home

What are your concerns?

close
Inaccurate
Hard to understand
Other

लिंक कॉपी करें

जानिए चेचक (Smallpox) के घरेलू लक्षण,कारण और घरेलू इलाज

जानिए चेचक (Smallpox) के घरेलू लक्षण,कारण और घरेलू इलाज

चिकनपॉक्स एक आम और अत्यधिक संक्रामक वायरस है। इसे आम बोलचाल भाषा में चेचक कहा जाता है। चिकनपॉक्स आमतौर पर बच्चों में होता है,तो वहीं कुछ मामलों में यह वयस्कों में भी हो सकता है। चिकनपॉक्स का संक्रमण आमतौर पर कुछ हफ्ते के भीतर ठीक हो जाता है। जब तक चेचक ठीक नहीं हो जाते हैं,इसके लक्षण आपको बहुत परेशान करते हैं। आमतौर पर चेचक के घरेलू इलाज से ही उपचार किया जाता है। चेचक आमतौर पर 5 से 10 दिनों में ठीक होता है। चेचक के शुरूआती लक्षण से ही इसका पता लगा लिया जाता है। ज्यादातर मामलों में इसके लक्षणों की जांच घर में ही कर ली जाती है। आइए जानते हैं चेचक के लक्षण क्या हैं।

चेचक कितने प्रकार के होते हैं?

साधारण रूप से चेचक दो तरह के होते हैं।

  • पहले जो गंभीर होता है। इसमें शरीर पर बड़े दाने विकसित होते हैं। जिसमें मवाद भरा होता है। इसको ठीक होने में लंबा समय लगता है।
  • दूसरे जो कम गंभीर होते हैं, वह दाने छोटे होते हैं। इसके दानों में मवाद नहीं होती है। यह उपचार में कम समय लेते हैं।

चेचक के लक्षण क्या है?

चिकनपॉक्स का मुख्य लक्षण ऐसे दाने हैं जो फफोले के समान लाल घाव बनाते हैं। यह धीरे-धीरे आपके पूरी त्वचा में फैल जाते हैं। इन दानों में खुजली होती है और कभी-कभी ये दर्दनाक दर्द भी होता है। यदि आप इन दानों को खुजला देते हैं तो आपकी स्थिति और खराब हो जाती है। हालांकि, चेचक के घरेलू इलाज से इसका उपचार करके इसके लक्षणों को कम किया जा सकता है। जिससे इसके लक्षणों से राहत मिल सके। तो आइए इस आर्टिकल में चिकनपॉक्स यानि चेचक के लक्षणों के घरेलू उपाय के बारे में जानते हैं।

  • शरीर में दर्द
  • दानों में जलन महसूस होना
  • कमजोरी महसूस होना
  • नाक बहना
  • पूरे शरीर पर लाल या गुलाबी दानें निकलना
  • अत्यधिक थकान
  • खुजली
  • जननांगों में दाने निकलना
  • गला बैठना

वैसे आमतौर पर इसके तीन स्टेप्स होते हैं।

पहले चरण के दौरान

पहले चरण के दौरान आपको शरीर में छोटे-छोटे लाल या गुलाबी दाने दिखाई देते हैं। जिनमें बहुत अधिक खुजली होती है। यह दाने पूरे शरीर में दिखाई देते हैं।

दूसरे चरण के दौरान

दूसरे चरण में ये दाने फफोले में बदल जाते हैं। इसमें एक तरह का तरल पदार्थ भरा होता है।

तीसरे चरण के दौरान

तीसरे तरण के अंत में, इस घाव पर पपड़ी बन जाती है और यह घाव धीरे-धीरे सूखने लगता है। जब तक आपके शरीर में हुए घाव पूरी तरह से ठीक होकर गायब नहीं हो जाते तब तक उस जगह पर खुजली नहीं करनी चाहिए।

[mc4wp_form id=”183492″]

चेचक का कारण

चेचक संक्रमण वायरस के कारण होता है। यह वायरस बच्चों के सीधे संपर्क में आकर फैल सकता है। यह तब भी फैल सकता है यदि किसी व्यक्ति को चेचक हुआ है, आप उसकी खांसी या छींक के सीधा संपर्क में आते हैं, तो आपके सांस के माध्यम से यह वायरस आपके अंदर जा सकता है। जिस कारण आपको चेचक हो सकता है।

चेचक के घरेलू इलाज

चिकनपॉक्स से जुड़ी समस्या को कम करने के लिए और इसके उपचार में मदद करने के लिए आप कई तरह से अपनी सहायता स्वंय कर सकते हैं। सबसे पहले चेचक के पिंपल को या पपड़ी को खरोंचे नहीं। स्क्रैचिंग के कारण घाव बढ़ सकते हैं साथ ही घाव भरने की प्रक्रिया धीमी हो सकती है। इसके अलावा किसी प्रकार का त्वचा संक्रमण विकसित होने का खतरा हो सकता है। यदि आपके बच्चों को खुजली होने के कारण समस्या हो रही है,जिसके कारण बार-बार हाथ पिंपल के करीब चला जाता है। तो बच्चों के हाथों में दस्ताना पहना दें। इस समस्या से निपटने के लिए दस्ताना मददगार हो सकता है। इसके अलावा बच्चों के नाखून भी काट सकते हैं। चेचक के रोगियों द्वारा उपयोग किए जा रहे सामान जैसे,तौलिया,कपड़े आदि को बाकी लोगों के सामान से अलग कर देना चाहिए। चेचक के रोगियों को अधिक घी और तेल वाले आहार का सेवन नहीं करना चाहिए। कई घरेलू उपचारों की मदद से चिकनपॉक्स से जुड़ी खुजली, दर्द और असुविधा को कम किया जा सकता है। चेचक के घरेलू इलाज इस प्रकार से हो सकते हैं।

ओटमील बाथ

इसको प्रभावित क्षेत्र पर हुए दाने पर लगाने से होने पर खुजली से राहत देने के लिए जाना जाता है। बारीक पिसे हुए ओट्स को जब पानी के साथ मिलाया जाता है तो त्वचा पर हुए पिंपल को सुखाने में मदद करता है। इसे रोगी अपने नहाने के पानी में थोड़ी मात्रा में मिला सकते हैं।

अजवायन

चेचक से राहत पाने के लिए आप अपने नहाने के पानी में पीसी हुई अजवाइन मिला सकते हैं। यह खुजली से राहत देने में मदद कर सकता है।

कैलामाइन लोशन लगाएं

चेचक से राहत पाने के लिए कैलामाइन लोशन का उपयोग कर सकते हैं। कैलामाइन लोशन में त्वचा को राहत देने वाले गुण मौजूद होते हैं और इस प्रकार, यह त्वचा की खुजली को कम करने में मदद कर सकता है। इसका उपयोग करने के लिए एक कॉटन या साफ हाथ का उपयोग करके प्रभावित त्वचा पर कैलामाइन लोशन को एक छोटी मात्रा में लगाएं। खुजली वाले त्वचा के क्षेत्रों पर कैलामाइन लोशन फैलाएं और इसे त्वचा पर सूखने दें। कैलामाइन लोशन का उपयोग करने से पहले लोशन की बोतल को अच्छी तरह हिलाना न भूलें। आंखों के पास हुए चेचक के दाने के लिए इस लोशन का प्रयोग करने की सलाह नहीं दी जाती है।

बेकिंग सोडा का उपयोग

बेकिंग सोडा का उपयोग अक्सर खुजली वाली त्वचा को राहत देने के लिए किया जाता है। रोगी अपने नहाने के पानी में थोड़ी मात्रा में बेकिंग सोडा मिला सकते हैं। बेकिंग सोडा के पानी से नहाने से शरीर में हुए दानों और खुजली से राहत मिलती है।

नीम का उपयोग

नीम की पत्तियां उनके एंटीवायरल गुणों के कारण वैरीसेला जोस्टर वायरस से लड़ने में मदद कर सकती हैं। गर्म पानी में नीम के पत्तों को डुबो कर बनाई गई हल्की चाय का सेवन करने से चिकनपॉक्स के लक्षण में मदद मिल सकती है। रोगी अपने स्नान के पानी में नीम के पत्तों को भिगो सकते हैं। नीम के पानी से नहाने से कई तरह के फायदे हो सकते हैं। यह खुजली से राहत देने में आपकी मदद करेगा।

हर्बल चाय

चेचक संक्रमण में आपको हर्बल टी बहुत फायदेमंद हो सकती है। इसमें आप तुलसी, मैरीगोल्ड और लेमन बाम से बनी हर्बल टी का सेवन कर सकते हैं। इनमें से किसी भी एक जड़ी-बूटी को एक कप पानी में उबालें। उबालने के बाद इसे छान लें। इसमें थोड़ी-सी शहद, दालचीनी और नींबू मिलाएं। अब हर्बल टी को पीएं। यदि आप इसे दिन में दो बार उपयोग करते हैं, तो आपको इसके बेहतर परिणाम मिल सकते हैं।

स्क्रैचिंग को रोकने के लिए दस्ताना और सॉक्स पहनें

चिकनपॉक्स के दाने से चकत्ते हो जाते हैं, जिससे खुजली हो सकती है। रोगी को खरोंच से बचना चाहिए, क्योंकि इससे संक्रमण हो सकता है। चिकनपॉक्स छाले को नाखून से बचाने के लिए नाखूनों को ट्रिम करें। पैरों में खुजली से बचने के लिए सॉक्स पहने। जब भी आपको खुजली महसूस हो तो खुजलाने के बजाय त्वचा को थपथपाने की कोशिश करें। रात को सोते समय नींद में त्वचा को खरोंचने से बचाने के लिए हाथों में दस्ताना और पैरों में सॉक्स पहनें।

लैवेंडर तेल का उपयोग

यदि आपके चेचक के दाग आपको परेशान कर रहे हैं। तो आप इससे छुटकारा पाने के लिए लैवेंडर तेल का उपयोग कर सकते हैं। इसका उपयोग करने के लिए सबसे पहले लैवेंडर के तेल को बादाम के तेल में या नारियल तेल के साथ मिलाएं।अब इस तेल को दाग वाली जगह पर लगाएं। इसके बेहतर परिणाम के लिए दिन में कम से कम दो बार हल्के हाथ से मसाज करें। लैवेंडर और कैमोमाइल ऑयल को कम मात्रा में पानी में डालकर इससे नहा भी सकते हैं। यह भी बहुत फायदेमंद होता है।

विनेगर का उपयोग

चेचक से ग्रस्त रोगियों में सिरका बहुत फायदेमंद हो सकता है। इसका उपयोग करने के लिए दो से तीन चम्मच सिरका अपने नहाने के पानी में मिलाएं। इससे नहाने से आप को आते हुए लक्षण से राहत मिल सकती है। चेचक के दौरान नियमित रूप से इसका उपयोग करना चाहिए।

धनिया और जीरा का उपयोग

चेचक के रोगियों में धनिया और जीरा का उपयोग करने से इसके लक्षण कम हो सकते हैं। इसका उपयोग करने के लिए कच्चा धनिया लें,लगभग 50 ग्राम जीरा उसमें मिलाकर उबाल लें। इस पानी को छान लें। चेचक के रोगी को दिन भर यह पानी पीने के लिए देते रहें। चेचक के घरेलू इलाज में धनिया और जीरा की भूमिका बहुत फायदेमंद होती है।

हरी मटर का उपयोग

चेचक के दानों से आराम पाने के लिए आप हरी मटर को पानी में अच्छी तरह उबाल लें। अब इस पानी को दाने वाली सभी जगह पर लगाएं। यह आपके दानों से राहत पाने में मदद कर सकता है।

ढीले कपड़े पहनें

चेचक के दौरान खुजली और चिड़चिड़ेपन से बचने के लिए नरम आरामदायक ढ़ीले कपड़े पहनने चाहिए। इस दौरान आपको सॉफ्ट पूराने कॉटन के कपड़ने पहनने चाहिए। इससे आपको खुजली से आराम मिलता है।

गाजर और धनिया का उपयोग

आपको बता दें इसमें एंटीऑक्सीडेंट गुण मौजूद होते हैं। गाजर और धनिया का उपयोग आप सूप बनाकर कर सकते हैं।इन दोनों को एक साथ उबालकर आप इसका सूप बना सकते हैं। लगभग एक महीने तक इसका उपयोग करने से आपको चेचक के लक्षणों से पूरी तरह से छुटकारा मिल सकता है। इससे कई और भी फायदे होते हैं।

विटामिन ई वाले तेल का उपयोग

चेचक के रोगियों में उनके प्रभावित क्षेत्र पर विटामिन ई युक्त तेल का उपयोग करने से आपको इसके लक्षणों से राहत मिल सकता है।

नारियल का पानी पीएं

चेचक के रोगियों को नारियल का पानी पिलाने से उनके लक्षणों से जल्दी ही राहत मिल सकती है। चेचक के घरेलू इलाज में नारियल आराम दिलाने में सहायक होता है।

साफ-सफाई

चेचक हुए व्यक्ति के बिस्तर को हमेशा साफ रखना चाहिए। कुछ नीम की पत्तियों को रोगी के बिस्तर पर रखना चाहिए। इससे उसके संक्रमण धीरे-धीरे खत्म होने लगते हैं।

शहद का उपयोग

शहद में एंटीबायोटिक गुण मौजूद होते हैं। जो चेचक के रोगियों के लिए बहुत फायदेमंद होते हैं। चेचक के दौरान प्रभावित क्षेत्र पर शहद लगाएं। यदि आप चाहैं तो इस दौरान सुबह और शाम में एक चम्मच शहद का सेवन भी कर सकते हैं। इससे आपके लक्षणों में राहत मिल सकती है।

भीगोया हुआ चना

चेचक के दाने को कम करने के लिए, आप चने को रात भर के लिए भिगो दें। चेचक वाले जगह पर भिगोया हुआ चना रखें। भिगा हुआ चना इसके संक्रमण को अपने अंदर सोख लेता है।

पाउडर का उपयोग

चेचक में हुए आपके दाने पर यदि बहुत अधिक खुजली हो रही है तो आप खुजली वाले चकत्तों पर पाउडर का उपयोग कर सकते हैं। चेचक के घरेलू इलाज में पाउडर बहुत काम करता है।

हल्दी का उपयोग

चेचक के घरेलू इलाज में यह बहुत कारगर है। इसके लिए हल्दी में, मिस्री, और तुलसी मिलाकर इसका पाउडर बना लें। हर रोज इसका उपयोग नियमित रूप से करें। इससे आपके लक्षणों में सुधार हो सकता है।

काली मिर्च का उपयोग

चेचक से परेशान रोगियों में काली मिर्च का उपयोग लाभकारी साबित हो सकता है। इसका उपयोग करने के लिए एक प्याज के रस में दो काली मिर्च पीसकर मिलाएं। एक दिन में दो बार इसका सेवन करने से चेचक के लक्षण जल्दी ही खत्म हो सकते हैं।

ऊपर दी गई जानकारी चिकित्सा सलाह का विकल्प नहीं है। इसलिए किसी भी दवा या सप्लिमेंट और घरेलू इलाज का इस्तेमाल करने से पहले डॉक्टर से परामर्श जरूर करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Chickenpox

https://www.nationwidechildrens.org/conditions/chickenpox

Accessed on 08-07-2020

Chicken Pox (Homeopathy)

https://www.peacehealth.org/medical-topics/id/hn-2210004

Accessed on 08-07-2020

Chickenpox (Varicella)

https://www.cdc.gov/chickenpox/about/prevention-treatment.html

Accessed on 08-07-2020

Chickenpox: Controlling the Itch

https://www.uofmhealth.org/health-library/ue4861

Accessed on 08-07-2020

Chickenpox

https://kidshealth.org/en/parents/chicken-pox.html

Accessed on 08-07-2020

Chickenpox

https://www.homeopathycenter.org/chicken-pox

Accessed on 08-07-2020

लेखक की तस्वीर badge
shalu द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 23/08/2020 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड