home

आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

पुरुषों के लिए वैक्सिंग कितनी सही और गलत? जरूर पढ़ें यह आर्टिकल

पुरुषों के लिए वैक्सिंग कितनी सही और गलत? जरूर पढ़ें यह आर्टिकल

पुरुषों के लिए वैक्सिंग कराना अब ट्रेंड बन गया है। हर पुरुष हेयर फ्री दिखना चाहता है। एक तरफ चेहरे पर दाड़ी मूंछ रखने का ट्रेंड बढ़ा है तो वहीं, दूसरी तरफ क्लीन चेस्ट या अंडरआर्म्स को हेयर फ्री रखने का ट्रेंड तेजी से फलफूल रहा है। क्लीन चेस्ट और अंडरआर्म्स को हेयर फ्री रखने के लिए पुरुषों के लिए वैक्सिंग काफी हद तक मददगार ही है। इससे पहले सिर्फ महिलाएं हाथ पैरों को क्लीन रखने के लिए वैक्सिंग कराती थीं। पुरुषों के लिए वैक्सिंग कराते वक्त कुछ खास बातों का ध्यान रखना जरूरी है। साथ ही आपके लिए यह जानना भी जरूरी है कि पुरुषों के लिए वैक्सिंग कराना कितना सही है या गलत। आज हम इस आर्टिकल में आपको पुरुषों के लिए वैक्सिंग के बारे में विस्तृत जानकारी देंगे।

पुरुषों के लिए वैक्सिंग सही या गलत?

वैक्स में कई प्रकार के केमिकल्स मिले होते हैं। यह केमिकल्स हर व्यक्ति की स्किन पर अलग तरह से प्रतिक्रिया देते हैं। कुछ पुरुषों की स्किन काफी संवेदनशील होती है। केमिकल्स के संपर्क में आते ही वह तुरंत रिएक्शन दिखा सकती है। नतीजतन साइड इफेक्ट्स सामने आते हैं। हर व्यक्ति की त्वचा में रोम छिद्र (सूक्ष्म छेद) होते हैं। पुरुषों के लिए वैक्सिंग कराने से वैक्स त्वचा के इन सूक्ष्म छिद्रों के संपर्क में आ सकती है। हालांकि, कुछ मामलों में ऐसा होने पर यह खतरनाक साबित होता है। वैक्सिंग कराने के बाद यदि आप लंबे समय तक अपनी त्वचा को साफ और उसमें नमी बनाए रखते हैं तो आपकी त्वचा कोमल बनी रहती है। ऐसा होने पर स्किन को किसी भी प्रकार का नुकसान नहीं पहुंचता है। चूंकि वैक्स हर स्किन पर अलग ढंग से प्रतिक्रिया देती है, ऐसे में यह कह पाना मुश्किल होगा कि आपकी स्किन पर वैक्स किस प्रकार का रिएक्शन दिखाएगी।

इन बातों का रखें ध्यान

पुरुषों के लिए वैक्सिंग में सबसे महत्वपूर्ण है कि वो वैक्स कराने के तुरंत बाद स्किन के उस हिस्से को सूर्य की रोशनी के संपर्क में आने से बचाकर रखें। वैक्सिंग के बाद स्किन के सूर्य की किरणों के संपर्क में आने से आपको खतरनाक साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं। स्किन रिएक्शन का अनुमान लगाने के लिए वैक्सिंग कराते वक्त त्वचा के एक छोटे हिस्से पर पहले वैक्स लगाएं। ऐसा करने से आपको वैक्स के रिएक्शन के बारे में पता चल सकता है। ऐसे में आपको वैक्सिंग करानी है या नहीं? यह फैसला व्यक्तिगत रूप से आपका है।

पुरुषों के लिए वैक्सिंग होती है पेनफुल?

महिलाओं के मुकाबले पुरुषों के सिर के अतिरिक्त त्वचा के अन्य हिस्सों पर उगने वाले बाल ज्यादा सख्त होते हैं। वैक्सिंग में इन्हें जड़ से उखाड़ा जाता है। यदि आप पहली या दूसरी बार वैक्सिंग कराने जा रहे हैं तो यह आपके लिए थोड़ा दर्द भरा हो सकता है। हालांकि, यहां पर इस बात का उल्लेख करना जरूरी है कि हर व्यक्ति के लिए दर्द सहन करने की सीमा अलग होती है। इस स्थिति में पुरुषों के लिए वैक्सिंग दर्द भरी हो सकती है। वैक्सिंग करते वक्त यदि वैक्स करने वाला तुरंत और तेजी से वैक्सिंग करे तो इसमें दर्द कम होता है। एक या दो बार वैक्सिंग कराने के बाद आपकी बॉडी दर्द के प्रति सहज हो सकती है।

यह भी पढ़ें – यह वैक्सिंग टिप्स (Waxing Tips) फॉलो कर पाएं वैक्सिंग के बाद होने वाली समस्याओं से निजात

क्या वैक्सिंग से होती है एलर्जी?

यह पहले ही स्पष्ट कर दिया गया है कि हर पुरुष की त्वचा की संवेदनशीलता अलग होती है। ऐसे कई पुरुष होते हैं, जिन्हें वैक्सिंग कराने के बाद तुरंत स्किन पर रैशेज या लालिमा पड़ जाती है। ऐसे में पुरुषों के लिए वैक्सिंग को पूरी तरह एलर्जी फ्री नहीं कहा जा सकता। इससे बचने के लिए स्किन के छोटे हिस्से पर वैक्सिंग करके इसका परीक्षण किया जा सकता है। यदि आपको मुंहासे या आप अन्य प्रकार के स्टेरॉयड का इस्तेमाल करते हैं तो आपकी त्वचा बेहद ही संवेदनशील हो सकती है। इस स्थिति में वैक्सिंग कराना नुकसानदायक हो सकता है।

यह भी पढ़ें: Betamethasone Valerte+Clioquinol Cream: बेटामेथासोन वैलरेट+क्लिओकिनोल क्रीम क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

पुरुषों के लिए वैक्सिंग से जुड़े वहम और उनकी सच्चाई

वैक्सिंग के बाद बाल होते हैं मोटे और सख्त

अक्सर पुरुषों के दिमाग में रहता है कि यदि वो वैक्स कराएंगे तो अगली बार उनके बाल और ज्यादा मोटे और सख्त उगेंगे। हकीकत में यह पूर्णतः गलत है। वैक्सिंग कराने से बाल मुलायम और पतले उगते हैं क्योंकि, वैक्सिंग में इन्हें जड़ से उखाड़ा जाता है। बार बार वैक्स कराने से बालों की ग्रोथ रुक जाती है और स्किन के भीतर से बाहर निकलने की प्रक्रिया धीमी हो जाती है। यदि यह वहम सत्य होता तो शायद कोई महिला और पुरुष मौजूदा समय में वैक्सिंग नहीं करा रहे होते।

वैक्सिंग से स्किन जल जाती है

पुरुषों के लिए वैक्सिंग कई बार महंगी पड़ जाती है। वैक्स को अतिरिक्त रूप से गर्म करने पर यह त्वचा को जला देती है। हालांकि, यह सिर्फ वैक्स से नहीं होता बल्कि, कई दवाइयों के साइड इफेक्ट्स से भी त्वचा जल जाती है या वैक्सिंग से पहले यह ज्यादा एक्सफोलिटेड हो जाती है। इसके अलावा, यदि आप स्किन के एक ही हिस्से को दो बार वैक्स कर देते हैं तो त्वचा जल सकती है। पहली बार वैक्स करने पर त्वचा की सुरक्षात्मक लेयर निकल जाती है और दूसरी बार ऐसा होने पर सीधे त्वचा को नुकसान पहुंचता है।

वैक्सिंग के लिए बड़े बाल होना जरूरी

यह बात पूरी तरह से सत्य है। बालों को उचित रूप से वैक्स के माध्यम से जड़ से उखाड़ने के लिए उनका 1/4 इंच बड़ा होना जरूरी है। इसमें कोई दोराय नहीं कि वैक्सिंग के लिए बालों का न ज्यादा बड़ा होना चाहिए और न ही ज्यादा छोटा। छोटे बाल वैक्स में चिपकेंगे नहीं और बड़े बालों की वैक्सिंग करने से वो आपको और ज्यादा दर्द दे सकते हैं।

वैक्सिंग से त्वचा पर पड़ती हैं झुर्रियां

यह तथ्य पूरी तरह से गलत है। संभवतः हेयर रिमूवल की अन्य इंडस्ट्री से जुड़े लोगों ने इसे फैलाया है, जिससे लोग मशीनों से हेयर रिमूवल कराएं। समाज में महिलाओं की एक बड़ी संख्या वैक्सिंग कराती है। शायद उस तबके को अपने ग्राहक के रूप में बदलने के लिए इस प्रकार के झूठ को फैलाया गया हो। हालांकि, यह बात सत्य है कि वैक्सिंग के बाद त्वचा धूप के संपर्क में आने पर और खराब होती है। वैक्सिंग के दौरान त्वचा को खींचा या ताना नहीं जाता है। वैक्सिंग में सिर्फ बालों को खींचा जाता है। ऐसे में वैक्सिंग के दौरान त्वचा पर झुर्रियां पड़ने की बात कहना पूरी तरह गलत है।

वैक्सिंग से पहले पेनकिलर दवा खानी

इस तथ्य में किसी भी प्रकार की सच्चाई नहीं है। हकीकत में जिन लोगों की त्वचा अतिरिक्त रूप से संवेदनशील होती है, उन्हें वैक्सिंग में अधिक दर्द का अहसास होता है। ऐसे पुरुषों को वैक्सिंग से पहले उस असहजता से बचने के लिए पेनकिलर दवा खाने की सलाह दी जाती है। हालांकि कैफीन वाले बेवरेज या भोजन को खाने की सलाह दी जाती है, चूंकि यह त्वचा को सामान्य के मुकाबले अधिक संवेदनशील बना देते हैं।

पुरुष के लिए ब्राजीलियन वैक्स के फायदे

वैक्सिंग त्वचा का एक एक्सफोलिएशन है, जिससे त्वचा को कोलेजन प्रोडक्शन में मदद मिलती है। कोलेजन प्रोडक्शन से एजिंग की प्रक्रिया धीमी होती है और त्वचा के पुनः निर्माण की प्रक्रिया तेज होती है। इससे आपकी त्वचा पर एक स्वस्थ्य और जवां रंगत नजर आती है। यदि आप फाइन लाइन्स और एज स्पॉट्स को लेकर चिंतित हैं और वैक्सिंग का विचार बना रहे हैं तो इससे साइड इफेक्ट्स के रूप में त्वचा में सुधार आ सकता है।

पुरुषों के लिए वैक्सिंग या शेविंग?

वैक्सिंग में बालों को सीधे जड़ से उखाड़ा जाता है। वहीं शेविंग में उन्हें त्वचा की सतह से काट दिया जाता है। वैक्सिंग से त्वचा के अंदर ही उगने वाले और दर्द का कारण बनने वाले बालों की संभावना कम रहती है। शेविंग के बाद अक्सर इस प्रकार के बाल उग आते हैं। कई बार दर्द और खुजली के अलावा, यह बाल संक्रमण का कारण बनते हैं और नतीजतन आपको एक छोटी सर्जरी करानी पड़ती है। शेविंग करने से हर बार आपकी त्वचा पर सूक्ष्म रूप से नुकसान पहुंचता है। यदि आपको त्वचा की संवेदनशीलता की समस्या है तो नियमित रूप से शेविंग करना आपके लिए परेशानी का सबब बन सकता है। शेव किए गए स्किन के किसी भी हिस्से पर स्किन के अंदर रह जाने वाले बाल हो सकते हैं, लेकिन गुप्तांगों की त्वचा ज्यादा संवेदनशील होती है। ऐसे में इन हिस्सों पर ऐसे बालों के उगने का खतरा ज्यादा होता है। इससे आपकी त्वचा पर रेडनेस और भद्दे दिखने वाले फोड़े पड़ सकते हैं।

यह भी पढ़ें: स्किन केयर की चिंता इन्हें भी होती है, पढ़ें पुरुष त्वचा की देखभाल से जुड़े फैक्ट्स

ब्राजीलियन वैक्स ज्यादा सहज

ब्राजीलियन वैक्स कराने वाले ज्यादातर पुरुषों का मानना है कि शेविंग के मुकाबले यह वैक्सिंग स्किन को ज्यादा कोमल बनाए रखती है। वहीं, शेविंग में त्वचा पर हल्के रूखेपन का अहसास होता है। पुरुषों का मानना है कि यदि सावधानीपूर्ण तरीके से शेविंग को नहीं किया जाए तो त्वचा पर लाल रंग के बंप आ जाते हैं। हालांकि, वैक्स कराने के बाद आपको थकावट का अहसास हो सकता है, लेकिन यह स्किन इन्फ्लेमेशन को कम करती है। इससे आपकी त्वचा ज्यादा स्वस्थ और जवां नजर आती है। इसके अतिरिक्त, पुरुषों के लिए ब्राजीलियन वैक्स कराने से उनकी त्वचा कोमल नजर आती है। साथ ही बाल पतले और धीमी रफ्तार से उगते हैं।

यह भी पढ़ें: हेयर कलर्स को लेकर हैं कंफ्यूज तो जानें फ्रॉस्टिंग हेयर कलर टेक्निक के बारे में

गुप्तांगों के लिए फायदेमंद है ब्राजीलियन वैक्स

गुप्तांगों पर उगने वाले घने बालों को निकालना बेहद ही जरूरी होता है। कई बार इन बालों में प्यूबिक लाइस (Pubic lice) नामक सूक्ष्म कीट पैदा हो जाते हैं। इन्हें एक प्रकार का बैक्टीरिया भी कहा जाता है। सेक्स के दौरान यह आपके पार्टनर की बॉडी पर स्थानांतरित हो सकते हैं। ब्राजीलियन वैक्स कराने से जड़े से बालों को उखाड़ लिया जाता है। यह बैक्टीरिया बालों की जड़ों को अपना निवास स्थान बनाते हैं। कई बार यह त्वचा के भीतर भी घुस जाते हैं। शेविंग से कई बार आपकी त्वचा में कट लग जाते हैं या खुजली होती है। इसके विपरीत ब्राजीलियन वैक्स से त्वचा एकदम कोमल रहती है। इससे आपको जलन या खुजली का अहसास भी नहीं होता है। ब्राजीलियन वैक्स कट और जलन वाली त्वचा को ठंडा कर देती है। तीसरी बार ब्राजीलियन वैक्स कराने के बाद आपको त्वचा पर बालों की ग्रोथ धीमी नजर आयेगी। इससे बार-बार वैक्सिंग कराने का झंझट भी काफी हद तक कम होता है। प्राकृतिक रूप से गुप्तांगों का हिस्सा गर्म होता है। ऐसे में गुप्तांगों से बालों को निकालने से आपको स्वच्छता का अहसास भी होगा।

महंगी नहीं सस्ती है ब्राजीलियन वैक्सिंग

पुरुषों के लिए वैक्सिंग इसलिए भी फायदेमंद है क्योंकि शेविंग करते वक्त हर बार आपको नई रेजर खरीदनी पड़ती है। साथ ही शेविंग करने से बाल अपनी जड़ों से उखड़कर बाहर नहीं आते है। बाल त्वचा की ऊपरी सतह से कट जाते हैं। यह बाल तेजी से ऊपर की तरफ उगते हैं। इस स्थिति में आपको कम अंतराल में शेविंग की जरूरत पड़ती है। वहीं, ब्राजीलियन वैक्सिंग से बाल जड़ से उखड़ जाते हैं। साथ ही इनके विकास की गति भी धीमी होती है। खर्चे के आधार पर यदि देखा जाए तो शेविंग के मुकाबले वैक्सिंग ज्यादा सस्ती पड़ती है। आपको लंबे अंतराल के बाद वैक्स कराने की आवश्यकता होती है तो वहीं, शेविंग में आपको बार-बार रेजर खरीदने में पैसे खर्च करने पड़ते हैं।

ब्राजीलियन वैक्स पुरुषों को दिखाती है सेक्सी

यदि आप फिटनेस फ्रीक हैं या जिम करते हैं तो मसक्युलर बॉडी पर हेयर दिखना काफी भद्दा नजर आता है। यह बाल आपकी मसल्स की खूबसूरती को कम कर देते हैं। साथ ही मांसपेशियां स्पष्ट रूप से खूबसूरत नजर नहीं आती हैं। यदि आपकी बॉडी अच्छी या टोन्ड है तो ब्राजीलियन वैक्स आपकी स्मार्टनेस को और बढ़ा सकती है। यह मसल्स डेफिनेशन को और ज्यादा स्पष्ट तरीके से दिखाती है।अंत में हम यही कहेंगे कि पुरुषों के लिए वैक्सिंग कराना एक बेहतर विकल्प हो सकता है। हालांकि, वैक्सिंग कराने से पहले अपनी त्वचा से जुड़ी ही जानकारियों को इक्कट्ठा करना बेहद ही जरूरी है। पुरुषों के लिए वैक्सिंग कराने से पहले इसकी टेस्टिंग आवश्यक है, जिससे त्वचा के छोटे हिस्से पर वैक्स के संभावित साइड इफेक्ट्स का आंकलन किया जा सके।

तन की दुर्गंध होती है कम

गर्मियों के दौरान गुप्तांग और अंडरआर्म्स में बाल होने से इन हिस्सों में पसीना सबसे ज्यादा है। साथ ही यदि आपकी चेस्ट पर बाल हैं तो भी उस हिस्से में पसीना आता है। इससे तन से एक प्रकार की दुर्गंध आने लगती है। कई बार लड़कियों के सामने इस प्रकार की बदबू आपकी शर्मिंदगी का कारण भी बनती है। सार्वजनिक जगहों पर ऐसा होने से लोग आपसे दूरियां बनाने का प्रयास करते हैं। सबसे महत्वपूर्ण बात की इन घने बालों में संक्रमण और बैक्टीरिया फैलने का सबसे ज्यादा खतरा रहता है।

अंत में हम यही कहेंगे कि पुरुषों के लिए वैक्सिंग कराना एक बेहतर विकल्प हो सकता है। हालांकि, वैक्सिंग कराने से पहले अपनी त्वचा से जुड़ी ही जानकारियों को इक्कट्ठा करना बेहद ही जरूरी है। पुरुषों के लिए वैक्सिंग कराने से पहले इसकी टेस्टिंग आवश्यक है, जिससे त्वचा के छोटे हिस्से पर वैक्स के संभावित साइड इफेक्ट्स का आंकलन किया जा सके।

हैलो हेल्थ किसी भी प्रकार की चिकित्सा सलाह, उपचार या निदान मुहैया नहीं कराता।

और पढ़ें:-

गर्दन की झुर्रियां करनी है कम? ट्राई करें ये तरीके

8 शेविंग टिप्स, जिसके बारे में बहुत कम लोग जानते होंगे!

हर्पीस वायरस की इस गंभीर रोग से निपटने के लिए मिल गयी है वैक्सीन

बीच के किनारे जाने से पहले क्यों जरुरी है ट्रेवल किट में सनस्क्रीन क्रीम

 

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर
Sunil Kumar द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 29/08/2020 को
Dr Sharayu Maknikar के द्वारा एक्स्पर्टली रिव्यूड