डेंगू से जुड़ी रोचक बातें जो आपको जानना जरूरी है

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट फ़रवरी 3, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

डेंगू (Dengue) जिसे इंग्लिश में डेंगी (Dengue) कहते हैं, एडीज मच्छर के काटने के कारण होता है। एडीज मच्छर जमे हुए पानी जैसे कूलर में जमा हुआ पानी, गमलों में जमा हुआ पानी या अन्य कोई ऐसी जगह पर पनप सकते हैं। ऐसी जगह डेंगू का खतरा ज्यादा होता है। डेंगू को हड्डी तोड़ बुखार में भी कहा जाता है। इस आर्टिकल में जानें इस मच्छर द्वारा फैलने वाली इस खतरनाक बीमारी से जुड़े रोचक फैक्ट्स।

यह भी पढ़ेंः डेंगू और स्वाइन फ्लू के लक्षणों को ऐसे समझें

डेंगू (Dengue) से जुड़े कुछ जरूरी बातें जिन्हें जानना जरूरी है

ट्रांसमिशन:

पहले से संक्रमित मादा एडीज एजिप्टी मच्छर के काटने से डेंगू (Dengue) मनुष्यों में फैलता है। एडीज मच्छर व्यक्ति के खून को संक्रमित करते हैं

यह भी पढ़ें :डेंगू बुखार जल्दी ठीक करेंगे ये 9 आहार

नोमिनक्लेचर:

डेंगू (Dengue) बुखार को ब्रेक-बोन बुखार यानी हड्डी तोड़ बुखार के रूप में भी जाना जाता है। ऐसा इसलिए क्योंकि इस बुखार की वजह से हड्डी टूटने जैसा दर्द भी होता है। यह डेंगू हेमोरेजिक फीवर (डीएचएफ) या डेंगू शॉक सिंड्रोम (डीएसएस) जैसी जानलेवा स्थितियों के कारण और जटिल हो सकता है।

डेंगू (Dengue) के लक्षण:

डेंगू (Dengue) होने की स्थिति में गंभीर फ्लू जैसे लक्षण दिखाई देते हैं, जो रोगी की उम्र के आधार पर अलग-अलग हो सकते हैं। यह ध्यान देना चाहिए कि क्या किसी व्यक्ति को निम्न लक्षणों और तेज बुखार आता है।

  • तेज सिर दर्द होना।
  • रैश होना।
  • चक्कर आना।
  • उल्टी आना।
  • आंखों में तेज दर्द होना।
  • मांसपेशियों और जोड़ों में दर्द होना।
  • ग्लैंड में सूजन आना।

यह भी पढ़ें : डेंगू में क्या खाएं और क्या न खाएं इसका भी रखें ध्यान

लक्षण आमतौर पर मच्छर के काटने के 4 से 10 दिनों बाद दिखाई देते हैं और आमतौर पर लगभग 2-7 दिनों तक रहते हैं। डेंगू की परेशानी गंभीर होने पर निम्नलिखित परेशानी भी हो सकती है।

डेंगू से जुड़े कुछ रोचक तथ्य

डेंगू किसी भी मरीज को हो सकता है। इसमें उम्र या फिर लिंग से कोई लेना देना नहीं है। डेंगू में खतरनाक बुखार होने पर कई बार बच्चों की मृत्यु भी हो जाती है।

    • डेंगू एक वायरल बीमारी है और DENV नाम के वायरस की वजह से होती है।
    • डेंगू एडीज एजेप्टाइ  (Aedes aegptii) मच्छर की वजह से फैलता है।
    • ये मच्छर दिन के समय संक्रमण फैलाता है।
    • एडीज के काटने पर आपको तुरंत डेंगू के लक्षण दिखाई नहीं देंगे। साफ तौर से लक्षणों के दिखने में कम से कम तीन से चौदह दिन लगेंगे।

यह भी पढ़ें :सिर्फ ये तीन आसान नियम डेंगू को भगाएंगे दूर

डेंगू (Dengue) के रिस्क:

डेंगू (Dengue) की गंभीर स्थिति के संकेतों और लक्षणों को पहचानें, जो शुरूआती बुखार के जाने के बाद 24-48 घंटे में उभरते हैं। यदि आप या आपके परिवार के सदस्य में इनमें से कोई संकेत दिखाई देते हैं, तो तुरंत डॉक्टर को दिखाएं-

  • पेट में तेज दर्द या उल्टी (24 घंटे में कम से कम 3 उल्टी)
  • नाक या मसूड़ों से खून बहना
  • उल्टी या दस्त में खून आना
  • सुस्ती या चिड़चिड़ाहट
  • त्वचा का पीला व ठंडा पड़ना (कभी-कभी चिपचिपी त्वचा के लक्षण भी मिलते हैं)
  • सांस लेने में कठिनाई

डेंगू (Dengue) की रोकथामः

कई सरकारी संगठन डेंगू से लड़ने के लिए कई तरह के प्रयास कर रहे हैं। वर्तमान में उनके प्रयास रोकथाम पर केन्द्रित हैं, जैसे कीटनाशकों का उपयोग या डेंगू मच्छरों के संभावित आवासों को नष्ट करना। हालांकि, डेंगू बुखार की रोकथाम के लिए कोई टीका नहीं है। इसलिए, मच्छर के काटने से बचना जरूरी है। यदि आप उष्णकटिबन्धीय क्षेत्र (Tropical region) में रहते हैं या वहां की यात्रा करते हैं। निम्नलिखित तरीकों से आप खुद को बचा सकते हैं :

  • यदि संभव हो, तो अत्यधिक आबादी वाले आवासीय क्षेत्रों से दूर रहें।
  • घर के अंदर भी मच्छरों को दूर भगाने वाली वस्तुओं का उपयोग करें।
  • फुल आस्तीन वाली शर्ट और फुल पैन्ट पहनकर बाहर जाएं।
  • मच्छरदानी का उपयोग करें।
  • अंधेरे कोनों (बिस्तर, सोफे के नीचे और पर्दों के पीछे) में कीटनाशक स्प्रे का उपयोग करें।
  • ध्यान दें गमलों की मिट्टी गीली न रहे।
  • अपनी सोसायटी के भीतर और आस-पास जमा पानी को हटाएं।
  • पानी के सभी बर्तन खाली होने पर उन्हें उल्टा रखें और उन्हें छाया में रखें।

यदि आपको डेंगू के लक्षण दिखते हैं, तो तुरंत अपने डॉक्टर से परामर्श लें। मच्छरों की आबादी कम करने के लिए उन स्थानों को नष्ट करें। जहां मच्छर पनप सकते हैं, जैसे पुराने पेड़, डिब्बे, फूलदान, जिनमें बारिश का पानी एकत्र होता है। अपने आस-पास के क्षेत्र को स्वच्छ रखें। इस तरह मच्छरों के प्रजनन को रोककर आप डेंगू बुखार (dengue fever) से बच सकते हैं।

मच्छरों को दूर रखने के लिए घर के अंदर एंटी-मॉस्क्यूटो लिक्विडेटर का प्रयोग करें।

डेंगू बुखार के लिए कोई विशिष्ट उपचार नहीं है लेकिन, एंटी-बायोटिक से कंट्रोल किया जा सकता है। लेकिन, ऐसे में निम्नलिखित कदम उठाए जा सकते हैं:

1. रोगी की देखभाल:

डेंगू (Dengue) के मरीजों को उचित आराम मिलना चाहिए और बहुत सारे तरल पदार्थ जैसे पानी, नारियल पानी, ताजा जूस आदि पीना चाहिए।

यह भी पढ़ें :डेंगू के मरीज क्या खाएं और क्या नहीं।

2. गर्भावस्था के दौरान:

गर्भावस्था के दौरान डेंगू (Dengue) से शिशुओं में प्रीटर्म बर्थ (पीटीबी) और शिशु का वजन कम होना (एलबीडब्ल्यू) हो सकता है। रिसर्च के अनुसार गर्भावस्था के दौरान डीएचएफ से भ्रूण की मृत्यु या रक्तस्राव हो सकता है।

3. डेंगू (Dengue) और नवजात:

नवजात शिशुओं सहित किसी पर भी डेंगू (Dengue) का हमला हो सकता है। नवजात शिशुओं में रैश या हाई ग्रेड फीवर जैसे अन्य लक्षण होने पर डॉक्टर टेस्ट की मदद से इलाज शुरू कर सकते हैं।

डेंगू (Dengue) होने पर खुद से इलाज न करें और लक्षण समझ में आने पर जल्द से जल्द डॉक्टर से संपर्क करें। ।

यह भी पढ़ें : 

सिर्फ ये तीन आसान नियम डेंगू को भगाएंगे दूर

जानें डेंगू से जुड़ी कुछ धारणाएं किस हद तक है

जानें डेंगू टाइमलाइन और इससे जुड़े महत्वपूर्ण तथ्य

डेंगू से हुई एक और मौत, बेहद जरूरी है जानना इसके लक्षण और उपाय

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy

संबंधित लेख:

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    जानलेवा हो सकता है डेंगू हेमरेज फीवर, जानें इसके कारण, लक्षण और उपचार

    डेंगू हेमरेज फीवर क्या है? डेंगू हेमरेज फीवर के लक्षण और इलाज, कई डेंगू पेशेंट्स के दिमाग में हेमरेज (हेमरेजिक फीवर) हो जाता है। जानिए डेंगू हेमरेज फीवर के बारे में सबकुछ

    के द्वारा लिखा गया Mona narang

    मलेरिया से जुड़े मिथ पर कभी न करें विश्वास, जानें फैक्ट्स

    जानिए मलेरिया से जुड़े मिथ और फैक्ट्स क्या हैं, Myths and Facts about Malaria in hindi, मलेरिया से जुड़े मिथ से कैसे दूर रहें, Malaria se jude myths, malaria se kaise bachav kareien, मलेरिया से कैसे बचें।

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Surender aggarwal
    लोकल खबरें, स्वास्थ्य बुलेटिन अप्रैल 25, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

    Boneset: बोनसेट क्या है?

    जानिए बोनसेट की जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, बोनसेट उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Boneset डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
    के द्वारा लिखा गया Anu sharma
    जड़ी-बूटी A-Z, ड्रग्स और हर्बल मार्च 24, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

    घर में ही बनाएं मच्छर मारने की दवा, आसान है प्रॉसेस

    मच्छर मारने की दवा क्या है, मच्छर मारने की दवा का उपयोग कैसे करें, नेचुरल तरीके से मच्छर कैसे भगाएं, मच्छर की बीमारियां, natural mosquito killer in Hindi

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
    हेल्थ टिप्स, स्वस्थ जीवन मार्च 24, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

    Recommended for you

    मच्छर जनित बीमारियां

    मच्छरों के काटने से हो सकती हैं ये गंभीर बीमारियां, बचाव के लिए जानें एक्सपर्ट की राय

    के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
    प्रकाशित हुआ अगस्त 19, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
    diet for chikungunya

    चिकनगुनिया होने पर मरीज का क्या होना चाहिए डायट प्लान(diet plan)?

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Mishita Sinha
    प्रकाशित हुआ अगस्त 18, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
    डेंगू बुखार के घरेलू उपाय

    डेंगू बुखार होने पर कौन-से घरेलू उपाय अपनाना सुरक्षित है?

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Anu sharma
    प्रकाशित हुआ अगस्त 11, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
    बरसात में होने वाली बीमारियां

    सबका ध्यान कोरोना पर ऐसे में कोहराम न मचा दें बरसात में होने वाली बीमारियां

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
    प्रकाशित हुआ जून 23, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें