ऑटिस्टिक बच्चों में योग से क्या फायदे हो सकते हैं?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट August 17, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

आमतौर पर योग सभी के लिए लाभकारी होता है, कई बार तो इसकी मदद से हम कई गंभीर बीमारियों से भी बच जाते है। इसी तरह योग ऑटिज्म से प्रभावित बच्चों के लिए भी मददगार साबित होता है। जानें कैसे योग ऑटिस्टिक बच्चों का संतुलन और ध्यान केंद्रित करने में सहायता करता है।

ऑटिस्टिक बच्चों में योग से तनाव कम करने में लाभदायक है योग

बहुत से मामलों में पाया गया है कि ऑटिस्टिक बच्चे अकेले रहने कारण चिड़चिड़े रहते हैं। साथ ही समाज का व्यवहार कई बार इनके लिए तनाव का कारण बन सकता है। सांस लेने में परेशानी होने पर भी योग लाभदायक हो सकता है। योग में कराए जाने वाले अलग-अलग व्यायाम मन की शांति के लिए भी बहुत जरूरी हैं। इसके साथ ही योग ऑटिज्म से होने वाली अशांति का भी इलाज कर सकता है। ऑटिज्म के कुछ लक्षणों पर दवाओं से नियंत्रण पाया जा सकता है लेकिन इससे होने वाले भावनात्मक बदलावों के लिए योग से बेहतर इलाज संभव नहीं है।

और पढ़ें: क्या होता है ऑटिज्म का दिमाग पर असर?

 रैगडॉल मुद्रा :  इस मुद्रा को करने से आत्मविश्वास में वृद्धि होती है और तनाव नहीं रहता। इस आसन  को करने के लिए आपको पीठ के बल आगे की तरफ झुकाया जाएगा। इसमें तनाव में राहत मिलती है। 

Ragdoll pose

ऑटिस्टिक बच्चों में योग से संतुलन और ध्यान केंद्रित करने के लिए योग है गुणकारी

ऑटिज्म की अवस्था में शारीरिक संतुलन में कमी आ सकती है। इसके साथ योग करने से किसी भी काम में ध्यान केंद्रित करने की क्षमता बढ़ जाती है। साथ ही योग की मदद से मस्तिष्क और हृदय का संतुलन भी बढ़ता है जिसकी वजह से बच्चे में नई चीजों को सीखने की उत्सुकता बढ़ती है। इसका उदाहरण है :

सूर्यनमस्कार : इस योगासन में हाथों को ऊपर करके कुछ देर के लिए खड़े होना होता है जिससे शरीर में संतुलन आता है। सूर्य की तरफ खड़े होने की वजह से आपको विटामिन-डी भी मिलता है जो की हड्डियों की मजबूती में कारगर है। सुबह के समय इस आसन को करने से शरीर में अत्यधिक ऊर्जा का संचार होगा और बच्चा सक्रिय महसूस करेगा। 

Suryanamaskar

ऑटिस्टिक बच्चों में योग से बढ़ती है शारीरिक क्षमता और लचीलापन बार 

योग में कराए  जाने वाले अलग -अलग प्रकार के व्यायाम शरीर को मजबूती देते हैं। ऑटिज्म की समस्या में अक्सर शरीर में अकड़न आ जाती है और लचीलापन खो जाता है। इसे वापस पाने के लिए योग सही उपाय है।

और पढ़ें: 5 न्यूट्रीशियन टिप्स, जो ऑटिज्म (Autism) में हैं मददगार

वॉरियर मुद्रा : इस योगासन में आपके हाथों को छाती और कंधे से 90 डिग्री पर रखा जाता है। इससे शरीर में दर्द कम होगा और साथ ही आत्मविश्वास में भी वृद्धि होगी। ऑटिस्टिक बच्चों में योग खासकर वॉरियर मुद्रा लाभकारी होता है। 

Warrior pose

ऑटिस्टिक बच्चों में योग से सामाजिक सरोकार में भी मिलती है सहायता

ऑटिस्टिक बच्चों को सामाजिक रूप बहुत ज्यादा प्रताड़ना झेलनी पड़ती है जिसकी वजह से वे डरे हुए रहते है। योग करने से उनका मन शांत रहता है जिसकी वजह से वे अलग स्थितियों में अपने आप को संभाल पाएंगे। योग करते समय बच्चे अक्सर अपने गुरु के साथ अच्छे संबंध बना लेते हैं जिससे उन्हें अपने अकेलेपन में साथी भी मिल जाता है। 

ऑटिस्टिक बच्चों में योग से अच्छी नींद के लिए भी योग है जरूरी 

कैट काऊ मुद्रा : इस आसन के नाम के अनुसार ही शरीर को गाय के जैसे नीचे की ओर झुकाया जाता है। इस मुद्रा में अंदरूनी अंगों और स्पाइन को राहत मिलती है साथ ही गले में भी राहत मिलती है। अंदरूनी अंगों में राहत मिलने की वजह से नींद अच्छी आएगी। इसलिए ऑटिस्टिक बच्चों में योग विशेषकर कैट काऊ मुद्रा लाभकारी माना जाता है। 

Cat Cow pose Yoga

ऑटिस्टिक बच्चों में योग से आत्म विश्वास बढ़ाने और खुश रहने के लिए भी योग है जरूरी।  

योग में आसनों के अलावा गानों से थेरिपी और गहरी सांसों की भी महत्त्वपूर्ण भूमिका है। योग और ध्यान की मदद से बच्चा बाहरी दुनिया के साथ अपने अंदर भी कई बदलाव महसूस करेगा। समय के साथ उसका नई चीजों के प्रति भय कम होगा और वह शांत और सुलझा हुआ दिखेगा। योग का शांत माहौल, ऑटिस्टिक बच्चों के विचलित मन को शांत करता है साथ ही बहुत तेज आवाज या फिर महक जिससे उन्हें परेशानी होती है उससे भी निपटने में उनकी सहायता करता है। ऑटिस्टिक बच्चों में योग से आत्म विश्वास को बढ़ाने का बेहतर विकल्प माना जाता है। 

और पढ़ें : ऑटिज्म के बारे में 10 बातें जो आपको जानना जरूरी हैं

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

ऑटिस्टिक बच्चों की खास देखभाल क्यों है जरूरी?

एक्सपर्ट्स के अनुसार ऑटिज्म एक व्यवहार संबधी समस्या है। जिसके लक्षण ऑटिस्टिक बच्चे को अन्य सामान्य बच्चों से अलग बना सकता है। इसके लक्षण वाले बच्चे सामान्य बच्चों की तरह नहीं होते हैं। ऐसे बच्चों में अक्सर गुमसुम रहना, किसी बात को कई बार दोहराना या रटते रहने की आदत देखी जा सकती है। इन बच्चों में माता-पिता या परिवार के अन्य सदस्यों के साथ इमोशनल बॉन्डिंग में भी कमी हो सकती है। साथ ही, ऑटिस्टिक बच्चों के ब्रेन का विकास भी काफी पिछे रह सकता है। ऐसे में योग. मेडिटेशन और अन्य दवाओं के उपचार के लिए आप काफी हद तक अपने बच्चे को नई चीजें सिखा सकते हैं। योग के अलावा, आपको अपने ऑटिस्टिक बच्चे की देखभाल करते समय निम्न बातों का भी ध्यान रखना चाहिए, जैसेः

गैजेट्स से रखें दूर

मोबाइल फोन, टीवी या इसी तरह के अन्य उपकरण आपके बच्चे के ब्रेन के विकास को अधिक प्रभावित कर सकता है। अगर आप किसी डिजिटल गैजेट्स की मदद से अपने बच्चे को नई चीजें सीखाने या पढ़ाने की मदद लेते हैं, तो उसे गैजेट्स को आप अन्य उपकरण जैसे, बैटरी से चलने वाले खिलौनों की मदद ले सकते हैं। मार्केट में ऐसे कई खिलौने आसानी से मिल सकते हैं, जो सिर्फ एक बटन दबाने पर आपके बच्चे को काउंटिंग, ए-बी-सी, क-ख-ग आदि चीजों को सीखाने में मदद कर सकते हैं।

संतुलित रखें आहार

साथ ही, आपको ऑटिस्टिक बच्चों के खानपान पर भी खास ध्यान रखना चाहिए। उन्हें हमेशा घर पर बनें पौष्टिक आहार ही खाने के लिए दें। ऐसे बच्चों के लिए पैकेटबंद ड्रिंक्स, चिप्स या किसी भी तरह के प्रोसेस्ड खाद्य पदार्थों का सेवन पूरी तरह से बंद कर देना चाहिए। क्योंकि, जंक फूड और पैकेटबंद खाद्य पदार्थों में प्रोसेसिंग के दौरान केमिकल्स का इस्तेमाल किया जा सकता है, जो बच्चे के नर्वस सिस्टम को नुकसान पहुंचा सकते हैं।

और पढ़ें: योग क्या है? स्वस्थ जीवन का मूलमंत्र योग और योगासन

इशारों की भाषा पर फोकस करें

ऑटिस्टिक बच्चे बहुत ही कम बोलना पसंद करते हैं। इसलिए, उन्हें ज्यादा बातचीत करने के लिए कभी भी फोर्स न करें, लेकिन उनकी गुमसुम रहने की आदत को आप इशारों की मदद से कम कर सकती हैं। अगर आप बच्चे से किसी तरह का संवाद करना चाहते हैं, तो अपने बच्चे से इशारों में बात करने की कोशिश करें। इस तरह के रवैये पर आपका बच्चे का ध्यान अधिक केंद्रित हो सकता है और वह बातों को अच्छे से समझ भी सकेगा।

खुद को शांत रखें

ऑटिस्टिक बच्चें कभी भी किसी भी बात पर चिड़चिड़ा हो सकते हैं या गुस्सा कर सकते हैं। ऐसे में आपको खुद को शांत रखना चाहिए और बच्चे के गुस्से के कम करने का प्रयास करना चाहिए। खासकर तब जब आप किसी वजह से अपने बच्चे के साथ घर से बाहर कहीं घूमने या किसी तरह का ऑउट डोर गेम्स खेलने के लिए गए हों।

इस विषय में और अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से सलाह ले सकते हैं। साथ ही, ऑटिस्टिक बच्चों में योग से और भी क्या फायदे हो सकते हैं, इसके बारे में भी आपको अपने डॉक्टर से चर्चा करनी चाहिए।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

Was this article helpful for you ?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

कैसे करें आईसीयू में एडमिट बच्चे की देखभाल?

how to care your child in ICU in hind, ICU में बच्चे की देखभाल कैसे करें?मां-बाप के लिए कितना मुश्किल होता है अपने बच्चे को आईसीयू में देखना।

के द्वारा लिखा गया shalu
बेबी की देखभाल, बेबी, पेरेंटिंग May 13, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

बच्चे के मुंह में छाले से न हों परेशान, इसे दूर करने के हैं 11 घरेलू उपाय

जानें बच्चे के मुंह में छाले होने का कारण क्या है? माउथ अल्सर (Mouth Ulcer) के लक्षण क्या हैं? बच्चे के मुंह में छाले हों तो क्या हैं घरेलू उपाय?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Hema Dhoulakhandi

बच्चों में खांसी होने पर न दे ये फूड्स

जानें बच्चों में खांसी और जुकाम को कम करने के लिए उन्हें किन आहार से परहेज करना चाहिए और किनसे नहीं। Foods to avoid during cough in babies in Hindi.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shivam Rohatgi

जानिए मैटरनिटी लीव एक्ट (मातृत्व अवकाश) से जुड़े सभी नियम और जानकारी

न्यू मैटरनिटी लीव एक्ट 2020, मैटरनिटी लीव कितने दिन की होता है, प्रसूति मातृत्व अवकाश के लिए आवेदन कैसे करते हैं, matritva avkash application in Hindi, Maternity leave act 2017, prasuti avkash application in Hindi PDF.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shivam Rohatgi

Recommended for you

Healthy Habits For Children

स्कूल के बच्चों के लिए हेल्दी हेबिट्स क्यों है जरूरी? जानें किन-किन आदतों को बच्चों को बताना है बेहतर

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
प्रकाशित हुआ February 16, 2021 . 6 मिनट में पढ़ें
बच्चों को नैतिक शिक्षा

बच्चों को नैतिक शिक्षा और सीख देने के क्या हैं फायदे? कम उम्र में सीखाएं यह बातें

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
प्रकाशित हुआ July 8, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
child labour effects - चाइल्ड लेबर के दुष्प्रभाव, बाल श्रम

बच्चों के विकास का बाधा बन सकता है चाइल्ड लेबर, जानें कैसे

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Surender aggarwal
प्रकाशित हुआ May 21, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
बुजुर्गों में भूख बढ़ाने के तरीके

जानिए बुजुर्गों की भूख बढ़ाने के आसान तरीके

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr Sharayu Maknikar
के द्वारा लिखा गया Shilpa Khopade
प्रकाशित हुआ May 16, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें