backup og meta

क्या आप जानते हैं क्रैनबेरी के लाभ? कई रोगों का इलाज है क्रैनबेरी

के द्वारा मेडिकली रिव्यूड Dr. Pooja Bhardwaj


Mubasshera Usmani द्वारा लिखित · अपडेटेड 24/07/2020

क्या आप जानते हैं क्रैनबेरी के लाभ? कई रोगों का इलाज है क्रैनबेरी

क्रैनबेरी यानी करौंदा सेहत संबंधित कई गुणों से भरपूर है। करौंदे में फाइबर, विटामिन-सी, विटामिन-ए और विटामिन-के, एंटीऑक्सिडेंट, एंटीइंफ्लेमेटरी, विटामिन-सी और फ्लेवोनॉइड की अच्छी मात्रा मौजूद होती है। यही कारण है कि इन्हें सुपरफूड की कैटेगरी में शामिल किया गया है। प्रोएंथोस्यानिडींस (proanthocyanidins) नाम का एंटीऑक्सीडेंट भी होता है, जो कई बीमारियों से लड़ने की क्षमता रखता है। बीमारियों से लड़ने की क्षमता के कारण ही इसे सुपर पॉवर फुल फलों की श्रेणी में रखा जाता है। यह कई बीमारियों से बचाने में भी सहायक होता है। क्रैनबेरी के लाभ गर्भवती महिलाओं को भी मिलता है।

क्रैनबेरी के लाभ क्या हैं?

1.एंटीऑक्सीडेंट गुणों से भरपूर:

क्रैनबेरी के लाभ इसमें मौजूद एंटीऑक्सिडेंट से मिलता है। दरअसल करौंदे में एंटीऑक्सीडेंट गुण भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं। इसके एंटीऑक्सिडेंट गुण कई अलग-अलग प्रकार की बीमारियों से लड़ने में मदद करते हैं।

2. यूरीन इन्फेक्शन से बचाए क्रैनबेरी

क्रैनबेरी को पेशाब के इंफेक्शन (यूरीन इन्फेक्शन) से लड़ने में मदद करने का अहम सोर्स माना गया है। जिन लोगों को बार-बार पेशाब के इंफेक्शन की शिकायत होती है, उन्हें क्रैनबेरी का जूस पीने की सलाह दी जाती है। प्रोएंथोस्यानिडींस नाम का एंटीऑक्सीडेंट पेशाब की नली में बनने वाले बैक्टीरिया को बनने से रोकता है, जिसके कारण यूरीन इन्फेक्शन से बचाव होता है। यही नहीं यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन (UTI) महिलाओं में होने वाली सबसे सामान्य बीमारी है। वर्ल्ड हेल्थ ओर्गनइजेशन (WHO) के रिपोर्ट के अनुसार तकरीबन 50 प्रतिशत महिलाओं को कभी ना कभी यूरिन इंफेक्शन की परेशानी हुई है। यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन का मुख्य कारण सफाई (हाइजीन) नहीं रखना माना जाता है। यूरिन में होने वाले संक्रमण को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। जितनी जल्दी हो सके यूरिन इंफेक्शन के उपचार के लिए कुछ होम रेमेडीज भी अपनाई जा सकती हैं। इसलिए गर्भवती महिलाओं को क्रैनबेरी के लाभ इसके सेवन से मिल सकते हैं।

और पढ़ें – जानें ऐसी 7 न्यूट्रिशन मिस्टेक जिनकी वजह से वेट लॉस डायट प्लान पर फिर रहा है पानी

3. ब्रेन के लिए फायदेमंद है क्रैनबेरी

क्रैनबेरी में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट और एंटी-इंफ्लामेटरी तत्व मेमोरी को बेहतर बनाते हैं और ध्यान लगाने में मदद करते हैं। मस्तिष्क के लिए आप अपनी रोजमर्रा की डाइट में स्नैक्स या जूस के तौर पर करौंदा शामिल कर सकते हैं।

4.दिल की बीमारियों से बचाता है

कुछ रिसर्च में पता चला है कि क्रैनबेरी दिल की बीमारियों के खतरे को कम करने में मदद करता है। यह एंटी-इंफ्लेमेटरी गुणों के कारण प्लेटलेट के स्तर को नियंत्रित करने और ब्लड प्रेशर कंट्रोल करने में मदद करता है। इसलिए क्रैनबेरी के लाभ हार्ट पेशेंट को भी मिलता है।

और पढ़ें – Cranberries : क्रैनबेरी क्या है?

5.कैंसर का खतरा कम हो सकता है

क्रैनबेरी के लाभ कैंसर पेशेंट को भी मिल सकते हैं। दरअसल एक स्टडीज के अनुसार, क्रैनबेरी ट्यूमर बनने की प्रक्रिया को धीमा कर देता है। प्रोस्टेट, लिवर, ओवेरियन और कोलन कैंसर से बचाव के लिए इसके सकारात्मक प्रभाव देखे गए हैं।

6. फैट कम करे क्रैनबेरी

क्रैनबेरी का जूस फैट कम करने में मदद करता है। फाइबर की अच्छी मात्रा होने के कारण यह देर तक भूक का एहसास नहीं होने देता और पेट भरा हुआ महसूस होता है। अगर आप वजन कम करने की कोशिश कर चुके हैं लेकिन, आपका वजन कम नहीं हो रहा है तो क्रैनबेरी के लाभ आपको मिल सकते हैं अगर इसका सेवन ठीक तरह से किया जाए।

7.त्वचा में निखार लाए:

क्रैनबेरी त्वचा को निखार कर उसे मुलायम बनाने में मदद करती है। निखरी त्वचा पाने के लिए दो चम्मच सूखी क्रैनबेरी में जरूरत के अनुसार शहद और अपनी पसंद का एसेंशियल ऑयल मिला कर त्वचा पर लगाएं। फिर 10 मिनट बाद मुंह धो लें। आप खुद त्वचा में निखार होता हुआ महसूस करेंगे।

क्रैनबेरी कई पौष्टिक तत्वों से भरपूर है। इसमें मौजूद सभी तत्व स्वास्थ्य से जुड़ी कई समस्याओं के लिए फायदेमंद होते हैं। इन्हें अपने आहार में शामिल करें और इसकी खूबियों का लाभ उठाएं।

और पढ़ें : बेस्ट एनीमिया डाइट चार्ट को अपनाकर बीमारी से करें बचाव

8. इम्यून सिस्टम बेहतर होता है

क्रैनबेरी में मौजूद एंटीऑक्सिडेंट और एंटीइंफ्लेमेटरी तत्व शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में मदद करता है। क्रैनबेरी वैसे लोगों के लिए काफी हेल्दी माना जाता है, जो बार-बार बीमार पड़ते हैं या सर्दी-खांसी के शिकार होते हैं। हेल्थ एक्सपर्ट्स के अनुसार इसके जूस के सेवन से भी इम्यून सिस्टम स्ट्रॉन्ग होता है।

9. वेट लॉस में है सहायक

शरीर में मौजूद या जमा हुए एक्स्ट्रा फैट को कम करने में करौंदा काफी मददगार है। करौंदे या इसके नियमित जूस के सेवन से शरीर में मौजूद एक्स्ट्रा फैट आसानी से किया जा सकता है। दरअसल करौंदे में मौजूद उच्च मात्रा में फाइबर बार-बार भूख लगने की समस्या को कम करता है। यही नहीं इसमें कैलोरी की मात्रा भी कम होती है इसलिए यह वजन कम करने में सहायक होता है।

और पढ़ें : ड्राई स्किन से हैं परेशान? तुरंत फॉलो करें रूखी त्वचा के लिए ये डाइट

10. प्रेग्नेंसी में इंफेक्शन के खतरे को कम करता है

गर्भावस्था के दौरान होने वाले बैक्टेरियल इंफेक्शन को कम करने में क्रैनबेरी काफी सहायक होता है। प्रेग्नेंसी के 9 महीने तक हेल्थ एक्सपर्ट करौंदे का सेवन किया जा सकता है। प्रेग्नेंसी के वक्त शरीर में कई तरह बदलाव होते हैं। ऐसे में गर्भवती महिला और गर्भ में पल रहे शिशु को स्वस्थ रखने के लिए कई उपाय अपनाये जाते हैं। इसलिए इस दौरान एक्सपर्ट की सहायता से करौंदे का सेवन किया जा सकता है।

11. बैड कॉलेस्ट्रॉल को कम करने में सहायक है

करौंदे के सेवन से शरीर में होने वाले बैड कॉलेस्ट्रॉल को कम किया जा सकता है। कॉलेस्ट्रॉल बैलेंस्ड रहने से हार्ट अटैक और डायबिटीज की समस्या भी कम हो सकती है। इसलिए डायबिटीज के साथ-साथ बैड कोलेस्ट्रॉल के पेशेंट को भी क्रैनबेरी के लाभ मिल सकते हैं।

[mc4wp_form id=’183492″]

12. बाल को हेल्दी बनाता है क्रैनबेरी

अगर आप अपनी बालों की समस्या से परेशान हैं, तो करौंदे के सेवन से फायदा मिल सकता है। इसमें मौजूद विटामिन-सी और विटामिन-ए बालों की ग्रोथ बढ़ाने के साथ-साथ चमक भी लाता है। इसलिए बालों की ग्रोथ के लिए क्रैनबेरी जूस का सेवन करना चाहिए।

13. ब्लड प्रेशर रहता है नॉर्मल

किसी भी व्यक्ति को अगर हाई ब्लड प्रेशर की समस्या है तो वो करौंदे का सेवन कर सकते हैं। डायटीशियन के सलाह अनुसार इसके सेवन से ब्लड प्रेशर नॉर्मल रह सकता है।

और पढ़ें – जानिए किडनी के रोगी का डाइट प्लान,क्या खाएं क्या नहीं

14. चेहरे की झुर्रियों होती हैं कम

अपने आहार में या इसे सलाद की तरह या फिर जूस की तरह रोजाना संतुलित मात्रा में लिया जा सकता है। इसमें मौजूद एंटीऑक्सिडेंट चेहरे पर होने वाले झुर्रियों को कम करने में या उन्हें रोकने में मदद करता है।

15. बुखार होने पर करें करौंदे का प्रयोग

अगर बुखार लंबे वक्त से कम नहीं हो रहा है, तो करौंदे का लेप बनाकर इसे सिर पर लगाया जा सकता है। इससे बुखार कम हो सकता है लेकिन, सिर्फ इस उपाय पर निर्भर न रहें। बॉडी टेम्प्रेचर बढ़ने पर बेहतर जल्द से जल्द डॉक्टर से संपर्क करें। क्रैनबेरी के लाभ बुखार में भी इसके सेवन से मिल सकते हैं।

क्रैनबेरी के लाभ के साथ-साथ इससे नुकसान भी हो सकते हैं।

किसी भी खाद्य पदार्थों का सेवन अगर ज्यादा हो जाये तो इससे शरीर को नुकसान हो सकता है। क्रैनबेरी से होने वाले नुकसान निम्नलिखित हैं।

  • करौंदे के अत्यधिक सेवन से दांत खराब हो सकते हैं।
  • इसके अत्यधिक सेवन से शुगर लेवल बढ़ने की संभावना बढ़ सकती है।

क्रैनबेरी के लाभ के कई लाभ हैं लेकिन, अगर आप क्रैनबेरी के लाभ से जुड़े किसी तरह के कोई सवाल का जवाब जानना चाहते हैं तो विशेषज्ञों से समझना बेहतर होगा।

डिस्क्लेमर

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

के द्वारा मेडिकली रिव्यूड

Dr. Pooja Bhardwaj


Mubasshera Usmani द्वारा लिखित · अपडेटेड 24/07/2020

ad iconadvertisement

Was this article helpful?

ad iconadvertisement
ad iconadvertisement