आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

null

बार-बार तेल गर्म करना पड़ सकता है सेहत पर भारी, जानें कैसे?

    बार-बार तेल गर्म करना पड़ सकता है सेहत पर भारी, जानें कैसे?

    क्या आपने दो दिन पहले कुछ तली चीज बनाई थी, फिर बचे हुए तेल का क्या किया आपने? उसे बॉटल में भर कर रख दिया होगा। अब फिर से आप उसे अगली बार फिर से इस्तेमाल जरूर करेंगे। लेकिन क्या आपको पता है कि बार-बार तेल को गर्म करना आपके सेहत पर भारी पड़ सकता है। फूड सेफ्टी एंड स्टैंडर्ड अथॉरिटी ऑफ इंडिया (FSSAI) भी यही सलाह देता है कि रिहीटिंग वेजिटेबल ऑयल कई तरह की स्वास्थ्य समस्याएं होती हैं। आइए जानते हैं कि बार-बार तेल गर्म करना किस तरह से आपके लिए हानिकारक हो सकता है?

    और पढ़ें : सिर्फ डायट बढ़ाने से नहीं बनेगी बात, वेट गेन करना है तो ऐसा भी करें

    बार-बार तेल गर्म करना क्या है?

    किसी भी तरह के तेल, जैसे- सरसों का तेल, रिफाइंड ऑयल आदि को एक बार से ज्यादा बार गर्म करना ही बार-बार तेल गर्म करना कहलाता है। फूड सेफ्टी एंड स्टैंडर्ड अथॉरिटी ऑफ इंडिया (FSSAI) के अनुसार रिहीटिंग वेजिटेबल ऑयल में टोटल पोलर कम्पाउन्ड (TPC) का निर्माण होता है। इसके कारण पौष्टिकता और फिजिकोकेमिकल गुण खत्म हो जाते हैं। जिससे ये कई तरह के हेल्थ कंडीशन को ट्रिगर कर सकता है।

    [mc4wp_form id=”183492″]

    बार-बार तेल गर्म करना कैसे हो सकता है नुकसानदायक?

    बार-बार तेल गर्म करना निम्न स्वास्थ्य समस्याओं को दावत दे सकते है :

    ब्रेस्ट कैंसर के साथ कई तरह के कैंसर को देता है बढ़ावा

    यूनिवर्सिटी ऑफ इलीनोइस में हुए एक रिसर्च के अनुसार बार-बार तेल गर्म करना ब्रेस्ट कैंसर पैदा कर सकता है। यूनिवर्सिटी ऑफ इलीनोइस ने अपनी स्टडी कैंसर प्रेवेंशन रिसर्च के जॉर्नल में प्रकाशित किया था। जिसमें चूहों पर रिसर्च किया गया था। स्टडी में शामिल चूहों को एक हफ्ते तक लो-फैट डायट पर रखा गया था। इसके बाद 16 हफ्तों के लिए उन्हें फ्रेश सोयाबीन ऑयल से बनी डायट पर रखा गया। इसी दौरान कुछ चूहों को बार-बार तेल गर्म कर के उसमें बनाई गई चीजों के डायट पर रखा गया था। इसी बीच सभी चूहों के अंदर 4T1 ब्रेस्ट कैंसर सेल को इंजेक्ट किया गया। इसके बाद जब चूहों की जांच की गई तो पाया गया कि जिन चूहों को बार-बार तेल गर्म करके डायट दी गई थी, उनमें कैंसर की सेल्स ज्यादा एक्टिव नजर आईं। इसके साथ ही उन चूहों के लिम्फ नोड, लिवर और फेफड़ों में भी कैंसर सेल विकसित होते हुए पाई गई। इस स्टडी में सोयाबीन ऑयल को इसलिए शामिल किया गया, क्योंकि ज्यादातर रेस्टोरेंट्स इसी ऑयल का इस्तेमाल खाना बनाने के लिए करते हैं।

    और पढ़ें : सिंपल से दिखने वाले ओट्स के फायदे जानकर रह जाएंगे हैरान, आज ही डायट में कर लेंगे शामिल

    शरीर में बढ़ाता है बैड कलेस्ट्रॉल

    ब्लैक और स्मोक्ड ऑयल में पकाए हुए खाने का इस्तेमाल पूरे दिन किया जाता है तो ये शरीर में एलडीएल (LDL) या बैड कोलेस्ट्रॉल के स्तर को बढ़ा सकता है। एलडीएल कोलेस्ट्रॉल का हाई लेवल हार्ट डिजीज, सीने में दर्द और स्ट्रोक आने के रिस्क को बढ़ा सकता है। कोलेस्ट्रॉल से जुड़ी समस्याओं से बचने के लिए बार-बार तेल गर्म करना और उसमें खाना पकाना बंद करें।

    एसिडिटी का कारण बनता है

    अगर हमेशा कुछ ऑयली खाने के बाद आपको अक्सर एसिडिटी होता है तो आपको अपने तेल पर ध्यान देने की जरूरत है। बार-बार तेल गर्म करना एसिडिटी होने का कारण भी बन सकता है। ऐसा अक्सर रोड साइड जंक फूड खाने के बाद होता है।

    बार-बार तेल गर्म करने से नुकसानदायक टॉक्सिन निकलते हैं

    बार-बार तेल गर्म करने से कई तरह के हार्मफुल टॉक्सिन निकलते हैं। सनफ्लॉवर या कॉर्न ऑयल से हाई कनसंट्रेटेड एल्डिहाइड जैसे टॉक्सिक केमिकल निकलते हैं। इन रिहीटिंग वेजिटेबल ऑयल का इस्तेमाल करने से कैंसर, अल्जाइमर, हार्ट डिजीज और पार्किंसंस आदि बीमारियां होती हैं। वहीं, 4-हाइड्रॉक्सी-ट्रांस-2-नॉमिनल (HNE) नामक टॉक्सिन भी रिलीज होता है, जो शरीर में मौजूद प्रोटीन, डीएनए और आरएनए को भी प्रभावित करता है।

    और पढ़ें : पुरुषों के लिए वेट लॉस डायट टिप्स, जानें एक्सपर्ट्स की सलाह

    रिहीटिंग वेजिटेबल ऑयल खाने को बनाता है बासी

    बार-बार तेल गर्म करना आपके ताजे बनाए हुए खाने को बासी बनाता है। क्योंकि रिहीटिंग वेजिटेबल ऑयल में केमिकल बदलाव होते हैं, दो खाने की पौष्टिकता को कम करते हैं और खाने के स्वाद में भी बदलाव कर देते हैं। इस तरह के ऑयल में कोई चीज फ्राई करने के बाद खाने से खराब स्मेल और स्वाद आते हैं।

    रिहीटिंग वेजिटेबल ऑयल से फ्री रेडिकल्स निकलते हैं

    बार-बार तेल गर्म करने से उसमें से फ्री रेडिकल निकलते हैं और हेल्दी सेल्स को बीमार कर देते हैं। ये फ्री रेडिकल्स हमारे शरीर में कैंसर और एथरोस्क्लेरोसिस जैसी समस्याएं पैदा करते हैं। एथेरोस्क्लेरोसिस एक ऐसी स्वास्थ्य समस्या है, जिसमें खून की धमनियों में प्लाक जमा हो जाता है और आगे चल कर ये ब्लड को रोकता है। जिससे नसों में ब्लॉकेज के कारण हार्ट अटैक जैसी समस्या होती है।

    और पढ़ें : डायट एंड इटिंग प्लान- ए-जेड : वेट लॉस और वेट मैनेजमेंट की पूरी जानकारी

    कुकिंग ऑयल को सुरक्षित तरीके से कैसे गर्म करें?

    अगर तेल बच गया है और आप उसे फेंकना नहीं चाहते हैं तो आप उसे फिर से इस्तेमाल कर सकते हैं, लेकिन सुरक्षित तरीके से गर्म कर के ही उसका इस्तेमाल कर सकते हैं। आप पहली बार तेल को ज्यादा गर्म ना करें और फिर उसे एक एयर टाइट बॉटल में रखें। जिससे तेल खराब नहीं होता है और उसे हल्का गर्म कर के उसमें खाना बना सकते हैं, लेकिन किसी भी तरह से उसमें डीप फ्राई करने के लिए ना सोचें। वहीं, अगर तेल में धुंआ निकलता और कालापन दिख रहा है तो आपको उस तेल का इस्तेमाल बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए। उसे तुरंत फेंक दें।

    और पढ़ें : बच्चों के लिए शाकाहारी भोजन को अपनाएं, हेल्दी और फीट रहते हैं बच्चे

    बार-बार गर्म किए गए तेल से कैसे बचें?

    बार-बार तेल गर्म करना तो सेहत के लिए हानिकारक है, लेकिन अब सवाल ये है कि आप उससे कैसे बच सकते हैं? इन निम्न टिप्स को अपनाएं और सेहतमंद रहें :

    • घर पर पका खाना ही खाएं। घर पर बने खाने से आप सेहतमंद रहेंगे और घर परआप अपने हिसाब से फ्रेश ऑयल में खाना बना सकते हैं। वहीं, रेस्टोरेंट में इस्तेमाल होने वाला ऑयल कई घंटों तक कढ़ाई में गर्म होता रहा है, जो आपकी सेहत के लिए काफी नुकसानदायक साबित हो सकता है। इसलिए आपको बाहर खाना खाने से बचना चाहिए।
    • कम मात्रा में खाना बनाना भी आपको बार-बार तेल गर्म करने की झंझट से बचा सकता है। डीप फ्राई चीजों को अवॉयड कर के आप शैलो फ्राई की गई चीजों का भी सेवन कर सकते हैं। इसके अलावा निश्चित मात्रा में उतनी ही खाना बनाएं जितना आपकी फैमिली खा सके। खाने की मात्रा को निश्चित करने का एक फायदा ये भी होता है कि आपका वजन घटता है। आपकम मात्रा में खाएंगे तो वजन भी मेंटेन रहेगा।
    • अगर आप कभी कहीं पर ट्रैवलिंग पर जा रहे हैं तो घर का बना हुआ खाना ही साथ ले जाएं और वही खानाखाएं।
    • अगर आपके फैमिली में किसी को अल्जाइमर, कैंसर, हार्ट डिजीज आदि समस्या है तो बार-बार तेल गर्म करना बंद करें। इससे उनका स्वास्थ्य और ज्यादा खराब हो सकता है।

    इस तरह से आपने जाना कि किस तरह के बार-बार तेल गर्म करना आपकी सेहत बिगाड़ सकता है। इस लिए फ्रेश ऑयल का सेवन करें और स्वस्थ रहें। इस विषय में अधिक जानकारी के लिए आप अपने डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं।

    health-tool-icon

    बीएमआर कैलक्युलेटर

    अपनी ऊंचाई, वजन, आयु और गतिविधि स्तर के आधार पर अपनी दैनिक कैलोरी आवश्यकताओं को निर्धारित करने के लिए हमारे कैलोरी-सेवन कैलक्युलेटर का उपयोग करें।

    पुरुष

    महिला

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    सूत्र

    Thermally Abused Frying Oil Potentiates Metastasis to Lung in a Murine Model of Late-Stage Breast Cancer https://doi.org/10.1158/1940-6207.CAPR-19-0226 Accessed on 8/7/2020

    The Use and Reuse of Cooking Oil –Disadvantages, Regulations and all you need to know https://www.fssai.gov.in/upload/media/FSSAI_NEws_Oil_Insider_30_09_2019.pdf Accessed on 8/7/2020

    Evaluation of the deleterious health effects of consumption of repeatedly heated vegetable oil https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5616019/ Accessed on 8/7/2020

    The Harmful Effects of Consumption of Repeatedly Heated Edible Oils: A Short Review https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/25203337/ Accessed on 8/7/2020

    Effect of heating/reheating of fats/oils, as Used by Asian Indians, on Trans Fatty Acid Formation https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/27374582/ Accessed on 8/7/2020

    Effect of Consumption Heated Oils with or without Dietary Cholesterol on the Development of Atherosclerosis https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC6213572/ Accessed on 8/7/2020

    लेखक की तस्वीर badge
    Shayali Rekha द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 18/08/2020 को
    डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड