home

What are your concerns?

close
Inaccurate
Hard to understand
Other

लिंक कॉपी करें

कैसे बचें वर्कप्लेस स्ट्रेस से?

कैसे बचें वर्कप्लेस स्ट्रेस से?

ऑफिस में काम के दौरान थोड़ा-बहुत तनाव होना स्वाभाविक बात है, लेकिन कई बार लोग ऑफिस के काम का तनाव इतना ज्यादा ले लेते हैं कि उनकी रात की नींद ही उड़ जाती है। हालांकि, ऑफिस के काम से होने वाला स्ट्रेस और डिप्रेशन दो अलग-अलग स्थितियां है, लेकिन कई बार इससे फिजिकल और मेंटल हेल्थ प्रभावित हो जाती है।

इस स्थिति में लोग डिप्रेशन का शिकार भी हो सकते हैं। हालांकि, वर्कप्लेस में मानसिक सूप से स्वस्थ रहने के लिए कई प्रभावी कार्य किए जा सकते हैं। इस तरह के कार्यों से उत्पादकता में भी बढ़ावा मिलता है।

द अमेरिकन इंस्टीट्यूट ऑफ स्ट्रेस ऑर्गेनाइजेशन की एक रिपोर्ट के अनुसार फाइनेंशियल या पारिवारिक समस्याओं की तुलना में वर्कप्लेस स्ट्रेस का संबंध स्वास्थ्य समस्याओं से अधिक होता है।

और पढ़ें : Episode-1: डायबिटीज से ज्यादा उसके होने का स्ट्रेस इंसान को बीमार कर देता है, ऐसे बनाए डायबिटिक लाइफ को आसान

कार्यस्थल संबंधी तनाव (workplace stress) क्या है?

  • जब ऑफिस में काम के बोझ और डेडलाइन को पूरा करने का प्रेशर हद से ज्यादा गुजर जाता है तब वर्कप्लेस स्ट्रेस पैदा होता है। इसमें एम्प्लोयी को ऑफिस की उम्मीदों को पूरा करने में दिक्कत होने लगती है।
  • वर्कप्लेस स्ट्रेस, काम की परिस्थितियों की एक विस्तृत श्रृंखला है, लेकिन बात तब बिगड़ जाती है जब कर्मचारियों को लगने लगता है कि उन्हें सुपरवाइजर और सहकर्मियों का कम समर्थन प्राप्त हो रहा है।
  • वर्कप्लेस स्ट्रेस, खराब कार्य संगठन (जिस तरह से हम नौकरियों और कार्य प्रणालियों को डिजाइन करते हैं और जिस तरह से हम उन्हें प्रबंधित करते हैं), खराब कार्य डिजाइन (उदाहरण के लिए, कार्य प्रक्रियाओं पर नियंत्रण की कमी), खराब प्रबंधन, असंतोषजनक काम के कारण हो सकता है।

और पढ़ें: ये हो सकते हैं मनोविकृति के लक्षण, कभी न करें अनदेखा

वर्कप्लेस स्ट्रेस के लक्षण

कार्यस्थल पर तनाव जब बहुत ज्यादा बढ़ जाता है, तो व्यक्ति अपना आत्मविश्वास खोने लगता है और क्रोधित, चिड़चिड़ा रहने लगता है। अत्यधिक वर्कप्लेस स्ट्रेस के अन्य लक्षणों में शामिल हैं :

और पढ़ें: डिप्रेशन का हैं शिकार तो ऐसे ढूंढ़ें डेटिंग पार्टनर

डिप्रेशन के परिणाम

विश्व स्तर पर, अनुमानित 26 करोड़ लोग डिप्रेशन से पीड़ित हैं। कई लोग चिंता के लक्षणों से भी ग्रस्त हैं। हाल ही में एक अध्ययन के परिणाम के अनुसार डिप्रेशन और चिंता विकार से पीड़ित लोग हर साल 1 ट्रिलियन अमेरिकी डॉलर इस विकार के उपचार में खर्च करते हैं। बेरोजगारी मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं के लिए एक जोखिम कारक है, जबकि काम करना सुरक्षात्मक पहलू है।

ऑफिस में नकारात्मक वातावरण के कारण शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य समस्याएं पैदा होती हैं। एल्कोहल का सेवन करने पर आपकी ऑफिस में प्रोडक्टिविटी प्रभावित होती है जिसका सीधा असर वर्कप्लेस में होने वाले मेंटल स्ट्रेस पर पड़ता है।

और पढ़ें: बच्चों का पढ़ाई में मन न लगना और उनकी मेंटल हेल्थ में है कनेक्शन

वर्कप्लेस स्ट्रेस के कारण

ऑफिस में मानसिक तनाव के लिए कई जोखिम कारक जिम्मेदार हो सकते हैं। अधिकांश लोगों में वर्कप्लेस स्ट्रेस कार्य के प्रकार, संगठनात्मक और अकुशल प्रबंधकीय वातावरण के कारण पैदा होता है।

इसके अलावा, कर्मचारियों के कौशल और दक्षताओं और कार्य को पूरा करने का ओवर लोड वर्कप्लेस डिप्रेशन का कारण बन सकता है।

उदाहरण के लिए, किसी व्यक्ति के पास कार्यों को पूरा करने के लिए कौशल है, लेकिन उसके पास बहुत कम संसाधन हैं या उसे काम पूरा करने के लिए बहुत कम समय दिया गया है तो ऐसी स्थिति में कार्य को पूरा करने के दबाव में अमुख व्यक्ति मानसिक विकार का शिकार हो सकता है।

द अमेरिकन इंस्टीट्यूट ऑफ स्ट्रेस ऑर्गेनाइजेशन की एक रिपोर्ट के अनुसार “80% कर्मचारी कार्यस्थल पर तनाव महसूस करते हैं, लगभग आधे कहते हैं कि उन्हें वर्कप्लेस स्ट्रेस को मैनेज करने के लिए मदद की जरूरत है और 42% का कहना है कि उन्हें सहकर्मियों की मदद की जरूरत है।”

और पढ़ें : Episode-1: डायबिटीज से ज्यादा उसके होने का स्ट्रेस इंसान को बीमार कर देता है, ऐसे बनाए डायबिटिक लाइफ को आसान

वर्कप्लेस स्ट्रेस के अन्य कारणों में शामिल हैं

  • अपर्याप्त स्वास्थ्य और सुरक्षा नीतियां
  • खराब कम्यूनिकेशन और मैनेजमेंट
  • निर्णय लेने या कार्य क्षेत्र पर कम नियंत्रण या सीमित भागीदारी
  • कर्मचारियों की बात को अनसुना करने का माहौल
  • कर्मचारियों की कमियों के कारण अधिक ओवरटाइम करने की प्रवृत्ति
  • बढ़ती उम्मीदों को पूरा करने के लिए अच्छा प्रदर्शन करने का दबाव, लेकिन तनख्वाह से संतुष्टि में कोई वृद्धि नहीं होना
  • अपने तरीके से काम करने की आजादी कम होना
  • अस्पष्ट कार्य या संगठनात्मक उद्देश्य।

डिप्रेशन के कुछ दूसरे कारण भी हो सकते हैं जैसे व्यक्ति की दक्षता के हिसाब से अनुपयुक्त कार्य या उच्च और अविश्वसनीय कार्यभार होना।

ये स्थितियां अक्सर मानसिक स्वास्थ्य पर प्रभाव डाल सकती हैं और मेंटल डिसऑर्डर के लक्षणों का कारण बन सकती हैं । इस तरह के काम से दबा हुआ कर्मचारी शराब या मानसिक दवाओं के हानिकारक सेवन का आदी बन सकता है। इन स्थितियों में मेंटल स्ट्रेस का जोखिम बढ़ सकता है, जहां टीम के सदस्यों के बीच सामंजस्य या सामाजिक समर्थन की कमी है।

आमतौर पर काम से संबंधित डिप्रेशन का कारण मानसिक उत्पीड़न बताया जाता है जो कि श्रमिकों के स्वास्थ्य के लिए खतरनाक हो सकता है। यदि कर्मचारी मनोवैज्ञानिक और शारीरिक दोनों समस्याओं से जूझते हैं तो इसका असर उनके परिवार और सामाजिक संबंधों पर भी पड़ता है। ये स्थितियां उनके स्वास्थ्य पर भी नकारात्मक प्रभाव डाल सकती हैं।

और पढ़ेंः आखिर क्यों कुछ लोगों को अकेले रहने में मजा आता है?

ऐसे बचें वर्कप्लेस स्ट्रेस से

  • काम के दौरान थोड़ा सा रिलैक्स करना मेंटल हेल्थ के लिए अच्छा माना जाता है और इससे प्रोडक्टिविटी भी बढ़ती है।
  • रिलैक्स करने के लिए अरोमाथेरेपी और ब्रीदिंग एक्सरसाइज का इस्तेमाल किया जा सकता है। इसके अलावा तनाव को कम करने के लिए एरोबिक्स भी कर सकते हैं।
  • बीच-बीच में डेस्क पर बैठे हुए गर्दन को घुमाएं।
  • साथ ही काम शुरू करने से पहले 10 मिनट का टाइमर लगाएं और अपनी उस दिन की टू डू लिस्ट बनाकर प्रायोरिटी लिस्ट बनाएं।
  • स्क्रीन को लगातार देखने की बजाय थोड़ी देर आंखें बंद कर के रिलैक्स करें। इसके साथ ही म्यूजिकल ब्रेक भी ले सकते हैं जिसमें अपनी पसंद का गाना सुनें।

हम काम से संबंधित जोखिम कारकों को कम करके मानसिक रूप से स्वस्थ रह सकते हैं। काम के सकारात्मक पहलुओं को कर्मचारियों से जोड़ने की कोशिश की जाए और उनके मानसिक स्वास्थ्य को बढ़ावा देकर हम डिप्रेशन को रोक सकते हैं।

मानसिक स्वास्थ्य से जुड़ी समस्याओं का समाधान करें। कर्मचारियों में तनाव को कम करने के लिए अन्य कंपनियों ने जो रणनीतियां अपनाई हैं, उन तरीकों को अपनाने की कोशिश की जाए। इससे काफी हद तक मानसिक विकारों (Mental Disorders) पर काबू पाया जा सकता है।

और पढ़ें : आइसोलेशन के दौरान स्ट्रेस से निजात चाहिए तो बनिए आशावादी, दूर हो जाएंगी आपकी समस्याएं

हमें कर्मचारियों के अवसरों और जरूरतों को समझना चाहिए और उन्हें ऐसे प्लेटफॉर्म उपलब्ध करवाने चाहिए जहां वो किसी भी मानसिक तकलीफ को दूर करने के लिए सहायता मांग सकते हैं।

हमें उम्मीद है कि वर्कप्लेस स्ट्रेस पर आधारित यह लेख आपको पसंद आया होगा। यदि आपको लगता है कि आप वर्कप्लेस डिप्रेशन का शिकार हो रहे हैं तो अपने सहयोगियों या इस बारे में डॉक्टर से संपर्क करें। वर्कप्लेस स्ट्रेस के मामले बढ़ते जा रहे हैं। अधिक समय तक कार्यस्थल पर तनाव से जुड़े रहने से मेंटल हेल्थ खराब हो सकती है। बेहतर होगा कि इस बारे में डॉक्टर से परामर्श करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप किसी भी तरह की मेडिकल एडवाइस, इलाज और जांच की सलाह नहीं देता है।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Stress at the workplace. https://www.who.int/mental_health/in_the_workplace/en/. Accessed on 24 Aug 2019

Stress in the Workplace. https://www.helpguide.org/articles/stress/stress-in-the-workplace.htm. Accessed on 24 Aug 2019

STRESS…At Work NIOSH Report. https://www.stress.org/workplace-stress. Accessed on 24 Aug 2019

Work-related stress. https://www.betterhealth.vic.gov.au/health/healthyliving/work-related-stress. Accessed on 24 Aug 2019

लेखक की तस्वीर badge
Smrit Singh द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 05/11/2020 को
डॉ. हेमाक्षी जत्तानी के द्वारा मेडिकली रिव्यूड