home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

क्या सचमुच शारीरिक मेहनत हमारी नींद तय करता है?

क्या सचमुच शारीरिक मेहनत हमारी नींद तय करता है?

कई बार हमें लगता है कि शारीरिक गतिविधियों को बढ़ाने पर शरीर थक जाएगा और अच्छी नींद आएगी। लेकिन शायद आप नहीं जानते कि आपकी शारीरिक मेहनत आपकी नींद से सुधे जुड़ी हुई है। नेशनल स्लीप फाउंडेशन की रिपोर्ट के आधार पर अगर आप कंस्ट्रक्शन, फिटनेस या फिर शारीरिक तनाव से जुड़े किसी पेशे में हैं तो आपको बाकी लोगों के मुकाबले अधिक स्लीप डिस्टर्बेंस के होने की संभावना है। ऐसे में यह कहा जाना कि जी-तोड़ शारीरिक मेहनत करने से नींद अच्छी आती है तो यह सही नहीं होगा। क्योंकि हर व्यक्ति का शरीर अलग-अलग तरह से प्रतिक्रिया देता है।

और पढ़ें : ज्यादा सोने के नुकसान से बचें, जानिए कितने घंटे की नींद है आपके लिए जरूरी

जरूरत से ज्यादा कोई भी चीज सही नहीं है

हर चीज जरूरत से अधिक मात्रा में शरीर के लिए और शरीर से जुड़ी किसी भी गतिविधि के लिए हानिकारक है। बहुत अधिक मात्रा में शारीरिक मेहनत नींद डिस्टर्ब कर सकती है, लेकिन बहुत अधिक बैठे रहना ओबेसिटी(Obesity) और डायबिटीज (Diabetes) पैदा कर सकता है। इसलिए बैलेंस बनाना बहुत जरूरी है। हालांकि, कई एक्सपर्ट्स इस बात को मानते हैं कि शारीरिक क्षमता की सीमा में किया गया परिश्रम शरीर में हॉर्मोन्स को सक्रिय रखने में मदद करता है और इस वजह से अच्छी नींद आती है।

और पढ़ें : इन लक्षणों से पता चलता है कि आपकी नींद पूरी नहीं हुई है

शारीरिक मेहनत किस स्तर तक सही है

बाहर घूमना, शारीरिक मेहनत आपके शरीर और दिमाग के लिए बहुत अच्छा है और यह आपको रात की अच्छी नींद लेने में भी मदद कर सकता है। लेकिन कुछ लोगों के लिए दिन में बहुत देर तक एक्सरसाइज करना या अधिक शारीरिक मेहनत रात में आराम करने के साथ हस्तक्षेप कर सकता है।

कैसे शारीरिक मेहनत सोने में मदद कर सकता है

शोधकर्ताओं ने पूरी तरह से यह नहीं समझा कि शारीरिक गतिविधि कैसे नींद में सुधार करती है। वह कहते हैं कि हम कभी भी उस बात को साफ नहीं कर पाएं है कि दोनों कैसे संबंधित हैं।

हालांकि हम जानते हैं कि मीडियम एरोबिक एक्सरसाइज से मिलने वाली धीमी तरंग आपकी नींद को बढ़ाता है। धीमी लहर नींद आपकी गहरी नींद को बताता है जहां मस्तिष्क और शरीर को फिर से जीवंत होने का मौका मिलता है। गेमाल्डो कहते हैं कि, ”अगर आप व्यायाम करते हैं इसका मतलब आप शारीरिक मेहनत कर रहे हैं। यह आपके मनोदशा को स्थिर करने और मन को रिजुविनेट करने में मदद कर सकता है। यह एक कॉगनेटिव प्रोसेस है जो स्वाभाविक रूप से नींद के लिए जरूरी है।”

और पढ़ें : एक्सरसाइज के बारे में ये फैक्ट्स पढ़कर कल से ही शुरू कर देंगे कसरत

शारीरिक मेहनत की टाइमिंग हैं जरुरी

गमाल्डो कहते हैं कि कुछ लोगों को लग सकता है कि सोने के समय के पास एक्सरसाइज करने से उन्हें रात में नींद नहीं आती है। वर्कआउट करने से दिमाग पर क्या असर पड़ता है?

एरोबिक एक्सरसाइज शरीर से एंडोर्फिन रिलीज करता हैः ये केमिकल दिमाग में एक्टिविटी का एक स्तर बना सकते हैं जो कुछ लोगों को जगाकर रखता है। वह कहती हैं कि इन व्यक्तियों को बिस्तर पर जाने से कम से कम 1 से 2 घंटे पहले एक्सरसाइज या शारीरिक मेहनत करनी चाहिए जिससे एंडोर्फिन के स्तर को नॉर्मल होने का समय मिले और दिमाग को सोने में आसानी हो।

व्यायाम आपके शरीर के तापमान को भी बढ़ाता हैः “कुछ लोगों में शारीरिक मेहनत का प्रभाव एक हॉट बाथ लेने जैसा है जो आपको सुबह उठाता है।” गेमाल्डो कहते हैं शरीर के तापमान में बढ़त शरीर की घड़ी को बताता है कि यह जागने का समय है। लगभग 30 से 90 मिनट के बाद, शरीर का तापमान गिरने लगता है। गिरावट नींद लाने के लिए मदद करती है।

व्यायाम करने के लिए इन बायोलॉजिकल रिस्पॉन्स के बावजूद लोगो को लगता है कि दिन के किस समय वे व्यायाम करते है या नहीं करते हैं, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता है। गामाल्डो कहते हैं चाहे वह सुबह की शुरुआत हो या सोने के समय के करीब वे हो शारीरिक मेहनत का असर वो अपनी नींद में देखेंगे। अपने शरीर को जानें और अपने आप को जानें और समझें कि किस समय एक्सरसाइज करना आपके शरीर के लिए बेहतर है और किस समय एक्सरसाइज करना आपके शरीर के लिए नुकसानदायक।

और पढ़ें : फिटनेस के बारे में कितना जानते हैं, इस क्विज को खेलें और जानें।

बेहतर नींद के लिए शारीरिक मेहनत कितना चाहिए

रोगी अक्सर पूछते हैं कि बेहतर नींद के लिए उन्हें कितने शारीरिक मेहनत की जरुरत है और इस लाभ का अनुभव करने में उन्हें कितने सप्ताह महीने या साल लगेंगे।

अच्छी खबर: जो लोग कम से कम 30 मिनट के मीडियम एरोबिक व्यायाम या शारीरिक मेहनत करते है उन्हें उसी रात नींद की गुणवत्ता में अंतर दिखाई दे सकता है। डॉक्टर कहते हैं आम तौर पर इसके लाभ को देखने के लिए महीनों या सालों का समय नहीं लगता है। इसके अलावा लोगों को यह भी नहीं लगना चाहिए कि उन्हें बेहतर नींद के लिए किसी मैराथन या बहुत अधिक शारीरिक मेहनत की जरुरत है। बेहतर स्लीपर बनने के लिए आपको किसी ट्रेनिंग की जरूरत नहीं होती। शारीरिक मेहनत किसी भी तरह की हो सकती है चाहें वह एरोबिक्स हो या रनिंग हो या साइकलिंग हो।

इसके अलावा जबकि कई शोध एरोबिक एक्टिविटी और नींद पर फोकस करते हैं। गेमाल्डो कहते हैं कि आप जो व्यायाम पसंद करते हैं वह आपको साथ रहने में मदद करेगा। उदाहरण के लिए, पावर लिफ्टिंग या एक एक्टिव योगा क्लास आपके दिल की दर को बढ़ा सकती है जो दिमाग और शरीर में बायोलॉजिकल प्रोसेस को बनाने में मदद करती है जो बेहतर गुणवत्ता वाली नींद में मदद करती है। डॉक्टर कहते हैं कि हम वास्तव में लोगों को व्यायाम करने के लिए प्रोत्साहित करना चाहते हैं बस समय का ध्यान रखें और नींद की गुणवत्ता अच्छी करने के लिए यह आपकी क्षमता को प्रभावित करता है।

और पढ़ें : पुश अप वर्कआउट फिटनेस के साथ बढ़ाता है टेस्टोस्टेरॉन, जानें इसके फायदे

क्या है निष्कर्ष?

अंततः ये माना जा सकता है कि हर शरीर की अपनी क्षमता होती है। अगर उस क्षमता से अधिक काम किया जाता है तो मांसपेशियों में अकड़न आ जाती है, जिसकी वजह से समस्याएं हो सकती है। यह समस्याएं आपकी सामान्य नींद को भी प्रभावित कर सकती हैं। इसके विपरीत अगर आप अत्यधिक सुस्त हैं तो भी आपकी नींद पर गलत प्रभाव पड़ सकता है।

शारिरीक मेहनत के निम्नलिखत फायदे होते हैं

  • बढ़ा हुआ कॉन्सेंट्रेशन
  • हॉर्मोनल बैलेंस का बना रहना।
  • मोटापा घटने से शरीर हल्का रहता है और अच्छी नींद आती है।
  • शरीर को सुगठित रखने के लिए भी सक्रिय रहना और शारीरक लेबर बहुत जरूरी है।
  • बहुत अधिक श्रम आपको परेशानी में डाल सकता है लेकिन सीमित मात्रा में श्रम निश्चित ही आरामदायक नींद प्रदान कर सकता है।

सक्रिय रहें, स्वस्थ रहें!

health-tool-icon

बीएमआर कैलक्युलेटर

अपनी ऊंचाई, वजन, आयु और गतिविधि स्तर के आधार पर अपनी दैनिक कैलोरी आवश्यकताओं को निर्धारित करने के लिए हमारे कैलोरी-सेवन कैलक्युलेटर का उपयोग करें।

पुरुष

महिला

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Physical Activity and Sleep Quality – National Sleep Foundation https://www.sleepfoundation.org/articles/how-exercise-impacts-sleep-quality Accessed on 20 December 2019

Exercising for Better Sleep https://www.hopkinsmedicine.org/health/wellness-and-prevention/exercising-for-better-sleep/Accessed on 20 December 2019

A good workout can help you get great shut-eye. https://www.sleep.org/articles/exercise-affects-sleep/Accessed on 20 December 2019

Study: Physical Activity Impacts Overall Quality of Sleep https://www.sleepfoundation.org/articles/study-physical-activity-impacts-overall-quality-sleep Accessed on 20 December 2019

The Benefits of Exercise For Sleep https://thesleepdoctor.com/2017/05/22/benefits-exercise-sleep/ Accessed on 20 December 2019

What Sleep Is and Why All Kids Need It https://kidshealth.org/en/kids/not-tired.html Accessed on 20 December 2019

लेखक की तस्वीर badge
Suniti Tripathy द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 04/03/2021 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
x