माता पिता की बुरी आदते का खामियाजा भुगतते हैं बच्चे

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट January 21, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

यह पेरेंट्स पर ही निर्भर करता है कि उनका बच्चे का विकास कैसे होता है। पेरेंट्स एक बच्चे के पहले टीचर होते हैं। ऐसे में माता पिता की बुरी आदते बच्चों पर नकारात्मक असर डालती हैं। एक बच्चे का व्यवहार, सोच, लक्ष्य और चीजों को देखने का नजरिया इस बात पर निर्भर करता है कि वह अपने माता-पिता से क्या सीखता है? एक बच्चे के अंदर की बुराईयां भी इसी का नतीजा है कि उनके माता-पिता द्वारा उनके साथ कैसा व्यवहार किया गया है। एक बच्चा अपने शुरुआती सालों में क्या सीखता है या अनुभव करता है यह उन पर एक लंबे समय के लिए छाप छोड़ता है। जरूरी है कि आपको पता हो कि आपकी क्या गलतियां हो सकती है, जो आपका बच्चा इस तरह से व्यवहार कर रहा है। आइए जानते हैं बच्चों के व्यवहार को प्रभावित करने वाली माता पिता की बुरी आदते…

ये भी पढ़ें- बच्चा करता है ‘बेडवेटिंग’, इस तरह निपटें इस परेशानी से

माता पिता की बुरी आदते: बच्चों के सामने करें कंट्रोल

कई माता-पिता ऐसे होते हैं, जो अपने बच्चों में बुरे व्यवहार या शिष्टाचार को रोकने के लिए कुछ नहीं करते हैं और इस प्रकार के माता-पिता आमतौर पर अपने बच्चों के गलत व्यवहार पर भी आंखें मूंद लेते हैं। जैसा कि कहा जाता है, आप जो बोते हैं वही काटते हैं। अगर आप बच्चों के सामने चिल्लाते हैं या बुरे शब्दों का प्रयोग करते हैं, तो स्वाभाविक है कि आगे चलकर बच्चे भी ऐसा ही करेंगे। यही कारण है कि धूम्रपान करने वालों, शराब पीने वाले या ड्रग लेने वालों के बच्चे कम उम्र में ही इन चीजों का सेवन करना शुरू कर देते हैं। ऐसे में उनके माता-पिता अपने बच्चों को इन बुरी आदतों से रोकने की स्थिति में भी नहीं  होते क्योंकि वो खुद ऐसा कर रहे होते हैं। ज्यादातर बच्चे जो अपने माता-पिता को करते हुए देखते हैं वैसी ही आदतें अपने अंदर विकसित करने की कोशिश करते हैं। ऐसे में यह माता-पिता की जिम्मेदारी है कि वे अपने बच्चों के सामने सहीं उदाहरण सेट करें।

माता पिता की बुरी आदते: बच्चे को एवॉयड करना

अपने बच्चे को शारीरिक या भावनात्मक रूप से नजरअंदाज करना उसे नेगेटिव तरीके से असर करता है। अनादर या उपेक्षा एक बहुत ही सामान्य तरह का बाल शोषण है और यह शारीरिक शोषण जितना हानिकारक हो सकता है। बच्चों की जरूरतों को नजरअंदाज करना, जरुरत के समय पर उनका ध्यान ना देना और बच्चे को नीचा दिखाना उनके सम्मान को ठेस पहुंचा सकता है। इसकी वजह से बच्चा खुद को माता-पिता से अलग महसूस कर सकता है। उपेक्षा बच्चे के मेंटल हेल्थ या सामाजिक विकास को प्रभावित कर सकती है। माता पिता की बुरी आदते इस तरह बच्चे पर नेगेटिव असर डालती है।

माता पिता की बुरी आदते: फिजिकल और वर्बल एब्यूज

शारीरिक हिंसा  या बोल कर बच्चे का शोषण करना बच्चे के लिए बहुत हानिकारक हो सकता है। कई माता-पिता बच्चों पर अपना गुस्सा निकालते हैं बिना यह समझें कि बच्चे सायकोलॉजिकली क्या महसूस कर रहे हैं। यहां तक कि कई बार आपका गलत व्यवहार बच्चे को सालों तक प्रभावित कर सकता है। इस तरह का व्यवहार से बच्चे का आत्मविश्वास कम हो सकता है और उसके अंदर एक हीन भावना का विकास हो सकता है। इस तरह की माता पिता की बुरी आदते बच्चों पर बुरा असर करती हैं।।

रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र (Centers of Disease Control and Prevention) के अनुसार बोलकर और शारीरिक शोषण आजीवन के लिए मनोवैज्ञानिक, शारीरिक, व्यवहारिक और आर्थिक समस्याओं का कारण बन सकता है। जिसके कारण बच्चा शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं से संघर्ष करता है।

ये भी पढ़ें- बच्चा खाना खाते समय करता है आना-कानी तो अपनाएं ये टिप्स

माता पिता की बुरी आदते: बच्चों में पक्षपात करना भी है

यह बहुत हानिकारक हो सकता है, जब माता-पिता के व्यवहार से यह साफ हो जाए कि वे एक बच्चे को दूसरे से अधिक पसंद करते हैं। माता पिता के इस व्यवहार से ज्यादातर बच्चों में आगे चलकर डिप्रेशन का शिकार होने की अधिक आशंका रहती है। एक शोध में डॉ कार्ल पिल्मर कहते हैं, “इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप अपने मां-बाप के पसंदीदा बच्चे हैं या नहीं, असमान व्यवहार सभी भाई-बहनों के ऊपर नेगेटिव असर डालता है।

जैसे कि भारत में कई घरों में लड़कों को अलग ट्रीटमेंट मिलता है, जिससे लड़कियों को हीन या उपेक्षित महसूस होता है। शिक्षा, सामाजिक अवसर या अन्य जरूरी मामलों के संबंध में लड़कियों को अक्सर लड़कों की तुलना में कम अवसर मिलते हैं और यह धारणा आपके घर और परिवार से शुरु होती है।

ये भी पढ़ें- जब बच्चा स्कूल से घर अकले जाए तो अपनाएं ये सेफ्टी टिप्स

माता पिता की बुरी आदते: बच्चों के ऊपर दबाव डालना

यह सच है कि पेरेंट्स आमतौर पर जानते है कि उनके या उनके बच्चे के लिए सबसे अच्छा क्या है। लेकिन कुछ माता-पिता अपने विचारों को बिना अपने बच्चों की पसंद जानें उन पर थोप देते हैं । कई माता-पिता अपने बच्चों पर बहुत कंट्रोल करते हैं और वे अपने बच्चों पर अपने स्वयं के अधूरे सपनों और महत्वाकांक्षाओं का बोझ डालने की कोशिश करते हैं।

कई माता ऐसे होते है, जो अपने बच्चे से आशा करते हैं कि वो हमेशा उनके मन मुताबिक काम करें। बच्चों से ऐसा व्यवहार ना मिलने पर माता-पिता धमकियों और तरह-तरह के दंड देते हैं। आज के समय में कई माता पिता हैं जो अपने बच्चों को बचपन से ही डॉक्टर या इंजिनियर बनने के लिए कहते हैं। वह यह नहीं देखते कि उनके बच्चे की दिलचस्पी किस में है। ऐसा करके वह बच्चों पर इतना प्रेशर बना देते हैं जिससे न वह अपने मन की कर पाते हैं और न ही आपके। यदि वह जिंदगी में माता पिता द्वारा निर्धारित किए गए मुकाम पा भी लेते हैं तो भी उसमें उनकी खुशी नहीं होती। शोध बताते हैं कि इस तरह की माता पिता की बुरी आदते बच्चों के लिए हानिकारक होती हैं। जब कोई बच्चा माता-पिता की उम्मीदों पर खरा नहीं उतरता है, तो यह उसके लिए भी परेशानी की बात होती है। इस समय पर बच्चे को माता-पिता के प्यार और सर्पोट की जरुरत होती है।

हम आशा करते हैं आपको हमारा यह लेख पसंद आया होगा। हैलो हेल्थ के इस आर्टिकल में माता पिता की बुरी आदते और उसका बच्चों पर असर को लेकर हर जानकारी दी गई है। यदि आपको इससे अलग कोई जानकारी चाहिए तो आप हमें कमेंट कर पूछ सकते हैं।

और पढ़ें-

फॉरसेप्स वैक्यूम डिलिवरी क्या है?

अगर बच्चा स्कूल जाने से मना करे, तो अपनाएं ये टिप्स

Bruise : नील पड़ना क्या है ?

Otoplasty : ओटोप्लास्टी क्या है?

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

Was this article helpful for you ?
happy unhappy

संबंधित लेख:

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    कहीं आप तो नहीं हैं हेलीकॉप्टर पेरेंट्स?

    कहीं आप तो नहीं हैं ओवर प्रोटेक्टिव पेरेंट्स? हेलीकॉप्टर पेरेंट्स के फायदे और नुकसान क्या हैं? helicopter parenting effects in hindi.

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Shikha Patel

    शिशु को तैरना सिखाने के होते हैं कई फायदे, जानें किस उम्र से सिखाएं और क्यों

    शिशु को तैरना सिखाना महज फैशन भर नहीं है बल्कि कई फायदे हैं। बच्चे को शारीरिक और मानसिक रूप से दूसरों बच्चों से आगे करता है। शिशु को तैरना सिखाना in Hindi.

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Ankita mishra

    बच्चों में कान के इंफेक्शन के लिए घरेलू उपचार

    छोटे बच्चों में कान के इंफेक्शन in Hindi. कान का संक्रमण होने के कारण जानें। कान के संक्रमण से राहत पाने के सुरक्षित उपाय।

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Ankita mishra
    बेबी, बेबी की देखभाल, पेरेंटिंग April 30, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

    बच्चों की हैंड राइटिंग कैसे सुधारें?

    बच्चों की गंदी हैंड राइटिंग हर पेरेंट्स के लिए एक सिरदर्द होती है। अगर आप भी बच्चों की हैंड राइटिंग सुधारना चाहते हैं, तो इन तरीकों को ट्राई कर सकते हैं।

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Ankita mishra

    Recommended for you

    गर्भावस्था के दौरान चीज खाना चाहिए या नहीं जानिए

    क्या गर्भावस्था के दौरान चीज का सेवन करना सुरक्षित है?

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Anu sharma
    प्रकाशित हुआ August 27, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
    न्यू मॉम के लिए सेल्फ केयर व पेरेंटिंग हैक्स और बॉडी इमेज - Parenting Hacks, Self Care for New Moms, Body Image

    न्यू मॉम के लिए सेल्फ केयर व पेरेंटिंग हैक्स और बॉडी इमेज

    के द्वारा लिखा गया Sanket Pevekar
    प्रकाशित हुआ August 1, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें
    बच्चे का टूथब्रश-children's toothbrush

    बच्चे का टूथब्रश खरीदते समय किन जरूरी बातों का ध्यान रखना चाहिए?

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Ankita mishra
    प्रकाशित हुआ May 12, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
    लॉकडाउन में पेरेंटिंग टिप्स

    लॉकडाउन के दौरान पेरेंट्स को डिसिप्लिन का तरीका बदलने की है जरूरत

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Mona narang
    प्रकाशित हुआ May 5, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें