आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

क्लैमिडिया इंफेक्शन में ये सप्लिमेंट्स आएंगे आपके काम!

    क्लैमिडिया इंफेक्शन में ये सप्लिमेंट्स आएंगे आपके काम!

    इंफेक्शन की समस्या किसी भी व्यक्ति को किसी भी उम्र में अपना शिकार बना सकती है। कुछ शारीरिक परेशानियों के बारे में एक दूसरे से बातचीत करना सामान्य होता है, लेकिन कुछ शारीरिक परेशानियों (Health Problem) को हम छिपा भी लेते हैं। आज इस आर्टिकल में सेक्शुअली ट्रांसमिटेड इंफेक्शन (STIs) की लिस्ट में शामिल क्लैमिडिया (Chlamydia) से जुड़ी खास जानकारी आपसे शेयर करेंगे और क्लैमिडिया इंफेक्शन में सप्लिमेंट्स (Supplements for Chlamydia Infection) कौन-कौन से शामिल हैं, ये भी जानेंगे।

    • क्लैमिडिया क्या है?
    • क्लैमिडिया इंफेक्शन की समस्या क्यों होती है?
    • क्लैमिडिया इंफेक्शन में सप्लिमेंट्स कौन-कौन से लिए जा सकते हैं?

    चलिए अब सेक्शुअली ट्रांसमिटेड डिजीज (Sexually Transmitted Infection) क्लैमिडिया (Chlamydia) के बारे में समझने की कोशिश करते हैं, जिससे आप खुद को और अपने पार्टनर 👫🏻 को क्लैमिडिया इंफेक्शन (Chlamydia Infection) से सेफ रख सकते हैं।

    और पढ़ें : सेक्स के बाद रोमांस पार्टनर्स को लाता है और करीब, अपनाएं ये टिप्स

    क्लैमिडिया क्या है? (What is Chlamydia)

    क्लैमिडिया इंफेक्शन में सप्लिमेंट्स (Supplements for Chlamydia Infection)

    क्लैमिडिया एक तरह की यौन संक्रमित बीमारी (STDs) है, जो महिलाओं और पुरुषों दोनों में से किसी को भी हो सकती है। नैशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इन्फॉर्मेशन (NCBI) में पब्लिश्ड रिपोर्ट के अनुसार इसके लक्षण समझ नहीं आते हैं, लेकिन इसका इलाज करवाना बेहद जरूरी होता है। इलाज इसलिए जरूरी है, क्योंकि यह संक्रामक रोग है, जो एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में आसानी से फैल सकता है। क्लैमिडिया पुरुषों के मुकाबले महिलाओं के लिए ज्यादा शारीरिक परेशानी पैदा कर सकता है। दरअसल क्लैमिडिया इंफेक्शन (Chlamydia Infection) की वजह से रिप्रोडक्टिव ऑर्गेन (Reproductive Organs) को नुकसान पहुंचता है, जिससे गर्भधारण (Conceive) में भी समस्या आ सकती है। हालांकि ऐसी परेशानी ना हो, इसलिए क्लैमिडिया इंफेक्शन में सप्लिमेंट्स (Supplements for Chlamydia Infection) कौन-कौन से लिए जा सकते हैं ये समझेंगे, लेकिन ये इंफेक्शन होता कैसे है पहले ये जान लेते हैं।

    और पढ़ें : क्या हैं यौन इच्छा या लिबिडो को बढ़ाने के प्राकृतिक उपाय? जानिए और इस समस्या से छुटकारा पाइए

    क्लैमिडिया इंफेक्शन की समस्या क्यों होती है? (Cause of Chlamydia Infection)

    क्लैमिडिया इंफेक्शन अनप्रोटेक्टेड एनल सेक्स (Unprotected anal sex), वजायनल सेक्स (Vaginal sex) या ओरल सेक्स (Oral sex) के कारण होने वाली परेशानी है। अगर इस परेशानी को इग्नोर किया गया, तो इंफेक्शन पूरे बॉडी में फैल सकता है। क्लैमिडिया इंफेक्शन प्राइवेट ऑर्गेन के साथ-साथ गले में भी फैल सकता है। ऐसा क्लैमिडिया इन्फेक्टेड पार्टनर के साथ ओरल सेक्स करने की वजह से होता है। सेंटर्स फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (CDC) में पब्लिश्ड एक रिपोर्ट के अनुसार जेनाइटल एरिया की तुलना में गले में क्लैमिडिया (Chlamydia in Throat) की संभावना कम होती है। अगर किसी व्यक्ति को क्लैमिडिया इंफेक्शन की समस्या होती है, तो वे क्लैमिडिया इंफेक्शन में सप्लिमेंट्स का सेवन कर सकते हैं।आइए अब जानते हैं इन सप्लिमेंट्स के बारे में –

    और पढ़ें : Trichomoniasis: प्रेग्नेंसी में सेक्शुअल ट्रांसमिटेड इन्फेक्शन होने पर दिखते हैं ये लक्षण

    क्लैमिडिया इंफेक्शन में सप्लिमेंट्स कौन-कौन से लिए जा सकते हैं? (Supplements for Chlamydia Infection)

    अगर आप सप्लिमेंट्स के बारे में सोच कर परेशान हो रहें हैं, तो इसमें कोई घबराने की बात नहीं है। दरअसल क्लैमिडिया इंफेक्शन (Chlamydia Infection) में जिस सप्लिमेंट्स की जानकारी हम आपको देने वाले हैं, वो नैचुरल हैं।

    1. लहसुन (Garlic)

    क्लैमिडिया इंफेक्शन में सप्लिमेंट्स (Supplements for Chlamydia Infection)

    क्लैमिडिया इंफेक्शन में सप्लिमेंट्स की लिस्ट में सबसे पहले बात करते हैं लहसुन की। विशेष रूप से कच्चे लहसुन (Garlic) के सेवन के बारे में हम सभी जानते हैं, क्योंकि यह सेहत के लिए लाभकारी होता है। नैशनल सेंटर फॉर बायोटेनोलॉजी में पब्लिश्ड (NCBI) रिपोर्ट के अनुसार लहसुन शरीर में पैदा होने वाले बैड बैक्टीरिया (Bad Bacteria) को खत्म करने में सहायक होते हैं। ठीक वैसे ही यह क्लैमिडिया इंफेक्शन (Chlamydia Infection) को भी दूर करने में मददगार होते हैं, क्योंकि क्लैमिडिया भी बैक्टीरिया की वजह से उत्पन्न होने वाली बीमारी है। ऐसे में लहसुन एंटीबायोटिक (Antibiotic) की तरह इस इंफेक्शन को दूर में सहायक माना जाता है।

    और पढ़ें : सेक्स लाइफ को बनाना है रोमांचक तो नए साल में ये सेक्स टिप्स आ सकते हैं आपके काम

    2. ऑलिव ट्री एक्सट्रैक्ट (Olive tree extract)

    क्लैमिडिया इंफेक्शन में सप्लिमेंट्स (Supplements for Chlamydia Infection)

    ऑलिव ऑयल, इस ऑयल के बेनिफिट्स तो हमसभी जानते हैं। खाने की चीजों में ऑलिव ऑयल एवं चेहरे या बालों में ऑलिव ऑयल का इस्तेमाल सीमित नहीं है ऑलिव ट्री एक्सट्रैक्ट (olive tree extract) का इस्तेमाल दवाओं में भी किया जाता है। इससे इन्फ्लामेट्री (Inflammatory), एंटीमाइक्रोबियल (Antimicrobial) और एंटीवायरल (Antiviral) के तौर पर भी इस्तेमाल किया जाता है। ऐसा माना जाता है कि यह कैंसर जैसी बीमारियों से भी बचाने में सहायक है। नैशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इन्फॉर्मेशन (NCBI) में पब्लिश्ड रिपोर्ट के अनुसार ऑलिव ट्री एक्सट्रैक्ट (Olive tree extract) क्लैमिडिया पेशेंट्स के लिए भी लाभकारी है, लेकिन इस विषय पर अभी भी शोध जारी है, लेकिन इंफेक्शन से बचाने में सहायक ऑलिव ऑयल एक्सट्रैक्ट क्लैमिडिया इंफेक्शन में सप्लिमेंट्स (Supplements for Chlamydia Infection) की तरह भी काम कर सकता है। यह ध्यान रखें कि ऑलिव ट्री एक्सट्रैक्ट (Olive tree extract) को ही ऑलिव लीफ एक्सट्रैक्ट (Olive leaf extract) भी कहते हैं। इसके कैप्सूल भी आसानी से उपलब्ध हैं।

    और पढ़ें : कोल्ड सोर्स या हर्पीज लेबियालिस (Herpes labialis) का ट्रीटमेंट संभव है?

    3. हल्दी (Turmeric)

    क्लैमिडिया इंफेक्शन में सप्लिमेंट्स (Supplements for Chlamydia Infection)

    खाने का जायका बढ़ाना हो या सब्जियों में कलर लाना हो… चेहरे की खूबसरती निखारनी हो या सर्दी-जुकाम से राहत पाना हो। इनसब में हल्दी आपके काम तो आती ही है, लेकिन अगर आप क्लैमिडिया इंफेक्शन (Chlamydia Infection) की समस्या से परेशान हैं, इसमें भी हल्दी (Turmeric) आपके काम आ सकती है। दरअसल नैशनल इंस्टिट्यूट ऑफ हेल्थ (National Institute of Health) में पब्लिश्ड रिपोर्ट के अनुसार हल्दी में मौजूद एंटी इन्फ्लामेट्री (Anti-inflammatory) प्रॉपर्टीज क्लैमिडिया की समस्या से भी राहत दिलाने में सहायक है। इसी कारण क्लैमिडिया इंफेक्शन में सप्लिमेंट्स (Supplements for Chlamydia Infection) के रूप में हल्दी का इस्तेमाल किया जाता है। साल 2008 में किये गए रिसर्च के अनुसार टॉपिकल क्रीम (Topical cream) में अलग-अलग कम्पाउंड के रूप में हल्दी भी मौजूद है।

    4. गोल्डनसील (Goldenseal)

    क्लैमिडिया इंफेक्शन में सप्लिमेंट्स (Supplements for Chlamydia Infection)

    क्लैमिडिया इंफेक्शन में सप्लिमेंट्स (Supplements for Chlamydia Infection) की लिस्ट में शामिल है गोल्डनसील। सेक्शुअली ट्रांसमिटेड इंफेक्शन में शामिल गोनोरिया (Gonorrhea) और क्लैमिडिया (Chlamydia) की तकलीफ दूर करने में यह अत्यधिक लाभकारी माना जाता है। क्लैमिडिया इंफेक्शन की समस्या को दूर करने के लिए गोल्डनसील सप्लिमेंट्स (Goldenseal Supplements) के सेवन की सलाह भी दी जा सकती है। इसमें मौजूद एंटीबैक्टीरियल (Antibacterial) प्रोर्टिज ही इंफेक्शन की परेशानी को दूर करने में मददगार होता है। वहीं रिसर्च में यह भी बताया गया है कि कैंकर सोर (Canker sores) की परेशानी भी गोल्डनसील (Goldenseal) से दूर हो सकती है।

    और पढ़ें : कॉन्डोम नहीं है STD से बचने की गारंटी, सेक्शुअली ट्रांसमिटेड डिजीज के बारे में ये बातें नहीं होगी पता

    5. एकिनेसिया (Echinacea)

    क्लैमिडिया इंफेक्शन में सप्लिमेंट्स (Supplements for Chlamydia Infection)

    तस्वीर में दिखने वाली एकिनेसिया के फूलों की खूबसूरती से तो हमसभी परिचित हैं, लेकिन क्या आप जानते हैं यह कोल्ड और फ्लू की समस्या से बचाने में इस परेशानी को दूर करने में भी आपके लिए सहायक है? दरअसल ये हम नहीं कह रहें यह बात रिसर्च रिपोर्ट्स से सामने आई है कि एकिनेसिया (Echinacea) बैक्टीरियल इंफेक्शन (Bacterial Infection) और वायरल इंफेक्शन (Viral Infection) दोनों ही परेशानियों में दवा की तरह मददगार है। क्लैमिडिया इंफेक्शन बैक्टीरियल इंफेक्शन है, इसलिए क्लैमिडिया इंफेक्शन में सप्लिमेंट्स (Supplements for Chlamydia Infection) के रूप में एकिनेसिया के सेवन की सलाह दी जाती है।

    रिसर्च रिपोर्ट्स के आधार पर क्लैमिडिया इंफेक्शन (Chlamydia Infection) की तकलीफ को दूर करने के लिए इन ऊपर बताये सप्लिमेंट्स का सेवन किया जा सकता है।

    नोट: ऊपर बताये गए क्लैमिडिया इंफेक्शन के लिए इस्तेमाल किये जाने वाले सप्लिमेंट्स (Supplements for Chlamydia Infection) आसानी से मिल जाते हैं, लेकिन विशेषज्ञ बताते हैं कि इन सप्लिमेंट्स का सेवन अपनी मर्जी से नहीं करना चाहिए। क्लैमिडिया इंफेक्शन की समस्या हो या कोई अन्य सेक्शुअली ट्रांसमिटेड इंफेक्शन का इलाज खुद से नहीं करना चाहिए। डॉक्टर पेशेंट की हेल्थ कंडिशन (Health Condition) को ध्यान में रखते हुए सप्लिमेंट्स (Supplements) देने का निर्णय लेते हैं। सप्लीमेंट की डोज कितनी होनी चाहिए और आपको सप्लिमेंट्स का सेवन कबकत करना है इसकी जानकारी देते हैं।

    अगर इन सप्लिमेंट्स से क्लैमिडिया इंफेक्शन की समस्या दूर नहीं होती है, तो डॉक्टर इसके इलाज के लिए दवा भी प्रिस्क्राइब कर सकते हैं।

    और पढ़ें : STD टेस्टिंग: जानिए कब टेस्ट है जरूरी और रखें इन बातों का ख्याल

    क्लैमिडिया इंफेक्शन दूर करने के लिए कौन-कौन सी दवा प्रिस्क्राइब की जाती है? (Medicines for chlamydia)

    क्लैमिडिया इंफेक्शन में सप्लिमेंट्स (Supplements for Chlamydia Infection)

    इंफेक्शन अगर ज्यादा हो, तो निम्नलिखित दवा पेशेंट्स को लेने की सलाह दी जाती है। जैसे:

    सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (Centers for Disease Control and Prevention) में पब्लिश्ड रिपोर्ट के अनुसार एजिथ्रोमाइसिन (Azithromycin) एवं डॉक्सीसाइक्लिन (Doxycycline) प्रिस्क्राइब की जाती है। इन दोनों दवाओं के अलावा अन्य दवा भी डॉक्टर द्वारा रिकमेंड की जा सकती हैं। जैसे:

    • एरिथ्रोमाइसिन (Erythromycin)
    • एरिथ्रोमाइसिन इथाइलसक्सिनेट(Erythromycin Ethylsuccinate)
    • लेवोफ्लॉक्ससिन (Levofloxacin)
    • ओफ्लोक्सासिन (Ofloxacin)

    नोट: इन दवाओं का सेवन अपनी मर्जी से ना करें, क्योंकि इनके सेवन से साइड इफेक्ट्स भी होने की संभावना बनी रहती है। दवाओं का नाम सिर्फ आपकी जानकारी के लिए दी गई है।

    अगर आप क्लैमिडिया (Chlamydia) या इस इंफेक्शन से जुड़े किसी तरह के कोई सवाल का जवाब जानना चाहते हैं, तो हमें कमेंट बॉक्स में पूछ सकते हैं। क्लैमिडिया इंफेक्शन के उपचार के लिए दी गई ये जानकारी आपको पसंद आई होगी और जेनाइटल ऑर्गेन (Genital Organ) या अन्य फिजिकल हेल्थ प्रॉब्लम (Physical health problem) के सॉल्यूशन के लिए आप डॉक्टर से कंसल्ट जरूर करेंगे।

    सेक्स कुछ लोगों के लिए एक्साइटमेंट भरा होता है, तो कुछ लोग सेक्स के बारे में सुनकर सोच में भी पड़ जाते हैं! खैर जो भी हो। आप कितना ज्ञान रखते हैं इस विषय पर? नीचे दिए इस क्विज को खेलिए और जानिए और जानिए आपका क्या है स्कोर।

    ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

    अपने पीरियड सायकल को ट्रैक करना, अपने सबसे फर्टाइल डे के बारे में पता लगाना और कंसीव करने के चांस को बढ़ाना या बर्थ कंट्रोल के लिए अप्लाय करना।

    ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

    ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

    अपने पीरियड सायकल को ट्रैक करना, अपने सबसे फर्टाइल डे के बारे में पता लगाना और कंसीव करने के चांस को बढ़ाना या बर्थ कंट्रोल के लिए अप्लाय करना।

    ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

    सायकल की लेंथ

    (दिन)

    28

    ऑब्जेक्टिव्स

    (दिन)

    7

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    सूत्र

    Chlamydia: Symptoms, Treatments and Complications/https://www.naturesbest.co.uk/pharmacy/pharmacy-health-library/chlamydia-symptoms-treatments-and-complications/Accessed on 10/04/2021

    Natural Products for the Treatment of Trachoma and Chlamydia trachomatis/https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC6272789/Accessed on 10/04/2021

    Diagnosis and Treatment of Chlamydia trachomatis Infection/https://www.aafp.org/afp/2006/0415/p1411.html/Accessed on 10/04/2021

    Chlamydia Treatment and Care/https://www.cdc.gov/std/chlamydia/treatment.htm/Accessed on 10/04/2021

    Chlamydia/https://www.teensource.org/std/chlamydia/Accessed on 10/04/2021

    लेखक की तस्वीर badge
    Nidhi Sinha द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 22/04/2021 को
    डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
    Next article: