backup og meta
खोज
स्वास्थ्य उपकरण
बचाना

सोरायसिस का होम्योपैथिक इलाज, इस बीमारी से ऐसे पाएं छुटकारा

के द्वारा मेडिकली रिव्यूड डॉ. स्नेहल सिंह · होम्योपैथी · Wellness Online Clinic Healing Arts


AnuSharma द्वारा लिखित · अपडेटेड 12/12/2023

सोरायसिस का होम्योपैथिक इलाज, इस बीमारी से ऐसे पाएं छुटकारा

सोरायसिस एक इंफ्लेमेटरी स्किन कंडीशन है, जिससे कई लोग प्रभावित होते हैं। यह समस्या किसी भी उम्र में हो सकती है, लेकिन 11 से 60 साल की उम्र के लोगों में यह अधिक देखी गई है। सोरायसिस एक ऑटोइम्यून बीमारी है। जो उन परिस्थितियों के समूह से संबंधित है, जहां प्रतिरक्षा प्रणाली (Immune system) अतिसक्रिय होती है और अपनी कोशिकाओं और ऊतकों को प्रभावित करती है। सोरायसिस के कुछ लक्षण इस प्रकार हैं जैसे दर्द, खुजली, त्वचा का फटना, जोड़ों में जलन, पस से भरे हुए फोड़े आदि। यह लक्षण प्रभावित व्यक्ति के तनाव का कारण भी बन सकते हैं। सोरायसिस के उपचार के कई तरीके हैं। इस आर्टिकल में जानें सोरायसिस का होम्योपैथिक इलाज (Homeopathy for psoriasis)।

सोरायसिस का होम्योपैथिक इलाज (Homeopathy for psoriasis)

सोरायसिस का होम्योपैथिक इलाज (Homeopathy for psoriasis) के बारे में बात करने से पहले जानते हैं कि होम्योपैथी कैसे सोरायसिस की स्थिति में लाभदायक साबित हो सकती है। कई सालों से लोगों के बीच में यह चिंता का विषय है कि सोरायसिस या अन्य स्थितियों में होम्योपैथी प्रभावी है या नहीं। सोरायसिस के मामले में कुछ मरीज अपनी स्किन की स्थितियों में सुधार देखते हैं। हालांकि, कुछ लोगों को इससे कोई आराम नहीं मिलता। सोरायसिस का होम्योपैथिक इलाज (Homeopathy for psoriasis) के साथ-साथ डॉक्टर की सलाह का पालन करना और त्वचा की देखभाल करना भी बेहद जरूरी है। 

सोरायसिस के लिए होम्योपैथी

सोरायसिस का होम्योपैथिक इलाज (Homeopathy for psoriasis) किसके लिए उपयुक्त

अब सवाल यह है कि कौन सा सोरायसिस होम्योपैथिक उपचार(Psoriasis homeopathic treatment) किस रोगी के लिए उपयुक्त है। यह उपचार घाव की स्थिति, रंग, साइज जैसी चीजों पर निर्भर करता है। विभिन्न होम्योपैथिक उपचार सोरायसिस को शांत करने में मदद करते हैं। विशेष रूप से सोरायसिस के कारण होने वाली खुजली, तनाव और नींद की समस्याओं को दूर करने में। इसके लिए आप होम्योपैथिक चिकित्सक से परामर्श  कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें: बच्चों में सोरायसिस नहीं है कॉमन, जानें क्या हो सकते हैं कारण

सोरायसिस का होम्योपैथिक इलाज (Homeopathy for psoriasis) कैसे लाभदायक है?

सोरायसिस के लिए होम्योपैथी उपचार (Psoriasis homeopathic treatment) बहुत लाभदायक है। जानिए इसके कुछ कारण:

सुरक्षित

होम्योपैथी में सुरक्षित और प्राकृतिक होम्योपैथिक दवाओं के साथ सोरायसिस का इलाज किया जाता है। इनके कोई दुष्प्रभाव भी नहीं होते हैं। इसलिए इसे पूरी तरह से सुरक्षित माना जाता है।

जड़ से हो समस्या का समाधान

सोरायसिस के लिए होम्योपैथी (Homeopathy for psoriasis) उपचार केवल शारीरिक लक्षणों को ही ठीक नहीं करता। बल्कि, सोरायसिस के मूल कारणों को भी ठीक करता है। जिससे आपको लंबे समय तक चलने वाले परिणाम मिलते हैं। होम्योपैथिक डॉक्टर आपको किसी भी दवा की सलाह देने से पहले, आपकी हेल्थ हिस्ट्री, व्यक्तित्व, स्वभाव, जीवन शैलीऔर पारिवारिक स्वास्थ्य इतिहास पर विचार करते हैं।

[mc4wp_form id=”183492″]

भावनात्मक उपचार

सोरायसिस के मरीजों पर किए गए सर्वे के अनुसार 40 प्रतिशत मरीजों ने यह माना है कि इस समस्या से उनके संबंधों पर बुरा असर पड़ा, जबकि 40 प्रतिशत मरीजों का यह माना है कि सोरायसिस से उनके काम पर असर हुआ है। 38 प्रतिशत लोगों का यह मानना है कि इससे मनोवैज्ञानिक स्थिति पर बुरा प्रभाव पड़ा है। लेकिन, होम्योपैथी उपचार यह न केवल सोरायसिस के शारीरिक लक्षणों को ठीक करता है, बल्कि मरीजों की भावनात्मक स्थितियों को सुधरने में भी मदद करता है।

इम्युनिटी बढ़ाएं 

सोरायसिस एक ऑटोइम्यून स्थिति है। जिसमें रोगी की इम्युनिटी अति सक्रिय होती है और अपनी कोशिकाओं और ऊतकों पर हमला करती है।होम्योपैथिक दवाएं शरीर को इम्युनिटी के स्तर पर ठीक करती हैं।

अच्छे परिणाम

ऐसा माना जाता है कि सोरायसिस के लिए होम्योपैथी उपचार(Psoriasis homeopathic treatment) के परिणाम की दर बहुत अच्छी है। इस पद्धति से उपचार करने पर अच्छे परिणाम मिलते हैं।

यह भी पढ़ें: जानें सोरायसिस के प्रकार से जुड़े मिथ और फैक्ट्स

सोरायसिस का होम्योपैथिक इलाज (Homeopathy for psoriasis) और दवाईयां

सोरायसिस का होम्योपैथिक इलाज (Homeopathy for psoriasis) जिन दवाईयों से किया जाता है, उनके बारे में जानते हैं। सोरायसिस के लिए होम्योपैथी दवाईयां(homeopathy medicine for psoriasis in hindi) इस प्रकार हैं:

आर्सेनिक एल्बम(Arsenic Album)

आर्सेनिक एल्बम का उपयोग मुख्य रूप से उस पर स्कैल्प पर करते हैं जो रूखी, खुरदरी होती है और जिन पर लाल दानेदार फुंसियां होती है। यह फुंसियां तेजी से फैलती हैं और इनमें खुजली होती है। ज्यादातर मामलों में ठंड में खुजली बढ़ती है, जबकि गर्मी से इन्हे राहत मिलती है। इनके फटने के बाद प्रभावित त्वचा पर दर्द उठता है। इस समस्या से बेचैनी भी हो सकती है। आर्सेनिक एल्बम सोरायसिस के मामलों में अच्छा काम करती है। 

सौंदर्य, त्वचा और स्वास्थ्य से जुड़ी जानकारी के लिए क्लिक करें:

ग्रेफाइट्स नेचुरलिस (Graphites Naturalis) 

ऐसे मामले में ग्रेफाइट्स नेचुरलिस अच्छी तरह से काम करती है, जहां फटी त्वचा के साथ ही गले में खराश हो। ग्रेफाइट नेचुरलिस स्कैल्प सोरायसिस के मामलों के लिए भी उपयोगी है। ऐसे मामलों में, स्कैल्प को छूने पर दर्द हो सकता है, जिससे खुजली भी हो सकती है। स्कैल्प पर फोड़े कानों के पीछे भी फैल सकते हैं। नेल सोरायसिस के मामलों में होम्योपैथिक नेल सोरायसिस ट्रीटमेंट(homeopathic nail psoriasis treatment) भी आपके काम आ सकता है। इस नेल ट्रीटमेंट में ग्रेफाइट्स नेचुरलिस का प्रयोग किया जाता है, खासतौर पर अगर आपके नाखून खुरदरे,मोटे और विकृत हैं।

यह भी पढ़ें: Psoriasis : सोरायसिस इंफेक्शन क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

कार्सिनोसिन (Carcinosin)

यह सोरायसिस होम्योपैथिक उपचार(Psoriasis homeopathic treatment) उन रोगियों के लिए है, जिन्हें आनुवांशिकी के कारण सोरायसिस हो जाता है। यह एक शक्तिशाली और प्रभावी दवा है,जो कैंसर के टिश्यू से बनाई जाती है। यह सुनने में अजीब लग सकता है,लेकिन कार्सिनोसिन उन लोगों के लिए सबसे अच्छी होम्योपैथिक दवा है, जिनके परिवार में सोरायसिस चल रहा है। इस दवाई की सलाह उन रोगियों के लिए भी दी जा सकती है जो भावनात्मक रूप से कमजोर हैं।

सोरायसिस के लिए होम्योपैथी

काली आर्सेनिकम  (Kali Arsenicum)

इस सोरायसिस होम्योपैथिक उपचार(Psoriasis homeopathic treatment) की सलाह उन लोगों को दी जाती है जो विशेष रूप से गर्म परिस्थितियों में बहुत अधिक खुजली से पीड़ित होते हैं। यह उन लोगों को भी दी जा सकती है जिनके कोहनी के अंदरूनी हिस्से के साथ-साथ घुटनों के पीछे कट और  घाव हैं। काली आर्सेनिकम सोरियाटिक गठिया से पीड़ित लोगों के लिए बेहतरीन होम्योपैथिक उपचार है।

Quiz : अपनी पसंद-नापसंद से जानिए संक्रमण से कितना लड़ सकता है आपका शरीर

ग्रेफाइटस (Graphites)

जब सोरायसिस के मैनेजमेंट की बात आती है, तो ग्रेफाइटस एक ऐसा होम्योपैथी उपचार है जिसे अनदेखा नहीं किया जा सकता । यह त्वचा के सूखेपन, कठोर, मोटी और खुरदरी त्वचा का इलाज करने में मदद करता है। इसका उपयोग नाखूनों पर सोरायसिस के इलाज के लिए भी किया जा सकता है। कान के पीछे,कमर, गर्दन और कोहनी और घुटनों पर भी इसका इस्तेमाल किया जा सकता है। आमतौर पर, यह उपाय मोटे लोगों, कब्ज से पीड़ित लोगों या ठन्डे मौसम के प्रति संवेदनशील लोगों के लिए बेहतरीन है।

मेजेरियम (Mezereum)

इस सोरायसिस के लिए होम्योपैथी दवाई (homeopathy medicine for psoriasis in Hindi ) को स्प्रेज ऑलिव ट्री की छाल का उपयोग करके तैयार किया जाता है, जिसे मेजेरियम भी कहा जाता है। यह काफी प्रभावी ढंग से त्वचा और स्कैल्प के सोरायसिस का इलाज कर सकती है। यह वही होम्योपैथिक उपाय है जो एक्जिमा के इलाज के लिए भी उपयोग किया जाता है।

यह भी पढ़ें: सोरायसिस के मरीजों के लिए डाइट प्लान कैसा होना चाहिए, जानिए

एपिस मेलीफिका (Apis Mellifica)

इस दवा का उपयोग उन फोड़े फुंसी के लिए किया जाता है। जो गर्म और शुष्क लगते हैं, लेकिन फिर भी छूने पर संवेदनशील होते हैं। आमतौर पर, इस तरह के फोड़े फुंसी वाले रोगी ठंडे स्नान करने के बाद बेहतर महसूस करते हैं। गर्मी में उनकी स्थिति बिगड़ने का जोखिम रहता है।

कैलेंडुला (Calendula)

कई बार होम्योपैथिक डॉक्टर सोरायसिस के लिए कैलेंडुला की सलाह दे सकते हैं। यह उपचार उस सूजन को शांत कर सकता है, जो सोरायसिस का कारण बनती है। ये सोरायसिस के लिए सबसे आम होम्योपैथी उपचार है। यदि आप सही सोरायसिस होम्योपैथिक उपचार(Psoriasis homeopathic treatment) चाहते हैं, तो एक अनुभवी और प्रशिक्षित होम्योपैथ से परामर्श करें। डॉक्टर आपकी त्वचा की स्थिति के अनुसार आपको सही उपचार की सलाह देंगे।

सोरायसिस के लिए होम्योपैथी

हेल्थ टिप्स

सोरायसिस के लिए होम्योपैथी (Homeopathy for psoriasis) के साथ ही स्वस्थ लाइफस्टाइल से भी सोरायसिस से होने वाली समस्याओं से मुक्ति मिलती है जैसे खारिश या दर्द आदि। ऐसे में कुछ हेल्थ टिप्स आपके काम आ सकते हैं:  

  • तनाव से बचने के लिए मैडिटेशन या योग करें। 
  • नियमित रूप से फिजिकल एक्टिविटी करें।
  • खाने की आदतों में बदलाव लाएं पौष्टिक और संतुलित आहार का सेवन करें। फल, सब्जियों, अनाज का सेवन करें। अधिक से अधिक पानी पीएं और अल्कोहल आदि से दूर रहें।
  • डीहाइड्रेशन और ड्राईनेस से अपनी त्वचा को बचाने के लिए अपनी त्वचा को मॉइस्चराइज करें।
  • अगर आपको खुजली है तो सिंथेटिक और ऊनी कपड़े पहनने से बचे। इसकी जगह नेचुरल फाइबर जैसे कॉटन या सिल्क पहने। 

यह भी पढ़ें: सोरायसिस का आयुर्वेदिक इलाज क्या है? जानें क्या करें और क्या नहीं

ध्यान दें

सोरायसिस का होम्योपैथिक इलाज (Homeopathy for psoriasis) हो सकता है कि आपके लिए फायदेमंद न हों। इसलिए, अपने डॉक्टर से उन सभी उपचारों के बारे में बात करें  जो आपकी इस स्थिति को दूर करने में लाभदायक हों। सोरायसिस त्वचा रोग का इलाज करना आवश्यक है। अपनी इस समस्या को बढ़ने से रोकने के लिए कुछ सुझावों का पालन करना चाहिए जैसे गर्म पानी के स्नान, रेड मीट और सौंदर्य प्रसाधन से बचें।

डिस्क्लेमर

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

के द्वारा मेडिकली रिव्यूड

डॉ. स्नेहल सिंह

होम्योपैथी · Wellness Online Clinic Healing Arts


AnuSharma द्वारा लिखित · अपडेटेड 12/12/2023

ad iconadvertisement

Was this article helpful?

ad iconadvertisement
ad iconadvertisement