वजन कम करने में सहायक डीटॉक्स वॉटर 

Medically reviewed by | By

Update Date जनवरी 28, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Share now

वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन (WHO) के अनुसार विश्वभर में साल 1975 की तुलना में अबतक मोटापे के शिकार व्यक्तियों की संख्या तीन गुणा बढ़ चुकी है। ऐसा नहीं है कि लोग अपने बढ़ते वजन की वजह से परेशान नहीं हैं लेकिन, लाख कोशिशों के बावजूद कुछ लोगों का वजन बढ़ता जाता है। आज आपको वजन कम करने के लिए बताएंगे डीटॉक्स वॉटर (detox drinks) जिसके सेवन से आप रह सकेंगे बिलकुल हिट एंड फिट।

डीटॉक्स वॉटर के सेवन से क्या-क्या फायदे हो सकते हैं?

डीटॉक्स वॉटर पीने से शरीर को निम्नलिखित फायदे मिलते हैं। जैसे-

  • डीटॉक्स वॉटर के सेवन से शरीर का तापमान नियंत्रित रहता है
  • डीटॉक्स वॉटर के सेवन से जोड़ों (Joints) से जुड़ी परेशानी कम हो सकती है
  • डीटॉक्स वॉटर स्पाइनल कॉर्ड को ठीक रखने के साथ-साथ सेंसेटिव टिशू को भी ठीक रहने में मदद करता है
  • डीटॉक्स वॉटर के सेवन से शरीर में मौजूद टॉक्सिन क भी कम किया जा सकता है

डीटॉक्स वॉटर इन परेशानियों से बचाने के साथ-साथ अन्य शारीरिक रोगों से भी दूर रखता है। इसलिए इसका सेवन लाभकारी होता है।

यह भी पढ़ें : मोटापा कम करना चाहते हैं, तो यहां पढ़ें पूरे आर्टिकल्स

शरीर को पानी की जरूरत किन परिस्थितियों में ज्यादा होती है?

निम्नलिखित शारीरिक परेशानी होने पर ज्यादा से ज्यादा पानी का सेवन करना हेल्थ के लिए लाभकारी होता है।

  • गर्मियों के मौसम में पानी का सेवन ज्यादा करना चाहिए
  • शरीर को एक्टिव रखने में पानी की अहम भूमिका होती है। इसलिए 2 से 3 लीटर पानी का सेवन रोजाना करना चाहिए
  • बुखार होने पर ज्यादा पानी पीना चाहिए
  • अगर आपको डायरिया या उल्टी हो रही है तो डिटॉक्स वॉटर का सेवन अच्छा विकल्प माना जाता है। इस पानी के सेवन से शरीर में हो रही पानी की कमी से बचा जा सकता है।

यह भी पढ़ें : जिम वाली एक्सरसाइज, जिन्हें आप घर पर आसानी से कर सकते हैं

घर पर बनाएं 9 आसान डीटॉक्स वॉटर

1. ग्रीन-टी और नींबू

ग्रीन-टी में नींबू के रस को मिलाकर पीएं। ग्रीन टी में मौजूद एंटी-ऑक्सीडेंट तत्व रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के साथ-साथ वजन कम करने में भी सहायक है। वहीं नींबू शरीर में मौजूद एक्स्ट्रा फैट को कम करने में नींबू मददगार होता है। ग्रीन-टी और नींबू से बने डीटॉक्स वॉटर के नियमित सेवन से शरीर का वजन कम किया जा सकता है।

2. चिया सीड

चिया सीड में मौजूद ओमेगा-3 फैटी एसिड, एंटी-ऑक्सिडेंट और फाइबर की प्रचुर मात्रा वजन कम करने में सहायक है। इसे नियमित रूप से सुबह खली पेट पीने से फायदा होता है।

3. बटरमिल्क (छांछ)

बटर मिल्क में विटामिन-ए, फोलेट, कैल्शियम, मैग्नीशियम, फास्फोरस, पोटैशियम, सोडियम, और ओमेगा -3 फैटी एसिड पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध होता है। यह वजन कम करने में मदद करता है, त्वचा रोगों से बचाता है, और अच्छे पाचन को बनाए रखने में मदद करता है। छाछ में एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटीऑक्सिडेंट गुण भी होते हैं।

4. नारियल पानी और कीवी

एक या दो कीवी को छील लें और उसे ब्लेंड कर लें। अब पिसे हुए कीवी को नारियल पानी में मिला लें और उसमे मिंट (पुदीना की पत्ती) मिलाएं। 10 मिनट फ्रीज में रखकर ठंडा होने दें और फिर इसे पीएं। नारियल पानी में नेचुरल इलेक्ट्रोलाइट होता है, जो वजन कम करने में सहायक होता है वहीं कीवी में विटामिन-सी शरीर में शुगर लेवल को संतुलित रखने और हार्ट से जुड़ी बीमारियों के खतरे को कम करने में मददगार है।

ये भी पढ़ें: क्या आप जानते हैं कि महिलाओं और पुरुषों की नींद में अंतर होता है?

5. डीटॉक्स वॉटर

पानी में कुछ फलों को काट कर रखलें जैसे खीरा, तरबूज और नींबू अब इस पानी में मिंट मिलाएं (बारीक कटी हुई पुदीने की पट्टी, थोड़ी सी)। 2 से 3 लीटर पानी में या सभी फल मिक्स कर के रख दें। अब इस पानी को एक दिन में पीएं।

6. जीरा पानी

एक गिलास पानी में 2 चम्मच जीरा रात को डाल दें। सुबह जीरे को पानी से अलग कर दें और अब इस पानी में नींबू का रस मिलाएं। सुबह-सुबह खली पेट में इसे पी लें या इसका सेवन पूरे दिन भी किया जा सकता है। इसके सेवन से शरीर में फैट को कम किया जा सकता है।

7. लेमन वॉटर (नींबू पानी)

एक गिलास पानी में एक नींबू के रस को मिक्स करें और इस पानी को पी जाएं। ऐसा नियमित करने से वजन कम हो सकता है।

8. शहद, नींबू और अदरक

एक गिलास गर्म पानी में शहद, नींबू का रस और पिसा हुआ अदरक मिक्स कर लें। इस पानी को गर्म रहते ही पी जाएं। शहद में विटामिन और खनिज तत्व जैसे कैल्शियम, पोटैशियम, मैग्नीशियम और मैंगनीज प्रचुर मात्रा में उपलब्ध होते हैं। शहद पाचन को ठीक करने में भी सहायक होता है।

9. धनिया डीटॉक्स वॉटर

धनिया स्वास्थ्य से जुड़े कई परेशानियों को कम करने में मददगार है। 3 कप गर्म पानी में 3 चमच धनिया मिलाएं और मिश्रण का सेवन करें। दरअसल धनिया में मौजूद पोटैशियम, लोहा, मैग्नीशियम, कैल्शियम, फोलिक एसिड और विटामिन-ए, के, और सी सहित खनिज और विटामिन मौजूद होते हैं, जो शरीर को कई रोगों से बचाते हैं और वजन कम करने में सहायक होते हैं।

10. स्ट्रॉबेरी और तुलसी डिटॉक्स वॉटर

ताजे पानी में स्ट्रॉबेरी और तुलसी के कुछ पत्तों को डाल कर रख दें। कुछ देर बाद इसी पानी का सेवन करें। स्ट्रॉबेरी में मौजूद विटामिन-सी, पोटैशियम, एंटीऑक्सिडेंट के साथ अन्य नुट्रिएंट्स मौजूद होते हैं जो सेहत के लिए लाभकारी होते हैं। वहीं तुलसी के पत्तों में भी विटामिन-एविटामिन-केकैल्शियम, आयरन और मैगनीज जैसे खनिज तत्व सेहत के लिए अच्छा माना जाता है।

11. अदरक और पुदीने के पत्ते से बनायें डिटॉक्स वॉटर

अदरक में मौजूद विटामिन और मिनिरल शरीर के लिए लाभकारी होते हैं। अदरक के टुकड़ों को पुदीने (मिंट) के पत्तों के साथ मिलाकर ताजे पानी में मिक्स कर कुछ घंटे के लिए रख दें। अब इसी पानी को पीने के लिए उपयोग करें। दरसल पुदीने की पत्ती में भी विटामिन-ए, विटामिन-सी, पोटैशियम, कैल्शियम और आयरन की उपस्थिति शरीर के लिए लाभकारी होती है। इसके सेवन से शरीर को बीमारियों से बचाया जा सकता है। जिससे आपको फिट रहने में मदद मिलती है।

इनसभी अलग-अलग तरह के डीटॉक्स वॉटर का नियमित सेवन करने से वजन कम करने के साथ-साथ अन्य बीमारियों से भी बचा जा सकता है। लेकिन, ध्यान रहे इन डीटॉक्स वाटर के सेवन से कोई शारीरिक परेशानी होती है, तो इसका सेवन न करें। वजन अगर लगातार बढ़ते रहे तो डॉक्टर से संपर्क करें। वैसे अगर आप डीटॉक्स वॉटर से जुड़े किसी तरह के कोई सवाल का जवाब जानना चाहते हैं तो विशेषज्ञों से समझना बेहतर होगा। हैलो हेल्थ ग्रुप किसी भी तरह की मेडिकल एडवाइस, इलाज और जांच की सलाह नहीं देता है।

और पढ़ें:

अगर चाहती हैं शिल्पा शेट्टी जैसा फिट होना, तो जानिए उनका फिटनेस मंत्र

पुरुषों का सेक्स स्टेमिना बढ़ाने के लिए बेस्ट हैं ये ड्रिंक्स

शिलाजीत खाने के 4 चमत्कारी फायदे – 4 Amazing Benefits Of Shilajit In Hindi

किन मेडिकल कंडिशन्स में पड़ती है आईवीएफ (IVF) की जरूरत?

Laparoscopic cholecystectomy : लैप्रोस्कोपिक कॉलेसिस्टेक्टमी क्या है?

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

    क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
    happy unhappy"
    सूत्र

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    Anxiety : चिंता क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

    चिंता हमारे शरीर द्वारा दी जाने वाली एक प्रतिक्रिया है, जो कि काफी आम और सामान्य है। कई मायनों में यह अच्छी भी है, पर ज्यादा होना बीमारी का कारण बन जाता है।

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Surender Aggarwal
    हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z जून 10, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

    Vertigo : वर्टिगो क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

    वर्टिगो में आपको चक्कर आने लगते हैं, जो कि किसी अन्य बीमारी का लक्षण होता है। जानते हैं वर्टिगो का कैसे पता लगायें और कैसे मिलेगी राहत। Vertigo in Hindi.

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Surender Aggarwal
    हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z जून 10, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

    क्या आपकी लॉन्ग टाइम वाली सिटिंग जॉब है? हो सकता है आपको “डॉर्मेंट बट सिंड्रोम”

    डॉर्मेंट बट सिंड्रोम ट्रीटमेंट, डॉर्मेंट बट सिंड्रोम क्या है, इसके लक्षण, ग्लूटस मेडियस सिंड्रोम ट्रीटमेंट, हैमस्ट्रिंग कर्ल, सिंगल लेग ब्रिज, रोमानियन डेडलिफ्ट (romanian deadlift) जैसे वर्कआउट कूल्हे की मांसपेशियों को आराम पहुंचाते हैं...dormant butt syndrome treatment in hindi

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Shikha Patel
    फिटनेस, स्वस्थ जीवन जून 3, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

    डायट एंड इटिंग प्लान- ए-जेड : वेट लॉस और वेट मैनेजमेंट की पूरी जानकारी

    मशहुर डायट एंड इटिंग प्लान- ए-जेड के बारे में जानना चाहते हैं तो इसे पढ़े। डायट एंड वेट मैनेजमेंट करना चाहते हैं? Diet and Eating Plan A-Z in Hindi.

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Mousumi Dutta

    Recommended for you

    south indian food for weight loss- वेट लॉस के लिए साउथ इंडियन फूड, dosai, idli

    वेट लॉस के लिए साउथ इंडियन फूड करेंगे मदद

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Surender Aggarwal
    Published on जून 30, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
    Throat Ulcers : गले में छाले

    Throat Ulcers : गले में छाले क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Surender Aggarwal
    Published on जून 11, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
    Fatigue : थकान

    Fatigue : थकान क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Surender Aggarwal
    Published on जून 11, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
    Testicular Pain : अंडकोष में दर्द

    Testicular Pain : अंडकोष में दर्द क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Surender Aggarwal
    Published on जून 10, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें