स्टमक इंफेक्शन दूर करने के लिए आजमाएं ये घरेलू उपाय

Medically reviewed by | By

Update Date जून 2, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Share now

ऐसे लोग जो खाने के मामले में लापरवाही बरतते हैं और बाहर का कुछ भी खा लेते हैं, उन्‍हें अक्सर स्टमक इंफेक्शन होने की आशंका बपनी रहती है। इसके अलावा दूषित पानी पी लेने से, खाने को ठीक से न पकाने की वजह से, संक्रमित मीट का सेवन करने से या फिर खाने को ठीक से न ढककर रखने से बैक्‍टीरिया पेट में चले जाते हैं। इसकी वजह से स्टमक इंफेक्शन होता है, जो काफी तकलीफ देता है। इस आर्टिकल में हम आपको बताएंगे कि पेट के इंफेक्शन के लक्षण, कारण और घरेलू उपाय।

और पढ़ेंः पेट का कैंसर क्या है ? इसके कारण और ट्रीटमेंट

स्टमक इंफेक्शन क्या है?

स्टमक इंफेक्शन कई कारणों की वजह से हो सकता है। आमतौर पर इसका सबसे बड़ा कारण दूषित पानी पीना या दूषित खाना खाना हो सकता है। स्टमक इंफेक्शन पेट और आंतों का एक संक्रमण है जिसे पेट का फ्लू भी कहते हैं। हालांकि, यह इन्फ्लूएंजा के समान नहीं है। इन्फ्लुएंजा हमेशा सांस की नली को प्रभावित करता है। जबकि पेट का संक्रमण पेट और आंतों को प्रभावित करता है। इसे प्रारंभिक चरण में व्यक्ति को ठंड लगना, हल्का बुखार होना और मतली जैसे लक्षण दिखाई दे सकते हैं। जो गंभीर होने पर बार-बार उल्टी आना, दस्त लगना या पेट में तेज दर्द होना शामिल हो सकता है। आमतौर पर इसका कोई इलाज नहीं है। पेट के फ्लू को उपचार करने के लिए डॉक्टर आपको विशेष सलाह दे सकते हैं। जिसमें आराम करना, खाने-पीने से परहेज शामिल हो सकता है।

स्टमक इंफेक्शन के लक्षण

  •  पेट में मरोडें उठना
  •  मितली और उल्टियां आना
  •  भूख समाप्‍त होना
  •  शौच में रक्त आना
  •  खट्टी डकारें आना

और पढ़ें : पेट दर्द के ये लक्षण जो सामान्य नहीं हैं

स्टमक इंफेक्शन का कारण

और पढ़ें : Stomach cancer: पेट का कैंसर क्या है?

स्टमक इंफेक्शन के घरेलू इलाज

लिक्विड डायट फॉलों करें

स्टमक इंफेक्शन होने पर आपको दिन भर में ढेर सारा पानी पीना चाहिए। आपको ताजे फलों का जूस, सूप, दाल का पानी पीना फायदेमंद हो सकता है। क्योंकि स्टमक इंफेक्शन के दौरान आपको बहुत ज्यादा पसीना आता है, उल्टी होती है और दस्त होने लगते हैं। जिसके कारण आप शरीर से अधिक मात्रा में पानी खर्च करते हैं। अगर आपको तरल पदार्थ खाते ही तुरंत उल्टी या दस्त हो जाता है, तो नियमित अंतराल पर कुछ घूंट में इसे पी सकते हैं। या फिर आप आईस चिप्स भी मुंह में रख सकते हैं।

क्या पीएं?

  • साफ पानी और शरबत
  • ओवर-द-काउंटर पर मिलने वाले घोल
  • स्पोर्ट्स ड्रिंक्स, जैसे इलेक्ट्रोलाइट
  • अदरक और पुदीना की चाय
  • चाय पीने से आपकी उल्टी कम होगी और पेट दर्द में भी राहत मिलेगी।

क्या न पीएं?

  • कॉफी
  • स्ट्रांग ब्लैक टी
  • चॉकलेट

ये तीनों आपकी नींद को प्रभावित कर सकते हैं।

शराब

शराब पीने से आपको बार-बार पेशाब जाने की समस्या हो सकती है। जिसके कारण आप शरीर से अधिक मात्रा में पानी खर्च कर सकते हैं।

खसखस के बीज

दिन में दो बार खसखस के दानों पीसकर खाएं। इससे पेट की गर्मी दूर होती है और पाचन तंत्र सही होता है।

चना

चना या फिर चने की सब्‍जी बना कर खाएं। इससे भी पेट के संक्रमण में काफी लाभ होता है।

करें लहसुन का इस्तेमाल

पाचन क्रिया अच्‍छी तरीके से होती रहे, इसके लिए साबुत लहसुन या फिर लहसुन का रस बहुत लाभकारी है। इसमें एंटी-बैक्‍टीरियल तत्‍व पाए जाते हैं, जो पेट के संक्रमण से पेट का बचाव करते हैं।

स्टमक इंफेक्शन के लिए शहद

एक गिलास गर्म पानी में एक चम्मच शहद डालकर पिएं। इससे आपका पाचन तंत्र मजबूत होगा और स्टमक इंफेक्शन में भी राहत मिलेगी।

खाली पेट हींग का सेवन करें

सुबह खाली पेट पानी के साथ हींग का सेवन करने से पेट के कीडे़ मरते हैं। इसलिए इसे नियमित तौर पर खाना चाहिए।

केला खाएं

केला खाने से भी आपको पेट दर्द से राहत मिलती है, क्‍योंकि इसमें पोटैशियम होता है और प्राकृतिक चीनी भी होती है। यह आसानी से हज्म हो जाता है और पेट को भी ठीक कर देता है। उल्टी और दस्त के कारण आपके शरीर से खोए हुए पोटेशियम की भरपाई करने में केला काफी लाभदायक होता है।

अदरक भी दूर करेगा स्टमक इंफेक्शन

पेट की समस्‍या से निजात पाने के लिए आपको अदरक का छोटा टुकड़ा, सेधा नमक और चुटकी भर काली मिर्च के साथ मिला लेना चाहिए। इसे मिलाकर खा लें और इसके बाद एक गिलास पानी पी लें।

चावल भी है स्टमक इंफेक्शन का इलाज

सफेद चावल आपके शरीर को संसाधित करने के लिए आसान है और कार्ब्स से ऊर्जा प्रदान करता है। ब्राउन राइस में बहुत अधिक फाइबर होता है और अतिरिक्त गैस उत्पन्न कर सकता है। इसलिए सफेद चावल खाएं। स्टमक इंफेक्शन के दौरान ब्राउन राइस का सेवन न करें।

रोटी की जगह टोस्ट खाएं

स्टमक इंफेक्शन होने पर आपको रोटी खाने से परहेज करना चाहिए। रोटी की जगह पर आप टोस्ट खा सकते हैं। गेहूं की रोटी में फाइबर की अधिक मात्रा होती है जो पाचन तंत्र पर इस स्थिति में बुरा असर कर सकती है। इससे बचने के लिए आप टोस्ट खा सकते हैं। ये पचाने में अधिक आसान होते हैं।

क्या न खाएं?

  • डेयरी प्रोड्क्ट

पेट में फ्लू होने पर सभी को दूध से जुड़ी समस्या नहीं होती है। हालांकि, दूध या डेयरी प्रोडक्ट को पचाने में पेट को समय लगता है। जिसके कारण गैस और दस्त की समस्या बढ़ सकती है।

  • फाइबर युक्त खाद्य पदार्थ

फाइबर फूड्स भी आंत्र पर जोर डालते हैं।

  • तेल

तली-भुनी चीजें भी खाने से परहेज करना चाहिए।

  • मसाले

टमाटर, करी पत्त और मिर्च का सेवन न करें।

स्टमक इंफेक्शन होने पर इन बातों का भी ध्यान रखें

  • सीधा हाथ से बर्तन धोने के बजाय डिशवॉशर या हाथों में ग्लब्स का उपयोग करें।
  • हैंड सैनिटाइजर की जगह साबुन और पानी का इस्तेमाल करें।
  • अगर घर में कोई बीमार है, तो उस सदस्य से थोड़ी दूरी बनाकर रखें।

अगर आपको पेट दर्द की समस्या रहती है, तो ऊपर बताए गए घरेलू उपाय अपना सकते हैं। लेकिन, अगर आपको लगे कि पेट के इंफेक्शन के घरेलू उपाय अपनाकर भी समस्या ठीक नहीं हो रही है, तो डॉक्टर से संपर्क जरूर करें।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की कोई भी मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है। अगर इससे जुड़ा आपका कोई सवाल है, तो अधिक जानकारी के लिए आप अपने डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

Ace Proxyvon: एस प्रोक्सीवोन क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

एस प्रोक्सीवोन की जानकारी in hindi. एस प्रोक्सीवोन को कब लें, कैसे लें, खुराक, सावधानियां, ओवरडोज, उपयोग के पहले चेतावनियां आदि पूरी जानकारी मिलेगी इस आर्टिकल में।

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Satish Singh
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल जून 18, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

Deworming Tablet : डीवार्मिंग टैबलेट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

डीवार्मिंग टैबलेट की जानकारी in hindi, डीवार्मिंग टैबलेट के साइड इफेक्ट क्या है, लेवामिसोल दवा किस काम में आती है, रिएक्शन, उपयोग, deworming tablet.

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Shayali Rekha
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल जून 17, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

Banocide Forte: बेनोसाइड फोर्ट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

बेनोसाइड फोर्ट की जानकारी in hindi इस दवा के डोज, उपयोग, साइड इफेक्ट, सावधानी और चेतावनी के साथ किन किन बीमारियों और दवा से हो सकता है रिएक्शन, जानें।

Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
Written by Satish Singh
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल जून 17, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

Quiz: दर्द से जुड़े मिथ्स एंड फैक्ट्स के बीच सिर चकरा जाएगा आपका, खेलें क्विज

क्या आप दर्द से जुड़े मिथ्स एंड फैक्ट्स (Myths and Facts about Pain) के बारे में जानते हैं। अगर हां, तो इस क्विज को खेलकर जांचें अपना ज्ञान।

Written by Surender Aggarwal
क्विज जून 16, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

कोलिमेक्स

Colimex: कोलिमेक्स क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Satish Singh
Published on जून 29, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
कोल्डैक्ट

Coldact: कोल्डैक्ट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Satish Singh
Published on जून 29, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
बैंडी सिरप

Bandy Syrup: बैंडी सिरप क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Satish Singh
Published on जून 25, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
एनाफोर्टन

Anafortan: एनाफोर्टन क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Satish Singh
Published on जून 22, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें