जानिए क्यों होती है योनि में खुजली? ऐसे करें उपचार

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट अगस्त 10, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

महिलाओं को कई बार प्राइवेट पार्ट की समस्याओं से जूझते पाया है। उन्हीं में से एक है योनि में खुजली होने की समस्या। कई बार महिलाओं को योनि में इतनी खुजली होती है कि वो पेशान हो उठती हैं। हालांकि, योनि में खुजली होना एक आम समस्या है, जिसके पीछे कई कारण हो सकते हैं। इनमें कुछ साधारण तो कुछ बेहद गंभीर कारण भी हो सकते हैं। हालांकि, दोनों ही स्थिति में इसके कारणों का पता करना और उसका इलाज करवाना जरूरी होता है। क्योंकि, योनि में खुजली की समस्या असहज तो होती है, जो कभी-कभी दर्दनाक भी बन सकती है। हैलो हेल्थ के इस आर्टिकल में हम आपको योनि में खुजली होने की समस्या पर विस्तार से बात करेंगे। यहां जानेंगे कि योनि में खुजली किन कारणों से होती है। इसी के साथ योनि में खुजली के उपचार क्या हैं। इन सभी विषयों के बारे में हम विस्तार से चर्चा करेंगे। आइए पहले जानते हैं कि योनि में खुजली या प्राइवेट पार्ट में खुजली किन कारणों से होती है।

और पढ़ें: Antimitochondrial Antibody Test: एंटीमाइटोकॉन्ड्रियल एंटीबॉडी टेस्ट क्या है?

योनि में खुजली होने के क्या कारण हैं?

योनि में खुजली या योनि में इंफेक्शन अक्सर जलन वाले पदार्थों के प्रभाव में आने, संक्रमण की चपेट में आने या मेनोपॉज के कारण हो सकती है। इन स्थितियों के होने पर योनि में बहुत ज्यादा खुजली और सूजन के लक्षणों का सामना करना पड़ सकता है। वजायना में खुजली के कारकों के पीछे योनी संक्रमण हो सकता है, जिसके लिए यीस्ट इंफेक्शन (योनि में यीस्ट संक्रमण), बैक्टीरियल इंफेक्शन या यौन संचारित बीमारियां (STD) जिम्मेदार हो सकती हैं। यहां पर योनि और उसकी त्वचा के आसपास में खुजली के कुछ संभावित कारण बता रहें हैंः

योनि में खुजली

केमिकल के प्रभाव

यह एक ऐसी स्थिति है, जहां योनि जलन पैदा करने वाले रसायनों के प्रभाव में आए, तो वो योनि में खुजली के कारण बन सकते हैं। इनसे योनि में किसी तरह की एलर्जी हो सकती है,जो योनि के साथ-साथ शरीर के अन्य हिस्सों में भी फैल सकती है। अगर आप ऐसे किसी भी पदार्थ का इस्तेमाल करते हैं तो योनि में इंफेक्शन की समस्या हो सकती है। इसके पीछे कई कारण हो सकते हैंः

  • साबुन से योनि साफ करने पर इसके खतरे बढ़ सकते हैं
  • योनि पर स्प्रे करने से भी यह समस्या होते हैं
  • सेक्स टॉय का इस्तेमाल करने से भी ये समस्या हो सकती है
  • गर्भनिरोधक दवाओं का सेवन करने से भी ऐसी समस्या हो सकती है
  • योनि पर क्रीम लगाने से भी योनि में इंफेक्शन (वजायनल इंफेक्शन) का खतरा बढ़ सकता है
  • टोरीकॉट या पसीना न सोखने वाले कपड़े पहनने से भी ऐसी समस्या हो सकती है
  • गंदे टॉयलेट पेपर का इस्तेमाल करने से भी ऐसी समस्या हो सकती है
  • डायबिटीज होने से भी से भी ऐसी समस्या हो सकती है

योनि में खुजली का उपचार क्या है?

योनि प्राकृतिक तौर पर खुद की सफाई कर लेती है। इसलिए, योनि को हमेशा हल्के गुनगुने साफ पानी से ही साफ करें। इसके लिए किसी भी तरह के साबुन या क्रीम का इस्तेमाल न करें। फिलहाल, नीचे जानिए कारणों के हिसाब से योनि में खुजली के उपचार।

और पढ़ें : सेक्स ड्राइव बढ़ाने के लिए महिलाएं खाएं ये फूड्स

हॉर्मोन स्तर में बदलाव होना

बढ़ती उम्र के साथ ही स्वास्थ्य और शरीर में हॉर्मोन के स्तरों में भी बदलाव होता है, जिसके कारण एस्ट्रोजन स्तर घट सकता है। ब्रेस्टफीडिंग कराने से भी एस्ट्रोजन के लेवल में कमी आ सकती है, जिसके कारण योनि की परत पतली हो सकती है और योनि में खुजली का कारण भी बन सकती है।

उपचार

ब्रेस्टफीडिंग बंद करने के बाद हार्मोन के लेवल में अपने आप सुधार आ सकता है। हालांकि, इसके बाद भी अगर समस्या बनी रहती है, तो अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

यौन संचारित रोग (STD)

यौन संचारित रोग असुरक्षित सेक्स के कारण होते हैं, जो योनि में खुजली के कारण बन सकते है। इसके कई प्रकार हो सकते हैं :

  • क्लैमाइडिया
  • प्राइवेट पार्ट में मस्सा या दाने निकलना
  • गोनोरिया
  • जननांग में दाद
  • ट्राइकोमोनिएसिस

उपचार

यौन संचरित रोगों के इलाज के लिए एंटीबायोटिक दवाओं, एंटीवायरल और एंटीपैरासिटिक्स की मदद ली जा सकती है। इसके इस्तेमाल के दौरान सेक्स से परहेज करना होता है।

और पढ़ें : महिलाओं में शीघ्रपतन, जानिए इसके लक्षण कैसे होते हैं

बैक्टीरियल वेजिनोसिस

बैक्टीरियल वेजिनोसिस योनि में खुजली होने का सामान्य कारण माना जाता है। आमतौर पर बैक्टीरियल वेजिनोसिस योनि में अच्छे और बुरे बैक्टीरिया के बीच के असंतुलन होने के कारण हो सकते है। इसकी स्थिति होन पर योनि में खुजली, जलन, दुर्गंध, असामान्य डिस्चार्ज की समस्या देखी जा सकती है।

उपचार

इसका उपचार करने के लिए डॉक्टर आपको एंटीबायोटिक दवाइयों के सेवन की सलाह दे सकते हैं, जो खाने वाली दवाओं, जेल और क्रीम के रूप में हो सकती है।

यीस्ट इंफेक्शन

आमतौर पर योनि में फंगस पहले से ही मौजूद रहते हैं। अगर योनि की साफ-सफाई में लापरवाही बरती जाए, तो यह बढ़ सकते हैं। इसकी वजह से योनि में खुजली की समस्या हो सकती है।

उपचार

योनि में यीस्ट इंफेक्शन के उपचार के लिए एंटीफंगल दवाइओं का इस्तेमाल करना चाहिए। ये क्रीम और गोलियों के रूप में आते हैं।

और पढ़ें : क्या वाकई में घर से ज्यादा होटल में सेक्स एंजॉय करते हैं कपल?

इन चीजों को ध्यान रखें

  • सेंटेंड साबुन, लोशन का इस्तेमाल न करें और न ही बबल बाथ लें।
  • वजायनल स्प्रे और डूश का इस्तेमाल न करें।
  • स्विमिंग और एक्सरसाइज के तुरंत बाद अपने गीले कपड़ों को बदल लें।
  • हमेशा कॉटन के अंडरवियर पहनें और रोजाना इन्हें बदलें।
  • यीस्ट इंफेक्शन से बचने के लिए योगर्ट का इस्तेमाल करें।

इन उपचारों के अलावा, कुछ तरह के घरेलू उपाय भी अपना सकती हैं जैसे, नीम के पत्तों को पानी में उबालें। फिर उस पानी से योनि की सफाई करें। या नारियल के तेल में कपूर मिलाएं और उस तेल को योनि के चारों तरफ लगाएं। लेकिन, ध्यान रखें कि किसी भी तरह की गंभीर समस्या होने पर अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

उम्मीद है आपको हमारे इस आर्टिकल में योनि में खुजली की समस्या से जुड़े जरूरी सवालों के जवाब मिल गए होंगे। इस आर्टिकल में हमने आपको इस समस्या के कारण से लेकर इसके उपचार तक के बारे में विस्तार से बताने की कोशिश की है। आशा करते हैं कि आपको हमारा ये आर्टिकल पसंद आया होगा और आप इस आर्टिकल में दी गई जानकारी का फायदा उठा पाएंगे और समस्या होने पर इसका इलाज करने की समझ आपके अंदर आ जाएगी। आपको हमारा ये आर्टिकल कैसा लगा, हमें हमारे फेसबुक पेज पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए जरूर बताएं। साथ ही इस आर्टिकल को ज्यादा से ज्यादा जरूर शेयर करें। ताकि लोग इस समस्या को समझ सकें और इसके कारण जानते हुए इसका इलाज करवा पाएं।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

Bandy Syrup: बैंडी सिरप क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

बैंडी सिरप की जानकारी in hindi. दवा का डोज, साइड इफेक्ट्स, सावधानियां और चेतावनी को जानने के साथ इसके रिएक्शन और स्टोरेज को जानने के लिए पढ़ें ये आर्टिकल।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish Singh
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल जून 25, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

Cifran CTH : सिफ्रान सीटीएच क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

सिफ्रान सीटीएच की जानकारी in hindi, सिफ्रान सीटीएच के साइड इफेक्ट क्या है, सिप्रोफ्लॉक्सासिन और टिनिडाजोल दवा किस काम में आती है, रिएक्शन, उपयोग, Cifran CTH.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल जून 15, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

Itch Guard: इच गार्ड क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

जानिए इच गार्ड की जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Itch Guard डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया shalu
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल जून 3, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

दाद का आयुर्वेदिक इलाज क्या है? जानिए दवा और प्रभाव

दाद का आयुर्वेदिक इलाज कैसे करें, दाद का आयुर्वेदिक इलाज इन हिंदीं, दाद के घरेलू उपाय, Ayurvedic Medicine and Treatment for Ringworm.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
हेल्थ सेंटर्स, एलर्जी जून 2, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

Wet sex: गीला सेक्स क्या है

योनि में गीलापन क्या है? जानिए वजाइनल डिस्चार्ज के बारे में विस्तार से

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Anu Sharma
प्रकाशित हुआ जुलाई 27, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
सेट्रोजिल ओ टैबलेट

Satrogyl-O Tablet : सेट्रोजिल ओ टैबलेट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ जुलाई 20, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
ओफ्लोटास ओजी टैबलेट

Oflotas Oz Tablet : ओफ्लोटास ओजी टैबलेट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ जुलाई 14, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
बीटाडीन क्रीम

Betadine Cream: बीटाडीन क्रीम क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish Singh
प्रकाशित हुआ जून 26, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें