चेहरे से कील मुंहासों को हटाने के घरेलू उपाय

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट जुलाई 26, 2020 . 8 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

किशोरावस्था में पिंपल किसी-किसी के लिए इतनी बड़ी समस्या हो जाती है वो इससे हर हाल में निकलना चाहते हैं। क्योंकि पिंपल के कारण चेहरे में एकाएक हुए बदलाव को जहां कुछ युवा स्वीकार नहीं कर पाते हैं वहीं कुछ जानकारी के अभाव में ठीक करने के लिए उसे फोड़ देते हैं, इस कारण पिंपल का इंफेक्शन चेहरे के स्किन के अन्य भागों में फैल उसे प्रभावित करता है और वहां भी पिंपल हो जाते हैं। पिंपल या फिर एक्ने के बाद चेहरे की रंगत पूरी तरह बदल जाती है, चेहरे में गड्‌ढे, काले दाग हो जाते हैं। मौजूदा समय में कील मुंहासे के घरेलू उपाय आजमाकर इस समस्या से निजात पाई जा सकती है। कई ऐसे घरेलू उपाय हैं जिससे पिंपल के बाद के गड्‌ढे को भरने के साथ दाग को हटाया जा सकता है। जेंटल हर्बल क्रीम, जेल, एसेंशियल ऑयल के साथ नेचुरल सप्लीमेंट और लाइफस्टाइल में बदलाव कर कील मुंहासे के घरेलू उपाय को आजमा कील मुंहासे से काफी हद तक छुटकारा पा सकते हैं।

एक्ने उस स्थिति में होता है जब पिंपल बैक्टीरिया से इंफेक्टेड हो जाता है। भारत में एक्ने सबसे सामान्य स्किन संबंधी बीमारी है। इलाज न किया गया तो इससे प्रभावित लोगों को जीवनभर उसी चेहरे के साथ रहना पड़ता है। मौजूदा समय में कई घरेलू उपचार कर स्किन के बैक्टीरिया के इंफेक्शन को ठीक कर सकते हैं। वहीं स्किन ऑयल के लेवल को बैलेंस करने के साथ जलन को कम कर बैक्टीरिया को मार सकते हैं, वहीं भविष्य में होने वाले एक्ने को भी रोका जा सकते हैं। कील मुंहासों का ही विस्तृत रूप एक्ने कहलाता है। एक्ने के घरेलू उपचार को सही साबित करने के लिए ज्यादा साइंटिफिक तथ्य नहीं हैं। तो आइए हम इस आर्टिकल में कील मुंहासे के घरेलू उपाय के बारे में जानते हैं, वहीं उसका कैसे फायदा उठा सके उसके बारे में भी जानने की कोशिश करते हैं।

कील मुंहासे के घरेलू उपाय

कील मुंहासे के घरेलू उपाय के लिए कई नेचुरल हर्बल एक्सट्रैक्ट हैं, जिसका इस्तेमाल कई डॉक्टर सालों से करते आ रहे हैं। तो आइए हम इस आर्टिकल में कील मुंहासे के घरेलू उपाय को जानते हैं, वहीं इसका इस्तेमाल करने के साथ लाइफस्टाइल में कुछ हद तक बदलाव कर परेशानी से निजात पा सकते हैं।

और पढ़ें : नाक में पिंपल बन सकता है कई बीमारियों का कारण, कैसे पाएं इससे निजात?

कील मुंहासे के उपचार के लिए एलोवेरा है सबसे बेस्ट

कील मुंहासे के घरेलू उपाय के लिए एलोवेरा सबसे बेस्ट है। एलो वेरा में नेचुरल तौर पर एंटीबैरक्टीरियल और एंटी इंफ्लेमेटरी गुण पाए जाते हैं। यह एक्ने को कम करने के साथ एक्ने व पिंपल को फैलने के रोकता है। एलोवेरा में काफी मात्रा में पानी और मॉश्चराइजर पाया जाता है। तो ऐसे में यह वैसे लोगों के लिए काफी लाभदायक है जिन्होंने एंटी एक्ने प्रोडक्ट का इस्तेमाल किया हो, क्योंकि वैसे लोगों की स्किन ड्राई हो जाती है। 2014 में हुए शोध के अनुसार शोधकर्ताओं ने यह पाया कि एक्ने से निजात पाने के लिए एलोवेरा लाभकारी है, इसे आठ सप्ताह तक इस्तेमाल किया जा सकता है। वैसे लोग जिन्हें पिंपल व एक्ने में जलन होती है और वैसे लोग जिन्हें जलन नहीं होती दोनों ही केस में इसके इस्तेमाल के रिजल्ट अच्छे मिले हैं।

ऐसे करें एलो वेरा जेल का इस्तेमाल

इसे इस्तेमाल करने के लिए पहले पिंपल व एक्ने के सोर को अच्छे से साफ कर लें। फिर उसपर एलोवेरा की पतली लेयर क्रीम या जेल लगाएं। या फिर एलो वेरो से युक्त जेल और क्रीम का इस्तेमाल कर सकते हैं। हम इसे हेल्थ स्टोर से खरीद सकते हैं।

और पढ़ें : पिंपल ने अब पीठ का भी कर दिया है बुरा हाल? तो करना होगा ये उपाय

जोजोबा तेल का करें इस्तेमाल

कील मुंहासे के घरेलू उपाय आजमाने के लिए जोजोबा तेल का इस्तेमाल कर सकते हैं। जोजोबा नामक झाड़ी के बीज से मोम के रूप में तत्व निकलता है। इसमें मौजूद तत्व हमारे स्किन डैमेज को ठीक करने के साथ एक्ने लीजन को ठीक करने में मदद करते हैं और घाव को जल्दी भरते हैं। जोजोबा ऑयल में मौजूद कुछ तत्व हमारे स्किन की जलन को ठीक करने का काम करने के साथ पिंपल के आसपास लालिपन को कम कर, व्हाइट हेड्स और अन्य इन्फ्लेमेशन लेजन को ठीक करते हैं। 2012 में हुए शोध के अनुसार शोधकर्ताओं ने 133 लोगों को जोजोबा तेल से युक्त फेस मास्क पहनने के लिए दिया था। सप्ताह में दो से तीन बार करीब छह महीनों तक इस मास्क का इस्तेमाल करने के बाद करीब 54 प्रतिशत लोगों में एक्ने की बीमारी से राहत देखने को मिली।

  • ऐसे करें जोजोबा तेल का इस्तेमाल : कील मुंहासे के घरेलू उपाय के तहत जोजोबा ऑयल का इस्तेमाल करने के लिए सबसे पहले जोजोबा तेल को जरूरी जेल, क्रीम व क्ले फेस मास्क में मिला लें, फिर जहां कील मुहांसे-पिंपल व एक्ने है वहां पर इसे लगाएं। या फिर आप चाहे तो रूई का इस्तेमाल कर सकते हैं। रूई में जोजोबा ऑयल की कुछ बूंदे डालें और उसे बेहद ही आराम से जहां-जहां एक्ने सोर्स हैं वहां लगाएं। हेल्थ स्टोर के साथ बाजार में यह आसानी से उपलब्ध है।

त्वचा की देखभाल के लिए वीडियो देख जानें एक्सपर्ट की राय

शहद का करें इस्तेमाल

कील मुंहासे के घरेलू उपाय के लिए शहद का इस्तेमाल करना बेस्ट है। एक्ने व पिंपल का इलाज करने के लिए हजारों साल से शहद का इस्तेमाल किया जाता है। इसमें एंटीऑक्सीडेंट्स होते हैं, जो भरे हुए छिद्र के अंदर से गंदगी निकालने के साथ साफ करने के काम में लाया जाता है। घाव की ड्रेसिंग करने के लिए डॉक्टर शहद का इस्तेमाल करते हैं। क्योंकि इसमें एंटीबैक्टीरियल गुण के साथ घाव को भरने की खासियत होती है।

  • ऐसे करें इस्तेमाल : साफ हाथ से काटन पैड लें, हल्का शहद लगाकर पिंपल पर रगड़ें। या फिर चेहरे या शरीर पर शहद को मास्क की तरह लगाएं।

और पढ़ें : ये पिंपल्स क्यों करते हैं इतना परेशान, क्विज में छुपा है इसका जवाब

ग्रीन टी का करें इस्तेमाल

कील मुंहासे के घरेलू उपाय में हम ग्रीन टी का इस्तेमाल कर सकते हैं। ग्रीन टी में काफी मात्रा में पॉलीफेनोल एंटीऑक्सीडेंट्स (polyphenol antioxidants) जैसे तत्व कैटेचिन ( catechins) पाया जाता है। एक्ने से पीड़ित कई लोगों में एंटीऑक्सीडेंट की बजाय सीबम और नेचुरल बॉडी ऑयल जैसे तत्व उनके सोर में होते हैं। वहीं एंटीऑक्सीडेंट हमारे शरीर में जाकर केमिकल्स और वेस्ट प्रोडक्ट को डैमेज करने का काम करते हैं। यदि न किया जाए तो यही वेस्ट प्रोडक्ट हमारे हेल्दी सेल्स को डैमेज कर सकते हैं। पिंपल व एक्ने के गड्ढों में मौजूद गंदगी और वेस्ट को साफ करने में ग्रीन टी का इस्तेमाल कर सकते हैं

ग्रीन टी में मौजूद तत्व हमें इन समस्याओं से दिलाते हैं निजात, जैसे

  • स्किन के सीबम प्रोडक्शन को कम करता है
  • पिंपल व एक्ने को कम करता है
  • जलन को कम करता है

ऐसे करें इस्तेमाल

कील मुंहासे के लिए ग्रीन टी का इस्तेमाल हम चाहे तो इसे पीकर या फिर इसके तत्वों को स्किन पर लगाकर कर सकते हैं। शोधकर्ताओं के अनुसार एक शोध के अनुसार पाया गया कि करीब 78 से 89 फीसदी तक व्हाइटहेड्स और ब्लैकहेड्स सिर्फ आठ सप्ताह में ही पॉली फिनाइल ग्रीन टी के एक्सट्रैक्ट का इस्तेमाल करने से कम हुआ। ग्रीन टी एक्सट्रैक्ट व ग्रीन टी हमें बाजार में आसानी से उपलब्ध हैं।

और पढ़ें : दालचीनी के फायदे : पिंपल्स होंगे छू-मंतर और बढ़ेगी याददाश्त

लहसुन का करें इस्तेमाल

लहसुन का इस्तेमाल कील मुंहासे के घरेलू उपाय के लिए किया जा सकता है। कई पारंपरिक चिकित्सक लहसुन का इस्तेमाल इंफेक्शन और शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए करते हैं। ताकि हमारा शरीर जर्म और इंफेक्शन से लड़ सके। लहसुन में ऑर्गेनोसल्फर तत्व (organosulfur compounds) होते हैं। यह प्राकृतिक एंटीबैक्टीरियल और एंटी इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं। ऑर्गेनसल्फर तत्व हमारे इम्मुन सिस्टम को बढ़ाने में मददगार साबित होते हैं, वहीं इंफेक्शन से लड़ते हैं। इसलिए कील मुंहासे के घरेलू उपाय में इसका इस्तेमाल कर सकते हैं।

  • ऐसे करें इस्तेमाल : एक्ने के कारण जलन और इंफेक्शन से बचाव के लिए लोग चाहे तो अपने खानपान में सामान्य से थोड़ा अधिक लहसुन का सेवन कर सकते हैं। कई लोग तो इसका फायदा उठाने के लिए लहसुन की कलियों को सीधे खा लेते हैं, या फिर इसे पीस कर गर्म ड्रिंक में डालकर सेवन करते हैं। लोग चाहे तो गार्लिक पाउडर और कैप्सुल का सेवन कर सकते हैं, बाजार में यह आसानी से उपलब्ध है। वहीं कई एक्सपर्ट यह भी सुझाव देते हैं कि लहसुन का पेस्ट बनाकर उसे सीधे पिंपल पर लगा लें, इससे स्किन इरीटेशन से बचा जा सकता है। एक्सपर्ट यह भी सुझाव देते हैं कि लहसुन आपकी स्किन को जला सकती है, इसलिए इसका इस्तेमाल काफी सावधानीपूर्वक करना चाहिए।

और पढ़ें : जानिए मुंहासे होने के कारण और इनसे छुटकारा पाने के उपाय

चाय के पेड़ का तेल

कील मुंहासे के घरेलू उपाय में हम चाय के पेड़-पौधों के तेल का इस्तेमाल कर सकते हैं। बता दें कि चाय के पौधे के तेल में नेचुरल एंटीबैक्टीरियल और एंटी इम्फ्लेमेटेरी गुण होते हैं, वहीं यह कील मुंहासों को नष्ट करने का काम करते हैं और एक्ने के अंदर पनपने वाले बैक्टीरिया को मारते हैं। इस तेल में मौजूद एंटी इम्फ्लेमेटेरी गुण के कारण यह कील मुंहासों की सूजन को कम करने के साथ पिंपल के लालीपन को कम करने का काम करते हैं। 2015 में हुए शोध से पता चला है कि चाय के पौधों का तेल एक्ने के बाद होने वाले गड्ढों को भरने का काम करता है। इस तेल में बेंजोईल पेरोक्साइड (benzoyl peroxide) का पांच फीसदी अंश पाया जाता है, इस दवा का इस्तेमाल एक्ने का इलाज करने के लिए किया जाता है।

  • ऐसे करें इस्तेमाल : कील मुंहासे के घरेलू उपाय में हम चाय के पौधों के तेल का इस्तेमाल घर पर ही कर सकते हैं। यह चीज क्रीम, जेल और जरूरी तेल के रूप में बाजार में उपलब्ध है। पिंपल्स से प्रभावित स्किन पर इसे लगाकर समस्या से निजात पा सकते हैं।

रोजमैरी का करें इस्तेमाल

कील मुंहासे के घरेलू उपाय में रोजमैरी का इस्तेमाल कारगर है। रोजमैरी के एक्सट्रैक्ट में मौजूद कैमिकल्स और तत्वों में एंटीऑक्सीडेंट, एंटीबैक्टियवल और एंटी इम्फ्लेमेटेरी गुण होते हैं। 2013 में हुए शोध से पता चला है कि एक्ने के मामले में पी एक्नीस बैक्टीरिया के कारण होने वाले जलन को यह कम करता है।

 प्यूरीफाइड मधुमक्खी का जहर (Purified bee venom)

प्यूरीफाइड मधुमक्खी के जहर में एंटीबैक्टीरियल गुण पाए जाते हैं। 2013 में हुए शोध में शोधकर्ताओं ने पाया कि प्यूरीफाइड मधुमक्खी के जहर में पी एक्नेल बैक्टीरिया को मारने के गुण होते हैं। कील मुंहासे व एक्ने-पिंपल से ग्रसित वैसे लोग जो प्यूरिफाइड बी वेनम युक्त कॉस्मेटिक्स का इस्तेमाल दो सप्ताह तक करते हैं उनमें कील मुंहासे की संख्या में कमी दिखती है। इस कारण कील मुंहासे के घरेलू उपचार में हम इसका इस्तेमाल कर पिंपल को बढ़ने से रोक सकते हैं। 2016 में हुए शोध के अनुसार कील मुंहासे- एक्ने से ग्रसित यदि कोई इंसान प्यूरीफाइड मधुमक्खी के जहर से युक्त जेल का इस्तेमाल अपने चेहरे पर छह महीनों के लिए करता है तो उसे निश्चित तौर पर आराम मिलता है।

नारियल तेल का करें इस्तेमाल

कील मंहासे के घरेलू उपाय में आप नारियल तेल का इस्तेमाल कर सकते हैं। प्राकृतिक घरेलू उपचार के तहत नारियल तेल में एंटी इम्फ्लेमेटेरी और एंटी बैक्टीरियल तत्व होते हैं। इन तत्वों के कारण नारियल तेल एक्ने को पनपाने वाले बैक्टीरिया को खत्म कर लालीपन और जलन को कम करते हैं। नारियल तेल का इस्तेमाल कर एक्ने के गड्ढों को भी भर सकते हैं।

  • ऐसे करें इस्तेमाल : कील मुंहासे के घरेलू उपाय में नारियल तेल का इस्तेमाल हम सीधे एक्ने प्रभावित स्किन पर कर सकते हैं। वहीं हम नारियल तेल का इस्तेमाल खाने के तौर पर भी कर सकते हैं। बाजार में नारियल तेल आसानी से उपलब्ध है।

पिंपल के बारे में अधिक जानने के लिए खेलें क्विज : Quiz: क्विज में छिपे हैं पिंपल्स से जुड़े कुछ सवालों के जवाब, क्या आप जानते हैं?

कील मुंहासे के घरेलू उपाय के साथ लाइफस्टाइल में करें बदलाव

कील मुंहासे के घरेलू उपाय के साथ लाइफस्टाल में बदलाव कर समस्या से निजात पाई जा सकती है। इसके लिए हमें अपनी स्किन को कम ऑयली रखना है, ताकि कील मुंहासे न पनपें।

  • एक्ने पिंपल को न छूकर : एक्ने व पिंपल के केस में स्किन को छूना नुकसानहेद हो सकता है। वहीं यह स्किन के दूसरे हिस्से में भी फैल सकता है। मरीज की स्थिति बद से बदतर हो सकती है। ऐसे में पिंपल नहीं छूने के साथ, उसे तोड़ना, फोड़ना भी नहीं चाहिए। इससे इंफेक्शन-बैक्टीरिया अन्य हिस्सों में फैल जाएगा।
  • तनाव को कम कर : कील मुंहासे के घरेलू उपाय के लिए जरूरी है कि आप तनाव कम लें। द अमेरिकन एकेडमी ऑफ डरमेटोलॉजी (त्वचाविज्ञान) के अनुसार तनाव के कारण संभावनाएं रहती है कि लोगों को एक्सने की बीमारी हो। तनाव के कारण एंड्रोजन हार्मोन बढ़ता है। इस कारण एक्ने की संभावनाएं रहती है।

और पढ़ें : वैक्सिंग के बाद दानें बन सकते हैं मुसीबत, अपनाएं ये घरेलू उपाय

इन तरीकों को अपनाकर स्ट्रेस को करें मैनेज

  • अपने दोस्तों, रिश्तेदारों व जो आपको सपोर्ट करें उनसे बातचीत कर
  • नियमित नींद लेकर
  • हेल्दी भोजन कर, बैलेंस डाइट लें, नियमित समय पर भोजन करें
  • शराब व कैफीन का सेवन कम से कम कर
  • लंबी गहरी सांसें लें, योगा करें व ध्यान करें
  • सही क्लीन्सर का करें इस्तेमाल : कील मुंहासे के घरेलू उपाय में सही क्लीन्सर का इस्तेमाल करना भी जरूरी है। कई साबुन जिनमें हाई पीएच लेवल होता है उसके कारण स्किन में इरीटेशन हो सकती है वहीं एक्ने की स्थिति बद से बदतर हो सकती है। इसलिए वैसे क्लीन्सर का इस्तेमाल करना चाहिए, जिससे स्किन का नेचुरल पीएच लेवल 5.5 बना रहे व एक्ने की संभावनाएं कम हो सकें।
  • ऑयल फ्री स्किन केयर का इस्तेमाल कर : वैसे स्किन केयर प्रोडक्ट जिनमें ऑयल होता है उसका इस्तेमाल करने से स्किन के पोर ब्लॉक हो सकते हैं। वहीं एक्ने सोर होने की संभावनाएं बढ़ जाती है। ऐसे में स्किन केयर प्रोडक्ट के ऊपर ऑयल फ्री लेबल व नॉन कोमिडोजिनिक लेबल देखकर ही इस्तेमाल करें।
  • पानी का नियमित सेवन करें : नियमित तौर पर पानी का सेवन कर हम आसानी से पिंपल व एक्ने के घाव को भर सकते हैं। वहीं पिंपल के फैलने की संभावना भी कम होती है। जब स्किन ड्राय होता है तो संभावना रहती है कि वो डैमेज हो जाए। इसलिए प्रति व्यक्ति को दिन में कम से कम औसतन पानी का सेवन जरूर करना चाहिए।

डॉक्टर को कब दिखाएं

कील मुंहासे से ग्रसित लोगों को डॉक्टरी सलाह तब लेनी चाहिए जब उसे ज्यादा दर्द हो, जब वो इंफेक्टेड हो, घाव काफी स्किन के अंदर तक हो, कील मुंहासे के घरेलू उपाय असर न करें, ज्यादा स्किन पर पिंपल व एक्ने हो, इसके कारण इंसान मानसिक तौर पर परेशान रहें हो तो उस स्थिति में डॉक्टरी सलाह लेनी चाहिए।

ध्यान देने योग्य बातें

कील मुंहासे के घरेलू उपाय कई हैं, ऐसे में उसका इस्तेमाल कर हम काफी हद तक इस बीमारी से बचाव कर सकते हैं, लेकिन यह सभी लोगों पर लागू नहीं होता है इसलिए स्थिति और गंभीर न हो इसके लिए आप जल्द से जल्द डॉक्टरी सलाह लें। ज्यादातर कील मुंहासे के घरेलू उपाय साइंटिफिक प्रूव नहीं हैं, लेकिन कुछ लोगों के लिए यह लाभकारी होते हैं। ऐसे में कील मुंहासे के घरेलू उपाय को आजमाने के पूर्व आपको डॉक्टरी सलाह लेनी चाहिए। खासतौर पर क्रॉनिक, डीप और दर्द भरे एक्ने सोर के मामले में आपको डॉक्टरी सलाह लेनी चाहिए।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

Quiz: क्विज में छिपे हैं पिंपल्स से जुड़े कुछ सवालों के जवाब, क्या आप जानते हैं?

पिंपल्स (एक्ने) क्यों होते हैं? पिंपल्स से निजात पाने के लिए किन बातों का ध्यान रखना चाहिए? पिंपल्स के लिए घरेलू नुस्खें, पिंपल्स ट्रीटमेंट

के द्वारा लिखा गया Mona Narang
क्विज फ़रवरी 13, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें

चावल के आटे के घरेलू उपयोग के बारे में कितना जानते हैं आप?

चावल के आटे के घरेलू उपयोग करके स्किन की समस्याओं से निजात पाया जा सकता है। चावल के आटे का यूज शहद, खीरे, दूध, आलू का रस आदि के साथ किया जा सकता है।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
हेल्थ टिप्स, स्वस्थ जीवन फ़रवरी 11, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

ये पिंपल्स क्यों करते हैं इतना परेशान, क्विज में छुपा है इसका जवाब

पिंपल्स क्यों होते हैं? मुंहासों का इलाज क्या है? पिम्पल्स होने के कारण, acne in hindi, pimples in hindi, मुंहासे से जुड़ी पूरी जानकारी है यहां ...

के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
क्विज, हेल्थ सेंटर्स, मुंहासे दिसम्बर 11, 2019 . 1 मिनट में पढ़ें

Immortelle: इमॉर्टेल क्या है?

जानिए इमॉर्टेल (Immortelle) की जानकारी in Hindi, फायदे, लाभ, इमॉर्टेल उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Immortelle डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr Sharayu Maknikar
के द्वारा लिखा गया Mona Narang
जड़ी-बूटी A-Z, ड्रग्स और हर्बल नवम्बर 7, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

बांस का उस्तरा प्लास्टिक रेजर

बांस का उस्तरा है इको फ्रेंडली, जानें इसके फायदे

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
प्रकाशित हुआ मई 14, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
होंठों पर पिंपल्स का इलाज

होंठों पर पिंपल्स का इलाज ढूंढ रहे हैं? तो ये आर्टिकल कर सकता है आपकी मदद

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Smrit Singh
प्रकाशित हुआ मई 7, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
पीठ के पिंपल

पिंपल ने अब पीठ का भी कर दिया है बुरा हाल? तो करना होगा ये उपाय

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ फ़रवरी 19, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
रेजर बम्प्स

शेविंग के तुरंत बाद आ जाते हैं पिंपल? तो रखना होगा इन बातों का ध्यान

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ फ़रवरी 18, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें