आयुर्वेदिक तरीके से ऐसे मनाएं होली, त्वचा और स्वास्थ्य को बचाएं खतरनाक केमिकल वाले रंगों से

के द्वारा लिखा गया

अपडेट डेट मार्च 9, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

Happy Holi 2020- होली का त्योहार आने में कुछ ही दिन रह गए हैं। भारत के प्रमुख त्योहारों में होली भी शामिल हैं, जिसे देश में बड़े पैमाने पर मनाया जाता है। लेकिन, होली के साथ ही आती हैं कुछ स्वास्थ्य समस्याएं, जैसे ज्यादा पानी में भीगने की वजह से सर्दी-जुकाम, बुखार या फिर सबसे बड़ी और सबसे आम त्वचा संबंधित समस्याएं। लेकिन, इन्हीं शारीरिक समस्याओं और दिक्कतों से राहत पाने के लिए आप आयुर्वेदिक होली की मदद ले सकते हैं। आयुर्वेदिक तरीके से होली खेलने पर आपको सर्दी-जुकाम और त्वचा संबंधित कई समस्याओं से छुटाकारा मिलता है। आयुर्वेदिक तरीके से होली खेलने के महत्व और तरीके पर जीवा आयुर्वेद के निदेशक डॉ. प्रताप चौहान ने प्रकाश डाला। इस आर्टिकल में जानें कि उन्होंने क्या कहा…

आयुर्वेदिक तरीके से होली खेलने का महत्व क्या है?

Ayurvedic Holi 2020- आयुर्वेदिक तरीके से होली

जीवा आयुर्वेद के निदेशक डॉ. प्रताप चौहान ने बताया कि होली खेलने के पीछे भी कई स्वास्थ्य संबंधी लाभ छिपे हो सकते हैं, बशर्ते आप आयुर्वेदिक तरीके से होली खेल रहे हों। आयुर्वेदिक होली खेलने के दौरान त्वचा पर हर्बल रंग लगाने से त्वचा खिल उठती है और नई त्वचा कोशिकाएं उसी तरह से बनने लगती हैं, जैसे बसंत ऋतु के आने पर पेड़-पौधों पर नए पत्ते और फूल आने लगते हैं।

बीमारियां इन वजहों से होती हैं

उन्होंने आगे बताया कि, आयुर्वेद के अनुसार, बीमारियां पृथ्वी के पांच तत्वों- पृथ्वी, जल, अग्नि, वायु और शरीर में मौजूद पानी में गड़बड़ी का परिणाम हैं। इस अंसतुलन के कारण वात, पित्त और कफ के तीन दोष पैदा होते हैं। ये तीन असंतुलन पैदा करने वाले मुख्य कारक मौसम में होने वाले बदलाव हैं। इसिलए, आयुर्वेद ने इन स्वास्थ्य समस्याओं से बचाव के लिए ऋतु के हिसाब से कुछ खास उपाय सुझाए हैं, जिन्हें ऋतुचार्य कहा जाता है। इसलिए, आयुर्वेदिक तरीके से होली खेलने के दौरान इन उपायों को इस्तेमाल किया जा सकता है और स्वास्थ्य संबंधी फायदे प्राप्त किए जा सकते हैं और कुछ समस्याओं से बचा भी जा सकता है।

यह भी पढ़ें- क्या आप भी हाथों को तब तक धुलते रहते हैं जब तक त्वचा लाल नहीं हो जाती? हो सकता है ओसीडी

आयुर्वेदिक तरीके से होली : वसंत ऋतु होती है गर्म दिनों की शुरुआत

डॉ. प्रताप चौहान के मुताबिक, होली वसंत ऋतु चक्र का एक हिस्सा है और यह गर्मी व गर्म दिनों की शुरुआत है। वसंत में बढ़ती आर्द्रता के साथ तापमान में अचानक वृद्धि के कारण शरीर का कफ पिघलता है और कफ से संबंधित अनेक बीमारियों को जन्म देता है। होली के पर्व की अवधारणा मूल रूप से शरीर को द्रवीभूत कफ से मुक्ति दिलाने तथा तीन दोषों को उनकी प्राकृतिक अवस्था में दोबारा लाने के लिए बनाई गई।

यह भी पढ़ें- स्टीम बाथ के फायदे : त्वचा से लेकर दिल के लिए भी है ये फायदेमंद

कफ मिटाने वाले हर्बल रंग किस चीज से बनाएं?

जीवा आयुर्वेद के निदेशक ने कहा कि, होली की खासियत रंगों से होली खेलना है। परंपरागत तौर पर हरे रंग के लिए नीम (अजादिराष्टा इंडिका) और मेंहदी (लॉसनिया इनरमिस), लाल रंग कुमकुम और रक्तचंदन (pterocarpus santalinus,पटेरोकार्पस सांतालिनस), पीला रंग के लिए हल्दी (कुरकुमा लोंगा), नीले रंग के लिए जकरांदा के फूल तथा अन्य रंगों के लिए बिल्वा (ऐगल मार्मेलोस), अमलतास (कैसिया फिस्टुला), गेंदा (टागेटस इरेक्टा) और पीली गुलदाउदी से होली के रंग तैयार किए जाते हैं, जिनमें कफ घटाने के गुण होते हैं। डॉ. चौहान ने बताया कि, हर्बल व रंग मिलाकर पानी की बौछर करने से इनमें मौजूद औषधीय घटक त्वचा में प्रविष्ठ करते हैं और त्वचा को डिटॉक्स करने में मदद करते हैं। उन्होंने कहा कि, लोगों को होली के दौरान स्वास्थ्य लाभों को प्राप्त करने के लिए केवल आर्गेनिक हर्बल रंगों का ही उपयोग करें।

बाजार में मिलने वाले केमिकल युक्त रंगों से बचें

डॉ. प्रताप चौहान ने कहा कि, आजकल बाजार में मिलने वाले ज्यादातर रंगों में रसायन होता है और वह स्वास्थ्य के लिए असुरक्षित होते हैं। ये रंग त्वचा पर रैशेस पैदा कर सकते हैं। आयुर्वेदिक तरीके से होली खेलने के लिए जरूरी है कि, आप होली खेलने से एक दिन पहले पूरे शरीर पर सरसों का तेल लगा लें। इससे आपकी त्वचा सुरक्षित रहेगी और होली खेलने के बाद आप आसानी से रंगों को धोकर हटा सकते हैं। आप काफी मात्रा में नारियल तेल भी लगा सकते हैं। ये सुरक्षा एजेंट के रूप में कार्य करते हैं और रंगों को जड़ों में गहराई तक घुसने से रोकते हैं।

यह भी पढ़ें- प्रेग्नेंसी में ड्राई स्किन की समस्या हैं परेशान तो ये 7 घरेलू उपाय आ सकते हैं काम

आयुर्वेदिक तरीके से होली : त्वचा पर चकत्ते होने पर क्या करें?

Ayurvedic Holi 2020- आयुर्वेदिक तरीके से होली

यदि, आपकी या किसी की त्वचा पर चकत्ते हैं, तो जीवा आयुर्वेद के निदेशक डॉ. प्रताप चौहान ने इसके लिए बताया कि, इस समस्या से प्रभावित लोग अपने शरीर के प्रभावित हिस्से पर मुल्तानी मिट्टी लगा सकते हैं। एक और अच्छा घरेलू उपाय यह है कि गुलाब जल में बेसन, खाने के तेल और दूध की मलाई मिलाकर पेस्ट बना लें। चकत्ते का इलाज करने के लिए उस पेस्ट को प्रभावित जगह पर लगाएं।

त्वचा के साथ पेट की सेहत का भी रखें ध्यान

आयुर्वेदिक तरीके से होली खेलने के साथ ही आपको अपने पेट की सेहत का भी ध्यान रखना चाहिए। क्योंकि, डॉ. चौहान के मुताबिक, होली के दिन लोग काफी मात्रा में स्नैक्स और मिठाइयां खाते हैं। इससे कब्ज व पेट की समस्याएं हो सकती हैं। इसलिए, आप अपनी त्वचा का ध्यान रखने के साथ अपने पेट की सेहत का भी ध्यान रखें। सब्जियों एवं फलों से भरपूर खाना बदलते मौसम के लिहाज से बेहतर है। इसके अलावा, अपने आप को हाइड्रेटेड भी रखना जरूरी है। इसके लिए खूब पानी पीएं। लोगों को जितना अहसास होता है, उससे कहीं अधिक तेजी से वसंत की धूप और हवा में मौजूद सूखापन नमी को सोख लेता है। अपने पास छोटा-सा सीपर रखें और समय-समय पर एक-एक, दो-दो घूंट पानी पीते रहें।

यह भी पढ़ें- बच्चों की रूखी त्वचा से निजात दिला सकता है ‘ओटमील बाथ’

कौन-से रंग में कौन-सा केमिकल होता है और उसका नुकसान?

होली के काले, सफेद और सिल्वर रंगों में मेटैलिक पेस्ट की वजह से चमकने जैसी खासियत होती है, वे रंग काफी ज्यादा जहरीले और नुकसानदायक होते हैं।

  • काले रंग में लीड ऑक्साइड कैमिकल होता है, जिससे रीनल फैल्यिर हो सकता है।
  • हरे रंग में कॉपर सल्फेट होता है, जिससे आंख में एलर्जी, सूजन और अस्थाई अंधापन आ सकता है।
  • सिल्वर रंग में एलुमिनयम ब्रोमाइड होता है, जिससे कार्सिनोजेनिक की समस्या हो सकती है।
  • नीले रंग में प्रूसियन ब्लू कैमिकल होता है, जिससे कॉन्ट्रैक्ट डर्माटाइटिस हो सकता है।
  • लाल रंग में मरकरी सल्फाइट कैमिकल होता है, जिससे स्किन कैंसर जैसी समस्या हो सकती हैं, जो कि काफी खतरनाक व जानलेवा हो सकती है।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की कोई मेडिकल जानकारी नहीं दे रहा है। अगर आपको इससे जुड़े अन्य सवाल हैं तो अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

और पढ़ेंः

फिट रहने के लिए कितना % प्रोटीन रोजाना लेना है जरूरी?

इन हेल्दी फूड्स की मदद से प्रेग्नेंसी के बाद बालों का झड़ना कम करें

जानिए कितनी मात्रा में लेना चाहिए प्रोटीन

प्रोटीन सप्लीमेंट (Protein Supplement) क्या है? क्या यह सुरक्षित है?

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

    क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
    happy unhappy"
    सूत्र

    एक्सपर्ट से डॉ. प्रताप चौहान

    Menstrual Hygiene Day : मेंस्ट्रुअल डिसऑर्डर से लड़ने और हाइजीन मेंटेन करने के लिए जानिए क्या हैं आयुर्वेदिक टिप्स

    मेंस्ट्रुअल डिसऑर्डर के लिए आयुर्वेदिक टिप्स की जानकारी in hindi. मेंस्ट्रुअल डिसऑर्डर किसी को भी हो सकता है, ऐसे में आयुर्वेदिक टिप्स अपनाएं जा सकते हैं। Menstrual disorder, Ayurvedic tips

    के द्वारा लिखा गया डॉ. प्रताप चौहान
    menstrual disorders,मेंस्ट्रुअल डिसऑर्डर के लिए आयुर्वेदिक टिप्स

    आयुर्वेदिक तरीके से ऐसे मनाएं होली, त्वचा और स्वास्थ्य को बचाएं खतरनाक केमिकल वाले रंगों से

    आयुर्वेदिक तरीके से होली क्या होती है, ayurvedic holi 2020 in hindi, आयुर्वेदिक तरीके से होली कैसे खेलें, ayurvedic tarike se holi kaise khelein, holi ke liye herbal rang ke fayde, हर्बल रंग से होली खेलने के फायदे क्या हैं।

    के द्वारा लिखा गया डॉ. प्रताप चौहान
    Ayurvedic Holi 2020- आयुर्वेदिक तरीके से होली

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    कोरोना से तो जीत ली जंग, लेकिन समाज में फैले भेदभाव से कैसे लड़ें?

    कोरोना सर्वाइवर क्या होता है, कोरोना वायरस का इलाज क्या है, कोरोना वायरस और मेंटल हेल्थ, #NoToCOVIDShaming #COVIDShaming corona survivor

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Shayali Rekha
    कोरोना वायरस, कोविड-19 जुलाई 10, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

    कोरोना वायरस एयरबॉर्न : WHO कोविड-19 वायु जनित बीमारी होने पर कर रही विचार

    क्या कोरोना वायरस एयरबॉर्न है, क्या कोरोना वायरस हवा से फैलने वाली बीमारी है, हवा से फैल रहे कोरोना वायरस को कैसे रोकें, विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO), Corona virus airborne.

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Shayali Rekha
    कोरोना वायरस, कोविड-19 जुलाई 9, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

    कोरोना वायरस लेटेस्ट अपडेट्स : कोरोना संक्रमण के मामलों में तीसरे स्थान पर पहुंचा भारत

    कोरोनावायरस लेटेस्ट अपडेट्स, कोरोना संक्रमण में तीसरे स्थान पर भारत, वैज्ञानिकों का दावा कोरोना वायरस वायु जनित, क्या हवा से फैलता हैं कोरोना वायरस, Corona virus latest updates, corona cases india postition in world, coronavirus is airborne.

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Shayali Rekha
    कोरोना वायरस, कोविड-19 जुलाई 6, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

    पीएम मोदी स्पीच : देश में अनलॉक 2.0 की हुई शुरुआत, लापरवाही पड़ सकती है भारी

    पीएम मोदी स्पीच लाइव टूडे, पीएम मोदी लॉकडाउन स्पीच, क्या लॉकडाउन बढ़ेगा, PM Modi Speech Live Today PM Modi Speech covid-19

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Shayali Rekha
    कोरोना वायरस, कोविड 19 और शासन खबरें जून 30, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

    Recommended for you

    जिम और योगा सेंटर के लिए गाइडलाइन

    स्वास्थ्य मंत्रालय ने जारी किए जिम और योगा सेंटर के लिए गाइडलाइन

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Shayali Rekha
    Published on अगस्त 4, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
    कोरोना वायरस कम्युनिटी स्प्रेड कोरोना का सामुदायिक संक्रमण

    कोरोना वायरस कम्युनिटी स्प्रेड : आईएमए ने बताया भारत में कोरोना का सामुदायिक संक्रमण है भयावह

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Shayali Rekha
    Published on जुलाई 20, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
    कोरोनावायरस वैक्सीन ह्यूमन ट्रायल

    रूस ने कोरोनावायरस वैक्सीन ह्यूमन ट्रायल किया पूरा, भारत में कोरोना की दवा लॉन्च करने की तैयारी

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Shayali Rekha
    Published on जुलाई 14, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
    अमिताभ बच्चन कोरोना पॉजिटिव

    अमिताभ बच्चन ने कोरोना से जीती जंग, बेटे अभिषेक ने ट्वीट करके दी जानकारी

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Shikha Patel
    Published on जुलाई 12, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें