home

What are your concerns?

close
Inaccurate
Hard to understand
Other

लिंक कॉपी करें

अट्रैक्टिव ही नहीं इंटेलिजेंट भी होती हैं हैवी बट वाली महिलाएं

अट्रैक्टिव ही नहीं इंटेलिजेंट भी होती हैं हैवी बट वाली महिलाएं

महिलाओं की खूबसूरती उनकी शारीरिक बनावट से और बढ़ जाती है। वैसे तो महिलाओं को समझदार माना जाता है, क्योंकि वो एक साथ कई चीजों को संभालती हैं। लेकिन, ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी द्वारा किए गए एक रिसर्च के अनुसार हैवी बट (Butt) वाली महिलाएं सामान्य महिलाओं से ज्यादा समझदार मानी गईं हैं।

जानें हैवी बट और अन्य शारीरिक बनावट से जुड़े कई मजेदार और रोचक तथ्य।

  • बड़ी पीठ वाली महिलाओं में कोलेस्ट्रॉल का स्तर कम हो सकता है और उनमें शर्करा के मेटाबॉलिज्म के लिए हॉर्मोन का उत्पादन करने की अधिक संभावना होती है।
  • डायबिटीज और हार्ट से जुड़ी बीमारियों का खतरा कम हो सकता है।
  • ऐसी महिलाएं जिनके बट्स हैवी होते हैं, उनमें ओमेगा 3 फैट की मात्रा अधिक होती है। ओमेगा 3 फैट ब्रेन के बढ़ने में मदद करता है।
  • हैवी बट वाली महिलाओं से जन्में बच्चे भी इंटेलिजेंट माने जाते हैं।
  • कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय के रिसर्च के अनुसार हैवी बट वाली महिलाओं सामान्य महिलाओं की तुलना में इनकी उम्र ज्यादा होती है।
  • हैवी बट्स इंटेलिजेंट होने को दर्शाता है और साथ ही गंभीर बीमारियों से भी बचाता है।

और पढ़ें : एक्सरसाइज से जुड़े 7 जरूरी टिप्स

बट्स को अट्रैक्टिव बनाने के लिए खास उपाए:

शरीर को सेहतमंद रखने के लिए पौष्टिक आहार की जरूरत होती है। ठीक वैसे ही शरीरिक बनावट अच्छी रहे इस लिए एक्सरसाइज करना भी बेहद जरूरी है। जानते हैं बट्स से जुड़ी एक्सरसाइज कौन-कौन सी हैं। हैवी बट पाना हर लड़की और महिला को पसंद होता है। सभी महिलाएं चाहती हैं कि वह आकर्षक दिखें।

महिलाएं आकर्षक दिखने के लिए हैवी बट्स चाहती है जिसके लिए वह अलग-अलग एक्सरसाइज भी करती हैं।

स्क्वाट एक्सरसाइज

स्क्वाट करने से हैमस्ट्रिंग मसल्स मजबूत बनते हैं, जो आपकी सभी शारीरिक गतिविधियों में सक्रिय रहती हैं। स्क्वाट एक्सरसाइज शरीर की ज्यादातर मसल्स को प्रभावित करती हैं। इस वर्कआउट से कंधे, कमर और पैर की सभी मसल्स मजबूत बनती है। इस एक्सरसाइज से मसल्स भी विकसित होती हैं। हैवी बट के लिए स्क्वाट करने की सलाह जिम ट्रेनर भी देते हैं। यह एक्सरसाइज जहां महिलाओं को हैवी बट बनाने में मदद करती है वहीं इससे मसल्स भी टोन होती है।

लंजेस एक्सरसाइज

शरीर के निचले हिस्से को मजबूत बनाने के लिए लंजेस एक्सरसाइज (Lunge Exercise) काफी असरदार है, जो आपके ग्लूट, क्वाड्स और हैमस्ट्रिंग मसल्स को मजबूत बनाती है। लंजेस एक्सरसाइज को कई तरीकों से किया जा सकता है। लंजेस एक्सरसाइज करने से बॉडी स्ट्रांग और फ्लेक्सिबल होती है साथ ही शरीर के निचले हिस्से की मसल्स में तनाव जैसी समस्याएं नहीं आती हैं। लंजेस एक्सरसाइज को कई तरह से किया जा सकता है, जिससे पैर समेत शरीर के ऊपरी हिस्से को भी मजबूत बनाया जा सकता है। हैवी बट के लिए लंजेस एक्सरसाइज भी किया जा सकता है।

लेग/हिप एक्सटेंशन एक्सरसाइज के फायदेः

हिप एक्सटेंशन एक्सरसाइज ग्लूट और हैमस्ट्रिंग को मजबूत बनाता है। पेट के बल लेटकर किया गया यह एक्सरसाइज नियमित करने से आप फर्क महसूस कर सकते हैं।

प्लाइ स्क्वाटः

कंधों की तुलना में पैरों के साथ खड़े होना शुरू करें और बाहर की ओर जांघों को आगे की ओर करें, हाथ छाती के सामने चिपके हुए हों। पेल्विस को टक करें और नीचे एक चौड़े पैर वाले स्क्वेट में नीचे की ओर जांघों को फर्श के समानांतर लाने का लक्ष्य रखें। वापस शुरू करने की पुजिशन पर जाएं। 15 रेप्स करें और फिर अपनी अगले रेप्स जारी रखें। हैवी बट के लिए प्लाइ स्क्वाट किया जा सकता है। यह हैवी बट के साथ जांघों को भी टोन करता है।

बॉडी वेट स्क्वैट :

इस वेरिएशन में आपको स्क्वैट की बेसिक फॉर्म को फॉलो करना है। इसे करने के लिए इक्यूपमेंट की जरूरत नहीं होती है। बस आपको अपने पैरों को कंधे की चौड़ाई पर रखते हुए हाथ को आगे करना है। फिर पीछे की ओर नीचे 90-100 डिग्री बैठना है। फिर आधा सेकेंड रुकने के बाद आपको ऊपर की ओर आना है। बॉडी वेट स्क्वैट से हैवी बट मेनटेन किया जा सकता है।

और पढ़ें : प्रेग्नेंसी का पांचवां महीना: कौन सी एक्सरसाइज करना है सही?

बार्बेल स्क्वैट :

स्क्वैट की इस वेरिएशन को करने के लिए आप इक्विपमेंट का भी इस्तेमाल कर सकते हैं। इसे करने के लिए आपको अपने कंधे के पीछे बार्बेल में अपनी कैपिसिटी के अनुसार वेट लगाकर स्क्वैट करना होता है। इसमें आपकी पुजिशन नॉर्मल होती है। बस आपके हाथ सामने की जगह बार्बेल को पकड़ने की में काम आते हैं। बार्बेल स्क्वैट से भी हैवी बट मेनटेन किया जा सकता है।

वॉल सिट एक्सरसाइज:

लोअर बॉडी टाइप में पैरों और जांघों में टोन लाने के लिए यह एक्सरसाइज काफी बढ़िया है। इस एक्सरसाइज को करने से बॉडी शेप बैलेंस में आती है। इसका फायदा अंदर से भी मिलता है। बॉडी के ऊपर से भी। इस एक्सरसाइज को करना काफी सिंपल है। दीवार के सहारे घुटनों के बल बैठ जाएं, फिर बल लगाते हुए ऊपर नीचे आएं।

और पढ़ें : जानिए किस तरह व्यायाम डालता है पाचन तंत्र पर असर

हैंडस्टैंड एक्सरसाइज :

इस एक्सरसाइज को करने से ब्लड सर्क्यूलेशन बढ़ता है। इस एक्सरसाइज का ज्यादा फायदा तभी मिलेगा, जब आप डेली करें। डेली हैंडस्टैंड करने से पूरी बॉडी को टोन मिलता है। यह एक्सरसाइज लोअर बॉडी के लिए काफी सही है। इसे करने के लिए बिगिनर्स दोनों हाथों को जमीन पर रखकर बॉडी का सारा वेट डालते हुए हाथों के बल पर खड़े हो जाएं। इस एक्सरसाइज को 30-60 सेकेंड तक करें।

फ्ल्टर किक :

इस एक्सरसाइज की मदद से पेट की मांसपेशियों और रीढ़ की हड्डियों को मजबूती मिलती है। फ्ल्टर किक करने के लिए जमीन पर लेट जाएं। यह एक्सरसाइज भी क्रंचेज की तरह होती है। इसमें दोनों पैरों को हवा में उठाते हैं और स्ट्रेट रहते हैं। यह होने के बाद हाथों की मदद से सिर को ऊपर की तरफ उठाएं और अब दोनों पैरों को एक दूसरे के ऊपर और नीचे से दाएं बाएं घुमाएं।

और पढ़ें : इसलिए डांस है फिटनेस की बेस्ट फॉर्म

एक्सपर्ट्स के अनुसार अगर आप बट से जुड़े एक्सरसाइज करते हैं तो निम्नलिखित नियमों का पालन करना चाहिए।

  • अपने लक्ष्य को निर्धारित कर करें एक्सरसाइज।
  • सकारात्मक सोंच रखें और सकारात्मक लोगों के संपर्क में रहें।
  • एक्सरसाइज रोजाना करें (कम से कम सप्ताह में 5 दिन अवश्य करें)।
  • अपनी सेहत के अनुसार डाइट चार्ट समझें और वही फॉलो करें।
  • अपने आपको मिरर (आईने) में जरूर देखें। इससे आप बॉडी शेप का अंदाजा लगा सकती हैं।

कभी-भी एक्सरसाइज शुरू करने से पहले अपने बॉडी को समझें और फिटनेस एक्सपर्ट से सलाह लें की आपका आहार कैसा होना चाहिए और आपको कौन-कौन सी एक्सरसाइज कर सकते हैं। इससे बेहतर रिजल्ट मिलने के साथ-साथ आप अपने आपको फिट भी महसूस कर सकती हैं। हैवी बट के लिए एक्सरसाइज के साथ-साथ डायट का ध्यान रखना भी जरूरी है।

health-tool-icon

बीएमआर कैलक्युलेटर

अपनी ऊंचाई, वजन, आयु और गतिविधि स्तर के आधार पर अपनी दैनिक कैलोरी आवश्यकताओं को निर्धारित करने के लिए हमारे कैलोरी-सेवन कैलक्युलेटर का उपयोग करें।

पुरुष

महिला

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर
Nidhi Sinha द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 26/10/2020 को
Dr Sharayu Maknikar के द्वारा एक्स्पर्टली रिव्यूड