home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

पंपकिन (कद्दू) एक फायदे अनेक, जानें ये है कितना गुणकारी

पंपकिन (कद्दू) एक फायदे अनेक, जानें ये है कितना गुणकारी

बचपन में कद्दू न खाने को लेकर मां की डांट कई बार खाई होगी। हम हर बार कद्दू बनाने पर मुंह बनाते थे और हर बार मां डराकर उसे खिलाती थी। मां कहती थी कि कद्दू खाने से तुम जल्दी बड़े हो जाओगे और ताकत आएगी। खैर, तब लगता था कि मां इसे खिलाने के लिए ये सब बहाने बना रही है, लेकिन यह बिल्कुल सच है। कद्दू जिसे पंपकिन भी कहा जाता है इसे लोग सब्जी समझते हैं, पर है ये एक फल। ये शरीर को विकास और पर्याप्त पोषण प्रदान करता है। इस आर्टिकल में जानें कि कद्दू में कितना पोषण है और यह किन-किन स्वास्थ्य समस्याओं के इलाज में मदद करते है।

यह भी पढ़ें – पुरुषों के लिए वैक्सिंग कितनी सही और गलत? जरूर पढ़ें यह आर्टिकल

पंपकिन (Pumpkin) या कद्दू क्या है?

Pumpkin- पंपकिन

पंपकिन, कुकुमबर और मेलन की फैमिली से ही आता है, जो आमतौर पर सर्दी के मौसम में आसानी से उपलब्ध होता है। इसमें बीज होते हैं, जिस वजह से इसे फल की श्रेणी में रखा जाता है। लेकिन, पोषण के मामले में यह किसी सब्जी से कम नहीं है। यह विभिन्न आकार और रंग में उपलब्ध होता है। इस आर्टिकल में पंपकिन में मौजूद पोषक तत्वों के बारे में जानते हैं।

एक कप पके पंपकिन में निम्नलिखित पोषक तत्म होते हैं

  • कार्ब्स- 12 ग्राम
  • प्रोटीन– 2 ग्राम
  • कैलोरी- 49
  • फाइबर– 3 ग्राम
  • विटामिन सी- दैनिक जरूरत का 19 प्रतिशत
  • विटामिन के- दैनिक जरूरत का 49 प्रतिशत
  • पोटैशियम– दैनिक जरूरत का 16 प्रतिशत
  • विटामिन ई- दैनिक जरूरत का 10 प्रतिशत
  • कॉपर, मैंगनीज दैनिक जरूरत का 11 प्रतिशत
  • आयरन– दैनिक जरूरत का 8 प्रतिशत
  • फोलेट- दैनिक जरूरत का 6 प्रतिशत
  • नियासिन, पैंटोथेनिक एसिड, विटामिन बी6 और थियामिन- दैनिक जरूरत का 5 प्रतिशत

इसमें बीटा-कैरोटीन की भी उच्च मात्रा होती है, जो कि एक ताकतवर एंटीऑक्सीडेंट है और शरीर में जाकर विटामिन-ए में भी परिवर्तित हो जाता है।

यह भी पढ़ें – विटामिन सप्लीमेंट्स लेना कितना सुरक्षित है? जानें इसके संभावित खतरे

पंपकिन या कद्दू के सेवन से मिलने वाले फायदे

स्वस्थ आंखें

Pumpkin- पंपकिन

पंपकिन कई वजहों से आपकी आंखों के लिए फायदेमंद होता है। जैसे- इसमें उच्च मात्रा में मौजूद बीटा-कैरोटीन आपकी आंखों के रेटीना को रोशनी अवशोषित करने में मदद करता है और आपकी आंखों की रोशनी को तेज रखता है। इसके अलावा, इसमें मौजूद अन्य विटामिन और मिनरल्स का संयोजन आपकी आंखों की मसल्स को उम्र की वजह से होने वाली मसल्स की कमजोरी से बचाव करता है।

दिल का स्वास्थ्य

i love you hello GIF by beckadoodles

कद्दू में मौजूद फाइबर, विटामिन-सी और पोटैशियम आपके शरीर में ब्लड प्रेशर और कोलेस्ट्रॉल के स्तर को संतुलित रखता है। जिससे दिल की बीमारी होने का खतरा कम हो जाता है और दिल स्वस्थ रहता है।

यह भी पढ़ें – स्किन इन्फ्लेमेशन क्या है? जानिए एंटी इन्फ्लमेटरी डायट कैसे रोक सकती है इसे

कद्दू की वजह से मजबूत रोग प्रतिरोधक क्षमता

पंपकिन में मौजूद बीटा-कैरोटीन शरीर में विटामिन-ए में परिवर्तित हो जाता है और विटामिन-ए आपके शरीर को कई संक्रमण से लड़ने में मदद करता है। कद्दू में मौजूद विटामिन-ए, विटामिन-सी, विटामिन-ई, आयरन और फोलेट आपके शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता यानी इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाता है। इसके अलावा, कई शोध में पाया गया है कि विटामिन-ए इंटेस्टिनल लाइनिंग को मजबूत बनाता है, जिससे भी संक्रमण से बचाव करने में मदद मिलती है।

कद्दू से स्वस्थ त्वचा

कद्दू में मौजूद विटामिन-सी, विटामिन-ई और बीटा कैरोटीन जैसे एंटीऑक्सीडेंट आपकी त्वचा के स्वास्थ्य के लिए काफी लाभदायक होते हैं। बीटा कैरोटीन आपकी त्वचा को सूर्य की हानिकारक यूवी रेज से बचाता है और यह त्वचा के दिखावट और टैक्सचर को भी सुधारता है।

मेटाबॉलिक सिंड्रोम

पंपकिन की तरह बीटा कैरोटीन युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन करने से आपको मेटाबॉलिक सिंड्रोम होने का खतरा कम हो जाता है। मेटाबॉलिक सिंड्रोम में एब्डॉमिनल ऑबेसिटी के कई लक्षणों को शामिल किया जाता है। जिसमें हाई ब्लड प्रेशर, अनियंत्रित ब्लड शुगर, ट्रायग्लिसराइड का हाई लेवल आदि शामिल हैं, जो कि आपको डायबिटीज और दिल की बीमारी होने का खतरा भी बढ़ा सकते हैं।

यह भी पढ़ें – महुआ के फायदे : इन रोगों से निजात दिलाने में असरदार हैं इसके फूल

वजन घटाना

पंपकिन को पोषण से भरपूर खाद्य पदार्थ माना जाता है। इसके अलावा, इसमें पोषण के साथ कैलोरी की मात्रा भी कम होती है। असल में, करीब 245 ग्राम कद्दू में 50 से कम कैलोरी होती है और इसमें 94 प्रतिशत पानी की मात्रा होती है। जिसकी वजह से यह वजन घटाने में मददगार फूड्स की लिस्ट में आ जाता है। इसके अलावा, कद्दू में फाइबर होता है, जो आपके पेट को ज्यादा देर तक भरा रखता है और भूख कम लगती है।

डायट में शामिल करना आसान

कद्दू को अपनी डायट में शामिल करना बहुत आसान है। आप इसे कस्टर्ड, पाई, पैनकेक, सब्जी, सूप, पास्ता आदि किसी भी चीज में इस्तेमाल कर सकते हैं। इसके अलावा, इसके बीज में भी काफी पोषण होता है और वह आपके ब्लैडर और दिल के स्वास्थ्य के लिए काफी फायदेमंद होते हैं।

डायबिटीज में मददगार

कई वैज्ञानिक टेस्ट में देखा गया है कि पंपकिन के सेवन से शरीर में ब्लड ग्लूकोज के स्तर में गिरावट आती है। इसके अलावा, यह शरीर में ग्लूकोज टॉलरेंस और इंसुलिन की मात्रा को बढ़ाता है। हालांकि, अभी डायबिटीज में इसके फायदेमंद होने को लेकर पक्का होने के लिए कुछ और टेस्टिंग की जरूरत है।

यह भी पढ़ें – स्किन पॉलिशिंग के बारे में क्या नहीं जानते आप? इससे ऐसे त्वचा निखारें

कई तरह के कैंसर से बचाव

कई वैज्ञानिक शोध में यह सामने आया है कि विटामिन ए युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन करने से लंग व प्रोस्टेट जैसे कुछ खास तरह के कैंसर से बचाव होता है। जिस वजह से पंपकिन कैंसर से बचाव के लिए काफी लाभदायक है, क्योंकि इसमें काफी मात्रा में बीटा कैरोटीन है, जो कि शरीर में विटामिन ए में परिवर्तित हो सकता है।

हाइपरटेंशन

कद्दू में पोटैशियम की उच्च मात्रा होने की वजह से भी उसका संतरी रंग होता है। इसका मतलब है कि यह ब्लड प्रेशर के स्तर को कम करने में काफी अहम साबित हो सकता है। इस वजह से यह हाइपरटेंशन की समस्या से ग्रसित मरीजों के लिए काफी लाभदायक फूड है।

स्ट्रोक, किडनी स्टोन

कई शोध में यह बात साबित हुई है कि पोटैशियम की पर्याप्त मात्रा का सेवन करने से आपको स्ट्रोक, किडनी स्टोन होने का खतरा कम हो जाता है। इसके अलावा, पोटैशियम बोन मिनरल डेंसिटी को भी बढ़ाता है, जिससे हड्डियों का स्वास्थ्य भी अच्छा होता है।

पर्याप्त नींद

कद्दू के बीच में ट्राईप्टोफेन होता है, जो कि एक तरह का अमिनोएसिड है और शरीर में सेरोटोनिन नामक कैमिकल का उत्पादन करने में मदद करता है। सेरोटोनिन आपके मूड को बेहतर बनाए रखने और पर्याप्त और अच्छी नींद के लिए काफी जरूरी है।

हैलो स्वास्थ्य किसी प्रकार की मेडिकल एडवाइज, उपचार और निदान प्रदान नहीं करता।

और पढ़ें :

एक्सरसाइज से पहले खाएं ये चीजें, बढ़ेगी ताकत और दमदार होंगे मसल्स

क्या जिम जाने का मन नहीं करता? तो ये वर्कआउट मोटिवेशनल टिप्स करेंगे आपकी मदद

फर्टिलिटी को नुकसान पहुंचाने वाली आदतें कौन सी हैं?

महिलाओं की प्रजनन क्षमता बढ़ाने में सहायक 5 योगासन

health-tool-icon

बीएमआर कैलक्युलेटर

अपनी ऊंचाई, वजन, आयु और गतिविधि स्तर के आधार पर अपनी दैनिक कैलोरी आवश्यकताओं को निर्धारित करने के लिए हमारे कैलोरी-सेवन कैलक्युलेटर का उपयोग करें।

पुरुष

महिला

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

9 Impressive Health Benefits of Pumpkin – https://www.healthline.com/nutrition/pumpkin – Accessed on 18/2/2020

Pumpkin: Nutrition, Benefits and How to Eat – https://www.healthline.com/nutrition/pumpkin-nutrition-review – Accessed on 18/2/2020

6 Surprising Health Benefits of Pumpkin – https://www.webmd.com/food-recipes/features/6-surprising-health-benefits-of-pumpkin#1 – Accessed on 18/2/2020

What are the health benefits of pumpkins? – https://www.medicalnewstoday.com/articles/279610 – Accessed on 18/2/2020

Health Benefits of Pumpkin – https://www.webmd.com/diet/ss/slideshow-health-benefits-pumpkin – Accessed on 18/2/2020

When are Pumpkin in Season? – https://snaped.fns.usda.gov/seasonal-produce-guide/pumpkin – Accessed on 18/2/2020

Pumpkin – https://www.betterhealth.vic.gov.au/health/ingredientsprofiles/Pumpkin – Accessed on 18/2/2020

लेखक की तस्वीर badge
Surender aggarwal द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 02/03/2020 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
x