वर्ल्ड वेजीटेरियन डे : ये 10 शाकाहारी खाद्य पदार्थ मीट से कहीं ज्यादा ताकतवर

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट अक्टूबर 1, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

कुछ वेजीटेरियन या वेगन लोग मानते हैं कि मीट कैंसर का कारण बनता है और प्लानेट के लिए भी यह ठीक नहीं है। लेकिन, मांस खाने वाले अक्सर यह तर्क देते हैं कि एनिमल फूड्स न लेने से शरीर में न्यूट्रिशन की कमी होती है। शाकाहारी (वेजीटेरियन) डायट के बारे में ज्यादातर यही माना जाता है कि उनमें पर्याप्त प्रोटीन की कमी हो सकती है। हालांकि, कई विशेषज्ञ इस बात को मनाते हैं कि एक वेल प्लांड वेजीटेरियन डायट आपको वे सभी पोषक तत्व प्रदान कर सकती है जिनकी आपको जरूरत होती है। उनका मानना है कि कुछ प्लांट बेस्ड खाद्य पदार्थों में मीट से भी अधिक प्रोटीन होता है। जानते हैं ‘वर्ल्ड वेजीटेरियन डे (1 अक्टूबर)’ पर ऐसे कौन-कौन से वेजीटेरियन फूड्स हैं जिनमें मीट से भी ज्यादा न्यूट्रिशनल वैल्यू पाई जाती है।

वेजीटेरियन डायट में शामिल करें इन्हें

सोयाबीन

टोफू, टेम्पेह और एडामे सभी सोयाबीन से उत्पन्न होते हैं। सोयाबीन को प्रोटीन का एक संपूर्ण स्रोत माना जाता है। इसका मतलब यह है कि यह शरीर को सभी आवश्यक अमीनो एसिड (amino acid) प्रदान करता है।

एडामे अपरिपक्व सोयाबीन का रूप है। इस्तेमाल के लिए इसे पहले उबाला जाता है। सूप या सलाद में भी इसका उपयोग आप कर सकते हैं। टेम्पेह को पकाकर फर्मेंट करके बनाया जाता है। टोफू और टेम्पेह दोनों का इस्तेमाल विभिन्न प्रकार के व्यंजनों में किया जा सकता है, जिनमें बर्गर से लेकर सूप तक शामिल हैं। तीनों में आयरन, कैल्शियम और 10-19 ग्राम प्रोटीन (प्रति 100 ग्राम) होता है।

एडामे फोलेट, विटामिन-के और फाइबर से भी भरपूर होता है। टेम्पेह में प्रोबायोटिक्स, विटामिन-बी और मिनरल्स जैसे मैग्नीशियम और फास्फोरस की एक अच्छी मात्रा होती है।

और पढ़ें : रिसर्च: हाई फाइबर फूड हार्ट डिजीज और डायबिटीज को दूर कर सकता है

दालें

एक कप पकी हुई दाल में (240 मिलीलीटर) 18 ग्राम प्रोटीन होता है। इसके साथ ही दाल में भी धीरे-धीरे पचने वाले कार्ब्स की अच्छी मात्रा होती है। एक कप (240 मिली) दाल के सेवन से आपको दिनभर में जरूरी फाइबर की लगभग 50% मात्रा मिलती है। दालों में पाए जाने वाले अलग-अलग प्रकार के फाइबर आपकी गट हेल्थ को भी दुरुस्त रखते हैं। हृदय रोग, मधुमेह, ओवर वेट और कुछ प्रकार के कैंसर के जोखिम को कम करने में भी दाल मदद कर सकती है।इसके अलावा, दालें फोलेट, मैंगनीज और आयरन में समृद्ध होती हैं। इनमें एंटीऑक्सिडेंट की भी एक अच्छी मात्रा होती है।

और पढ़ें : जानें, ग्लाइसेमिक इंडेक्स और गुड वर्सस बैड कार्ब्स क्या है

बीन्स की अधिकांश किस्में

बीन्स की अधिकांश किस्में प्रोटीन से भरपूर होती हैं। पके हुए बीन्स (240 मिली) में लगभग 15 ग्राम प्रोटीन होता है। ये कॉम्प्लेक्स कार्ब्स, फाइबर, आयरन, फोलेट, फास्फोरस, पोटेशियम, मैंगनीज और कई लाभकारी तत्वों के उत्कृष्ट स्रोत भी हैं। इसके अलावा, कई अध्ययनों से पता चलता है कि बीन्स और अन्य फलियों से भरपूर आहार, कोलेस्ट्रॉल को कम कर सकते हैं। ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल करती हैं और ब्लड प्रेशर कम करने में मददगार साबित हो सकती हैं।

और पढ़ें : HDL कोलेस्ट्रॉल क्या होता है? जाने कैसे करें कोलेस्ट्रॉल कम?

हरी मटर

अक्सर बहुत लोगों की पंसद छोटी हरी मटर फाइबर, विटामिन ए, सी, के, थायमिन, फोलेट और मैंगनीज की दैनिक आवश्यकताओं का 25% से अधिक कवर करती है। एक कप पकी हुई हरी मटर में (240 मिली) में 9 ग्राम प्रोटीन होता है जो की एक कप दूध में मौजूद प्रोटीन से ज्यादा है। साथ ही हरी मटर भी आयरन, मैग्नीशियम, फास्फोरस और जिंक का एक अच्छा स्रोत है।

और पढ़ें : जानिए लो फाइबर डायट क्या है और कब पड़ती है इसकी जरूरत

क्विनोआ

क्विनोआ को प्रोटीन से भरे अनाजों का राजा कहना गलत नहीं होगा। एक कप पके हुए क्विनोआ में 8-9 ग्राम प्रोटीन पाया जाता है। इसका इस्तेमाल कुकीज, सलाद सहित कई और डिशेस बनाने में किया जा सकता है। क्विनोआ कॉम्प्लेक्स कार्ब्स, फाइबर, आयरन, मैंगनीज, फॉस्फोरस और मैग्नीशियम का भी अच्छा स्रोत है।

और पढ़ें : इन 15 लक्षणों से जानें क्या आपको आयरन की कमी है?

वेजीटेरियन डायट में सोया मिल्क

सोयाबीन से बना दूध, गाय के दूध का एक बेहतरीन विकल्प है। इसमें न केवल 7 ग्राम प्रोटीन ( प्रति 240 मिली) होता है, बल्कि यह कैल्शियम, विटामिन डी और विटामिन बी-12 का भी उत्कृष्ट स्रोत है। हालांकि, ध्यान रखें कि सोया मिल्क और सोयाबीन में स्वाभाविक रूप से विटामिन-बी12 नहीं होता है, इसलिए फोर्टिफाइड किस्म चुनने की सलाह दी जाती है। सोया मिल्क ज्यादातर सुपरमार्केट में पाया जाता है। आप आसानी से इसे प्राप्त कर सकते हैं।

और पढ़ें : क्या पुरुषों के लिए हानिकारक है सोयाबीन?

ओट्स और ओटमील

ओट्स किसी भी आहार में प्रोटीन जोड़ने का एक आसान और स्वादिष्ट तरीका है। एक कप ड्राई ओट्ससे आपको लगभग 6 ग्राम प्रोटीन और 4 ग्राम फाइबर मिलता है। इसमें अच्छी मात्रा में मैग्नीशियम, जिंक, फास्फोरस और फोलेट भी होता है। हालांकि, ओट्स को एक कम्पलीट प्रोटीन नहीं माना जाता है, लेकिन चावल और गेहूं जैसे अन्य अनाज की तुलना में उच्च गुणवत्ता वाले प्रोटीन से भरपूर होता है।

और पढ़ें : सिंपल से दिखने वाले ओट्स के फायदे जानकर रह जाएंगे हैरान, आज ही डायट में कर लेंगे शामिल

वेजीटेरियन डायट में चिया सीड्स

35 ग्राम चिया सीड्स में 6 ग्राम प्रोटीन और 13 ग्राम फाइबर होता है। इस हिसाब से इन बीजों को वेजीटेरियन डायट में जगह जरूर देनी चाहिए। इन छोटे बीजों में अच्छी मात्रा में आयरन, कैल्शियम, सेलेनियम और मैग्नीशियम के साथ ही ओमेगा-3 फैटी एसिड, एंटीऑक्सिडेंट और अन्य लाभकारी यौगिक पाए जाते हैं। चिया सीड्स के फायदे आपको मिल सके, इसके लिए इन्हें विभिन्न प्रकार के व्यंजनों में शमिल करें।

और पढ़ें : गर्भावस्था में चिया सीड खाने के फायदे और नुकसान

नट्स, नट बटर और अन्य बीज

नट्स, बीज और उनसे बनने वाले प्रोडक्ट्स प्रोटीन से भरपूर होते हैं। नट्स और सीड्स के प्रकार के अनुसार उसकी 28 ग्राम मात्रा में 5 से 7 ग्राम प्रोटीन होता है। ये आयरन, कैल्शियम, मैग्नीशियम, सेलेनियम, फास्फोरस, विटामिन ई और कुछ विटामिन-बी के अलावा फाइबर और हेल्दी फैट के भी अच्छे स्रोत होते हैं। नट्स और सीड्स को चुनते हुए, इस बात का ध्यान रखें कि ब्लैंचिंग और रोस्टिंग नट्स में पोषक तत्व कम हो सकते हैं। इसलिए, इन्हें कच्चा ही खाना प्रेफर करें।

और पढ़ें : विटामिन-ई की कमी को न करें नजरअंदाज, डायट में शामिल करें ये चीजें

वेजीटेरियन डायट में प्रोटीन युक्त फल और सब्जियां

सभी फलों और सब्जियों में प्रोटीन होता है, लेकिन मात्रा आमतौर पर कम होती है। हालांकि, कुछ में अन्य की तुलना में अधिक भी होती है। सबसे अधिक प्रोटीन वाली सब्जियों में ब्रोकली, पालक, शकरकंद और ब्रसेल्स स्प्राउट्स शामिल हैं। इनमें 4-5 ग्राम प्रोटीन पाया जाता है। ताजे फलों में आमतौर पर सब्जियों की तुलना में प्रोटीन की मात्रा कम होती है। इसमें सबसे ज्यादा प्रोटीन वाले फ्रूट्स हैं अमरूद, शहतूत, ब्लैकबेरी, केले आदि जिनमें प्रोटीन लगभग 2-4 ग्राम होता है।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

वेजीटेरियन डायट लेने वाले लोगों में होती है इन पोषक तत्वों की कमी

विटमिन बी12

आमतौर पर वेजीटेरियन या वेगन लोगों में विटामिन बी12 की कमी पाई जाती है क्योकि यह मुख्य रूप से अंडे, डेयरी, मीट जैसे पशु उत्पादों में पाया जाता है। ग्रोथ और सामान्य स्वास्थ्य के लिए विटामिन बी12 की आवश्यकता होती है। यह केवल प्राकृतिक रूप से एनिमल प्रोडक्ट्स में पाया जाता है। शाकाहारी लोग अपनी वेजीटेरियन डायट में विटामिन बी12 के अच्छे स्रोतों में इन्हें शामिल कर सकते हैं:

  • दूध
  • पनीर
  • फोर्टिफाइड यीस्ट,
  • फोर्टिफाइड सोया प्रोडक्ट्स आदि

और पढ़ें : 30 मिनट में ऐसे घर पर बनाएं शाही पनीर, आसान है रेसिपी

ओमेगा-3 फैटी एसिड के शाकाहारी स्रोत

ओमेगा-3 फैटी एसिड, मुख्य रूप से ऑइली फिशेस में पाया जाता है जो एक हेल्दी हार्ट के लिए जरूरी है। लेकिन, वेजीटेरियन लोगों को उपयुक्त ओमेगा-3 फैटी एसिड के लिए अपनी वेजीटेरियन डायट में इनका सेवन करना चाहिए:

  • अलसी का तेल
  • सरसों का तेल
  • सोया तेल और सोया आधारित खाद्य पदार्थ, जैसे टोफू
  • अखरोट आदि।

और पढ़ें : दिल की बीमारी पर ब्रेक लगा सकता है सरसों का तेल

आयरन के वेजीटेरियन सोर्स

मांस खाने वालों की तुलना में शाकाहारियों में आयरन कम होने की संभावना अधिक होती है। वेजीटेरियन के लिए आयरन के अच्छे स्रोतों में शामिल हैं:

  • दालें
  • ड्राई फ्रूट्स
  • गहरे हरे रंग की सब्जियां, जैसे कि ब्रोकली और स्प्रिंग ग्रीन्स आदि

आप वेगन, वेजीटेरियन या नॉन-वेजीटेरियन हैं, इससे कहीं ज्यादा यह महत्वपूर्ण है कि आप क्या खाते हैं? कुछ पोषक तत्व शाकाहारी स्रोतों में कम मात्रा में पाए जाते हैं। आम धारणा है कि अधिकांश वेजीटेरियन डायट में आमतौर पर पर्याप्त प्रोटीन और कैल्शियम (डेयरी उत्पादों में पाया जाता है) कम होता है। जबकि, ऐसा नहीं है। अगर आप सही तरीके से अपनी डायट प्लान करते हैं, तो आप सभी आवश्यक पोषक तत्वों को प्राप्त कर सकते हैं।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

Zevit Capsule : जेविट कैप्सूल क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

जेविट कैप्सूल जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, जेविट कैप्सूल का उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Zevit Capsule डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल अगस्त 17, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

Nuhenz Tablet : न्यूहेंज टैबलेट क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

न्यूहेंज टैबलेट जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, न्यूहेंज टैबलेट का उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Nuhenz Tablet डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल अगस्त 4, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

Calcimax P: कैल्सिमैक्स पी क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

जानिए कैल्सिमैक्स पी (Calcimax P) की जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितनी खुराक लें, कैल्सिमैक्स पी डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल जून 29, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

Calcimax Forte: कैल्सिमैक्स फोर्ट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

कैल्सिमैक्स फोर्ट दवा की जानकारी in hindi इसके उपयोग, डोज, साइड इफेक्ट, सावधानी और चेतावनी के साथ रिएक्शन और स्टोरेज जानने के लिए पढ़ें यह आर्टिकल।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल जून 17, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

प्रोटीन पाचन और अवशोषण

प्रोटीन का पाचन और अवशोषण शरीर में कैसे होता है? जानें प्रोटीन की कमी को दूर करना क्यों है जरूरी

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ सितम्बर 15, 2020 . 10 मिनट में पढ़ें
पाचन तंत्र सुधारने के प्राकृतिक तरीके

पाचन तंत्र को मजबूत बनाने के लिए जरूरी हैं ये टिप्स फॉलो करना

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ सितम्बर 11, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
अल्सरेटिव कोलाइटिस डाइट

अल्सरेटिव कोलाइटिस के पेशेंट्स हैं, तो जानें आपको क्या खाना चाहिए और क्या नहीं?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ सितम्बर 9, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
कुकिंग ऑयल क्विज-Quiz cooking oil

खाना पकाने के लिए आपको किन तेलों से बचना चाहिए?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Ankita Mishra
प्रकाशित हुआ अगस्त 24, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें