20 से 39 वर्ष के पुरुषों को जरूर करवाना चाहिए ये 7 बॉडी चेकअप

By Medically reviewed by Dr. Pranali Patil

हममें से कई लोग ऐसे हैं जो अस्पताल जाने से डरते हैं और इसी वजह से बॉडी चेकअप भी नहीं करवाते हैं। जब हैलो स्वास्थ्य की टीम ने मेल (पुरुष) बॉडी चेकअप के बारे में आम लोगों से जानना चाहा तो ज्यादातर लोगों का कहना था कि वे डायट और वर्कआउट का ध्यान रखते हैं। अपने आपको फिट महसूस करने की वजह से रेगुलर बॉडी चेकअप नहीं करवाते हैं।

मुंबई में रहने वाले 33 वर्षीय रोहित कुमार ने बताया कि “मैं बॉडी चेकअप नहीं करवाता था लेकिन, मैं एक बार बीमार पड़ गया। डॉक्टर से मिलने और दवा लेने के बावजूद मैं ठीक नहीं हो रहा था। ऐसी स्थिति में डॉक्टर ने मुझे ब्लड टेस्ट करवाने की सलाह दी। इस टेस्ट रिपोर्ट में मेरा शुगर लेवल बॉर्डर लाइन से थोड़ा नीचे था। अगर मैं इस समय ध्यान नहीं देता, तो मुझे डायबिटीज की समस्या हो सकती थी।

मेरी फेमिली हिस्ट्री में डायबिटीज से कोई पीड़ित नहीं है यह डॉक्टर को बताने के बाद डॉक्टर ने मुझे डायट से जुड़ी जानकारी दी और यह बताया कि मुझे शुगर की समस्या तनाव की वजह से हो सकती थी। खैर मैंने अपने आप पर ध्यान रखना शुरू किया और रेगुलर बॉडी चेकअप भी करवाने लगा।” आज इस आर्टिकिल में पुरुषों के लिए जरूरी बॉडी चेकअप के बारे में जानेंगे।

यह भी पढ़ें : क्या आप जानते हैं दूध से एलर्जी (Milk intolerance) का कारण सिर्फ लैक्टोज नहीं है?

18 से 39 साल के एज ग्रुप वाले पुरुषों को कौन-कौन से बॉडी चेकअप करवाने चाहिए?

18 से 39 साल के पुरुषों को निम्नलिखित शारीरिक जांच करवाना चाहिए। इन शारीरिक जांच में शामिल हैं:-

बॉडी चेकअप 1: ब्लड प्रेशर टेस्ट

पुरुषों को ब्लड प्रेशर चेकअप कम से कम 2 साल में एक बार करवाना चाहिए। नॉर्मल ब्लड प्रेशर 120/80 mm Hg होता है। अगर ब्लड प्रेशर इससे ज्यादा बढ़ता है या इससे कम होता है, तो दोनों ही स्थिति में ब्लड प्रेशर मॉनिटर करना चाहिए। इसके साथ ही अगर कोई व्यक्ति दिल से जुड़ी बीमारी, डायबिटीज, किडनी या फिर कोई अन्य शारीरिक परेशानियों से पीड़ित हैं तो उसे डॉक्टर के संपर्क में रहना चाहिए। यह हमेशा ध्यान रखें कि अगर हाई ब्लड प्रेशर की परेशानी होती है या लो ब्लड प्रेशर की समस्या होती है तो दोनों स्थिति में ध्यान रखने की आवश्यकता होती है।

यह भी पढ़ें: 18 साल के बाद हर महिला को करवानी चाहिए ये 8 शारीरिक जांच

बॉडी चेकअप 2: कोलेस्ट्रॉल चेकअप

20 से 35 साल के एज ग्रुप के पुरुषों को कोलेस्ट्रॉल की जांच अवश्य करवानी चाहिए। ऐसे लोग जिनका कोलेस्ट्रॉल लेवल बैलेंस्ड हैं उन्हें यह टेस्ट बार-बार न करवाकर 5 साल में सिर्फ एक बार करवाना चाहिए। वहीं अगर आप दिल से जुड़ी बीमारी, डायबिटीज, किडनी या फिर कोई अन्य शारीरिक परेशानियों से पीड़ित हैं तो डॉक्टर के सलाह अनुसार टेस्ट करवाएं। कोलेस्ट्रॉल लेवल संतुलित रहने से हार्ट डिजीज से बचा जा सकता है।

यह भी पढ़ें : अल्जाइमर के कारण भूलने की समस्या के लिए पहली दवा विकसित

बॉडी चेकअप 3: डायबिटीज टेस्ट

डायबिटीज की समस्या अनुवांशिक मानी जाती है, लेकिन कई बार डायबिटीज जैसी परेशानी बदलती लाइफस्टाइल की वजह से भी हो सकती है। इसलिए अगर किसी पुरुष का ब्लड प्रेशर 140/80 mm Hg से ज्यादा रहता है, तो डायबिटीज का खतरा हो सकता है। इसके साथ ही यह भी ध्यान रखें कि अगर बॉडी मास इंडेक्स (BMI) 25 से ज्यादा है तो ऐसी स्थिति में शुगर लेवल बढ़ सकता है। इसलिए वजन संतुलित रखें और BMI 23 से ज्यादा न होने दें। वहीं अगर आप दिल से जुड़ी बीमारी, किडनी या फिर कोई अन्य शारीरिक परेशानियों से पीड़ित है तो डॉक्टर के सलाह अनुसार टेस्ट करवाएं। अगर आप फिट हैं, तो साल में एक बार डायबिटीज की जांच जरूर करवाएं।

बॉडी चेकअप 4: डेंटल चेकअप

दांत दर्द को लोग सबसे ज्यादा नजर अंदाज करते हैं। डेंटिस्ट के अनुसार ऐसा नहीं करना चाहिए क्योंकि दांत से जुड़ी परेशानी आपके दिल को भी परेशान कर सकती है। इसलिए अगर आपको डेंटल प्रॉब्लम नहीं भी है, तब भी एक साल में कम से कम दो बार डेंटल चेकअप करवाना चाहिए।

बॉडी चेकअप 5: आंखों की जांच

अगर आपको विजन प्रॉब्लम है, तो साल में 2 बार या जरूरत पड़ने पर आई चेकअप करवाना चाहिए। अगर आपकी आंखें ठीक हैं और कोई परेशानी नहीं है, तो साल में एक बार आई टेस्ट करवाएं। वहीं अगर आप डायबिटीज की समस्या से पीड़ित हैं, तो आई चेकअप को नजअंदाज न करें।

यह भी पढ़ें: MTHFR म्यूटेशन कहीं खराब सेहत का कारण तो नहीं?

बॉडी चेकअप 6: इंफेक्शन डिजीज स्क्रीनिंग

अगर किसी भी पुरुष को सिफलिस (Syphilis), क्लैमाइडिया (Chlamydia) और HIV जैसे अन्य इंफेक्शन का खतरा है या कोई ऐसी मेडिकल हिस्ट्री रही है, तो इंफेक्शन डिजीज स्क्रीनिंग एक साल में एक बार करवाना चाहिए या स्वास्थ्य विशेषज्ञ के अनुसार जांच करवाना चाहिए।

बॉडी चेकअप 7: टेस्टिकुलर एग्जाम

20 साल से ज्यादा उम्र के पुरुषों को टेस्टिकुलर की जांच करनी चाहिए। यह जांच पुरुष खुद से भी कर सकते हैं।

इन ऊपर बताए गए बॉडी चेकअप को करवाने के लिए आपको थोड़ा वक्त निकालना पड़ेगा। ऐसा करने से आप स्वस्थ रह सकते हैं और किसी भी बीमारी की दस्तक देने की आहट आपको पहले ही मिल जाएगी। बीमारी की जानकारी अगर जल्दी मिल जाए तो किसी भी बीमारी से लड़ना आसान हो जाता है फिर चाहे वह कैंसर जैसी घातक बीमारी ही क्यों न हो। स्वस्थ रहने के लिए पौष्टिक आहार के साथ-साथ एक्सरसाइज भी करना जरूरी होता है। अगर आप जिम जाकर वर्कआउट नहीं कर पा रहें हैं, तो घर पर भी एक्सरसाइज कर सकते हैं। इसके साथ ही अगर आप चाहें तो वॉकिंग कर सकते हैं या स्विमिंग कर सकते हैं। इन एक्टिविटीज से बॉडी वेट बैलेंस्ड रहता है और किसी भी बीमारी का खतरा टल सकता है।

यह भी पढ़ें – कैलोरी और एनर्जी में क्या है संबंध? जानें कैसे इसका पड़ता है आपके शरीर पर असर

बॉडी चेकअप के दौरान या रिपोर्ट्स आने के बाद आपको अपने हेल्थ एक्सपर्ट को निम्नलिखित बातें अवश्य बतानी चाहिए। जैसे :-

  • आपको कभी डिप्रेशन की समस्या हुई है या नहीं।
  •  एल्कोहॉल का सेवन करते हैं या नहीं।
  • आपको स्मोकिंग की आदत है या नहीं।

यह भी पढ़ें: मछली खाने के फायदे जानकर हो जाएंगे हैरान, कम होता है दिल की बीमारियों का खतरा

इन सब के बावजूद अगर आप खुद कोई शारीरिक परेशानी महसूस करते हैं, तो इसकी जानकारी भी डॉक्टर को दें। डॉक्टर से कभी भी अपनी शारीरिक परेशानियों को छुपाएं नहीं। वैसे तो रिपोर्ट्स से उन्हें आपके सेहत की जानकारी मिल जाती है, लेकिन अगर आप खुद से भी उन्हें अपनी शारीरिक परेशानियों के बारे में बताते हैं, तो यह आपके लिए बेहतर होगा।

अगर आप मेल बॉडी चेकअप से जुड़े किसी तरह के कोई सवाल का जवाब जानना चाहते हैं तो विशेषज्ञों से समझना बेहतर होगा। हैलो हेल्थ ग्रुप किसी भी तरह की मेडिकल एडवाइस, इलाज और जांच की सलाह नहीं देता है।

और पढ़ें:

क्या वीगन डायट फर्टिलिटी बढ़ाती है?

कोकोनट वॉटर से वेट लॉस होता है, क्या आप इस बारे में जानते हैं?

क्या ऑफिस वर्क से बढ़ रहा है फैट? अपनाएं वजन घटाने के तरीके

स्वस्थ सेहत के लिए रनिंग (Running) है जरुरी

पानी में सेक्स करना (वॉटर सेक्स) कितना सही है

Share now :

रिव्यू की तारीख मार्च 25, 2020 | आखिरी बार संशोधित किया गया मार्च 26, 2020

सूत्र
शायद आपको यह भी अच्छा लगे