पाइल्स से राहत पाने के घरेलू उपाय

Medically reviewed by | By

Update Date जून 30, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Share now

पाइल्स गुदा या मलाशय के निचले हिस्से की नसों में होने वाली सूजन है। इसे बवासीर भी कहा जाता है। यह रोग वयस्कों में होना बहुत ही आम है। ऐसा अनुमान है कि चार में से तीन वयस्क इस समस्या से पीड़ित रहते हैं। अगर पाइल्स का सही समय पर इलाज न किया जाए तो इसके कारण होने वाली दर्द और अन्य समस्याएं बढ़ सकती हैं। बवासीर मलाशय या गुदा के आसपास के क्षेत्र के अंदर भी विकसित हो सकती है। इस रोग के कई कारण हो सकते हैं। पाइल्स की समस्याओं से राहत पाने और इसके इलाज के लिए कई विकल्प मौजूद हैं। लेकिन, पाइल्स के घरेलू उपचार और जीवनशैली में थोड़े परिवर्तन से इससे राहत मिल सकती है। पाइल्स से पीड़ित लोग अधिकतर लोग इन्हीं घरेलू उपचारों का प्रयोग करते हैं। 

पाइल्स के कारण

पाइल्स के घरेलू उपचार के बारे में जानने से पहले इसके कारणों और लक्षणों के बारे में जानना आवश्यक है। बवासीर के कारण कुछ इस प्रकार हैं:

  • मल त्याग के दौरान दबाब पड़ना
  • कब्ज़
  • लंबे समय तक बैठे रहना (खासकर शौचालय में)
  • कुछ बीमारियाँ, जैसे सिरोसिस
  • गर्भावस्था में कब्ज के कारण
  • मोटापा 
  • गुदा मैथुन करना
  • कम फाइबर वाला आहार खाना

और पढ़ें: प्रेग्नेंसी में पाइल्स: 8 आसान टिप्स से मिलेगी राहत

पाइल्स के लक्षण इस प्रकार हैं 

अधिकतर मामलों में पाइल्स में दर्द नहीं होता। लेकिन, अगर यह खून के थक्के का रूप ले ले तो यह बहुत दर्दनाक हो सकता है। इसके लक्षण कुछ इस प्रकार हैं:

  • मलाशय से दर्द रहित लाल रक्त निकलना 
  • गुदा स्थान में खुजली
  • गुदा दर्द खासतौर पर जब आप बैठे हों 
  • मल त्याग के दौरान दर्द
  • गुदा के पास एक या एक से अधिक अधिक सख्त गांठों का बनना

अधिकतर पाइल्स गंभीर नहीं होते हालांकि दर्द हो सकती है। लेकिन, कुछ ही दिनों में यह स्वयं ठीक हो जाती है। अगर इसमें होने वाली दर्द आपसे सहन न हो तो डॉक्टर के पास जाएं। गंभीर स्थिति में डॉक्टर पाइल्स में मौजूद खून के थक्कों को काट देते हैं। जिससे दर्द भी कम हो जाती है। इस पाइल्स के घरेलू उपचार ही इसके लिए बेहतरीन उपचार है।

पाइल्स के घरेलू उपचार कुछ इस प्रकार हैं

सही आहार लेना 

अगर आपको कब्ज है, तो बवासीर की समस्या हो सकती है। इसलिए, ऐसा आहार लें जिनसे आपको कब्ज न हो। इसके लिए अपने आहार में अधिक फाइबर शामिल करें।

फाइबर इन चीज़ों में पाया जाता है:

  • ताज़े और सूखे फल
  • सब्जियां 
  • साबुत अनाज
  • सीरियल 

रोजाना आपको कम से कम 20 से 30 ग्राम फाइबर लेनी चाहिए। इसके साथ ही फाइबर सप्लीमेंट भी लिए जा सकते हैं।

और पढ़ें:  पाइल्स में डायट पर ध्यान देना होता है जरूरी, इन फूड्स का करें सेवन

अधिक पानी पीएं

अपने मल को नरम बनाने और कब्ज से बचने के लिए, जितना अधिक हो सके पानी और तरल पदार्थों का सेवन करें।

एप्पल साइडर विनेगर

ऐसा माना जाता है कि एप्पल साइडर विनेगर के इस्तेमाल से पाइल्स की समस्या से एकदम आराम मिलता है। खासतौर, पर इस दौरान होने वाली खुजली और दर्द से।  हालांकि, कुछ लोगों को इस पाइल्स के घरेलू उपचार का अधिक प्रयोग करने से त्वचा में जलन हो सकती है और अन्य समस्याएं बढ़ सकती हैं। 

एलोवेरा

पाइल्स के घरेलू उपचार में सबसे आसान है एलोवेरा का उपयोग। एलोवेरा में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं, जो बवासीर में होने वाली सूजन को शांत करने में मदद कर सकते हैं। लेकिन, शोध इस बात को साबित नहीं करते हैं। हालाँकि, एलोवेरा त्वचा की सूजन को दूर करने में प्रभावी है।

विच हेज़ल 

विच हेज़ल एक ऐसा पौधा है, जिसमे कई मेडिकल गुण होते हैं। इससे बनी क्रीम का प्रयोग करने से पाइल्स दौरान होने वाली दर्द से राहत मिलती है।

बर्फ का प्रयोग

पाइल्स की दर्द बहुत भयंकर होता है, इसके साथ ही सूजन भी होती है। प्रभावित स्थान पर बर्फ का प्रयोग करने से आपको दर्द और सूजन से छुटकारा मिलेगा। ऐसा दिन में कई बार करें।

स्नान 

गर्म पानी में स्नान करने से भी बवासीर से मुक्ति मिलती है। इस समस्या से बचने के लिए आपको खास स्नान करना है। इसके लिए बाथ टब में गर्म पानी लें और उसमे कम से कम 15 से 20 मिनट तक इस तरह से बैठे कि आपके कूल्हे पानी में हों। ऐसा दिन में तीन बार करने में इस दौरान होने वाली जलन से छुटकारा मिलेगा। ध्यान रहे कि इसके बाद आप अपने शरीर को अच्छे से पोंछ लें क्योंकि प्रभावित स्थान पर नमी रहने से इन्फेक्शन होने की संभावना अधिक रहती और यह समस्या भी बढ़ सकती है।

और पढ़ें: Urinary Tract Infection : यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन (यूटीआई) क्या है?

दबाब न डालें 

अगर मल त्याग करते हुए आप जोर लगाएंगे तो आपके निचले मलाशय की नसों पर दबाव पड़ेगा और पाइल्स की समस्या बढ़ेगी। इसके साथ ही जैसे ही आपको मल त्याग की इच्छा हो तुरंत करें। इसमें जरा सी देरी करने पर मल सुख जाता है और इसके त्याग में कठिनाई होती है।

व्यायाम 

पाइल्स के घरेलू उपचार में एक है व्यायाम करना। कब्ज से छुटकारा पाने और नसों पर पड़े दबाव को कम करने के लिए व्यायाम या योग का सहारा लें। यह समस्याएं लम्बे समय तक बैठे रहने या खड़े रहने से हो सकती हैं। एक्सरसाइज करने से आपको इससे मुक्ति मिलेगी। मोटापा भी पाइल्स का एक कारण है। लेकिन, जब एक्सरसाइज करने से आप अपना वजन कम कर लेंगे तो यह समस्या भी दूर होगी।

अधिक देर बैठने से बचे 

अधिक देर बैठने से पाइल्स की समस्या बढ़ सकती है। अधिक देर बैठने (खासतौर पर टॉयलेट में) से  मलाशय की नसों पर दबाव बढ़ता है और पाइल्स की समस्या भी बढ़ती है।

पेनकिलर लें

अगर आपको अधिक दर्द हो रही हो तो आप पेनकिलर ले सकते हैं जैसे स्टमीनोफेन, एस्पिरिन, या आइबूप्रोफेन। लेकिन इसके लिए एक बार डॉक्टर से अवश्य पूछ लें।

खारिश न करें

अगर आपको बवासीर है तो  प्रभावित स्थान पर खारिश बिलकुल न करें। ऐसा करने से न केवल दर्द बढ़ेगी बल्कि त्वचा को और अधिक नुकसान होगा। इसलिए अधिक देर तक बैठने से परहेज करें

और पढ़ें: जानें गुदा मैथुन कैसे करें और साथ में किन बातों का रखें ध्यान

कॉटन का प्रयोग करें

हमेशा कॉटन के कपड़ों का प्रयोग करें खासतौर पर कॉटन की मुलायम अंडरवियर पहने ताकि नमी जमा न हो। साथ ही, ऐसे कपड़े न पहनें जो अधिक टाइट हों। खुले कपड़े पहनने से हवा आती-जाती रहेगी जबकि टाइट कपड़ों में नमी के कारण समस्या बढ़ सकती है।

यह तो हुए पाइल्स के घरेलू उपचार जो इस रोग में होने वाली समस्याओं से आपको राहत पहुंचा सकते हैं । इसके साथ ही अपने शरीर और आसपास की साफ़-सफाई का खास ख्याल रखें। अपने मल त्याग का समय एक ही रखें। एक दिनचर्या बनाये कि बनाएं सुबह के समय ही मल त्याग करना है। खराब जीवनशैली भी पाइल्स और अन्य समस्याओं का कारण बन सकती है। अगर आप मल त्याग में समस्या आ रही हो तो जबरदस्ती न करें। अधिक मिर्च-मसाले वाले खाने से भी दूर रहें

अगर इससे जुड़ा आपका कोई सवाल है, तो अधिक जानकारी के लिए आप अपने डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

Hepatitis : हेपेटाइटिस क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

लिवर में सूजन आने की समस्या को हेपेटाइटिस कहा जाता है। इससे बचने के उपाय व इलाज के बारे में विस्तार से जानते हैं। Hepatitis in Hindi.

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Surender Aggarwal
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z जून 10, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Testicular Pain : अंडकोष में दर्द क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

अंडकोष में दर्द कई कारणों से हो सकता है। आइए, इससे बचाव व इसके उपचार के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त करते हैं। Testicular Pain in Hindi.

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Surender Aggarwal
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z जून 10, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Anxiety : चिंता क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

चिंता हमारे शरीर द्वारा दी जाने वाली एक प्रतिक्रिया है, जो कि काफी आम और सामान्य है। कई मायनों में यह अच्छी भी है, पर ज्यादा होना बीमारी का कारण बन जाता है।

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Surender Aggarwal
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z जून 10, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Swollen Knee : घुटनों में सूजन क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

घुटनों में सूजन की वजह से चलने-फिरने में समस्या हो सकती है। कई बार इसके वजह से घुटने भी बदलवाने पड़ते हैं। आइए, जानते हैं कि समस्या का कारण और बचने के उपाय।

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Surender Aggarwal
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z जून 9, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

Weakness : कमजोरी

Weakness : कमजोरी क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Surender Aggarwal
Published on जून 12, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
Fatty Liver : फैटी लिवर

Fatty Liver : फैटी लिवर क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Surender Aggarwal
Published on जून 12, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Throat Ulcers : गले में छाले

Throat Ulcers : गले में छाले क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Surender Aggarwal
Published on जून 11, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Fatigue : थकान

Fatigue : थकान क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Surender Aggarwal
Published on जून 11, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें