क्या सच में स्लीप हिप्नोसिस से आती है गहरी नींद?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट जुलाई 22, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

आमतौर पर देखा गया है कि, आजकल की तेज रफ्तार जिंदगी में हम उतनी नींद नहीं ले पाते जितनी हमारी सेहत के लिए जरूरी होती है। बड़े शहरों में रहने वाले लोगों के लिए यह समस्या ज्यादा गंभीर हो जाती है क्योंकि उन्हें घर, परिवार और ऑफिस सभी एक साथ संभालना होता है। फिर वह इन्सोम्निया या अनिद्रा के शिकार होते हैं। ऐसे में स्लीप हिप्नोसिस एक उम्मीद की किरण बनकर सामने आता है। इस आर्टिकल में हम जानेंगे कि स्लीप हिप्नोसिस क्या है और गहरी नींद के लिए हिप्नोसिस कार्य कैसे करता है?

और पढ़ें : जानिए सोने के कितने प्रकार होते हैं?

इंसोम्निया क्या है?

इंसोम्निया और कम नींद सेहत के लिए खतरनाक हो सकती है। एक अनुमान के अनुसार, पुरुषों की तुलना में महिलाओं में अनिद्रा और नींद से जुड़ी समस्याएं ज्यादा होती हैं और इन समस्याओं के कारण मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव पड़ता है। यह समस्या किसी भी उम्र के लोगों को हो सकती है। नींद न आने के पीछे कई कारण भी हो सकते हैं। इंसोम्निया के इलाज के तौर पर स्लीप हिप्नोसिस को प्रयोग किया जाता है।

इंसोम्निया निम्न प्रकार के होते हैं, जिनके आधार पर ही स्लीप हिप्नोसिस किया जाता है : 

  1. शॉर्ट टर्म एक्यूट इंसोम्निया (Short Term acute insomnia) : यह कुछ दिनों से कुछ सप्ताह तक रहता है और तकरीबन तीन सप्ताह तक चलता है। ऐसा आमतौर पर एक दर्दनाक घटना के प्रभाव या तनाव के कारण हो सकता है। इसके अलावा, तनाव या जीवन में किसी प्रकार का फेरबदल होना। यह टेंपररी इंसोम्निया हो सकता है। इसके अलावा, और भी कई दूसरे कारणों से भी नींद नहीं आती है, जैसे बहुत काम करना, बहुत घूमना, वातावरण में बदलाव। शॉर्ट टर्म एक्यूट इंसोम्निया खुद ठीक भी हो जाता है।
  2. क्रोनिक लॉन्ग टर्म इंसोम्निया (chronic long term insomnia) : यह एक महीने से ज्यादा भी हो सकता है। कई रातों तक जागने के बाद जब आप सोने का प्रयास करते हैं तो ऐसा हो सकता है। ऐसे में आपको डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। इस प्रकार के इन्सोम्निया के लिए स्लीप हिप्नोसिस का इस्तेमाल किया जाता है।

और पढ़ें : क्या नींद न आने की परेशानी सेहत पर डाल सकता है नकारात्मक प्रभाव?

स्लीप हिप्नोसिस क्या है? 

स्लीप हिप्नोसिस एक प्रकार की साइकोथेरिपी है, जिसे हिप्नोथेरिपिस्ट द्वारा किया जाता है। गहरी नींद के लिए हिप्नोसिस में शाब्दिक क्यूस सुनाया जाता है। हिप्नोथेरिपिस्ट कई चीजों के लिए काम करता है, जैसे- रिलैक्सेशन के लिए, एकाग्र होने के लिए, लक्षणों को ठीक करने के लिए और अनिद्रा की समस्या को खत्म करने के लिए। 

हिप्नोसिस सबकॉन्शियस माइंड में नींद लाता है। इसे ऐसे समझिए कि हमारे मस्तिष्क की तरंगें डेल्टा, थीटा, अल्फा स्टेट कॉन्शियस माइंड की एक्टिविटी को कम करते हैं और सबकॉन्शिस माइंड को जगाते हैं। जिससे नींंद आती है। 

और पढ़ें : स्लीपिंग सिकनेस (Sleeping Sickness) क्या है? जानें इसके लक्षण और बचाव उपाय

स्लीप हिप्नोसिस काम कैसे करता है?

सबसे पहले 19वीं शताब्दी में जेम्स ब्रेड नामक एक सर्जन ने हिप्नोसिस का इस्तेमाल नींद दिलाने के लिए किया था। जेम्स ब्रेड ने सर्जरी में उपचार के रूप में हिप्नोसिस का इस्तेमाल किया था। जिससे मरीज का दर्द और चीरे वाले स्थान से ब्लीडिंग दोनों कम हो जाता था। हिप्नोसिस विधि से मरीज जल्दी ठीक होते थे। 

ब्रेड की स्लीप हिप्नोसिस थेरिपी एक प्लेसिबो थेरिपी की तरह काम करती थी। इस बात की पुष्टि 2014 में हुए एक रिसर्च में हुई। इस रिसर्च में 100 ऐसे लोगों को शामिल किया गया, जिन्हें नींद ना आने की समस्या थी। इसके साथ ही इस ग्रुप में ऐसे लोग भी थे, जिन्हें हल्की नींद आती थी। सभी के साथ स्लीप हिप्नोसिस किया गया। जिसमें 80 लोगों को अच्छी और गहरी नींद आई। इस रिसर्च में बुजुर्ग भी शामिल थे, जिन्हें अपनी नींद में बदलाव नजर आया। गहरी नींद के लिए हिप्नोसिस दो तरह से किया जा सकता है : 

सजेशन थेरिपी (Suggestion therapy) : इस थेरिपी में मरीज हिप्नोटाइज हो जाता है, लेकिन डॉक्टर द्वारा दिए गए सभी सजेशन को मानता है। इस थेरिपी को स्लीप के साथ-साथ स्मोकिंग को छोड़ने, नेल बाइटिंग को छोड़ने आदि में इस्तेमाल किया जाता है। सजेशन थेरिपी से दर्द में भी राहत मिलती है। 

एनालिसिस (Analysis) : एनालिसिस में रिलैक्स स्टेट में मरीज को ले जाया जाता है। ये स्लीपिंग डिसऑर्डर को ठीक करने के लिए किया जाता है। 

और पढ़ें : जानिए क्या होता है स्लीप म्यूजिक (Sleep Music) और इसके फायदे

इसके अलावा स्लीप हिप्नोसिस कई सेशन में किया जाता है :

  1. मरीज को पहले सेशन में कम्फर्टेबल महसूस कराया जाता है। जिससे वह अगले सेशन के लिए तैयार होता है।
  2. इसके बाद उसे वर्बल साउंड सुनाया जाता है, जिसमें उसे अपनी सभी चिंताओं को साइड रखने को कहा जाता है।
  3. वर्बल साउंड सुन कर धीरे-धीरे मरीज रिलैक्स होने लगता है। इस दौरान कॉन्शियस माइंड शांत हो जाता है और सबकॉन्शियस माइंड एक्टिव होने लगता है।
  4. इसके बाद मरीज को लंबी सांसें लेने के लिए कहा जाता है, जिससे वह रिलैक्स महसूस करता है। 
  5. फिर इस्तेमाल होती है, सजेशन थेरिपी। इस दौरान थेरिपिस्ट मरीज को सो जाने का निर्देश देते हैं और मरीज गहरी नींद में सो जाता है।

    

स्लीप हिप्नोसिस के फायदे क्या हैं?

हिप्नोसिस की प्रक्रिया को करने से नींद के अलावा निम्न चीजों में भी फायदा होता है। 

जैसा कि आपको पहले ही बता दिया गया है कि ये एक साइकोथेरिपी है, इसलिए मेंटल हेल्थ से जुड़ी ज्यादातर समस्याओं में स्लीप हिप्नोसिस का इस्तेमाल किया जाता है।

और पढ़ें : क्या है शिफ्ट वर्क स्लीप डिसऑर्डर, कैसे पाएं इससे छुटकारा?

गहरी नींद के लिए हिप्नोसिस कैसे करें?

स्लीप हिप्नोसिस के विकल्प के रूप में आप कॉग्निटिव बिहेवियरल टेक्नीक का इस्तेमाल कर सकते हैं। जिसकी मदद से आप रात में अच्छी नींद ले सकते हैं। स्लीप हिप्नोसिस के लिए हमेशा अगर थेरिपिस्ट के पास नहीं जाना चाहते हैं तो आप खुद से गहरी नींद के लिए हिप्नोसिस कर सकते हैं। इसके लिए आपको रिलैक्सेशन ऑडियो सुनना होगा। इसके साथ ही कॉग्निटिव बिहेवियरल टेक्नीक को भी अच्छे रिजल्ट के लिए अपनाना होगा। इसलिए सोते समय आप रिलैक्सेशन ऑडियो को सुनें और खुद को गहरी नींद के लिए हिप्नोसिस करें।

और पढ़ें : नींद टूटने से हैं परेशान तो जानें बेहतरीन नींद के लिए उपाय

अच्छी नींद के लिए अपनाएं ये टिप्स 

इस तरह से आपने जाना कि गहरी नींद के लिए हिप्नोसिस किस तरह से मददगार है। इसके साथ ही अगर आपको भी नींद न आने की समस्या है तो आप अपने डॉक्टर से बात कर सकते हैं और स्लीप हिप्नोसिस थेरिपी ले सकते हैं। उम्मीद है कि आपको हमारा ये आर्टिकल पसंद आया होगा। 

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

बोटोक्स गाइड: जानिए चेहरे को जवां बनाने वाली इस तकनीक के बारे में सबकुछ

बोटोक्स गाइड क्या है, बोटोक्स गाइड से कैसे पाएं खूबसूरती, बॉटुलिनम टॉक्सिन, बेबी बोटोक्स, बेबी बोटोक्स, ब्रोटोक्स, न्यूटोक्स, बजट बोटोक्स, Botox guide in Hindi.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
ब्यूटी/ ग्रूमिंग, स्वस्थ जीवन अप्रैल 16, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

REM sleep behavior disorder : रैपिड आई मूवमेंट स्लीप बिहेवियर डिसऑर्डर

रैपिड आई मूवमेंट(REM) स्लीप बिहेवियर डिसऑर्डर एक नींद की बीमारी है, जिसमें हम शारीरिक रूप से अप्रिय सपने या दुःस्वप्न में तेज आवाज़,बाते करना, या शारीरिक गत

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Siddharth Srivastav
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z अप्रैल 15, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

जान लें नोज पियर्सिंग बंप से राहत दिलाने के उपाय

नाक छिदवाने के बाद फोड़ा, नाक छिदवाने के बाद क्या करें, नोज पियर्सिंग बंप का इलाज क्या है, Nose piercing bump treatment in Hindi.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
ब्यूटी/ ग्रूमिंग, स्वस्थ जीवन अप्रैल 13, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

ज्यादा सोने के नुकसान से बचें, जानिए कितने घंटे की नींद है आपके लिए जरूरी

ज्यादा सोने के नुकसान (Oversleeping) क्या हैं, क्या आपको भी है ज्यादा सोने की आदत? ज्यादा सोने से हो सकते हैं ये नुकसान, जिन्हें जानकर आप हैरान रह जाएंगे। ज्यादा सोने के नुकसान in hindi

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
स्लीप, स्वस्थ जीवन दिसम्बर 18, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

पेडिक्लोरील

Pedicloryl : पेडिक्लोरील क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ जून 16, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
बच्चों को नींद न आना-bacho-ko-neend-na-aana

बच्चों को नींद न आना नहीं है मामूली, उनकी अच्छी नींद के लिए अपनाएं ये टिप्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ मई 14, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
नींद की कमी/ nind na ane ka ilaj

नींद की कमी का करें इलाज, इससे हो सकती हैं कई बड़ी बीमारियां

के द्वारा लिखा गया shalu
प्रकाशित हुआ मई 12, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
महिला और पुरुषों के स्लीप पैटर्न

महिला और पुरुषों के स्लीप पैटर्न क्यों होते हैं अलग?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
प्रकाशित हुआ मई 4, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें