होटल में आपके साथ हो सकते हैं अनचाहे मेहमान, साथ लाते हैं एलर्जी

By Medically reviewed by Dr Sharayu Maknikar

हम में से लगभग हर कोई कभी ना कभी सफर करता ही है। सफर के दौरान होटल एक ऐसा विकल्प है, जो हमारे रहने और रेस्ट करने का ठिकाना बनता है। यात्रा करते समय आपका होटल घर से दूर आपका घर होता है। लेकिन, आपके और आपके परिवार के साथ बिन बुलाए मेहमान आपके होटल में रह सकते हैं। आपके होटल का कमरा कीटाणुओं (Germs) और पैरासाइट्स (Parasites) से भरा हो सकता है, जो आपके स्वास्थ्य के लिए खतरनाक साबित हो सकते हैं। 

इससे पहले कि आप अपने अगले ट्रिप के बारे में सोचें, जान लें कि होटल के कमरों में क्या खतरे हो सकते हैं और यात्रा के दौरान इन बीमारियों से कैसे बचा जा सकता है।

ये भी पढ़ें- एलर्जी से हैं परेशान? तो खाएं ये पावर फूड

खराब वायु गुणवत्ता

आपके होटल के कमरे के अंदर की हवा की गुणवत्ता (Poor Air Quality) आपकी सेहत को नुकसान पहुंचा सकती है और घर से दूर आपके बीमार होने की आशंका को बढ़ा सकती है। सही वेंटेलेशन न होने पर  हवा स्वास्थ्य के लिए नुकसानदायक हो सकती है। यह शरीर में कई परेशानियों को बढ़ा सकती है। अमेरिका स्थित इंडियानापोलिस में इंडियाना यूनिवर्सिटी स्कूल ऑफ मेडिसिन और आईयू हेल्थ ट्रैवल मेडिसिन के एमडी डॉक्टर गेलेन केल्टन कहते हैं कि इस तरह की हवा एलर्जी बढ़ा सकती है और परेशानी बढ़ने का कारण बन सकती है।

सिगरेट का धुआं एक आम परेशानी है। भारत के ज्यादातर होटलों में आपको ध्रूमपान करने की परमिशन होती है। लेकिन, जब कोई नॉन स्मोकर ऐसे कमरे में जाता है, जहां लोग पहले स्मोकिंग कर चुके हैं, तो उसे सिगरेट की दुर्गंध से परेशानी हो सकती है।

डॉक्टर केल्टन का कहना है कि अगर आपको अपने होटल के कमरे में धुएं या बासी हवा की बदबू आती है, तो पंखे या एयर कंडीशनर को चालू करने से बचें। अगर एयर फिल्टर नियमित रूप से नहीं बदले जाते हैं, तो ऐसे में परेशानी बद से बदतर हो सकती है और आपके होटल के कमरे में और अधिक पैरासाइट्स हो सकते हैं। ऐसे में कमरे में कुछ ताजी हवा लाने के लिए खिड़कियां खोल दें।

ये भी पढ़ें- बच्चों में दिखाई दें ये लक्षण तो हो सकती है मिल्क एलर्जी, न करें इग्नोर

अनेपक्षित जगहों पर रोगाणु

ज्यादातर लोग एक होटल जैसे सार्वजनिक स्थानों पर दरवाजे के हैंडल और शौचालय जैसी जगहों पर कीटाणुओं के होने की उम्मीद करते हैं। लेकिन शोध से पता चलता है कि होटल के कमरों में कीटाणुओं की संख्या सबसे ज्यादा वहां होती है जहां अक्सर लोग छूने से संकोच नहीं करते।

अमेरिकन सोसाइटी फॉर माइक्रोबायोलॉजी में 2012 में किए गए नौ होटल के कमरों के एक छोटे से अध्ययन से पता चला कि रिमोट कंट्रोल, टेलीफोन, कालीन और बेडसाइड लैंप स्विच में सबसे ज्यादा के फेकल(fecal) और एरोबिक बैक्टीरिया होते हैं। इस प्रकार के बैक्टीरिया लोगों में गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल बीमारियों का कारण बन सकते हैं। 

शोधकर्ताओं ने पाया कि होटल में सफाईकर्मियों के पास सफाई करने के लिए मॉप्स(mopes) और स्पॉन्ज(sponges) में भी दोनों प्रकार के जीवाणुओं का स्तर अधिक था। यह सफाई करते समय एक कमरे से दूसरे कमरे में संभावित रोग फैलाने वाले कीटाणुओं को फैलाने का जोखिम बढ़ा देते हैं।

होटल के कमरे में कीटाणुओं की वजह से अपनी यात्रा को खराब करने से बचाने के लिए सैनिटाइजिंग वाइप्स लाएं और अपने कमरे में चेक-इन करने के बाद बार-बार जिन जगहों को छूने की जरुरत पड़े उसे पोंछ दें। होटल में रहने के दौरान बार-बार हाथ धोना भी याद रखें।

ये भी पढ़ें- ढूंढ रहे हैं डिलिवरी रूम के लिए एलर्जी फ्री फूल? ये हैं बढ़िया विकल्प

फिसलने का खतरा

केल्टन कहते हैं कि कीटाणु वास्तव में होटल के कमरे के बाथरूम में कीटाणु आपके अनुमान से कम हो सकते हैं। स्वस्थ यात्रा के लिए बड़ा खतरा है अंजान जगह पर पैर का फिसलना और गिर जाना भी होता है। केल्टन कहते हैं, “सफर के दौरान किसी चीज पर फिसलने और गिरने से ज्यादा दुर्घटनाएं होती हैं।”

होटल के कमरे के बाथरूम में आप घर पर उपयोग किए जाने वाले बाथरुम से एक अलग सेटअप का सामना करते हैं और उस फर्श पर गिरने के ज्यादा चांसेज होते है। उदाहरण के लिए आपको अपने घर के बाथरुम की आदत हो जाती है। लेकिन होटल में कई बार अलग-अलग स्टाइल के बाथरुम होते हैं और कहीं-कहीं अधिक स्लीप होने वाले फर्श होते हैं। होटल के कमरे के फर्श पर चटाई या कालीन नहीं हो सकता है और गीला होने पर फिसलन हो सकती है।

बाथरूम में एक और अनदेखा खतरा है स्कैल्प बर्न। केल्टन कहते हैं “होटल में गर्म पानी का तापमान घर की तुलना में अधिक होता है, इसलिए आपको उचित रूप से तापमान को जांचने की जरुरत होती है। बच्चे घर पर सभी तरह से गर्म पानी चालू कर सकते हैं और ठीक रह सकते हैं, लेकिन होटल का पानी ज्यादा गर्म होता है इसलिए माता-पिता को होटल में बच्चों का खास ध्यान रखना पड़ता है।

केल्टन का कहना है कि अगर आप अपने सफर के दौरान टैप वॉटर नहीं पीते हैं, तो होटल में भी ऐसा ही करें। इसका मतलब है कि अपने कमरे में पीने के साथ-साथ अपने टुथ ब्रश करने के लिए फिल्टर्ड पानी का उपयोग करें।

ये भी पढ़ें- स्किन एलर्जी से राहत पाने के 4 आसान घरेलू उपाय

एलर्जी और सेंसिटिविटी

डस्ट माइट्स, डाउन कम्फर्ट्स और दूसरे संभावित एलर्जन विशेष रूप से संवेदनशील यात्रियों में परेशानी को और बढ़ा सकते हैं। खासकर एलर्जी और अस्थमा से पीड़ित लोगों में ये सारी चीजें एलर्जी को ट्रिगर कर सकती हैं।

अगर आपकी त्वचा एलर्जिक या सेंसेटिव है, तो आप अपने होटल में पूछने के लिए कॉल कर सकते है कि क्या होटल एलर्जी के अनुकूल कमरे बुक कर सकता है या अगर वे आपको बता सकते हैं कि वे कौन से सफाई उत्पादों का उपयोग करते हैं। अगर आप सेंसिटिव हैं, तो हार्ड क्लीनिंग सॉल्यूशन या कपड़े धोने वाले डिटर्जेंट से भी परेशानी हो सकती हैं। कुछ होटल में आप फैदर पिलो की जगह फोम पिलो ऑर्डर कर सकते हैं।

अगर आप सेंसिटिव स्कीन वाले हैं, तो होटलों में लुभाने वाले मुफ्त टॉयलेटरीज को नहीं आजमाना चाहिए। एक नए साबुन या शैम्पू का उपयोग करने से कुछ लोगो को रिएक्शन हो सकता है।

ये भी पढ़ें- प्रदूषण से भारतीयों की जिंदगी के कम हो रहे सात साल, शिशुओं को भी खतरा

खटमल

बेड बग्स के बारे में सोचने वाली बात यह है कि वे अभी भी ये एक बड़ी समस्या हैं। ये खून चूसने वाले कीड़े लोगों को काटते हैं। बेड बग्स के काटने से त्वचा में हल्की चुभन हो सकती है, लेकिन यह चुभन बढ़ सकती है और सूजन शुरु हो सकती है, जो आगे तेज खुजली का कारण बन सकती है।

खटमल में 40 से अधिक रोग पैदा करने वाले पैथोजन का पता लगाया गया है, लेकिन अभी तक अच्छी खबर यह है कि कोई निश्चित सबूत नहीं है कि वे किसी भी बीमारी को मनुष्यों तक पहुंचाते हैं।

होटल में जाते हैं, तो बेड बग का डिनर बनने के जोखिम को कम करने के लिए इन उपायों का पालन कर सकते हैंः

  • बेड बग्स के संकेत के लिए गद्दा, बॉक्स स्प्रिंग और हेडबोर्ड के पीछे की जांच करें। इनके संकेत भूरे रंग के धब्बे (जो बग्स के मल हो सकते हैं) और बेड बग की खाल शामिल हो सकती हैं। गद्दे की पाइपिंग में भी कीड़े पनाह ले सकते हैं।
  • अपने सामान या दूसरी निजी वस्तुओं को बिस्तर या दूसरे नरम जगहों जैसे सोफे पर ना डाले। होटल के सोफे ज्यादातर लोग इस्तेमाल नहीं करते और इनपर कीड़े हो सकते हैं। ड्रेसर या सामान रैक पर कपड़े और सामान रखें।
  • उपयोग ना होने पर अपने सूटकेस, ब्रीफकेस और कंप्यूटर को बंद रखें।

इन सावधानियों को ध्यान में रखने के लिए कुछ जासूसी के काम जरुर शामिल हैं, लेकिन यह सभी एक बेहतर यात्रा अनुभव में बदल जाता है।

और पढ़ें- अपनी डायट में शामिल करें ये 7 चीजें, वायरल इंफेक्शन से रहेंगे कोसों दूर

हेल्थ सप्लिमेंट्स का बेहतर विकल्प बन सकते हैं ये फूड, डायट में करें शामिल

अभी शेयर करें

रिव्यू की तारीख नवम्बर 4, 2019 | आखिरी बार संशोधित किया गया नवम्बर 5, 2019

शायद आपको यह भी अच्छा लगे