backup og meta

कहीं एड़ियों में दर्द का कारण हाई हील्स तो नहीं!

के द्वारा एक्स्पर्टली रिव्यूड डॉ. अभिषेक कानडे · आयुर्वेदा · Hello Swasthya


Priyanka Srivastava द्वारा लिखित · अपडेटेड 24/06/2021

कहीं एड़ियों में दर्द का कारण हाई हील्स तो नहीं!

हाई हील्स का फैशन कभी नहीं जाता। हर लड़की के लिए सुंदर दिखना उसकी पहली प्राथमिकता होती है और हाई हील्स पर्सनैलिटी को उभारने का काम करती हैं। कुछ लड़कियां ड्रेस से मैचिंग तो कुछ अपने कद को ऊंचा दिखाने के लिए हाई हील्स पहनती हैं। हो सकता है कि हाई हील्स आपकी पर्सनैलिटी को थोड़ी देर के लिए बेहतर बना दे पर आगे चलकर हाई हील्स के साइड इफेक्ट्स भी हो सकते हैं। इसलिए हील्स पहनने से पहले हाई हील्स के साइड इफेक्ट्स (हाई हिल्स के नुकसान) जानना जरूरी है।

और पढ़ें : ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एप्निया: इस वजह से सोते समय आते हैं खर्राटें

हाई हील्स के साइड इफेक्ट्स क्या हैं? (Side effects of high heels) 

हाई हील्स के साइड इफेक्ट्स : बैक पेन

पूरा दिन हाई हील्स पहनकर रखने से ज्यादातर महिलाओं को बैक पेन की गंभीर समस्या हो जाती है। ऐसा अधिकतर वर्किंग वीमेन के साथ होता है। दरअसल हाई हील्स पहनकर चलने से हमारी बॉडी आगे की ओर थोड़ी झुकी रहती है जिससे पीठ के निचले हिस्से में दर्द होने लगता है। अगर ध्यान न दिया जाए तो बैक पेन एक गंभीर समस्या बन जाती है और ये आसानी से जाता भी नहीं है।

और पढ़ें : Sickle Cell Anemia: सिकल सेल एनीमिया क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

हाई हील्स के साइड इफेक्ट्स : घुटनो में दर्द

हाई हील्स पहनने से सबसे ज्यादा जोर घुटनों पर पड़ता है क्योंकि शरीर का सारा वजन घुटनों पर आ जाता है इसीलिए हाई हील्स पहनकर चलने से घुटनों में दर्द की शिकायत हो जाती है। सारा दिन हील्स पहनकर चलने से शाम तक तो पैरों की बहुत बुरी हालत हो जाती है। हाई हील्स के साइड इफेक्ट्स में घुटनों का दर्द मुख्य रूप से शामिल है।

हाई हील्स के साइड इफेक्ट्स : कमर दर्द

जब हम हाई हील्स पहन कर चलते हैं तो सारा वजन कुछ ऐसे बंट जाता है कि आपके घुटने आगे की ओर और कमर पीछे की ओर हो जाती है और शरीर का पोश्चर पूरी तरह से बिगड़ जाता है। भले ही आपको लगे कि ये मॉडलिंग का पोज है पर इसमें कमर की बहुत बुरी हालत हो जाती है।

और पढ़ें : स्लीप डिसऑर्डर: जानिए इसके कारण, लक्षण और उपाय

हाई हील्स के साइड इफेक्ट्स : स्पाइन का प्रॉब्लम

हाई हील्स पहनने से स्पाइन में प्रॉब्लम भी हो सकती है इसलिए बहुत ज्यादा देर तक हील्स पहनना ठीक नहीं।

हाई हील्स के साइड इफेक्ट्स : बैलेंसिंग प्रॉब्लम

हमारा शरीर ऐसे बना हुआ है कि उसके वजन का संतुलन बंटा हुआ है इसलिए जब आप हाई हील्स पहनती हैं तो ये संतुलन बिगड़ जाता है और शरीर में कई जगह दर्द होना शुरू हो जाता है। जैसे पैर के आगे का हिस्सा, घुटने और कमर। बहुत बार तो लोग इतनी हाई हील्स पहने लेते हैं कि संतुलन ऐसा बिगाड़ता है कि वो चलते -चलते खुद को ही नहीं संभाल पाते और गिर जाते हैं।

हाई हील्स के साइड इफेक्ट्स : ज्वॉइंट पेन

हाई हील्स पहनने से शरीर का वजन गलत तरीके से बंट जाता है जिससे ज्वॉइंट पर ज्यादा प्रेशर पड़ता है। यही वजह है कि जो लोग हाई हील्स पहनते हैं उन्हें ज्वॉइंट पेन की शिकायत ज्यादा होती है।

और पढ़ें : मर्लेगिया पार्थेटिका क्या है: आखिर क्यों इसके कारण जांघों में झुनझुनी जैसा महसूस होता है?

हाई हील्स के साइड इफेक्ट्स से होने वाले दर्द से राहत पाने के उपाय (Tips to avoid high heels pain) 

  • हाई हील्स के साइड इफेक्ट्स के कारण पीठ दर्द (Back pain) है, तो उसमें बर्फ की सिंकाई भी कर सकते हैं, इससे दर्द में आपको काफी आराम मिलेगा। इसी तरह हीटिंग पैड से सिंकाई करने पर भी बैक पेन में राहत मिलती है। लेकिन, इसका इस्तेमाल करने से पहले उस पर दिए गए निर्देशों को ठीक से पढ़ें। इसे ज्यादा गर्म इस्तेमाल न करें, नहीं तो जलने का खतरा रहता है।
  • पीठ दर्द से छुटकारा पाने के लिए नियमित रूप से व्यायाम जरूरी है। इसके लिए टहलना, योग और स्विमिंग जैसी एक्सरसाइज (Workout) बहुत फायदेमंद हैं। इससे मांशपेशियों का तनाव दूर होता है और दर्द में राहत भी मिलती है। इसके लिए स्ट्रेचिंग जैसे व्यायाम भी प्रभावकारी है।
  • कभी-कभी हाई हील्स के कारण आपको एड़ियों में भी दर्द हो जाता है। एड़ियों में होने वाले दर्द से राहत पाने के लिए आप निम्न तरीकों को अपना सकते हैं। 
  1. पैडिंग, टेपिंग और स्ट्रैपिंग- जूते में पैड रखने से हील पेन को कम हो जा सकता है। टैपिंग और स्ट्रैपिंग से पैर को सहारा मिलता है और इससे टखने पर खिंचाव कम होता है।
  2. ऑर्थोटिक डिवाइस-  कस्टम ऑर्थोटिक उपकरण जूते में फिट होते हैं, जो कि प्लास्टार फासिसाइटिस के कारण पैर के अंदर हुई असामान्यताओं को ठीक करने में मदद करते हैं।
  3. इंजेक्शन थेरेपी- कुछ मामलों में, कॉर्टिकोस्टेरॉइड इंजेक्शन सूजन कम करने और दर्द दूर करने में मदद करने के लिए उपयोग किए जाते हैं।
  4. रीयूजेबल कास्ट या हील पेन सॉक्स- रीयूजेबल कास्ट या हील पैन सॉक्स की मदद से चलने के समय एड़ी में इनका इस्तेमाल किया जा सकता है और सोते समय इन्हें आसानी से हटाया भी जा सकता है।
  5. फिजिकल थेरिपी- राहत प्रदान करने में मदद के लिए व्यायाम और अन्य भौतिक चिकित्सा उपायों का उपयोग भी किया जा सकता है।

हाई हील्स के साइड इफेक्ट्स के कारण पीठ और कमर दर्द में करें ये योगासन (Yoga for back & lower back pain)

पीठ दर्द में करें सर्वांगासन (Sarvangasana)

कैसे करें?

  • सर्वांगासन करने के लिए सबसे पहले जमीन पर लेट जाएं।
  • अब अंदर की तरफ सांस लें और अपने पैरों को ऊपर की तरफ ले जाएं।
  • अपने पैरों के बाद कमर और फिर छाती को थोड़ा ऊपर ले जाएं।
  • अपनी पीठ को अपने हाथों का सहारा दें।
  • ध्यान रहे इस दौरान आपके पैर और कमर दोनों सीधे हों।
  • कुछ देर ऐसे ही मुद्रा में रहें और सांस बाहर ले जाएं और अंदर लें।
  • इसके बाद धीरे-धीरे सामान्य स्थिति में वापस आ जाएं।
  • आसान को दोहराएं।
  • इस आसन में पूरा भार कंधों पर पड़ता है।
  • कमर दर्द में करें मकरासन (Makarasana)

    कैसे करें?

    • मकरासन को करने के लिए जमीन पर पेट के बल लेट जाएं।
    • अपने शरीर को थोड़ा ढीला छोड़ दें।
    • अपने पैरों के बीच थोड़ा फासला रखें।
    • अब अपने सिर, कंधे और छाती को थोड़ा-सा ऊपर उठाएं।
    • अपनी दोनों भुजाओं को मोड़ कर अपने चेहरे के नीचे एक दूसरे के ऊपर रखें।
    • आंखों को बंद रखें और गहरी सांस लें।
    • अब कुछ देर बाद आंखें खोल कर सामान्य स्थित में आ जाएं।
    • अच्छे परिणाम पाने के लिए रोजाना इस आसन को 8 -10 बार दोहराएं।

    हाई हील्स भले ही फैशन में चार चांद लगा दें पर हाई हील्स के साइड इफेक्ट्स भी कम नहीं हैं। इसका ये मतलब बिलकुल नहीं है कि आप हाई हील्स पहनना छोड़ दीजिए पर जितना हो सके पूरे दिन हील्स पहनने से बचें। ऐसा बिलकुल नहीं है कि कम हील्स या फ्लैट में आप अच्छी नहीं दिखेंगी बल्कि आज तो बाजार में फ्लैट और कम हील्स में बहुत वैराइटीज मौजूद हैं जो आपको ट्राई करना चाहिए इससे सेहत पर भी बुरा असर नहीं पड़ेगा। हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है। अगर आपको किसी भी तरह की समस्या हो तो आप अपने डॉक्टर से जरूर पूछ लें।

    डिस्क्लेमर

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    के द्वारा एक्स्पर्टली रिव्यूड

    डॉ. अभिषेक कानडे

    आयुर्वेदा · Hello Swasthya


    Priyanka Srivastava द्वारा लिखित · अपडेटेड 24/06/2021

    ad iconadvertisement

    Was this article helpful?

    ad iconadvertisement
    ad iconadvertisement