ब्रेन स्ट्रोक से बचने के उपाय ढूंढ रहे हैं? तो इन फूड्स से बनाएं दूरी

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट जुलाई 31, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

फूड रेवलूशन एक्सपर्ट के एम.डी. माइकल ग्रेगर का कहना है, “ब्रेन स्ट्रोक से बचने के उपाय का सबसे सही तरीका है कि अपने आहार में हर तरह के आनाज का सेवन करें। इसमें हरी सब्जियां, दाल, बीन्स, सीड्स, साबुत आनाज, फल और नट्स शामिल करें। हालांकि, इनका भरपूर लाभ तभी मिलेगा जब आहार में विटामिन-बी 12 की मात्रा शामिल की जाए।”

आपको बता दें कि भारत में ब्रेन स्ट्रोक मौत के मुख्य कारणों में से एक है। एक रिसर्च के मुताबिक, अर्बन एरिया में 100,000 लोगों में तकरीबन 424 लोगों की मौत ब्रेन स्ट्रोक के कारण होती है। वहीं, ग्रामीण भाग में  100,000 में से तकरीबन 84-262 लोगों की मौत ब्रेन स्ट्रोक के कारण होती है। लेकिन घबराएं नहीं। आप ब्रेन स्ट्रोक से बचने के उपाय अपनाकर इस समस्या से बच सकते हैं। इस आर्टिकल में हम आपको ब्रेन स्ट्रोक से बचने के उपाय बताएंगे और साथ ही जानेंगे कि ऐसे कौन-से फूड्स से दूरी बनानी चाहिए, जो ब्रेन स्ट्रोक के खतरे को बढ़ा सकते हैं। जानिए ब्रेन स्ट्रोक से बचने के उपाय क्या हैं।

यह भी पढ़ेंः फाइब्रोमस्कुलर डिसप्लेसिया और स्ट्रोक का क्या संबंध है?

लाइफस्टाइल में बदलाव भी है जरूरी

अगर आप में या आपके किसी करीबी में ब्रेन स्ट्रोक के लक्षण या मस्तिष्क के दौरे के लक्षण दिखाई देते हैं, तो आपका डॉक्टर सबसे पहले उन्हें लाइफस्टाइल में कुछ जरूरी बदलाव लाने की सलाह देते हैं। उसके बाद ही वो दवाओं और अन्य उपचारों की विधियों की सलाह देते हैं, क्योंकि अस्वस्थ दैनिक आहार ब्रेन स्ट्रोक के खतरे को और भी ज्यादा बढ़ा सकते हैं। इसलिए ब्रेन स्ट्रोक से बचने के उपायों को जानने से पहले उन आहारों के बारे में समझें, जो ब्रेन स्ट्रोक का कारण बन सकते हैं।

यह भी पढ़ेंः अपना हार्ट रेट जानने के लिए ट्राई करें टार्गेट रेट कैलक्युलेटर

ब्रेन स्ट्रोक से बचने के उपाय जानने से पहले इन बातों का रखें ध्यान

कई अध्ययनों में बताया जा चुका है कि ब्रेन स्ट्रोक से बचने के उपाय के लिए प्लांट बेस्ड डायट सबसे उचित आहार होता है। क्योंकि, इनमें फाइबर की भरपूर मात्रा पाई जाती है। अगर प्रतिदिन अपने आहार में सात ग्राम फाइबर की मात्रा शामिल की जाए तो ब्रेन स्ट्रोक के जोखिम में लगभग 7 फीसदी की कमी की जा सकती है। लेकिन आमतौर पर अधिकतर लोग अपने पूरे आहार में सिर्फ 3 फीसदी ही फाइबर की मात्रा शामिल करते हैं।

यह भी पढ़ेंः रात को सोते समय बेवजह क्यों आने लगता है पसीना?

ब्रेन स्ट्रोक से बचने के उपाय आजमाने से पहले इन फूड्स से बनाएं दूरी

1. रेड मीट (Red Meat)

रेड मीट या अन्य मीट का सेवन करना स्ट्रोक के जोखिम को 10 फीसदी तक बढ़ा सकता है। मीट में हीम आयरन की अच्छी मात्रा होती है, जो स्वास्थ्य के अन्य स्थितियों के लाभकारी भी हो सकता है, लेकिन यह मस्तिष्काघात के खतरों को बढ़ाने का भी एक कारक हो सकता है। इसके अलावा पशुओं में पीसीबी जैसे विषैले प्रदूषक भी हो सकते हैं, जो एनिमल फैट का निर्माण करते हैं। यह खून को प्रदूषित भी कर सकता है। इसलिए इस तरह के खाद्य पदार्थों से दूरी बनानी चाहिए।

यह भी पढ़ेंः रेड मीट बन सकता है ब्रेस्ट कैंसर का कारण, इन बातों का रखें ख्याल

2. बेक्ड या पैक्ड फूड्स

चिप्स, बिस्कुट, मफिन्स, केक जैसे बेक्ड और पैक्ड फूड्स में हाई ट्रांस फैट मौजूद होता है। आमतौर पर इनके इस्तेमाल में हाइड्रोजेनेटेड (Hydrogenated) तेलों का इस्तेमाल किया जाता है, क्योंकि इन्हें कमरे के तापमान पर ठोस बनाए रखना जरूरी होता है। ट्रांस फैट की अधिक मात्रा हाई कोलेस्ट्रॉल और दिल के रोगों के को बढ़ा सकता है। इसलिए प्रतिदिन सिर्फ एक या दो ग्राम की मात्रा में ही ट्रांस फैट का सेवन करना चाहिए। पैक्ड या बेक्ड फूड्स खरीदने से पहले उनके पैक पर लिखे गए दिशा-निर्देशों को अच्छे से पढ़ें।

यह भी पढ़ेंः बच्चे को फूड एलर्जी से बचाने के लिए अपनाएं ये तरीके

3. डायट सोडा

अमेरिकन स्ट्रोक एसोसिएशन द्वारा अंतर्राष्ट्रीय स्ट्रोक सम्मेलन में एक शोध जारी किया गया था। इस दौरान उनका दावा था कि जो अगर दिन भर में सिर्फ एक डायट सोडा पिया जाए, तो यह भी स्ट्रोक का खतरा 48 फीसदी तक बढ़ा सकता है।

यह भी पढ़ेंः बच्चों के लिए 7 डायट्री सप्लिमेंट्स

4. स्मोक्ड और प्रोसेस्ड मीट

सॉसेज, हॉट डॉग, बेकन या स्मोक्ड टर्की सैंडविच अधिकतर लोगों का पसंदीदा फास्ट फूड होता है। हालांकि, इनका सेवन मस्तिष्क के दौरे का सबसे बड़ा कारक हो सकता है।

आइए अब जानते हैं ब्रेन स्ट्रोक से बचने के उपाय क्या हैं।

ब्रेन स्ट्रोक से बचने के उपाय – इन चीजों का करें सेवन

कुछ ऐसे खाद्य पदार्थ भी हैं, जिनका सेवन करना स्वास्थ्य के लिए लाभकारी भी होता है। हालांकि, वो मस्तिष्काघात के जोखिम को बढ़ा सकते हैं। ऐसे में आप उन खाद्य पदार्थों की जगह पर अन्य आहारों का इस्तेमाल कर सकते हैं, जैसेः

  • बटर की जगह लाइट या डायट मार्जरीन (Margarine) का इस्तेमाल करें
  • रेगुलर चीज की जगह लो-फैट या नॉनफैट चीज खाएं
  • क्रीमर के बजाय नॉनफैट क्रीमर का सेवन करें
  • 1 फीसदी फैट या नॉनफैट दूध ही पिएं
  • क्रीम पनीर के बजाय लो फैट या नॉनफैट क्रीम पनीर चुनें
  • रेगुलर आइसक्रीम की जगह नॉनफैट या लो फैट वाला जमा हुआ दही या शर्बत पी सकते हैं
  • क्रीम सॉस के बजाय जैतून तेल युक्त सॉस का इस्तेमाल करें
  • मेयोनेज के जगह पर लाइट या नॉनफैट मेयोनेज चुनें

अगर आपको या आपके परिवार के किसी सदस्य को ब्रेन स्ट्रोक पहले कभी आ चुका है, तो ब्रेन स्ट्रोक से बचने के उपाय के तहत उनका आहार अपने डॉक्टर द्वारा निर्देश नियमों के आधार पर ही चुनें। साथ ही, कुछ समय के अंतराल पर डॉक्टर से अपने पूरे स्वास्थ्य की जांच भी कराते रहें।

आपको बता दें कि ब्रेन स्ट्रोक एक ऐसी समस्या है, जो अचानक सामने आती है। लेकिन आप इस जानलेवा समस्या से बच सकते हैं। इसके लिए आपको अपनी जीवनशैली और खाद्य पदार्थों की आदत पर खास ध्यान देना होगा। आधी से ज्यादा बीमारी स्वस्थ जीवनशैली और अच्छा और पौष्टिक भोजन करने से ही दूर रहती हैं। इसी तरह ब्रेन स्ट्रोक को भी आप कुछ दैनिक आदतों और खाने की आदतों को बदल कर इस समस्या को काफी हद तक रोक सकते हैं। उम्मीद है आपको हमारे इस आर्टिकल में काफी जानकारियां मिल गई होंगी। अगर फिर भी आपके मन में इस समस्या से जुड़े कुछ सवाल हैं, तो हमसे हमारे फेसबुक पेज पर जरूर पूछें। हम आपके सभी सवालों के जवाब डॉक्टर की सलाह से देने की कोशिश करेंगे। साथ ही यह आर्टिकल ज्यादा से ज्यादा लोगों के साथ शेयर करके उन्हें ब्रेन स्ट्रोक से बचने के उपाय के प्रति जागरूक करें और उन्हें इसी बहाने एक अच्छी लाइस्टाइल अपनाने के लिए प्रेरित करें।

और पढ़ेंः-

दिल ही नहीं पूरे शरीर को फिट बना सकती है कयाकिंग

क्या डायबिटीज से हो सकती है दिल की बीमारी ?

यदि आप धूम्रपान बंद कर देते हैं तो जानें कितने पैसे बचा सकते हैं

कैसा हो मिसकैरिज के बाद आहार?

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

महिलाओं का दिमाग पुरुषों की तुलना में होता है छोटा, जानें एक्सपर्ट से मानव मस्तिष्क की जटिलताएं

मानव मस्तिष्क 80 बिलियन से ज्यादा न्यूरॉन्स होते हैं। ह्यूमन ब्रेन एक व्यक्ति के शरीर के वजन का 2% होता है और वसा और प्रोटीन से बना होता है। इसका वजन 1.2 से 1.4 किलोग्राम के बीच होता है। Human brain in hindi

के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
न्यूरोलॉजिकल समस्याएं, हेल्थ सेंटर्स जुलाई 22, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

Strocit Plus Tablet : स्ट्रोसिट प्लस टैबलेट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

स्ट्रोसिट प्लस टैबलेट जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, स्ट्रोसिट प्लस टैबलेट का उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Strocit Plus Tablet डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल जुलाई 21, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

Giant cell Arteritis: जायंट सेल आर्टेराइटिस क्या है?

जानिए जायंट सेल आर्टेराइटिस क्या है in hindi, जायंट सेल आर्टेराइटिस के कारण और लक्षण क्या है, Giant cell arteritis के लिए क्या उपचार है।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Kanchan Singh
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z अप्रैल 14, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

फेफड़ों के बाद दिमाग पर अटैक कर रहा कोरोना वायरस, रिसर्च में सामने आईं ये बातें

कोविड-19 में खांसी, जुकाम व सास लेने में दिक्कत होती है। ताजा रिपोर्ट के अनुसार, कोरोना वायरस से दिमाग पर असर हो रहा है, corona virus se dimaag par asar

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Mona narang
कोविड-19, कोरोना वायरस अप्रैल 13, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

टेलवास टैबलेट

Telvas Tablet : टेलवास टैबलेट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ अगस्त 21, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
एज्टर टैबलेट

Aztor Tablet : एज्टर टैबलेट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ अगस्त 19, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
टेल्मिकाइंड एच टैबलेट

Telmikind-H Tablet : टेल्मिकाइंड एच टैबलेट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ जुलाई 27, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
टेल्मिकाइंड एम टैबलेट

Telmikind-AM Tablet : टेल्मिकाइंड एम टैबलेट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ जुलाई 24, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें