महिलाओं में यौन समस्याओं के प्रकार, कारण, इलाज और समाधान

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट अगस्त 24, 2020 . 8 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

वैसे तो सेक्स से जुड़ी कई प्रकार की समस्याएं होती है। लेकिन हम ज्यादातर सेक्स से जुड़े फायदे और नुकसान की बातों में उलझे रहते है। तो आज हम यौन समस्याओं के बारे में बात करेंगे की महिलाओं में यौन समस्याएं कितने (रोग) प्रकार की होती हैं। इन समस्याओं के होने का कारण क्या है। इनसे बचकर कैसे अपनी सेक्स लाइफ को बेहतर बनाया जा सकता है। ज्यादातर महिलाएं अपनी यौन से जुड़ी समस्याओं को खुलकर सामने नहीं रखती हैं। शोध ही मानें तो बहुत सी महिलाओं को यौन समस्याओं का सामना करना पड़ता है। यह समस्याएं अलग-अलग प्रकार की हो सकती है। महिलाओं में यौन समस्याओं के प्रकार  क्या-क्या हो सकते हैं।

महिलाओं में यौन समस्याओं के प्रकार

कई ऐसी समस्याएं हैं जो महिलाओं के यौन सुख में कमी ला सकती हैं। महिलाओं में यौन समस्याओं के प्रकार निम्नलिखित हो सकते हैं।  

महिलाओं में यौन समस्याओं के प्रकार: यौन इच्छा की कमी

कुछ महिलाओं में यौन इच्छा की कमी होती है। कुछ महिलाओं में ये समस्या शुरूआत से होती है। लेकिन कुछ महिलाओं में समय के साथ कई कारणों से यौन इच्छा में कमी आने लगती है। यौन इच्छा की कमी होने के कई कारण हो सकते हैं। किसी प्रकार का मेंटल स्ट्रेस या फोर प्ले की कमी। इनके अलावा भी ये कई प्रकार के हो सकते हैं।

और पढ़ें : Peyronies : लिंग का टेढ़ापन (पेरोनी रोग) क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

महिलाओं में यौन समस्याओं के प्रकार: ऑर्गेज्म की कमी

ऐसी बहुत सी महिलाएं हैं जो अपने साथी के साथ सेक्स एन्जवॉय करती हैं,लेकिन उनमें ऑर्गेज्म की कमी होती है। जिसके कारण संभोग के बाद भी वो संतुष्ट नहीं हो पाती हैं। ऐसा माना जाता है कि बहुत अधिक संख्या में आज भी ऐसी महिलाएं है जो ऑर्गेज्म नहीं प्राप्त करती है। लेकिन उनमें ही बहुत सी महिलाएं हैं जो ऑर्गेज्म के बिना ही सेक्स को काफी एन्जॉय करती हैं।    

महिलाओं में यौन समस्याओं के प्रकार: सेक्शुअल क्लाइमैक्स

सेक्शुअल क्लाइमैक्स का अर्थ भी यहां पर ऑर्गज्म की कमी से जुड़ा हुआ है। सेक्स के अंत में जब आप पूरी तरह संतुष्ट नहीं हो पाते हैं,अर्थात् आपको ऑर्गेज्म नहीं प्राप्त होता है। तो सेक्शुअल क्लाइमैक्स आपके लिए बेहतर नहीं होता है। जो धीरे-धीरे रिश्ते में मन-मुटाव का कारण बनने लगता है।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

महिलाओं में यौन समस्याओं के प्रकार: पेनफुल इंटर कोर्स

यह सच है कि महिलाओं को इंटरकोर्स के दौरान दर्द होता है। लेकिन ज्यादातर महिलाएं उसके साथ ही संभोग के प्लेजर को महसूस करती है। तो वहीं कुछ महिलाओं को इंटरकोर्स के दौरान अत्यधिक दर्द महसूस होता है।जिस कारण वो संभोग के प्लेजर को महसूस नहीं कर पाती है। साथ ही संभोग में अपने हिस्से का योगदान भी नहीं दे पाती हैं। अधिक दर्द होने के कारण बहुत सी महिलाएं सेक्स करने से डरती हैं। दरअसल इतना अधिक दर्द होने का सबसे आम कारण फोर प्ले की कमी या लुब्रिकेशन की कमी हो सकता है। इंटरकोर्स के पहले फोर प्ले करके अपने साथी को इंटरकोर्स के लिए तैयार करने से उनको दर्द कम महसूस होता है। इसके अलावा बहुत से लोग बेहतर संभोग और दर्द से बचने के लिए लुब्रिकेशन का उपयोग करते हैं। 

और पढ़ें : लेस्बियन सेक्स कैसे होता है? जानें शुरू से लेकर अंत तक

महिलाओं में यौन समस्याओं के प्रकार: महिलाओं में यौन समस्याओं के कारण

महिलओं में यौन समस्या कई प्रकार की हो सकती है। कभी-कभी महिलाओं की कुछ शारीरिक समस्याएं होती है। जो वो खुलकर सामने नहीं रख पाती है। ज्यादातार मामलों में महिलाएं मानसिक समस्या के कारण यौन में रूची नहीं दिखा पाती हैं। आइए जानते हैं महिलाओं में यौन समस्याओं के क्या-क्या कारण हो सकते हैं।

  • कुछ महिलाओं में हार्मोनल समस्या के कारण वो सेक्स में अपनी रूचि नहीं दिखा पाती हैं।
  • रिश्तों में तनाव के कारण महिलाओं में को यौन संबंध बनाने में समस्या आती है।
  • जब महिलाओं में किसी प्रकार की चिंता सता रही होती है। तो उनका ध्यान संभोग और यौन संबंध में दूर हो जाता है। 
  • अवसाद से ग्रस्त महिलाओं में यौन की समस्या होती है।
  • कुछ महिलाओं में सेक्स के दौरान एक रैशेज हो जाते हैं। जिससे वह सेक्स से दूरी बना लेती है।
  • जिन महिलाओं के साथ किसी प्रकार का कुकर्म जैसे रेप या यौन शोषण हुआ होता है। उनको किसी भी व्यक्ति के करीब आने से डर लगने लगता है। वो शायद ही अपने जीवन में किसी व्यक्ति के साथ सुरक्षित महसूस करके यौन संबंध बना पाती है।
  • कुछ पुरूष केवल अपनी कामवासना के कारण सेक्स करते हैं। जो कई बार महिलाओं के दुख का कारण बनता है। महिलाएं अपने साथी से संभोग के पहले फोर प्ले की चाहत रखती है। जो उन्हें संभोग करने के लिए तैयार करता है।

और पढ़ें : ओरल सेक्स क्या है? युवाओं को क्यों है पसंद?

  • कुछ महिलाओं के वजायना में सेक्स के बाद इंंफेक्शन हो जाता है। जिससे वह सेक्स से दूरी बना लेती है।
  • कुछ महिलाओं को अपने शरीर में कई तरह की कमियां दिखाई देती है। जिसको लेकर वो अपने ही शरीर से नाखुश रहती है। इस कारण वो यौन संबंध से दूर रहती हैं।
  • अत्यधिक शराब या नशीली दवाओं का सेवन करने से महिलाओं में यौन समस्याए हो सकती हैं।
  • कुछ महिलाओं में कुछ शारीरिक समस्या, जैसे हार्मोन की समस्याएं, चोट, दर्द, मधुमेह या गठिया के कारण वो इस प्रकार के संबंध बनाने से दूर रहती है।
  • कई बार बढ़ती उम्र के साथ महिलाओं की योनि में कुछ बदलाव होते हैं। जैसे की योनि का सूखा होना। ऐसे में महिलाओं को यौन समस्या होने लगती है।
  • बहुत अधिक थकान के कारण भी महिलाएं सेक्स करने में रूचि नहीं दिखाती हैं।
  • महिलाओं में यौन समस्या का एक कारण कुछ दवाइयों का सेवन करना भी हो सकता है।
  • गर्भावस्था के दौरान महिलाएं सेक्स करने से दूर भागती हैं।
  • कैंसर से पीड़ित महिलाओं में कई प्रकार की यौन समस्याएं होती हैं।

और पढ़ें : ये 7 बातें बताती हैं सेक्स की लत के शिकार हैं आप

महिलाओं में यौन समस्याओं का निदान कैसे किया जाता है?

महिलाओं में यौन समस्या का निदान करने के लिए, आपका चिकित्सक सबसे पहले आपकी एक शारीरिक परीक्षा, यौन संबंधी लक्षण और अन्य लक्षणों के बारे में जानकारी प्राप्त करता है। इस दौरान डॉक्टर आपके प्रजनन अंगों के स्वास्थ्य का मूल्यांकन करने के लिए एक पेल्विक परीक्षा कर सकते हैं। इसके साथ ही गर्भाशय ग्रीवा की कोशिकाओं में परिवर्तन का पता लगाने के लिए पैप स्मीयर की जांच कराई जा सकती है, जो कैंसर या पूर्व कैंसर की स्थिति का पता लगाता है। इसके अलावा डॉक्टर आपका रक्त परीक्षण करने की सलाह भी दे सकता है।

आपका डॉक्टर आपके किसी भी चिकित्सा समस्याओं को दूर करने के लिए अन्य परीक्षणों का आदेश दे सकता है जो महिलओं में यौन समस्या में योगदान दे सकते हैं। सेक्स के बारे में आपकी राय,साथ ही साथ अन्य कारक (जैसे डर, चिंता, पिछले यौन संबंध में दुर्व्यवहार संबंध समस्याएं, रेप,शोषण, शराब या नशीली दवाओं के दुरुपयोग) के बारे में जानकर डॉक्टर को आपकी समस्या को समझने और इसके इलाज में मदद मिल सकती है।

और पढ़ें : जिंदगी भर बना रहेगा रोमांस, कपल्स अपनाएं बस ये 7 रोमांटिक बेडरूम टिप्स

महिलाओं में यौन समस्याओं के प्रकार के बाद समझें क्या है वजायना से संबंधित परेशानियों का इलाज

महिलाओं में यौन समस्याओं का इलाज आपकी समस्या पर निर्भर करता है। डॉक्टर सबसे पहले आपकी समस्या की बारीकी से जांच करते हैं। यौन समस्या का इलाज करने के लिए आपकी उम्र और पिछले यौन संबंध के बारे में डॉक्टर आपसे कई प्रकार के सवाल कर सकता है। कभी-कभी यह समस्या आपके शरीर में नहीं केवल मानसिक रूप से होती है। ऐसे में आपको केवल थेरेपिस्ट की मदद लेने की सलाह दी जाती है। ध्यान रखें कि यौन रोग केवल एक साधारण समस्या है, यदि यह आपको परेशान नहीं करता है, तो इसके उपचार की कोई आवश्यकता नहीं है। क्योंकि महिला यौन रोग के कई संभावित लक्षण और कारण हैं,जिनका उपचार भिन्न-भिन्न होता है। आपके लिए अपनी चिंताओं के साथ-साथ अपने शरीर और उसकी सामान्य यौन प्रतिक्रिया को समझना भी बहुत महत्वपूर्ण है। इसके अलावा, आपके सेक्स जीवन आपके साधारण जीवन को कितना प्रभावित करता है। यह आपको तय करना है। आइए जानते हैं महिलाओं में यौन समस्याओं का इलाज इस प्रकार किया जा सकता है।

और पढ़ें : क्या होता है निप्पल ऑर्गेज्म? पार्टनर को स्पेशल फील कराने के लिए अपनाएं ये टिप्स

साथी से बात करो और उसकी सुनो

अपने साथी के साथ संभोग के दौरान बहुत ही खुले तरीके से बात करना आपकी यौन संतुष्टि में अंतर करता है। यहां तक ​​कि अगर आपको अपनी पसंद और नापसंद के बारे में बात करने की आदत नहीं है, तो ऐसा करना सीखना और एक नटखट तरीके से अपनी बात रखना आपकी सेक्स लाइफ और यौन समस्या को दूर कर सकता है।

लुब्रिकेशन का उपयोग करें

यदि आप बिना फोर प्ले या बिना लुब्रिकेंट के सेक्स करते हैं। तो वजायना में सूखापन होता है। जिसके कारण महिलाओं को असहनीय दर्द हो सकता है। इससे उनकी रूचि पर प्रभाव पड़ता है। तो ऐसे में संभोग के दौरान वजायना में लुब्रिकेशन का उपयोग करना सहायक हो सकता है।

वाइब्रेटर जैसे उपकरण का उपयोग करें

संभोग के पहले अपने महिला साथी की उत्तेजना बढ़ाने के कई उपाय हैं। जिसमें वाइब्रेटर जैसे उपकरण का उपयोग करना शामिल है। यदि आप संभोग से पहले अपने साथ के शरीर और जननांगों के नजदीक इन उपकरणों का उपयोग करते हैं। तो इससे महिला में उत्तेजना होती है। जिससे वजायना में स्त्राव होता है, जिससे संभोग में दर्द कम हो जाता है। 

और पढ़ें :महिलाओं में शीघ्रपतन, जानिए इसके लक्षण कैसे होते हैं

महिला यौन रोग के लिए चिकित्सा उपचार

यदि महिला को किसी प्रकार का यौन रोग है, तो इसके लिए प्रभावी उपचार में हार्मोनल बदलाव करने की आवश्यकता होती है। ऐसी स्थिति में डॉक्टर अपने पर्चे द्वारा आपको कुछ दवाइयां  लेने की सलाह दे सकता है। 

हेल्दी रहने की कोशिश करें

अपनी यौन समस्याओं को दूर करने के लिए आपका हेल्दी रहना बेहद आवश्यक है। यदि आप एल्कोहॉल या किसी प्रकार के नशे का सेवन करते हैं। तो  शराब के सेवन सीमित करें बहुत अधिक पीने से आपकी यौन समस्या बढ़ सकती है। शारीरिक रूप से सक्रिय रहने की कोशिश करें। नियमित शारीरिक गतिविधि आपके सहनशक्ति को बढ़ा सकती है साथ ही रोमांटिक भावनाओं को भी बढ़ा सकती है। हो सके तो तनाव कम करने के तरीके जानें ताकि आप यौन संबंध के दौरान उसका आनंद उठा सकें।

और पढ़ें: Menstrual Hygiene Day : मेंस्ट्रुअल डिसऑर्डर से लड़ने और हाइजीन मेंटेन करने के लिए जानिए क्या हैं आयुर्वेदिक टिप्स

काउंसलर से विमर्श की ज़रूरत

महिलाओं में यौन समस्याओं को लेकर एक काउंसलर या चिकित्सक से बात करें जो यौन और संबंध समस्याओं में माहिर हैं। थेरेपी में अक्सर आपके शरीर की यौन प्रतिक्रिया को ठीक करने के तरीके, अपने साथी के साथ घनिष्ठता बढ़ाने के तरीके जैसे उपाय दिए जा सकते हैं।

हार्मोनल कारण से जुड़ी महिला यौन रोग का इलाज 

हार्मोनल कारण से जुड़ी महिला यौन रोग का इलाज कई प्रकार से किया जा सकता है। यह पूरी तरह से चिकित्सक और मेडिकेशन पर निर्भर होती है। 

एस्ट्रोजेन थेरेपी

लोकल एस्ट्रोजन थेरेपी वजाइनल रिंग,क्रीम या टैबलेट के रूप में आती है। यह थेरेपी वजायना टोन और इलास्टिसिटी में सुधार करता है। इसके साथ ही यह वजायना ब्लड फ्लो में तेजी लाता है। यह वजायना में लुब्रिकेशन को बढ़ाता है। जिससे सेक्स में आसानी हो सके। दरअसल आपकी उम्र के आधार पर हार्मोन थेरेपी के जोखिम अलग-अलग हो सकते हैं। यदि आपको किसी प्रकार की मेडिकल कंडीशन है, तो अपने चिकित्सक से बात करें। क्या ऐसी स्थिति में एस्ट्रोजेन या दवाएं दी जा सकती है। इसके उपयोग से पहले डॉक्टर से इसके लाभ और जोखिम पर चर्चा करें। ऐसे कुछ मामले हैं जिनमें हार्मोनल थेरेपी को आपके डॉक्टर द्वारा निकट निगरानी की आवश्यकता हो सकती है।

और पढ़ें: सेक्स मिस्टेक्स (sex mistakes) : यौन संबंध के समय जाने-अनजाने महिलाएं करती हैं ये 9 गलतियां 

ऑस्पेमीफेन (ओस्फेना)(ospemifene)

यह दवा महिलाओं के लिए सेक्स के दौरान दर्द को कम करने में मदद करता है। इसके उपयोग से पहले अपने चिकित्सक द्वारा सभी लाभों और जोखिम पर चर्चा करें।

एंड्रोजन थेरेपी

एण्ड्रोजन में टेस्टोस्टेरोन शामिल होता है।  टेस्टोस्टेरोन महिलाओं के साथ-साथ पुरुषों में भी स्वस्थ यौन क्रिया में भूमिका निभाता है, हालांकि महिलाओं में टेस्टोस्टेरोन का स्तर बहुत कम होता है। यौन रोग के लिए एण्ड्रोजन थेरेपीएक विवाद का विशेष बन गया है। कुछ अध्ययन उन महिलाओं के लिए लाभ दिखाते हैं जिनके टेस्टोस्टेरोन का स्तर कम होता है और यौन रोग विकसित होते हैं। तो वहीं अन्य अध्ययनों से बहुत कम या कोई लाभ नहीं मिला।

और पढ़ें:ओव्युलेशन कैलक्युलेटर से जानिए अपनी सबसे बेहतर प्रजनन क्षमता के दिन

फ्लिबनसेरिन ( Flibanserin)

यह एक एंटीडिप्रेसेंट के रूप में विकसित किया गया है, फ्लेबिनसेरिन को खाद्य और औषधि प्रशासन द्वारा प्रीमेनोपॉजल महिलाओं में कम यौन इच्छा के उपचार के रूप में सिफारिश किया जाता है। इसकी एक गोली उन महिलाओं में सेक्स ड्राइव को बढ़ावा दे सकती है जो कम यौन इच्छा का अनुभव करती हैं । लेकिन इसके कुछ मामूली दुष्प्रभाव भी देखे जा सकते हैं, जैसे- उल्टी,नींद,थकान आदि। 

यदि आप शराब का सेवन करते हैं, तो शराब के साथ इसके समायोजन को लेकर अपने डॉक्टर से जरूर बात करें। इसके लगातार उपयोग के आठ सप्ताह के बाद अपने सेक्स ड्राइव में सुधार नहीं देखते हैं तो अपने डॉक्टर से परामर्श करें।

ऊपर दी गई जानकारी चिकित्सा सलाह का विकल्प नहीं है। इसलिए किसी भी दवा या सप्लिमेंट का इस्तेमाल करने से पहले डॉक्टर से परामर्श जरूर करें। हैलो स्वास्थ्य किसी भी प्रकार की चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है।

और पढ़ें: आपकी ओव्युलेशन अवधि के बारे में जानने, इस टूल से

महिलाओं में यौन समस्याओं के प्रकार को समझने के साथ ही इसके समाधान को भी समझना जरूरी है

  • सेक्स को केवल अपनी संतुष्टि का साधन न समझकर बल्कि एक दूसरे की इच्छा और प्लेजर का ध्यान रखकर किया जाना चाहिए।
  • सेक्स के दौरान अपने पार्टनर का रिस्पेक्ट करना और उसकी अनुभूति का ख्याल रखना जरूरी है।
  • अपने महिला साथी को ये एहसास कराए की उसकी मर्जी के बिना आप कुछ नहीं करना चाहते हैं।
  • अपनी महिला साथी के दर्द का ख्याल रखें।
  • सेक्स के बाद अपनी साथी से  मुंह मोड़कर न सोकर बल्कि उसे गले गलाएं।
  • अपने रिश्ते को सेक्स से ज्यादा अहमियत देना जरूरी है, रिश्ते को सेक्स से न तौलें।
  • किसी महिला के साथ उसके अतीत में हुए कुकर्म के कारण यदि वह डरी है। तो उसे बहुत प्यार से हैंडल करने की कोशिश करें।

ऊपर दी गई जानकारी चिकित्सा सलाह का विकल्प नहीं है। इसलिए किसी भी दवा या सप्लिमेंट का इस्तेमाल करने से पहले डॉक्टर से परामर्श जरूर करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

Recommended for you

क्यों मुझे सेक्स करने का मन करता है

क्यों सेक्स करने का मन करता है, जानें पुरुषों-महिलाओं में आखिर क्यों जगती है यह फीलिंग्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
प्रकाशित हुआ अगस्त 10, 2020 . 8 मिनट में पढ़ें