home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

जानिए बच्चे के लिए क्यों जरूरी है सही पोषण?

जानिए बच्चे के लिए क्यों जरूरी है सही पोषण?

आपका बच्चा बचपन में जो भी खाता है वह उसके भविष्य की नींव बनता है। अगर बच्चा स्वस्थ आहार लेगा तो आगे भी उसकी सेहत अच्छी रहेगी। आहार तो हर कोई लेता है, लेकिन सही पोषण (Healthy Nutrition) लेना क्यों जरूरी है? इसका जवाब आपको देगा हैलो स्वास्थ्य। इस संबंध में वाराणसी के सृष्टि क्लीनिक के बाल रोग विशेषज्ञ बताते हैं कि “बच्चे को आहार (Babies diet) देने और सही पोषण देने में अंतर होता है। किसी भी बच्चे के लिए सही पोषण बहुत जरूरी है। उसके आहार में हर वो चीज मौजूद होनी चाहिए जिसकी जरूरत उसके शरीर को है। सही पोषण की कमी से बच्चे के अंदर मोटपा (Obesity), एनीमिया, दांतों की समस्याएं आदि तरह की दिक्कतें सामने आती हैं। इसलिए सही पोषण देना हर पैरेंट्स का पहला दायित्व है।”

और पढ़ें : मॉर्बिड ओबेसिटी : इस मोटापे की दस्तक कई परेशानियां कर सकती हैं खड़ी!

सही पोषण बच्चे में मोटापे (Obesity) को रोकता है

सेंटर्स फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रेवेंशन (Center for disease control and prevention) के मुताबिक 2 साल से 18 साल तक के 25% बच्चों को ओवरवेट पाया गया है। बच्चों का ओवरवेट (Overweight child) होना उन्हें मोटापे (Obesity) की तरफ ले कर जाता है। जिससे उन्हें कई तरह के रोग होते हैं। जैसे टाइप 2 डायबिटीज (Type 2 Diabetes), हाय ब्लड प्रेशर (High Blood Pressure), जोड़ों में दर्द (Joints pain) आदि। आगे चल कर ये मोटापा हाय कोलेस्ट्रॉल और दिल से संबंधित बीमारियों की वजह बनता है। अपने बच्चे को अच्छी आदतें सिखाएं। उसे सही पोषण और भोजन की जानकारी दें। उसे समझाएं कि कम उम्र में मोटा होना अच्छी बात नहीं है। बच्चे को खाने में ताजे फल और सब्जियां दें। अगर आपका बच्चा मोटा हो रहा है तो उसके खाने पर ध्यान दें। कोशिश करें कि उसे कम कैलोरी का खाना दें। साथ ही उसके लिए सही पोषण की मात्रा का भी ध्यान रखें।

सही पोषण से होता है बच्चे का सही विकास (Babies Growth)

बच्चे के शरीर को कई तरह के पोषक तत्वों की जरूरत होती है। जैसे- आयरन, विटामिन (Vitamin), कैल्शियम (Calcium), मैग्निशियम, कार्बोहाइड्रेट (Carbohydrate), प्रोटीन (Protein) आदि। बच्चे को शरीर में इसकी पूर्ति होने से ही उसके शरीर का सही विकास संभव है। बच्चे की थाली में ताजे फल, सब्जियां, साबूत अनाज (Whole Grains), मीट, मछली (Fish), आयरन फोर्टिफाइड फूड (Iron fortified food) आदि शामिल करें। इसके अलावा उसके हड्डियों की मजबूती के लिए उसे दूध दें, ताकि उसके शरीर को कैल्शियम मिल सके। बच्चे को कैल्शियम की कमी कभी ना होने दें। एक बात हमेशा याद रखें कि बचपन में हड्डियों को दिया गया पोषण बुढ़ापे तक रहता है।

और पढ़ें : ये गलत फूड कॉम्बिनेशन बच्चे की सेहत पर पड़ सकते हैं भारी

बच्चे का नाश्ता (Babies breakfast) हो पोषण से भरपूर

एक प्रचलित कहावत है “सुबह का भोजन राजा की तरह, दोपहर का खाना प्रजा की तरह और रात का खाना गरीबों की तरह खाना चाहिए।“ अगर बच्चे के खाने को लेकर भी आप यही नियम अपनाते हैं तो शायद उसे सही पोषण दे पाएंगे। बच्चे के सुबह के नाश्ते में उसे सभी पोषक तत्वों से भरपूर खाना परोसे। इसके साथ ही उसे एक गिलास दूध भी दें। नाश्ता अच्छा रहेगा तो बच्चे का दिन भी अच्छा रहेगा। अमेरिकन डायटेटिक एसोसिएशन (American Diabetes Association) द्वारा जारी एक रिपोर्ट के मुताबिक जो बच्चे सुबह पौष्टिकता से भरपूर नाश्ता करते हैं, उनका दिमाग काफी तेज होता है। बच्चे के अंदर याद करने की क्षमता, सीखने की क्षमता का विकास बहुत तेजी से होता है।

और पढ़ें : ऐसे पता करें आपके शिशु का खानपान ठीक है या नहीं?

सही पोषण न मिलने के परिणाम

अब आपके मन में सवाल आ रहा होगा कि बच्चे को अगर सही पोषण नहीं मिला तो क्या परिणाम होगा? बच्चे को सही पोषण ना मिलने से उसका विकास धीमी गति से होगा। इसके अलावा वह कुपोषित भी हो सकता है। वहीं, उसके अंदर प्यूबर्टी (Puberty) आने में भी देरी हो सकती हैलड़कियों में पीरियड्स (Periods) की अनियमितता भी हो सकती है। बच्चे की हड्डियां भी कमजोर हो सकती हैं। इसलिए बच्चे को सही पोषण देना उतना ही जरूरी है, जितना कि एक पौधे को पानी देना। बतौर माता-पिता आप बच्चे को सही पोषण लेने के लिए प्रेरित करें। साथ ही उसे पोषण के सही मायने बताएं।

दाल और सब्जी का सूप का सूप है बच्चों के लिए हेल्दी रेसिपी की लिस्ट में शामिल

सही पोषण (Healthy Nutrition)

दाल और रंग-बिरंगी सब्जियों का सूप बच्चे बहुत पसंद करते हैं। इससे बच्चे को दाल द्वारा प्रोटीन (Protein) और सब्जियों के द्वारा आयरन, फोलिक एसिड (Folic acid), विटामिन-ए (Vitamin A) और फाइबर (Fiber) मिलेगा। इसे बनाना बेहद आसान है। बच्चों के लिए हेल्दी रेसिपी ढ़ूढ रहे हैं, तो दाल और सब्जी का जूस आपके लिए एक अच्छा ऑप्शन हो सकता है।

सामग्री :

धूली हुई हरी मूंग दाल – 1 टेबलस्पून

बारीक कटे टमाटर – ¼ कप

पत्तागोभी – ½ कप

पालक – 1 टेबलस्पून

पनीर – 1 टेबलस्पून

नमक – स्वादानुसार

बनाने की विधि :

पनीर और नमक को छोड़कर सभी सामग्री को एक कप पानी के साथ प्रेशर कुकर में डाल कर गैस स्टोव पर चढ़ा दें। इसके बाद तीन सीटी आ जाने दें। इसके बाद जब कुकर को खुला छोड़ दें। इसे ठंडा होने दें। जब यह ठंड़ा हो जाए तो मिक्सर में डाल कर एक स्मूद प्यूरी बना लें। फिर इसे एक नॉन-स्टीक कढ़ाई में डाल कर नमक मिलाएं। पिर इसे थोड़े समय के लिए उबालें। इसके बाद कटोरी में निकाल लें और ऊपर ले पनीर को मसलकर डाल दें। आपकी रेसिपी दाल और सब्जी का सूप तैयार है। इसे बच्चे को रोटी के साथ खिला सकती हैं।

और पढ़ें : वजन बढ़ाने के लिए एक साल के बच्चों के लिए टेस्टी और हेल्दी रेसिपी, बनाना भी है आसान

फ्रूटी चना सलाद भी है बच्चों के लिए हेल्दी रेसिपी

सही पोषण (Healthy Nutrition)

बच्चों के लिए हेल्दी रेसिपी की लिस्ट बना रहे हैं, तो आप इसमें चना सलाद को शामिल कर सकते हैं। चना आयरन का एक अच्छा स्रोत होता है। इसलिए बच्चे को ये रेसिपी जरूर दें। एक साल तक के बच्चे रंग-बिरंगी रेसिपी देख कर प्रेरित होते हैं। इस रेसिपी को बनाना चंद पलों का काम है।

सामग्री :

अच्छे से छील कर साफ किए और कटे हुए संतरें – ¼ कप

अनार के दानें – ¼ कप

कटे हुए सेब – ¼ कप

उबला हुआ काबुली चना – ½ कप

नमक – स्वादानुसार

बनाने की विधि :

एक बड़े कटोरे में काबुली चना डालें और इसके साथ ही सभी फलों को डाल दें। इन्हें अच्छे से मिलाएं और स्वादानुसार नमक डालें। फिर तुरंत इसे बच्चे को खाने के लिए दें।

बच्चों को सही पोषण देने के लिए पेरेंट्स हर संभव कोशिश करते हैं और इसमें कोई शंका भी नहीं, लेकिन कभी-कभी बच्चे की शारीरिक स्थिति या बनावट अलग होने की वजह से उन्हें एक्स्ट्रा न्यूट्रिशन की जरूरत पड़ सकती है। इसलिए डॉक्टर से कंसल्ट करें, क्योंकि हेल्थ एक्सपर्ट बच्चे की हेल्थ कंडिशन और मेडिकल हिस्ट्री को ध्यान में रखकर उनके लिए उपयुक्त डायट की जानकारी आपसे शेयर करेंगे।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Childhood Nutrition Facts/https://www.cdc.gov/healthyschools/nutrition/facts.htm/Accessed on 14/07/2021

Nutrition/https://www.healthychildren.org/English/healthy-living/nutrition/Pages/default.aspx/Accessed on 14/07/2021

Ten facts on Nutrition/https://motherchildnutrition.org/nutrition-protection-promotion/ten-facts-on-nutrition.htm/Accessed on 14/07/2021

Nutrition for kids: Guidelines for a healthy diet https://www.mayoclinic.org/healthy-lifestyle/childrens-health/in-depth/nutrition-for-kids/art-20049335 Accessed on 23/12/2019

Childhood Nutrition https://www.healthychildren.org/English/healthy-living/nutrition/Pages/Childhood-Nutrition.aspx Accessed on 23/12/2019

Early child development – Nutrition and the early years https://www.who.int/topics/early-child-development/child-nutrition/en/ Accessed on 23/12/2019

The Importance of Nutrition in Early Childhood Development https://novakdjokovicfoundation.org/importance-nutrition-early-childhood-development/ Accessed on 23/12/2019

 

लेखक की तस्वीर
Shayali Rekha द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 2 weeks ago को
Dr Sharayu Maknikar के द्वारा मेडिकल समीक्षा
x