बुजुर्गों में डिहाइड्रेशन होने पर करें ये उपाय

Medically reviewed by | By

Update Date मई 29, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Share now

बुजुर्गों में डिहाइड्रेशन होना एक सामान्य परेशानी है। जहां हो सकता है कि एक बुजुर्ग को अन्य वयस्कों की तरह प्यास महसूस नहीं होती है, वहीं दूसरे व्यक्ति को हलकी प्यास लगती रहती है। इसके अलावा, कुछ बुजुर्ग लोगों में डिहाइड्रेशन के जोखिम अधिक होते हैं जिसके कई अन्य कारण हैं। सबसे पहले, शरीर का औसत पानी उम्र के साथ घटता है (पुरुषों में 60 प्रतिशत से 52 प्रतिशत और महिलाओं में 52 से 46 प्रतिशत तक)। इसलिए, 60 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों को डिहाइड्रेशन होने से पहले कम पानी पीने की आदत सी लग जाती है। पुरानी बीमारियां, न्यूरोलॉजिक स्थिति और कुछ डॉक्टर ने सुझाई दवाइयां इसका कारण बन सकते हैं।

बुजुर्गों में डिहाइड्रेशन क्या है?

डिहाइड्रेशन की स्थिति न सिर्फ बुजुर्गों को प्रभावित करती है, बल्कि यह किसी भी उम्र के पुरुष और महिला को प्रभावित कर सकती है। यह स्थिति तब होती है जब आप अपने शरीर से अधिक तरल पदार्थ (अधिकतर पानी) और खनिज खोने लगते हैं। और आपने जितना पानी पिया है उससे आपके शरीर से बाहर जानेवाला पानी की मात्रा ज्यादा होती है| सामान्यतौर पर हम पेशाब, पसीने के रूप में अपने शरीर से पानी की मात्रा खोते रहते हैं। जो शरीर की एक सामान्य और दैनिक गतिविधि हैं। लेकिन जब हम बहुत अधिक मात्रा में पानी खोने लगते हैं, तो शरीर का चयापचय नियंत्रण से बाहर जा सकता है। यह बहुत गम्भीर स्वरुप धारण करने की सम्भावना होती है। जिसका समय रहते उपचार करना भी जरूरी हो जाता है। इसलिए जरूरी है कि बुजुर्गावस्था में फिट रहा जाए।

बुजुर्गों में डिहाइड्रेशन के लक्षण कैसे पहचानें जा सकते हैं?

बुजुर्गों में डिहाइड्रेशन के निम्न लक्षण देखें जा सकते हैं, जिनमें शामिल हैंः

  • बार-बार बुखार होना
  • बार-बार किसी तरह का संक्रमण होना
  • बार-बार उल्टी और दस्त होने की समस्या
  • डायबिटीज (मधुमेह) की समस्या होना
  • कमजोरी होना, जिसकी वजह से सही तरह का भोजन और पानी न सेवन करने में मुश्किल हो रहा हो
  • खाना खाने के बाद उल्टी हो जाना
  • मुंह में छाले होना
  • गंभीर त्वचा रोग होना, जिनमें से पानी जैसा पदार्थ बह रहा हो।

यह भी पढ़ेंः बुढ़ापे में डिप्रेशन क्यों होता हैं, जानिए इसके कारण

बुजुर्गों में डिहाइड्रेशन की समस्या बढ़ने के क्या कारण हो सकते हैं?

बुजुर्गों में डिहाइड्रेशन के लिए जोखिम कारक

इस परेशानी के कई जोखिम कारक हैं, देखभाल करने वालों को यह पहचानना चाहिए कि आपके डिहाइड्रेशन का विकास रोगियों के लिए जोखिम बढ़ा सकता है। इन जोखिम कारकों को समझना और अपने रोगियों को पहचानने में उनकी मदद करना जरूरी है। कारकों में शामिल हैं:

  • पार्किंसंस रोग या मनोभ्रंश के कारण होने वाले विकारों को बढ़ना
  • मोटापा
  • 85 साल से अधिक उम्र के मरीज
  • व्याकुल होना
  • दस्त, उल्टी या अत्यधिक पसीना आना
  • 5 से अधिक दवाइयां लेना
  • बुढ़ापे में डर की भावना बढ़ने से पानी कम पीना

बुजुर्ग रोगियों में पुरानी निर्जलीकरण शरीर पर कहर बरपा सकता है, हालांकि यह हमेशा स्पष्ट रूप से स्पष्ट नहीं होता है।

उदाहरण के लिए, बुजुर्ग रोगियों के अध्ययन से पता चला है कि डिहाइड्रेशन से कब्ज, मूत्र पथ के संक्रमण, रेस्पिरेटरी ट्रैक्ट के संक्रमण, किडनी स्टोन और दवा का साइड इफेक्ट का खतरा बढ़ जाता है। इसके अलावा, अध्ययन से पता चलता है कि डिहाइड्रेशन में वृद्धि हो सकती है और व्यक्ति लंबे समय तक रिहैब सेंटर में रह रहा हो।

यह भी पढ़ें: वयस्कों में प्रोस्टेट कैंसर क्या है? इसके बारे में और जानें

बुजुर्गों में डिहाइड्रेशन की रोकथाम करने के लिए उपचार क्या हैं?

बुजुर्गों में डिहाइड्रेशन को रोकने में मदद करने के लिए आप निम्न बातों का ध्यान रख सकते हैं, जिनमें शामिल हैंः

थोड़ी-थोड़ी मात्रा में दें पानी

बुजुर्गों को दिन भर में थोड़ी थोड़ी मात्रा में तरल पदार्थ पीने के लिए प्रोत्साहित करें, बजाय एक बार में बड़ी मात्रा में पीने के।

पानी की मात्रा का रखें ध्यान

प्रतिदिन पांच पानी के गिलास बुजुर्ग रोगियों के लिए एक अच्छा उपाय है। हालांकि हर किसी की ज़रूरतें अलग-अलग होती हैं, लेकिन अध्ययनों से पता चला है कि 5 गिलास पानी पीने वाले बुजुर्ग वयस्क कोरोनरी हृदय रोग की कम दर का अनुभव करते हैं।

आहार में लिक्विड डायट की मात्रा बढ़ाएं

उन्हें स्वेच्छा से अधिक तरल पदार्थ पीना आसान बनाएं। वृद्ध वयस्कों को हर भोजन के साथ पानी, दूध या जूस पीने के लिए प्रोत्साहित करें और पास में पसंदीदा पेय पदार्थ पिलाएं।

बुजुर्गों में डिहाइड्रेशन के शुरुआती लक्षणों की करें पहचान

देखभाल करने वालों और उनके रोगियों को निर्जलीकरण के शुरुआती चेतावनी संकेतों को पहचानना चाहिए। चेतावनी के संकेतों में थकान, चक्कर आना, प्यास, सिरदर्द, शुष्क मुंह / नाक, शुष्क त्वचा और ऐंठन शामिल हैं।

यह भी पढ़ेंः बुजुर्गों के लिए टेक्नोलॉजी गैजेट्स में शामिल करें इन्हें, लाइफ होगी आसान

आहार में उच्च खाद्य पदार्थ करें शामिल

ताजे फल, सब्जियां और कुछ डेयरी उत्पाद, आपके रोगियों को उनकी दैनिक पानी की जरूरतों को पूरा करने में मदद कर सकते हैं। रोगियों को ज्यादा मात्रा में पानी वाले पदार्थ लेने के लिए प्रोत्साहित करें।

अकेलापन न महसूस होने दें

बुढ़ापे में डर की भावना बढ़ने से एक मरीज की स्वेच्छा से पानी पिने की इच्छा को कम कर सकता है। इसलिए, रोगियों को दिन के दौरान अधिक पीने और बिस्तर से पहले पानी पीने को सीमित करने के लिए प्रोत्साहित करें। इसके अतिरिक्त, दिन भर में कम मात्रा में पानी पीने से मदद मिल सकती है।

दवाओं का सहारा लें

ऐसी कई दवाइयां पाउडर के रूप में मौजूद होती हैं, जो डॉक्टर बुजुर्ग रोगियों सूचित करते हैं। यह हर दिन पीने के लिए अच्छा स्वाद लता है, और यह इलेक्ट्रोलाइट्स और जल्दी से डिहाइड्रेशन को कम करने मदद करती है। इसे अपने स्थानीय फार्मेसी में खोजें।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की कोई भी मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है। अगर इससे जुड़ा आपका कोई सवाल है, तो अधिक जानकारी के लिए आप अपने डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं।

और पढ़ें:-

वृद्धावस्था में दवाइयां लेते समय ऐसे रखें ध्यान, नहीं होगा कोई नुकसान

कैसे प्लान करें अपने लिए एक हेल्दी और हैप्पी रिटायरमेंट?

बुजुर्गों के लिए योगासन, जो उन्हें रखेंगे फिट एंड फाइन

जानें वृद्धावस्था में त्वचा संबंधी समस्याएं और उनसे बचाव

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

खुद ही एसिडिटी का इलाज करना किडनी पर पड़ सकता है भारी!

कई लोग घर पर ही कुछ नुस्खों से एसिडिटी का इलाज करने लगते हैं। क्योंकि, उन्हें लगता है कि कुछ गलत खा लेने से ही एसिडिटी की समस्या हो सकती है, लेकिन हर बार खुद ही एसिडिटी का इलाज आपकी सेहत के लिए भारी पड़ सकता है।

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Shikha Patel
हेल्थ टिप्स, स्वस्थ जीवन मई 19, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

नर्सिंग केयर हायर करने से पहले किन बातों का रखें ख्याल?

बुजुर्गों की देखभाल करने के लिए नर्सिंग केयर चुनते समय किन बातों का ख्याल रखना चाहिए, किस तरह के सवाल पूछने चाहिए, फायदे-नुकसान को जानेंष

Medically reviewed by Dr Sharayu Maknikar
Written by Shilpa Khopade
सीनियर हेल्थ, स्वस्थ जीवन मई 17, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

प्रेग्नेंसी में संतरा खाना कितना सुरक्षित है?

प्रेग्नेंसी में संतरा खाना क्या गर्भवती महिला और उसके बच्चे के लिए सुरक्षित हो सकता है? प्रेग्नेंसी में संतरा खाने से पहले किन बातों का ध्यान रखना चाहिए,

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Ankita Mishra
प्रेग्नेंसी स्टेजेस, प्रेग्नेंसी अप्रैल 28, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

जानें वृद्धावस्था में त्वचा संबंधी समस्याएं और उनसे बचाव

वृद्धावस्था में त्वचा संबंधी समस्याओं को जानना बेहद ही जरूरी है क्योंकि बीमारी और उनके लक्षणों को देख उसका इलाज करा सकते हैं, स्किन की बीमारी पर एक नजर।

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Satish Singh
सीनियर हेल्थ, स्वस्थ जीवन अप्रैल 23, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

क्रीमैलेक्स टैबलेट

Cremalax Tablet: क्रीमैलेक्स टैबलेट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Satish Singh
Published on जून 30, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें
dementia symptoms- डिमेंशिया के लक्षण

जानिए डिमेंशिया के लक्षण पाए जाने पर क्या करना चाहिए

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Surender Aggarwal
Published on जून 29, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
गोखरू के फायदे एवं नुकसान - Health Benefits of Gokhru (Gokshura)

गोखरू के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Gokhru (Gokshura)

Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
Written by Ankita Mishra
Published on जून 1, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें
Elder Abuse - एल्डर एब्यूज

जानें एल्डर एब्यूज को कैसे पहचानें और कैसे इसे रोका जा सकता है

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Surender Aggarwal
Published on मई 22, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें