home

What are your concerns?

close
Inaccurate
Hard to understand
Other

लिंक कॉपी करें

करवाचौथ व्रत में इस तरह रखें अपना ध्यान, जानें सरगी में क्या खाएं ताकि दिनभर रहें ऊर्जावान

करवाचौथ व्रत में इस तरह रखें अपना ध्यान, जानें सरगी में क्या खाएं ताकि दिनभर रहें ऊर्जावान

पति की लंबी उम्र के लिए रखा जाने वाला करवाचौथ का व्रत भारतीय महिलाओं के लिए बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है। इससे जुड़ी मान्यताओं के कारण ही महिलाएं बिना कुछ खाए-पीए पूरा दिन गुजारती हैं। सुबह सास के द्वारा बहू को दी जाने वाली सरगी से लेकर व्रत तोड़ने की थाली तक में कई प्रकार के व्यंजन दिखाई देते हैं। यह व्यंजन महिलाओं में पेट से जुड़ी कई समस्याएं भी पैदा कर सकते हैं। इसलिए करवाचौथ में खानपान का ध्यान रखना बहुत जरूरी हो जाता है।

और पढ़ें: जानें, 52 साल की उम्र में 30 के दिखने वाले अक्षय कुमार की डाइट और टिप्स

ऐसे रख सकते हैं करवाचौथ में खानपान का ख्याल

सरगी में क्या खाएं

  • सबसे पहले बात करते हैं सरगी की। करवाचौथ के व्रत में सरगी का बहुत महत्व है। दिन की शुरुआत सरगी से होती है। आमतौर पर सरगी सांस द्वारा दी जाती है। सूर्योदय होने से पहले सरगी का सेवन किया जाता है। सरगी में उन चीजों को शामिल करना चाहिए, जिससे दिनभर आप एनर्जेटिक फील करें।
  • सरगी में सांस द्वारा दी गई सेवई (फैनी) खाई जाती है। फैनी को दूध और मखाना डालकर बनाएं। इससे आपको दिनभर पोषण और ऊर्जा मिलती है। दूध में प्रोटीन होता है और सेवई का सेवन करने से दिनभर आपके शरीर में प्रोटीन बना रहता है।
  • इसके बाद एक मुट्ठी ड्राय फ्रूट का सेवन करें। ये भी आपको दिनभर ऊर्जा प्रदान करते हैं।

[mc4wp_form id=”183492″]

  • सरगी में फल जरूर खाएं। विटामिन और फाइबर से भरपूर फल का सेवन करने से दिनभर आपको प्यास नहीं लगेगी। साथ ही यह जल्दी पच जाते हैं, जिससे आपको सुबह सुबह कुछ खाने से भारीपन महसूस नहीं होता है। आपको बता दें, खाली पेट सेब का सेवन करने से एसिडिटी की शिकायत हो सकती है। इसलिए खाली पेट सेब का सेवन एवॉइड करें।
  • कई जगहों पर सरगी में दही जलेबी खाने का रिवाज है। इसका कारण भी यही होता है कि जलेबी की मिठास शरीर में शुगर की कमी नहीं होने देती हैं। वहीं दही शरीर को ठंडक देता है और पानी की कमी को पूरा करता है।
  • सरगी में अपनी पसंद की चीजों का सेवन करने के कुछ देर बाद एक नारियल पानी पीना न भूलें। यह आपको दिन भर हाइड्रेट रखता है। इसको पीने से दिनभर आपको ऊर्जा और ताजगी महसूस होगी।

और पढ़ें: एम एस धोनी डायट प्लान और फिटनेस सीक्रेट को समझें, ताकि उन्हीं की तरह रह सकें फिट

इन बातों का भी रखें ख्याल (Take care of these things as well)

करवाचौथ व्रत में खाना: आराम करें (Take proper rest)

सरगी खाने के बाद कुछ आराम करें। खुद को दिन शुरू होने से पहले ही ना थकाएं। जरूरत से ज्यादा काम न करें लेकिन, खुद को व्यस्त रखें। खुद को व्यस्त रखने से आपको कम भूख-प्यास लगेगी।

करवाचौथ व्रत में खाना: प्राणायाम करें (Do pranayam)

यदि हो सके तो प्राणायाम करें। प्राणायाम से बॉडी में ऑक्सीजन की कमी नहीं होती है। यह आपकी सांस लेने की प्रक्रिया को कंट्रोल में रखता है। बॉडी में आक्सीजन की कमी होने पर ही आपका गला जल्दी-जल्दी सूखता है।

और पढ़ें: हेयर ग्रोथ फूड्स अपनाकर पाएं काले घने लंबे बाल

करवाचौथ व्रत में खाना: ऑयली और फ्राइड चीजों से रहें दूर (Stay away from oily and fried things)

तीज-त्यौहारों पर घर में कई तरह के पकवान बनते हैं। वहीं व्रत के बाद कोशिश करें कि आप ज्यादा ऑयली या फ्राइड खाना न खाएं। पकौड़े-कचौड़ी या तला हुआ खाने से आपको पेट में समस्याएं हो सकती हैं। साथ ही ये आपको आपको सुस्त भी बना सकती हैं। कोशिश करें कि कचौंड़ी-पूड़ी के बजाए रोटी-सब्जी आदि खाएं। सरगी की थाली तैयार करते हुए भी इन बातों का ध्यान रखें।

करवाचौथ व्रत में खाना: चाय-कॉफी के बजाए जूस या सूप लें (Have juice or soup instead of tea and coffee)

दिनभर भूखे-प्यासे रहने के बाद यदि आप चाय-कॉफी लेंगी तो यह गैस आदि की समस्या पैदा कर सकता है। इसलिए जरूरी है कि आप चाय-कॉफी के बजाए ताजे फलों का जूस पीएं। पानी या सूप पीना भी आपको ताकत देगा। जूस व सूप आदि से आपकी कमजोरी खत्म होगी और आप अन्य व्यंजनों का आनंद भी उठा पाएंगी। सुबह-सुबह सरगी के साथ भी चाय-कॉफी न पीएं। यह आपको दिन के समय डिहाइड्रेट करेगा। दूध, जूस, ग्रीन टी को भी आजमाया जा सकता है। यह एंटी- ऑक्सिडेंट होते हैं, इनके कारण दिनभर आप तरो-ताजा महसूस करेंगी।

करवाचौथ व्रत में खाना: ज्यादा से ज्यादा फल खाएं (Eat more fruits)

कोशिश करें कि आप ज्यादा से ज्यादा फल खाएं। फलों में बहुत फाइबर होता है। इससे आपका पेट भर जाएगा और आप दिनभर कमजोरी महसूस नहीं करेंगी। आप केला, पपीता, अनार, सेब आदि फल जो भी बाजार में उपलब्ध हों वह खा सकते हैं।

करवाचौथ व्रत में खाना: ड्राई-फ्रूट्स खाएं (Have Dry fruits)

फलों के साथ ही ड्राई-फ्रूट्स भी अच्छा विकल्प साबित हो सकते हैं। अखरोट, बादाम, पिस्ता आदि में बहुत मात्रा में प्रोटीन व गुड फैट होते हैं। इनसे भी आपको करवाचौथ के व्रत के दौरान ताकत मिलेगी।

और पढ़ें- इस समय पर न खाएं सलाद, जानिए सलाद खाने का सही समय और तरीका

करवाचौथ व्रत में खाना: मिठाई से रहें दूर (Stay away from sweets)

कोशिश करें कि आप मीठा खाने से दूर रहें। इनके बजाए आप खजूर, अंजीर आदि नेचुरल चीजों का इस्तेमाल करें। ज्यादा मीठा आपको ​डिहाइड्रेट करता है। दूसरी तरफ मीठे के कारण आपको भूख भी लग आती है। खीर आदि बनाते वक्त भी नेचुरल मीठी चीजों का इस्तेमाल करें। यह आपकी सेहत के लिए अच्छा साबित होगा। खीर बनाने के लिए खजूर व गुड़ आदि का उपयोग करें।

करवाचौथ व्रत में खाना: अगले दिन भी रखें ख्याल (Take care of yourself next day too)

व्रत के दिन ही नहीं व्रत के अगले दिन भी खाने-पीने का ख्याल रखें। करवाचौथ के व्रत के दूसरे दिन खुद को हाइड्रेटेड रखें और हल्का खाना खाने के साथ बहुत सारे फल और सब्जियां खाएं।

और पढ़ें- चमकदार त्वचा चाहते हैं तो जरूर करें ये योग

करवाचौथ व्रत में खाना: एक्सपर्ट का क्या है कहना (Experts comments on Karwa chauth fast)

हैलो स्वास्थ्य से बात करते हुए कंसल्टिंग होमियोपैथ और क्लीनिकल न्यूट्रिशनिस्ट डॉ श्रुति श्रीधर ने बताया कि दिनभर भूखे रहने के बाद तला-भुना खाना सेहत के लिए सही नहीं होता। इससे पाचन क्रिया नकारात्मक तरह से प्रभावित होती है। एक लंबे समय तक भूखे रहने के बाद भारी-भरकम खाना खाने से कई समस्याएं हो सकती हैं। इससे पेट में दर्द, जलन, डकार के साथ ही दस्त की दिक्कत भी हो सकती है। इसलिए अच्छा रहेगा कि आप हल्का ही खाना सरगी में और व्रत तोड़ने के वक्त खाएं।

करवाचौथ के व्रत के दिन आप न पानी पीते हैं और न ही खाना खाते हैं। इसलिए भी इस उपवास को मुश्किल कहा जाता है। दिनभर भूख—प्यासे रहने पर आपको ताकत की जरूरत होती है। यह ताकत तला—भूना खाने से नहीं बल्कि हेल्दी फूड खाने से मिलती है। कोशिश करें कि आप सरगी की थाली और व्रत तोड़ने के बाद की थाली में हेल्दी फूड का ही चुनाव करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर
Hema Dhoulakhandi द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 13/08/2020 को
Dr Sharayu Maknikar के द्वारा एक्स्पर्टली रिव्यूड