पुश अप फिटनेस के साथ बढ़ाता है टेस्टोस्टेरॉन, जानें पुश अप्स के फायदे

By Medically reviewed by Dr. Hemakshi J

पुरुषों के लिए अपर बॉडी वर्कआउट में पुश अप्स पर बहुत जोर दिया जाता है। एक कारण तो यह है कि इससे चौड़ा सीना मिलने की पुरुषों की इच्छा पूरी होती है। वहीं कई पुश अप्स के फायदे भी हैं।

पुश अप्स के फायदे क्या हैं?

पुश अप्स से एब्ज, कंधे, सीने और ट्राइसेप्स को मजबूती मिलती है। यह अपर बॉडी के लिए सबसे सबसे अच्छी एक्सरसाइज में से एक है। इस वर्कआउट से पुरुषों को बॉडी में वी-शेप मिलता है। इस कारण पुरुष मजबूत और एट्रेक्टिव लगते हैं।

यह भी पढ़ें : जानें कैसा होना चाहिए आपका वर्कआउट प्लान!

कार्डिएक डिजीज में आती है कमी

एक स्टडी के मुताबिक पुश अप करने वाले पुरुषों में दिल की बीमारियों का खतरा कम हो जाता है। इसलिए आपकी अपर बॉडी ही नहीं आपके दिल के लिए भी पुश अप जरूरी हो जाते हैं। इस तरह से दिल की बीमारियों से बचना पुश अप्स के फायदे में अव्वल है।

यह भी पढ़ें – फिटनेस के लिए कुछ इस तरह करें घर पर व्यायाम

टेस्टोस्टेरॉन हॉर्मोन बढ़ता है

पुश अप्स के फायदे पुरुषों के लिए सबसे ज्यादा है क्योंकि इससे टेस्टोस्टेरॉन हॉर्मोन का स्तर बढ़ता है। यह पुरुषों के लिए बहुत लाभदायक होता है। इससे हड्डियां भी मजबूत होती हैं। आपको बता दें कि पुरुषों के दिल की सेहत के लिए यह बढ़िया वर्कआउट है।

मसल टोन और स्ट्रेंथ को बढ़ाता है

पुश अप मसल को टोन करने के साथ ही आपकी स्ट्रेंथ को भी बढ़ाते हैं। इसलिए पुश अप्स के फायदे से आपकी मसल्स भी फायदे में रहेंगी। इसे अगर विस्तार से जानना है तो हमें पुश अप के प्रकारों को भी जानना होगा।

पुश अप के कितने प्रकार हैं?

स्टैंडर्ड पुश अप (Standard pushup)

स्टैंडर्ड पुश अप वर्कआउट का सबसे आसान तरीका माना जाता है। इसे करने के लिए आपको प्लैंक की पुजिशन में आना होता है। इसके बाद नीचे की ओर यानी जमीन की ओर आएं और अपने सीने से जमीन को छुएं। दोबारा सामान्य पुजिशन में पहुंच जाएं। यह प्रक्रिया सेट के अनुसार दोहराएं। इस प्रकार के पुश अप्स के फायदे अनेक हैं।

वाइड ग्रिप पुश अप

पुश अप में स्टैंडर्ड पुश अप की अपेक्षा हाथों को कंधों की चौड़ाई से ज्यादा फैलाना पड़ता है। यह हाथों को मजबूती देता है।

clapping push ups

क्लैपिंग पुश अप

पुश अप वर्कआउट की पुजिशन में आएं और अपने शरीर को नीचे की ओर लाएं। शरीर को पीछे की ओर धक्का दें। जमीन और सीने के बीच क्लैप की जगह बने। दोबारा अपनी पुजिशन में आ जाएं। इस पुश अप्स के फायदे बहुत हैं।

यह भी पढ़ें – बेली फैट कम करने के लिए करें ये 5 एक्सरसाइज

इंक्लाइन पुश अप

बैंच की ओर मुंह करें और कंधों की चौड़ाई से ज्यादा हाथों को फैला लें। हाथों को बेंच के साइड में रखकर पुश अप (Push up) करें। इंक्लाइन पुश अप से सीने में प्रेशर पड़ता है।

incline push ups

डिक्लाइन पुश अप

डिक्लाइन पुश अप से आप मांसपेशियों को मजबूत कर सकते हैं। यह शरीर के निचले हिस्से के लिए भी यह लाभदायक होती है है। पैरों को बेंच पर रखें। आपका पेट जमीन की तरफ होना चाहिए। आपके हाथ भी जमीन पर होने चाहिए और सीधे होने चाहिए। अब अपने शरीर को तब तक नीचे की तरफ ले जाएं जब तक आपकी नाक जमीन पर न लग जाए। अब अपनी शुरुआती स्थिति में लौट आएं।

क्लोज ग्रिप पुश अप

क्लोज ग्रिप पुश अप वाइड ग्रिप पुश अप के विपरीत होती है। इसमें हाथ कंधों से दूर नहीं बल्कि उससे भी ज्यादा करीब होते हैं।

यह भी पढ़ें – व्यायाम शुरू करने वाले हैं, तो अपनाएं ये तरीके

पुश अप करने का सही तरीका क्या हैॽ

पुश अप करना ही नहीं बल्कि सही तरीके से करना जरूरी है। पुश अप्स के फायदे पाने के लिए इसे सही सतह पर करना जरूर है। ऐसी जगह में उतार-चढ़ाव नहीं होना चाहिए। यदि उतार-चढ़ाव वाली जगह पर आप पुश अप करते हैं तो यह आपके लिए नुकसानदायक भी हो सकता है। इसमें कमर सीधी होनी चाहिए।

पुश अप्स के फायदे में से एक है वजन कम होना। इससे आपका वजन तो कम होता है, साथ ही आपकी चेस्ट भी बनती है और यह आपके हाथों को और पैरों को भी मजबूत करते हैं। एक तरह से कहा जाए तो पुश अप ओवर ऑल बॉडी की एक्सरसाइज है। हर रोज कम से कम आधे घंटे की एक्सरसाइज के साथ ही डायन पर भी ध्यान देंगे तो आपका लक्ष्य दूर नहीं है। इसलिए आज से ही पुश अप्स के फायदे उठाने के लिए बताई गई एक्सरसाइज शुरू कर दें। लेकिन कुछ परिस्थितियों में आप पुश अप्स के फायदे नहीं उठा सकते हैं, क्योंकि उससे आपके शरीर को ही नुकसान होगा।

  • अगर किसी को पहले से ही कंधे में दर्द हो या रोटेटर कफ या बाईसेप टेंडन सर्जरी हुई हो, तो उसे भी पुश अप्स नहीं करने चाहिए। ऐसा करना उसके कंधे की इस समस्या को बढ़ा सकता है।
  • पुश अप्स करने के लिए आपके शरीर का ऊपरी हिस्सा और कोर मजबूत होने चाहिए। अगर आपने अभी-अभी व्यायाम करना शुरू किया है, तो आपके लिए पुश अप्स करना थोड़ा मुश्किल और हानिकारक हो सकता है। पुश अप्स के लिए सबसे पहले आपको अपने मसल्स को मजबूत करना होगा, ताकि आप बिना किसी नुकसान के इस एक्सरसाइज को कर सकें। इसलिए आपको शुरुआत में डंबल चेस्ट प्रेस प्लैंक और ट्राइसेप्स एक्सटेंशंस आदि करने चाहिए।
  • पुश अप को वजन कम करने का रोजाना का व्यायाम माना जाता है, लेकिन यदि आपका वजन अधिक है तो पुश अप न करें। अगर आप ऐसा करते हैं, तो आपकी कलाइयों में दर्द हो सकता है, क्योंकि पुश अप्स करने से आपके शरीर का पूरा भार आपकी कलाइयों पर पड़ता है। पुश अप करने से पहले अपने वजन को कम करें।
  • जिन लोगों को कोहनी, कलाई और कंधे के जोड़ों की समस्या है, उन्हें पुश अप्स नहीं करने चाहिए। अगर आप ऑस्टिओअर्थराइटिस से पीड़ित हैं, तो पुश अप्स करना दुखदायी हो सकता है। इन मामलों में तब तक पुश अप्स न करें, जब तक आपको डॉक्टर सलाह न दे। जोड़ों की यह समस्या जोड़ों से संबंधित अधिक एक्सरसाइज करने, कमजोर एक्सरसाइज तकनीक या किसी दुर्घटना के कारण हो सकती है।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की कोई भी मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है, अधिक जानकारी के लिए आप डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं।

और पढ़ें :-

कार्डियो एक्सरसाइज से रखें अपने हार्ट को हेल्दी, और भी हैं कई फायदे

अपर बॉडी में कसाव के लिए महिलाएं अपनाएं ये व्यायाम

दृढ़ निश्चय और टाइम मैनेजमेंट से तय की फैट से फिटनेस तक की जर्नी

दिल ही नहीं पूरे शरीर को फिट बना सकती है कयाकिंग

Share now :

रिव्यू की तारीख नवम्बर 22, 2019 | आखिरी बार संशोधित किया गया जनवरी 16, 2020

सूत्र
शायद आपको यह भी अच्छा लगे