरूरी, स्ट्रेच करने से पहले जान लें ये बातें

    स्ट्रेचिंग एक्सरसाइज के दौरान सावधानी रखना बहुत जरूरी है, वरना चोटिल होने का खतरा रहता है। जानें स्ट्रेचिंग एक्सरसाइज के दौरान सावधानी कैसे रखें, कैसे करें, स्ट्रेच क्या है, फायदे और नुकसान।

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Ankita Mishra
    फिटनेस, स्वस्थ जीवन मार्च 20, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें