गर्भावस्था में चिया सीड खाने के फायदे और नुकसान

Medically reviewed by | By

Update Date अप्रैल 7, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
Share now

गर्भावस्था में चिया सीड खाने के फायदे के बारे में आपने अवश्य सुना होगा। जब आप गर्भवती होती हैं तो आपके शरीर और शिशु को अधिक पोषण और शक्ति की जरूरत होती है। ऐसे में सबसे बेहतर उपाय होता है रोजाना दिन में 5 से 6 बार थोड़ा-थोड़ा खाना। गर्भावस्था के दौरान शिशु के लिए मां को दिन में 300 कैलोरी का सेवन बढ़ा देना चाहिए। गर्भावस्था में ऐसा करने के लिए आप चिया सीड का सेवन भी कर सकती हैं।

गर्भावस्था में चिया सीड को एक बेहतरीन सुपरफूड माना जाता है। यह कई महत्वपूर्ण पोषक तत्वों से भरपूर होता है जो आपके और आपके शिशु के विकास में मदद करता है। चिया के बीज भारत से पहले अमेरिका में बेहद लोकप्रिय हुए थे, साल 2009 में इनकी बिक्री में भारी बढ़ोतरी देखते हुए कई कंपनियों ने इसका नाम सुपरफूड तक रख दिया। हालांकि, इसके पीछे इसके कई और भी कारण हैं। गर्भावस्था के दौरान महिलाएं कुछ जल्दी बनाने और आसानी से पचने वाला भोजन खाना पसंद करती हैं। प्रेगनेंसी में चिया के बीज को आप चाहें तो दलिया, दही, और यहां तक कि आइसक्रीम तक में मिला कर खा सकते हैं।

इस लेख में हम आपको गर्भावस्था में चिया के बीज खाने के फायदे और नुकसान के बारे में बताएंगे। नीचे जाने प्रेगनेंसी में चिया सीड खाने से आपको और आपके शिशु को क्या लाभ पहुंचते हैं।

यह भी पढ़ें – प्रेगनेंसी में डायबिटीज : गर्भावस्था के दौरान बढ़ सकता है शुगर लेवल, ऐसे करें कंट्रोल

गर्भावस्था में चिया सीड के फायदे

प्रेगनेंसी में चिया सीड खाने से कब्ज से छुटकारा

गर्भावस्था के दौरान महिलाओं को कई बार कब्ज का सामना करना पड़ता है। ऐसी स्थिति के कारण न तो वह कुछ ठीक से खा पाती हैं और न ही अपने शिशु को सही पोषण प्रदान कर पाती हैं। प्रेगनेंसी में कब्ज की समस्या को दूर करने का सबसे बेहतरीन उपाय है चिया के बीज। चिया के बीज फाइबर से भरपूर होते हैं जो मल त्याग की प्रक्रिया  को आसान बना देते हैं। इससे हो रही कब्ज की समस्या पूरी तरह से खत्म हो जाती है।

ओमेगा 3 से भरपूर चिया सीड्स

ओमेगा 3 महत्वपूर्ण फैटी एसिड्स होते हैं। गर्भावस्था के दौरान स्वस्थ रहने के लिए फैटी एसिड्स का सेवन बेहद आवश्य होता है। ज्यादातर प्रेग्नेंट महिलाओं को ओमेगा 3 की कमी पूरा करने के लिए मछलियों का सेवन करने को कहा जाता है।

यह भी पढ़ें – हानिकारक बेबी प्रोडक्ट्स से बच्चों को हो सकता है नुकसान, जाने कैसे?

हालांकि, शाकाहारी महिलाएं ऐसा नहीं कर पाती हैं जिसके कारण उनके शिशु के विकास में कमी आ सकती है। गर्भावस्था में चिया सीड आपकी इस कमी को बेहद आसानी से दूर कर सकते हैं। गर्भावस्था में चिया सीड में मौजूद फैटी एसिड्स सूजन से लड़ने में मदद करते हैं जिसके कारण हृदय रोग, डायबिटीज और अवसाद जैसे रोग नहीं होते हैं।

गर्भावस्था के दौरान फैटी एसिड्स भ्रूण में पल रहे शिशु के विकास के लिए महत्वपूर्ण पोषण प्रदान करते हैं। कई अध्ययनों से यह सामने आया है कि शिशु के पोषण में फैटी एसिड्स की कमी पाई जाने पर समय से पहले डिलीवरी होने का खतरा रहता है।

गर्भावस्था में चिया सीड अल्फा-लिनोलेनिक (ALA) प्रकार के फैटी एसिड का एक बेहतरीन स्रोत होते हैं। चिया सीड्स में मौजूद यह फैटी एसिड डीएचए (DHA) फैटी एसिड में बदल जाते हैं जो शिशु के मस्तिष्क के विकास में मदद करते हैं।

यह भी पढ़ें – बेबी रैशेज: शिशु को रैशेज की समस्या से कैसे बचायें?

फाइबर से भरपूर गर्भावस्था में चिया सीड फायदे

गर्भावस्था में चिया सीड्स के कई फायदे हैं, जिनमें फाइबर मुख्य रूप से शामिल है। प्रेगनेंसी के दौरान शरीर कई प्रकार के जठरांत्र बदलावों से गुजरता है जिससे लड़ने के लिए अधिक मात्रा में फाइबर की आवश्यकता होती है। गर्भावस्था में चिया सीड के फायदे पाने के लिए इसके बीजों को पेय पदार्थों में अच्छे से मिलाकर पीएं। इससे पेट की कई समस्याओं से छुटकारा मिलेगा।

गर्भावस्था में चिया सीड से करें एनीमिया का इलाज

गर्भावस्था में एनीमिया की कमी होना बेहद आम बात है लेकिन इसके कारण महिला और शिशु को कई प्रकार की परेशानियों से गुजरना पड़ता है जैसे कि थकान, बुखार, ठंड लगना और चक्कर आना। यदि आपको भी ऐसे ही लक्षण दिखाई देते हैं तो आप भी एनीमिया का शिकार हैं। एनीमिया एक ऐसी स्थिति है जिसमें शरीर के अंदर आयरन की कमी हो जाती है जिसके कारण हृदय तक पर्याप्त मात्रा में खून नहीं पहुंच पाता है।

गर्भावस्था से पहले यदि आपको कभी ऐसी समस्या नहीं भी आई हो लेकिन फिर भी गर्भावस्था के दौरान खून की कमी किसी को भी हो सकती है। प्रेगनेंसी में हमारे शरीर को पहले के मुकाबले अधिक खून की आवश्यकता होती है क्योंकि अब यह आपके शिशु के विकास के लिए भी महत्वपूर्ण है।

गर्भावस्था में चिया सीड खाने से आयरन की कमी को पूरा किया जा सकता है जिससे खून की कमी से छुटकारा मिलेगा और शिशु के विकास में तेजी आएगी। एनीमिया होने का मुख्य कारण शरीर का पर्याप्त मात्रा में लाल रक्त कोशिकाएं न बना पाना होता है। शरीर की इस क्षमता को बढ़ाने के लिए पालक और लाल मांस बेहद लोकप्रिय हैं। लेकिन बता दें कि चिया के बीज के रोजाना दो चम्मच सेवन से खून की कमी को पूरा किया जा सकता है।

यह भी पढ़ें – बच्चों में काले घेरे के कारण क्या हैं और उनसे कैसे बचें?

कैल्शियम है चिया बीज के फायदे

गर्भावस्था में चिया सीड की दो चम्मच 179 मिलीग्राम कैल्शियम से भरपूर होती हैं जो गर्भवती महिला की दिनभर की कैल्शियम की जरूरत का 18 प्रतिशत पूरा करती है। आरडीए के मुताबिक प्रेग्नेंट महिलाओं को रोजाना कम से कम 1000 मिलीग्राम कैल्शियम का सेवन करना चाहिए। चिया सीड्स में मौजूद कैल्शियम गर्भावस्था में इसलिए महत्वपूर्ण होता है क्योंकि यह शिशु के दांतों और हड्डियों के विकास में मदद करता है।

प्रेगनेंसी में चिया सीड के नुकसान

गर्भावस्था में चिया सीड खाने का कोई खास नुकसान नहीं होता है। प्रेगनेंसी में चिया के बीज कम नुकसानदायी आहार माने जाते हैं। हालांकि, यदि कोई महिला इसका अत्यधिक सेवन कर लेती है तो उनमें इसके कारण कुछ दुष्प्रभाव पाए जा सकते हैं। कुछ मामलों में पानी को सोखने वाले आहार जो कि फाइबर युक्त होते हैं जैसे कि चिया के बीज जिसके कारण पेट में दर्द और कब्ज या दस्त जैसे नुकसान शरीर को पहुंच सकते हैं।

इसके अलावा यदि आप डायबिटीज को नियंत्रित करने के लिए दवा ले रही हैं तो चिया सीड्स का सेवन करने से पहले डॉक्टर से सलाह लें। चिया बीज शरीर को ज्यादा नुकसान नहीं पहुंचाते हैं लेकिन शुगर को कम करने वाली दवा के साथ सेवन करने पर शरीर में शुगर की मात्रा बेहद कम हो सकती है। इसके कारण कोई अन्य गंभीर स्थिति उत्पन्न होने का खतरा रहता है।

गर्भावस्था में चिया सीड्स के इन नुकसानों के खतरों को कम करने के लिए बीजों को खाने से पहले कुछ देर के लिए भिगो लें। साथ ही इसे नियमित मात्रा में खाएं। किसी भी व्यक्ति को दिन में 30 ग्राम से अधिक चिया के बीज नहीं खाने चाहिए।

यह भी पढ़ें – गर्भावस्था में कार्पल टनल सिंड्रोम की समस्या से कैसे बचें?

चिया सीड्स की खुराक

चिया के बीज के एक बड़े चम्मच में निम्न पोषक तत्व मौजूद होते हैं –

  • कैलोरी – 60
  • फाइबर – 4 ग्राम
  • फैटी एसिड्स – 2।5 ग्राम 
  • प्रोटीन – 2 ग्राम
  • कैल्शियम – 88 मि।ग्रा

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की कोई मेडिकल जानकारी नहीं दे रहा है। ज्यादा जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से मिलें।

और पढ़ें – Restless Legs Syndrome: जानें रेस्टलेस लेग्स सिंड्रोम कैसे, इसके कारण और उपचार क्या हैं?

और पढ़ें – रुटीन की सेक्स पोजीशन से कुछ हटकर करना है ट्राय तो आजमाएं सेक्स के लिए पोजीशन

और पढ़ें – प्रेगनेंसी में डायबिटीज : गर्भावस्था के दौरान बढ़ सकता है शुगर लेवल, ऐसे करें कंट्रोल

और पढ़ें – प्रेग्नेंसी में हेपेटाइटिस-बी संक्रमण क्या बच्चे के लिए जोखिम भरा हो सकता है?

और पढ़ें – प्रदूषण से भारतीयों की जिंदगी के कम हो रहे सात साल, शिशुओं को भी खतरा

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

    क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
    happy unhappy"
    सूत्र

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    क्या कम उम्र में गर्भवती होना सही है?

    20 से 30 साल की उम्र में गर्भवती होना सही है? कम उम्र में गर्भवती होना क्या सही है? कम उम्र में गर्भवती होना क्यों है अच्छा सेहत के लिए?

    Medically reviewed by Dr. Shruthi Shridhar
    Written by Nidhi Sinha

    प्रेग्नेंसी में स्ट्रेस का असर पड़ सकता है भ्रूण के मष्तिष्क विकास पर

    प्रेग्नेंसी में स्ट्रेस किन-किन कारणों से हो सकता है ? प्रेग्नेंसी के दौरान अत्यधिक तनाव भ्रूण पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकता है? प्रेग्नेंसी में स्ट्रेस...stress during pregnancy in hindi

    Medically reviewed by Dr Sharayu Maknikar
    Written by Nidhi Sinha

    Fetal Ultrasound: फेटल अल्ट्रासाउंड क्या है?

    फेटल अल्ट्रासाउंड (Fetal Ultrasound) की जानकारी मूल बातें, टेस्ट कराने से पहले जानने योग्य बातें, Fetal Ultrasound क्या होता है, फेटल अल्ट्रासाउंड के रिजल्ट और परिणामों को समझें |

    Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
    Written by Anu Sharma
    मेडिकल टेस्ट A-Z, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z मई 4, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

    प्रेग्नेंसी में हेयर रिमूवल टिप्स क्यों अपनाना है जरूरी?

    जानिए क्या है आसान प्रेग्नेंसी में हेयर रिमूवल टिप्स? वैक्सिंग नहीं करवाने से क्या हो सकती है परेशानी? Pregnancy hair removal tips में क्या करें शामिल?

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Nidhi Sinha
    प्रेग्नेंसी स्टेजेस, प्रेग्नेंसी अप्रैल 27, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें