विटामिन-डी डेफिशियेंसी (कमी) से बचने के लिए खाएं ये चीजें

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट जनवरी 22, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

हमारे शरीर के लिये विटामिन-डी बहुत जरुरी है। विटामिन-डी डेफिशियेंसी (कमी) से आपकी हड्डियों कमजोर हो सकती हैं, बोन डेन्सिटी घटने की संभावना होती है और यहा तक की रिकेट्स (Rickets) जैसी बीमारी भी हो सकती है। तो हम विटामिन-डी की कमी से बचाव के लिए क्या कर सकते हैं? तो इसका जवाब है डाइट। दरअसल, भरपूर  मात्रा में विटामिन-डी लेने का सबसे अच्छा तरीका हमारा ‘रोज काआहार’ और ‘सूरज की धूप’ है। पर ज्यादातर लोगों को विटामिन-डी से भरे आहारों के बारे में नहीं पता। आइए जानते हैं वो 7 चीजें जो दूर करेंगी विटामिन-डी डेफिशियेंसी-

यह भी पढ़ें : Rhatany: रैतनी क्या है?

विटामिन-डी डेफिशियेंसी के कारण क्या हैं?

नेशनल सेंटर फॉर बायोलॉजी इंफॉर्मेशन (NCBI) के मुताबिक दुनियाभर की 50 फीसदी जनसंख्याविटामिन-डी डेफिशियेंसी की समस्या से जूझ रही है। प्रति व्यक्ति के लिए प्रतिदिन कम से कम 10 से 20 माइक्रोग्राम विटामिन डी की जरूरत होती है। जिसकी पूर्ती आहार और सूर्य की किरणों से की जा सकती है। हालांकि, ऐसे कई कारण हैं जिनकी वजह से विटामिन डी की कमी हो सकती है, जिसमें मॉर्डन लाइफस्टाइल और गरीबी सबसे बड़े कारणों में से एक हो सकते हैं।

विटामिन डी की कमी के निम्न कारण हो सकते हैंः

1.शुध्द शाकाहारी होना

आहार के तौर पर विटामिन-डी डेफिशियेंसी को पूरा करने के सबसे बेहतर स्त्रोत पशु आधारित आहार होता है। हालांकि, ऐसे लोग जो शुध्द शाकाहारी हैं, उनमें विटामिन डी की कमी के जोखिम ज्यादा होते हैं। क्योंकि मछली और मछली के तेलअंडे की जर्दी, फॉर्टफाइड मिल्क (Fortified Milk) और मीट विटामिन डी के एक अच्छे स्त्रोत होते हैं।

2.आहार में विटामिन डी अधिक न खा पाना

कुछ कारणों के कारण कुछ लोगों का मेटाबॉलिज्म विटामिन डी के स्त्रोतों को अच्छी मात्रा में नहीं पचा पाता है, जिसकी वजह से भी शरीर में धीरे-धीरे विटामिन-डी डेफिशियेंसी हो सकती है।

यह भी पढ़ेंः विटामिन डी के फायदे पाने के लिए खाएं ये 7 चीजें

3.हमेशा धूप से दूर रहना

बहुत देर तक या बहुत ज्यादा समय धूप में रहने के कारण त्वचा से संबंधिक कई बीमारियों का जोखिम बढ़ जाता है। लेकिन, अगर धूप की बहुत ज्यादा कमी भी हो जाए, तो शरीर में विटामिन-डी डेफिशियेंसी भी हो सकती है। सूर्य की किरणें विटामिन डी का सबसे उच्च स्त्रोत होती हैं। इसके लिए आप सुबह की सूर्य की किरणों में कुछ समय तक रह सकते हैं।

4.गहरी रंगत की त्वचा होना

अगर आपका स्किन कलर डार्क है, तो विटामिन-डी डेफिशियेंसी का जोखिम बढ़ सकता है। पिगमेंट मेलेनिन सूरज की रोशनी के संपर्क में आने से विटामिन डी बनाने की त्वचा की क्षमता को कम कर देता है। कुछ अध्ययनों में इसका दावा भी किया गया है कि गहरे रंग की त्वचा वाले बड़े वयस्कों में विटामिन-डी डेफिशियेंसी का खतरा अधिक होता है।

5.किडनी का सही से कार्य न करना

बढ़ती उम्र के साथ ही शरीर के अलग-अलग अंगों के कार्य करने की क्षमता भी प्रभावित होने लगती है। इसकी तरह किडनी विटामिन डी को उसके सक्रिय रूप में परिवर्तित करने में कम सक्षम होने लगता है, जिसके कारण भी शरीर में विटामिन-डी डेफिशियेंसी का खतरा बढ़ सकता है।

यह भी पढ़ेंः Ascorbic Acid (Vitamin C) : विटामिन सी क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

6.सनस्क्रीन क्रीम का बहुत ज्यादा इस्तेमाल करना

सूर्य की हारिकारक यूवी किरणों से बचाव करने के लिए त्वचा पर सनस्क्रीन क्रीम का इस्तेमाल करना बहुत जरूरी होता है। हालांकि, बहुत ज्यादा मात्रा में इनका इस्तेमाल करने के कारण त्वचा और शरीर को सूर्य की किरणों से विटामिन डी प्राप्त नहीं हो पाता है, जिसकी वजह से भी विटामिन-डी डेफिशियेंसी हो सकती है।

विटामिन-डी डेफिशियेंसी को दूर करने के लिए खाएं ये खाद्य पदार्थ

1. गाय का दूध

गाय के दूध का सेवन बहुत सारे लोग करते हैं। विटामिन-डी का यह एक बहुत ही मुख्य स्रोत है। गाय के दूध में कैल्शियम, फॉस्फोरस और राइबोफ्लेविन (riboflavin) सहित कई पोषक तत्व मिलते हैं। आहार में इसका उपयोग विटामिन-डी डेफिशियेंसी से बचाता है।

2. सैल्मन मछली

सैल्मन एक वसायुक्त (फैट्स) मछली है और विटामिन-डी का एक बड़ा स्रोत भी है। 100-ग्राम सैल्मन मछली का सेवन करने में विटामिन-डी 361 से 685 IU (international unit) के बीच होता है।

3. कॉड लिवर ऑयल

कॉड लिवर ऑइल विटामिन-डी का एक लोकप्रिय पूरक है। यदि आप मछली का सेवन नहीं करते तो कॉड लिवर ऑइल आपके लिए एक अच्छा विकल्प हो सकता है। कॉड लिवर ऑइल भी विटामिन-ए का एक भरपूर स्रोत है। परंतु उच्च मात्रा में विटामिन-ए टॉक्सिक हो सकता है । इसलिए, कॉड लिवर ऑइल का सावधानीपूर्वक  सेवन करें और इसे बहुत अधिक मात्र में न लें।

4. अंडा

जो लोग मछली नहीं खाते उनके लिए अंडा विटामिन-डी का एक बहुत ही अच्छा विकल्प है। एक अंडे में अधिकांश प्रोटीन उसके सफेद रंग के हिस्से में पाया जाता है। जब कि अंडे के पीले हिस्से में फैट्स, अन्य विटामिन, प्रोटीन और मिनरल पाए जाते हैं।

5. मशरूम

मशरूम केवल एकमात्र ऐसा पौधा है जो विटामिन-डी का अच्छा स्त्रोत है। बाहर उगने वाले मशरूम जो प्रकाश के संपर्क में आते हैं उनमें विटामिन-डी की मात्रा ज्यादा होती है, इसलिए घर के अंदर उगने वाले मशरूम में विटामिन-डी बहुत कम मात्रा में पायी जाती है। इसीलिए यदि आप अपने विटामिन-डी की कमी को मशरूम के सेवन से पूरा करने की सोच रहे हैं, तो सुनिश्चित करें कि वे धूप के पर्याप्त स्तर के संपर्क में हैं।

6. ऑरेंज जूस

कई फोर्टिफोइड संतरे के रस में अतिरिक्त विटामिन-डी होता है। अक्सर कई विभिन्न ब्रैंड के ऑरेंज जूस में अलग से भी कैल्शियम डाला जाता है जो कि कई मायने में फायदेमंद है। क्योंकि विटामिन-डी हमारे शरीर में बोन-बूस्टिंग मिनरल को समाने में मदद करता है।

7. झींगा मछली

झींगा मछली विटामिन-डी का एक बहुत ही लोकप्रिय विकल्प है। बाक़ी मछलियों की तुलना में झींगा मछली में विटामिन-डी अच्छी मात्रा में होता है और इसमें फैट्स बहुत ही कम मात्रा में होती है। इन में फायदेमंद ओमेगा-3 फैटी एसिड भी होता है, जो कि कई विटामिन-डी की  खाद्य पदार्थों की तुलना में कम प्रमाण में होता है।

स्वस्थ हड्डियों को बनाए रखने के लिए विटामिन-डी लेना बहुत ही महत्वपूर्ण है। पर्याप्त विटामिन-डी प्राप्त करने का सबसे आसान तरीका नियमित रूप से बाहर धूप में समय बिताना है। अगर आपके शरीर को जरुरी विटामिन-डी  इन सभी तरीकों से नहीं मिलता है तो आप अपने डॉक्टर से परामर्श ले विटामिन-डी के विकल्प भी ले सकते हैं।

और पढ़ें: Rice Bran Oil: राइस ब्रैन ऑयल क्या है?

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

    क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
    happy unhappy"
    सूत्र

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    विटामिन डी की कमी को कैसे ठीक करें?

    जानिए विटामिन डी की कमी in Hindi, विटामिन डी की कमी के कारण, Vitamin D Ki Kami, विटामिन डी कमी के लक्षण और उपचार, विटामिन डी की मात्रा बढ़ाने के लिए आहार।

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr Sharayu Maknikar
    के द्वारा लिखा गया Dr. Pranali Patil
    फन फैक्ट्स, हेल्थ सेंटर्स नवम्बर 29, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

    क्या नाता है विटामिन-डी का डायबिटीज से?

    विटामिन-डी का डायबिटीज से क्या नाता है, डायबिटीज में विटामिन-डी क्यों जरूरी है, Vitamin D and Diabetes in Hindi, डायबिटीज का इलाज क्या है।

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr Sharayu Maknikar
    के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
    हेल्थ सेंटर्स, डायबिटीज सितम्बर 20, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

    Acai: असाई क्या है?

    असाई जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, असाई उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, Acai कैसे लें, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Shruthi Shridhar
    के द्वारा लिखा गया Mona Narang
    जड़ी-बूटी A-Z, ड्रग्स और हर्बल सितम्बर 16, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

    शिशुओं में विटामिन डी कमी से हो सकते हैं ये खतरनाक परिणाम

    जानिए शिशुओं में विटामिन डी की कमी की वजह in Hindi, शिशुओं में विटामिन डी की कमी होने के कारण, विटामिन डी की कमी होने पर क्या खाएं, Shishu Me Vitamin D की कमी के उपाय।

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Mayank Khandelwal
    के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
    माँ और शिशु, प्रेग्नेंसी सितम्बर 15, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

    Recommended for you

    कैल्सिमैक्स फोर्ट

    Calcimax Forte: कैल्सिमैक्स फोर्ट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Satish Singh
    प्रकाशित हुआ जून 17, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
    शेलकॉल एचडी

    Shelcal Hd: शेलकॉल एचडी क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Satish Singh
    प्रकाशित हुआ जून 16, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
    कोरोना वायरस और विटामिन-डी - Coronavirus and vitamin D

    कोरोना वायरस से जंग में शरीर का साथ देगा विटामिन-डी, फायदे हैं अनेक

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Mona Narang
    प्रकाशित हुआ अप्रैल 8, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
    मिर्गी का इलाज- epilepsy treatment

    इंटरनेशनल एपिलेस्पी डे: मिर्गी के इलाज में कीटो डायट कर सकती है मदद, ऐसा होना चाहिए मरीज का खान-पान

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
    प्रकाशित हुआ फ़रवरी 10, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें