home

आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

पहली बार गुदा मैथुन करने जा रहे हैं, तो जान लें जरूरी बातें

पहली बार गुदा मैथुन करने जा रहे हैं, तो जान लें जरूरी बातें

आजकल कपल्स को कुछ नया ट्राय करने का क्रेज है, चाहे वो सेक्स ही क्यों न हो। ऐसे में बात आए एनल सेक्स की, तो मन में कई तरह के सवाल उठते हैं। वर्तमान समय में एनल सेक्स बहुत से लोगों की पसंद बनती जा रही है। लेकिन जब लोग पहली बार गुदा मैथुन या एनल सेक्स करने की सोचते हैं, तो मन में बहुत सारे ख्याल और डर पैदा होने लगते हैं। जैसे कि एनल सेक्स कही तकलीफ न दे जाए, एनल सेक्स से इंफेक्शन न हो जाए आदि। इसी तरह से सभी सवालों का जवाब आपको इस आर्टिकल में मिलेंगे। इस आर्टिकल को पढ़ते हुए अंत में जा कर आप संतुष्ट होंगे और पहली बार गुदा मैथुन करने से पहले बरती जाने वाली सभी तरह की सावधानियों के बारे में भी जान पाएंगे।

और पढ़ें: क्या आपने कभी किया एनल सेक्स? शरमाएं या हिचकिचाएं नहीं जानिए इसके फायदे

एनल सेक्स क्या है?

एनल सेक्स को हिंदी में गुदा मैथुन कहते हैं। इसका मतलब पीनस द्वारा एनस में इंटरकोर्स करना है। लेकिन ध्यान देने वाली बात ये है कि उंगलियों से या सेक्स टॉयज (sex toys) को भी एनस में इंटरकोर्स करना भी एनल सेक्स ही कहलाता है। गुदा मैथुन कोई भी कर सकता है, जैसे महिला, पुरुष, गे या समलैंगिक, बायसेक्शुअल आदि। लेकिन एनल सेक्स को आज भी हमारे समाज में टैबू माना जाता रहा है। एक अध्ययन के मुताबिक, पुरुषों की तुलना में महिलाएं एनल सेक्स में कम हिस्सा लेती हैं। वहीं, सेक्स करने वाले 90 प्रतिशत पुरुष और सिर्फ 10 प्रतिशत महिलाएं गुदा मैथुन एक्टिविटी में भाग लेती हैं।

[mc4wp_form id=”183492″]

पहली बार गुदा मैथुन से जुड़े सवाल

पहली बार गुदा मैथुन करने पर क्या दर्द होता है?

पहली बार गुदा मैथुन करने पर दर्द हो सकता है, ऐसा इसलिए होता है कि पहली बार एनल सेक्स करते वक्त ल्यूब्रिकेशन सही तरीके से नहीं हो पाता है। ऐसे में पहली बार गुदा मैथुन आरामदायक नहीं हो सकता है। वजायना कि मसल्स फ्लैक्सिबल होती है, लेकिन वहीं एनस की मसल्स इसलिए टाइट होती हैं ताकि मल बिना प्रेशर के बाहर ना आ जाए। इसलिए बिना ल्यूब्रिकेशन के पीनिस या सेक्स टॉय अंदर नहीं जा पाता है। जिससे एनल सेक्स होने पर एनस की नाजुक त्वचा हल्की सी फट भी सकती है, जिससे एनस सेक्स के दौरान या बाद में दर्द महसूस हो सकता है।

एनल सेक्स के तुरंत बाद दर्द खत्म हो जाता है?

हां, अक्सर एनल सेक्स के दौरान ही दर्द महसूस होता है। जब आप एक्साइटेड हो जाते हैं, तो एनल सेक्स में दर्द नहीं होता है। अगर होता भी है, तो एनल सेक्स के तुरंत बाद दर्द खत्म हो जाता है। अगर ये दर्द एक दिन से ज्यादा वक्त तक रहे, तो आपको तुरंत अपने डॉक्टर को दिखाना चाहिए। नहीं तो आगे चल कर यह एक गंभीर समस्या हो सकती है।

और पढ़ें: Anal Sex: एनल सेक्स से जुड़े मिथक और उनके पीछे का सच

क्या एनल सेक्स हर बार दर्द देता है?

पहली बार गुदा मैथुन में दर्द जरूर होता है। लेकिन हर बार एनल सेक्स करने पर दर्द नहीं होना चाहिए, पर जब एनल सेक्स को सही तरीके से नहीं किया जाता है, तो भी दर्द हर बार हो सकता है। ऐसे में आपको डॉक्टर से बात कर के सलाह लेनी चाहिए।

क्या पहली बार गुदा मैथुन करने से ब्लीडिंग हो सकती है?

ऐसा सभी के साथ नहीं होता है, लेकिन पहली बार गुदा मैथुन करने पर ब्लीडिंग होने की संभावना होती है। थोड़ी-सी ब्लीडिंग होना कोई बड़ी बात नहीं है। लेकिन जब ब्लीडिंग ज्यादा मात्रा में हो या ज्यादा देर तक या कई दिनों तक रुक-रुक कर हो रही हो, तो डॉक्टर से जरूर मिलें। क्योंकि एनल सेक्स के वक्त ब्लीडिंग घर्षण के कारण या रफ तरीके से सेक्स करने पर हो सकता है। जिन्हें बवासीर होता है, उन्हें भी एनल सेक्स करने पर ज्यादा ब्लीडिंग हो सकती है।

पहली बार गुदा मैथुन के लिए तैयारी कैसे करें?

एनल सेक्स करने से पहले थोड़ी तैयारियां करनी जरूरी हैं, जिन्हें आप कर के अपने एक्सपीरियंस को बेहतर बना सकते हैं :

बाथरूम में जा कर एनस की सफाई करें

पहली बार एनल सेक्स हो या यह आप रोजाना करें, एनस की सफाई बहुत जरूरी है। इसके लिए आप सेक्स करने से पहले पॉटी कर लें और एनस की सफाई भी कर लें। ताकि किसी भी तरह की गंदगी से पार्टनर का मूड खराब ना हो।

ल्यूब्रिकेंट का करें चुनाव

यूं तो सेक्स ल्यूब्रिकेंट्स तीन प्रकार के होते हैं- वॉटर बेस्ड ल्यूब्रिकेंट, ऑयल बेस्ड ल्यूब्रिकेंट और सिलिकॉन बेस्ड ल्यूब्रिकेंट। एनल सेक्स के लिए सिलिकॉन बेस्ड ल्यूब्रिकेंट सही माना जाता है। इसलिए आप एनल सेक्स से पहले अच्छी क्वालिटी का सिलिकॉन ल्यूब्रिकेंट ले लें। सिलिकॉन ल्यूब्रिकेंट गाढ़ा और लंबे समय तक टिकने वाला ल्यू ब्रिकेंट होता है। अगर आप सिलिकॉन से बने सेक्स टॉय का इस्तेमाल करते हैं, तो आप वॉटर बेस्ड ल्यूब्रिकेंट का इस्तेमाल करें। क्योंकि सिलिकॉन बेस्ड ल्यूब्रिकेंट सेक्स टॉय को खराब करने लगता है। लेकिन अगर आपके पास सिलिकॉन बेस्ड ल्यूब्रिकेंट है, तो आप सेक्स टॉय पर कॉन्डम का कवर डाल कर इस्तेमाल कर सकते हैं। लेकिन कॉन्डम पर ऑयल बेस्ड ल्यूब्रिकेंट का इस्तेमाल न करें, लैटेक्स खराब होने लगता है। इस तरह से वॉटर बेस्ड ल्यूब्रिकेंट सबसे बेहतर विकल्प होगा।

और पढ़ें: योग सेक्स : योगासन जो आपकी सेक्स लाइफ को बनायेंगे मजबूत

अपने पार्टनर से बात करें और मन की बात करें

पहली बार गुदा मैथुन करने से पहले अपने पार्टनर से अपने मन में आ रहे सभी विचारों को शेयर करें। क्योंकि आप दोनों मिल कर सेक्स करने जा रहे हैं, ऐसे में बातें साफ और सीधी हों, तो ज्यादा बेहतर है। इस तरह से हो सकता है कि एनल सेक्स को लेकर आपके मन का डर भी निकल जाए।

खुद को रिलैक्स महसूस कराएं

अक्सर एनल सेक्स का नाम सुन कर हम पैनिक हो जाते हैं। ऐसे में आप एनल सेक्स की शुरुआत करने से पहले खुद को रिलैक्स महसूस कराएं। इस स्थिति में आप निम्न चीजें कर सकते हैं :

थोड़ा-थोड़ा कर के करें शुरुआत

पहली बार गुदा मैथुन करते समय अचानक से इंटरकोर्स न करें। इसके लिए आप पहले फिंगर या छोटे सेक्स टॉय का इस्तेमाल करें। इसके अलावा आप चाहें, तो बट प्लग नामक सेक्स टॉय का इस्तेमाल भी कर सकते हैं। फिर धीरे-धीरे कर के आप एनल सेक्स शुरू कर सकते हैं।

पहली बार गुदा मैथुन कैसे करें?

पहली बार गुदा मैथुन करने के लिए आप निम्न टिप्स को फॉलो कर सकते हैं :

और पढ़ें: फोन सेक्स क्या है और कैसे करें?

ल्यूब्रिकेंट का ज्यादा इस्तेमाल करें

जैसा कि पहले ही बताया जा चुका है कि एनल सेक्स में नैचुरल ल्यूब कम मात्रा में ही निकलता है। ऐसे में आपको ल्यूब्रिकेंट का इस्तेमाल करना ही होगा। ऐसे में पर्याप्त मात्रा में ल्यूब्रिकेंट्स का इस्तेमाल आपको करना चाहिए। इससे एनल सेक्स में होने वाले दर्द में कमी आती है।

एनल सेक्स के दौरान बातें करते रहें

सेक्स के समय शांत रहना अच्छा नहीं होता है। ऐसे में आप कैसा महसूस कर रहे हैं, इस बारे में बातें करते रहें। इससे दोनों पार्टनर को एक्साइटमेंट आता है। इसके अलावा एनल सेक्स के दौरान होने वाले उतार-चढ़ाव के बीच में होने वाले दर्द में के बारे में भी पार्टनर को पता चलता है। ऐसे में वो पुजिशन या एनल सेक्स करने के तरीके को बदल लेता है।

अपनी आरामदायक पुजिशन में करें एनल सेक्स

कई बार सेक्स पुजिशन के कारण भी हम आरामदायक एनल सेक्स नहीं कर पाते हैं। ऐसे में आप खुद से अपनी सबसे कम्फर्टेबल पुजिशन को चुनें। इसके बाद ही एनल सेक्स करें। एनल सेक्स के लिए आप डॉगी सेक्स पुजिशन, फेस डाउन सेक्स पुजिशन और काऊ सेक्स पुजिशन को अपना सकते हैं।

सेक्स के बाद सफाई जरूर करें

एनल सेक्स के बाद साफ-सफाई का खास ध्यान रखना चाहिए। क्योंकि गुदा मैथुन के दौरान एनल में मौजूद बैक्टीरिया पीनस पर लग सकते हैं। जिससे पीनस पर इंफेक्शन हो सकता है। ऐसी स्थिति में जब भी गुदा मैथुन करें, तो पीनस की फोर स्किन को पीछे की तरफ खींच कर अच्छे से पानी से साफ कर लें। हमेशा याद रखें कि एनल सेक्स के बाद गुनगुने पानी से गुप्तांगों को साफ करें

एनल सेक्स के लिए आरामदायक पुजिशन

हमारे शरीर में एनस काफी संवेदनशील अंग होता है। इसमें बहुत ज्यादा सेंसेटिव नर्व्स और नाजुक टिश्यू होते हैं, जो कि इंटरकोर्स के दौरान पीनस से चोटिल हो सकते हैं और काफी दर्द का कारण बन सकते हैं। लेकिन इन सेक्स पुजिशन को ट्राय करके आप पहली बार गुदा मैथुन को काफी बेहतर एक्सपीरियंस बना सकते हैं।

और पढ़ें: सेक्स के बारे में सोचते रहना नहीं है कोई बीमारी, ऐसे कंट्रोल में रख सकते हैं अपनी फीलिंग्स

प्लैंक सेक्स पुजिशन (plank sex position)

वर्कआउट के दौरान प्लैंक पुजिशन काफी लोकप्रिय है। लेकिन आप इसे एनल सेक्स के दौरान भी इस्तेमाल कर सकते हैं। इस सेक्स पुजिशन में पीनस को एंटर करने के लिए काफी आसानी होती है और दोनों पार्टनर्स एक शानदार अनुभव प्राप्त करते हैं। इस पुजिशन में एनल सेक्स करना पेन-फ्री हो सकता है, लेकिन ल्यूब्रिकेंट के इस्तेमाल का आपको काफी ध्यान रखना होगा।

डॉगी स्टाइल सेक्स पुजिशन (doggy style)

एनल सेक्स करने के लिए यह पुजिशन सबसे आसान है। अगर आप पहली बार गुदा मैथुन कर रहे हैं, तो इसी पुजिशन को ट्राय करें। इसमें पीनस को इंटरकोर्स के लिए जरूरी एंगल और स्पेस मिलता है। लेकिन ध्यान रखें कि पुजिशन कोई-सी भी हो, लेकिन आपको कॉन्डोम और सेक्स ल्यूब्रिकेंट का इस्तेमाल करना ही है। इस पुजिशन में गुदा मैथुन करने से डीप पेनिट्रेशन प्राप्त होता है। इसे अपनाने के लिए फीमेल पार्टनर को एक डॉगी की पुजिशन में आना होता है और फिर मेल पार्टनर उसके पीछे से इंटरकोर्स करता है।

मिशनरी एनल सेक्स पुजिशन (missionary anal)

मिशनरी काफी पुरानी और सबसे ज्यादा इस्तेमाल की जाने वाली सेक्स पुजिशन है। लेकिन यह बहुत कम लोग जानते हैं कि इस पुजिशन में आप एनल सेक्स भी कर सकते हैं। बस इसके लिए आपको एक टिप को फॉलो करने की जरूरत होती है, जिससे यह पुजिशन काफी बट-फ्रेंडली बन जाती है। इस पुजिशनमें ए-स्पॉट को स्टिम्युलेट भी किया जा सकता है। इसे बट-फ्रेंडली बनाने के लिए आपको फीमेल पार्टनर के कूल्हों के लिए सेक्स पिलो को लगाना होता है, जिससे पीनस को एनस में एंटर करने के लिए जरूरी एंगल और स्पेस मिल जाता है।

हमें उम्मीद है कि आपको इस आर्टिकल में पहली बार गुदा मैथुन करने पर बरती जाने वाली सावधानियों और महत्वपूर्ण बातों के बारे में पता चल गया होगा। लेकिन अगर आपको अभी भी इससे जुड़ा कोई सवाल या शंका है, तो आप डॉक्टर या किसी एक्सपर्ट से सलाह-मशविरा कर सकते हैं। इसके अलावा, अगर आप हम से ही किसी विषय के बारे में कोई जानकारी चाहते हैं, तो आप हमारे सोशल मीडिया पेज पर जाकर हमें लिख सकते हैं।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Does anal sex have any health risks? nhs.uk/common-health-questions/sexual-health/does-anal-sex-have-any-health-risks/ Accessed on 25/6/2020

Is sex painful the first time? https://www.nhs.uk/common-health-questions/sexual-health/is-sex-painful-the-first-time/#:~:text=Anal%20sex,anus%20before%20penetration%20can%20help. Accessed on 25/6/2020

Anal Intercourse and Fecal Incontinence: Evidence from the 2009–2010 National Health and Nutrition Examination Survey. https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5231615/. Accessed on 25/6/2020

Safe sex. https://www.betterhealth.vic.gov.au/health/healthyliving/safe-sex. Accessed on 25/6/2020

Rectal perforation after anal intercourse. http://doi.org/10.16966/2470-0991.155 Accessed on 25/6/2020

लेखक की तस्वीर badge
Shayali Rekha द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 08/11/2020 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड