home

What are your concerns?

close
Inaccurate
Hard to understand
Other

लिंक कॉपी करें

पेटेंट डक्टस आर्टेरियोसस : यह जन्मजात हृदय रोग कितना गंभीर हो सकता है, जानिए!

पेटेंट डक्टस आर्टेरियोसस : यह जन्मजात हृदय रोग कितना गंभीर हो सकता है, जानिए!

पेटेंट डक्टस आर्टेरियोसस (Patent Ductus Arteriosus) एओर्टिक में मौजूद एक अनक्लोज्ड होल को कहा जाता है। एओर्टिक हमारी मुख्य आर्टरी होती है, जो ब्लड को हार्ट से दूर शरीर के अन्य अंगों तक ले जाती है। डक्टस आर्टेरियोसस एक छेद होता है, जो ब्लड को लंग्स तक सर्कुलेट होने से रोकता है। बच्चे के जन्म से पहले, भ्रूण के रक्त को ऑक्सीजन प्राप्त करने के लिए फेफड़ों में जाने की आवश्यकता नहीं होती है। लेकिन, जब शिशु जन्म लेता है, तो फेफड़ों में खून के लिए ऑक्सीजन को रिसीव करना और इस छेद का बंद होना जरूरी है। अगर डक्टस आर्टेरियोसस खुली होती हैं, तो ब्लड सर्कुलेशन का जरूरी स्टेप स्किप हो सकता है। अगर यह छेद अधिक बढ़ा है, तो समस्याएं बदतर हो सकती हैं।

कई मामलों में छोटे पेटेंट डक्टस आर्टेरियोसस (Patent Ductus Arteriosus) शुरू में बंद नहीं होते हैं, लेकिन शिशु के बड़े होने पर यह खुद सील हो जाते हैं। आइए, जानते शिशु में होने वाले इस हार्ट डिफेक्ट के बारे में।

पेटेंट डक्टस आर्टेरियोसस की समस्या कितनी सामान्य है? (Patent Ductus Arteriosus)

पेटेंट डक्टस आर्टेरियोसस (Patent Ductus Arteriosus) बहुत सामान्य जन्मजात हृदय रोग है। जिसका शिकार बड़ी संख्या में शिशु होते हैं। प्रीमेच्योर शिशुओं को यह समस्या होने की संभावना अधिक होती है और लड़कियों में लड़कों के तुलना में यह समस्या अधिक देखी गई है। यह समस्या जानलेवा भी हो सकती है। जानिए, इस बीमारी के कारणों के बारे में।

और पढ़ें : बाईं ओर हार्ट फेलियर : दिल से जुड़ी इस तकलीफ की जानें एबीसीडी!

पेटेंट डक्टस आर्टेरियोसस के कारण (Causes of Patent Ductus Arteriosus)

यह जन्मजात हृदय रोग हार्ट के विकास में बाधा बनता है। लेकिन, इसके अक्सर कोई स्पष्ट कारण नहीं होते हैं। हालांकि, कुछ जेनेटिक फैक्टर्स इनमें एक भूमिका निभा सकते हैं। जन्म से पहले एक ओपनिंग ही शिशु की दो मुख्य ब्लड वेसल्स को जोड़ती है, जो शिशु के ब्लड सर्कुलेशन के लिए जरूरी हैं। जब गर्भ में बच्चे का विकास होता है, तो यह कनेक्शन उसके फेफड़ों से ब्लड को डायवर्ट कर देता है और बच्चे को मां के सर्कुलेशन से ऑक्सीजन प्राप्त होती है। लेकिन, जन्म के बाद डक्टस आर्टेरियोसस आमतौर पर दो या तीन दिन में बंद हो जाती है। प्रीमैच्योर नवजात शिशुओं में यह ओपनिंग बंद होने में सामान्य से अधिक समय लेती है।

अगर यह कनेक्शन खुला रह जाता है, तो इसे पेटेंट डक्टस आर्टेरियोसस (Patent Ductus Arteriosus) का नाम दिया जाता है। इस एब्नार्मल ओपनिंग के कारण शिशु के लंग्स और हार्ट से बहुत अधिक ब्लड फ्लो होता है। अगर इसका उपचार नहीं किया जाए, तो शिशु के लंग्स में ब्लड प्रेशर बढ़ जाता है और बच्चे का हार्ट एंलार्ज या कमजोर हो सकता है। इससे जुड़े रिस्क फैक्टर्स इस प्रकार हैं

  • प्रीमेच्योर बर्थ (Premature birth)
  • फैमिली हिस्ट्री या अन्य जेनेटिक कंडीशंस (Family history and Genetic conditions)
  • गर्भावस्था के दौरान रूबेला इंफेक्शन (Rubella infection during pregnancy)
  • हाय एल्टिट्यूट पर पैदा होना (Being born at High Altitude)
  • लड़कियों में यह समस्या होने की संभावना अधिक होती है (Sex)

अब जानिए क्या हैं इस हार्ट डिफेक्ट के लक्षण? ताकि समय पर इन लक्षणों को पहचाना जा सके।

हार्ट अटैक के बारे में जानें इस 3-D मॉडल के माध्यम से

और पढ़ें : दाईं ओर हार्ट फेलियर : दिल से जुड़ी ये दिक्कत बन सकती है परेशानी का सबब!

पेटेंट डक्टस आर्टेरियोसस के लक्षण (Symptoms of Patent Ductus Arteriosus)

पेटेंट डक्टस आर्टेरियोसस के लक्षण डिफेक्ट के साइज या शिशु प्रीमैच्योर है या नहीं, इस बात पर निर्भर करते हैं। छोटे पेटेंट डक्टस आर्टेरियोसस के कारण कोई लक्षण नजर नहीं आते हैं और कई बार युवावस्था तक इसका निदान नहीं हो पाता है। अगर डॉक्टर को बच्चे में हार्ट डिफेक्ट का संदेह हो, तो वो रेगुलर चेकअप के दौरान स्टेथोस्कोप से शिशु की हार्ट मर्मर को सुन कर इस समस्या का निदान कर सकते हैं। बचपन में बड़े पेटेंट डक्टस आर्टेरियोसस (Patent Ductus Arteriosus) के लक्षण इस प्रकार हो सकते हैं:

और पढ़ें : बायवेंट्रिकुलर हार्ट फेलियर : इस हार्ट फेलियर के लक्षणों को पहचानना क्यों है जरूरी?

पेटेंट डक्टस आर्टेरियोसस से जुड़ी जटिलताएं (Complications of Patent Ductus Arteriosus)

जन्म के तुरंत बाद पेटेंट डक्टस आर्टेरियोसस (Patent Ductus Arteriosus) के अधिकतर मामलों का निदान और उपचार किया जाता है। युवावस्था में इस समस्या के बारे में पता नहीं चलता है। लेकिन, युवावस्था में इसका निदान होने से कई स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं। ओपनिंग जितनी बड़ी होगी, कॉम्प्लीकेशन्स उतनी ही बदतर होती हैं। लेकिन, वयस्कों में यह समस्या दुर्लभ है। इस दौरान यह समस्या कई मेडिकल कंडीशंस का कारण बन सकती हैं, जैसे:

अनट्रिटिड एडल्ट पेटेंट डक्टस आर्टेरियोसस (Patent Ductus Arteriosus) के गंभीर मामलों में अतिरिक्त ब्लड फ्लो हार्ट के कारण हार्ट का साइज बढ़ सकता है व मांसपेशियों और हार्ट की सही तरीके से ब्लड पंप करने की क्षमता कमजोर हो सकती है। इससे कंजेस्टिव हार्ट फेलियर और मृत्यु तक की संभावना बढ़ सकती है। अब जानिए किस तरह से संभव है इस समस्या का निदान?

और पढ़ें : हार्ट वॉल्व डिस्प्लेसिया : दिल की इस बीमारी में कैसे रखें अपना ख्याल?

पेटेंट डक्टस आर्टेरियोसस का निदान कैसे होता है? (Patent Ductus Arteriosus Diagnosis)

इस समस्या का निदान अक्सर डॉक्टर बच्चे के हार्ट बीट को सुन कर करते हैं। यह समस्या अधिकतर मामलों में हार्ट मर्मर का कारण बनती है। जिसे डॉक्टर स्टेथोस्कोप के माध्यम से सुन सकते हैं। इसके साथ ही शिशु के हार्ट और लंग्स की स्थितियों के बारे में जानने के लिए चेस्ट एक्स-रे भी जरूरी है। हालांकि, प्रीमैच्योर शिशुओं में इसके लक्षण कुछ अलग हो सकते हैं। ऐसे में, डॉक्टर यह टेस्ट कराने की सलाह देते हैं:

  • एकोकार्डियोग्राम (Echocardiogram) : एकोकार्डियोग्राम वो टेस्ट है, जिसमें साउंड वेव्स का प्रयोग किया जाता है। ताकि शिशु के हार्ट की तस्वीर ली जा सके। इसमें दर्द नहीं होती है और इससे डॉक्टर को हार्ट के साइज का भी पता चलता है। यह टेस्ट इस बारे में भी बता सकता है कि कहीं रोगी को ब्लड फ्लो होने में समस्या तो नहीं है। पेटेंट डक्टस आर्टेरियोसस (Patent Ductus Arteriosus) के निदान के लिए भी यह सबसे सामान्य टेस्ट है।
  • इलेक्ट्रोकार्डियोग्राम (Electrocardiogram) : इलेक्ट्रोकार्डियोग्राम हार्ट की इलेक्ट्रिकल एक्टिविटी को रिकॉर्ड करता है और इर्रेगुलर हार्ट रिदम्स को भी डिटेक्ट करता है। शिशुओं में यह टेस्ट एंलार्जड हार्ट की पहचान भी करता है। अब जानिए कैसे संभव है इस बीमारी का ट्रीटमेंट?

और पढ़ें : हार्ट डिजीज के रिस्क को कम कर सकता है केला, दूसरी हेल्थ कंडिशन में भी है फायदेमंद

पेटेंट डक्टस आर्टेरियोसस का उपचार (Treatment of Patent Ductus Arteriosus)

उन मामलों में जहां डक्टस आर्टेरियोसस की ओपनिंग छोटी होती है, वहां ट्रीटमेंट की जरूरत नहीं होती। यह ओपनिंग खुद बंद हो सकती है, जब नवजात शिशु बड़े हो जाते हैं। इन मामलों में डॉक्टर लगातार शिशु की मॉनिटरिंग करते हैं। लेकिन, अगर यह ओपनिंग खुद से बंद नहीं होती है, तो जटिलताओं से बचने के लिए दवाइयां दी जा सकती हैं और सर्जिकल उपचार का भी प्रयोग किया जा सकता है। जानिए, इनके बारे में विस्तार से:

दवाइयां (Medication)

प्रीमैच्योर शिशुओं में एक ड्रग जिसे इंडोमिथैसिन (Indomethacin) कहा जाता है, पेटेंट डक्टस आर्टेरियोसस (Patent Ductus Arteriosus) में ओपनिंग को बंद करने में मदद कर सकती है। जब इसे इंट्रावेनसली दिया जाता है, तो यह दवा मांसपेशियों को संकुचित करने और डक्टस आर्टेरियोसस को बंद करने में मदद कर सकती है। इस प्रकार का उपचार आमतौर पर केवल नवजात शिशुओं में ही प्रभावी होता है। बड़े शिशुओं और बच्चों में, अन्य उपचार की आवश्यकता हो सकती है।

कैथेटर- बेस्ड प्रोसीजर (Catheter-Based Procedures)

नवजात शिशु और बच्चों जिनमें पेटेंट डक्टस आर्टेरियोसस (Patent Ductus Arteriosus) छोटा होता है। उन्हें डॉक्टर ट्रांसकैथेटर डिवाइस क्लोजर (Transcatheter Device Closure) प्रोसीजर की सलाह दे सकते हैं। यह प्रोसीजर आउटपेशेंट के रूप में काम करता है और इसमें बच्चे की छाती की ओपनिंग शामिल नहीं है। कैथेटर एक फ्लेक्सिबल ट्यूब होती है। यह डिवाइस वेसल के माध्यम से रक्त प्रवाह को अवरुद्ध करता है और सामान्य रक्त प्रवाह को सामान्य रूप से वापस होने में मदद करता है।

सर्जिकल ट्रीटमेंट (Surgical Treatment)

अगर ओपनिंग बड़ी है और खुद से बंद नहीं होती है, तो डिफेक्ट को सही करने के लिए सर्जरी की जरूरत हो सकती है। यह उपचार केवल उन्हीं बच्चों के लिए होता है, जो 6 महीने या उससे अधिक उम्र के हैं। हालांकि छोटे नवजात शिशुओं में भी इस उपचार का प्रयोग किया जा सकता है। अगर उनमें इस समस्या के लक्षण हों तो सर्जिकल प्रोसीजर के लिए डॉक्टर एंटीबायोटिक्स भी दे सकते है, ताकि शिशु बैक्टीरियल इंफेक्शन से बच सके।

और पढ़ें : ट्रायकसपिड अट्रीशिया : इस तरह से बचाएं अपने बच्चों को इस जन्मजात हार्ट डिफेक्ट से!

पेटेंट डक्टस आर्टेरियोसस और गर्भावस्था (Patent ductus Arteriosus and Pregnancy)

अगर किसी गर्भवती महिला को छोटे पेटेंट डक्टस आर्टेरियोसस (Patent Ductus Arteriosus) की समस्या है, तो उन्हें अधितकर मामलों में गर्भवस्था के समय कोई समस्या नहीं होती है। लेकिन अगर पेटेंट डक्टस आर्टेरियोसस बड़ा है, तो कई समस्याएं जैसे हार्ट फेलियर, एरिथमिया (Heart Arrhythmias) या पल्मोनरी हाइपरटेंशन (Pulmonary Hypertension) आदि हो सकती हैं। इस बारे में पहले ही डॉक्टर से जान लें। अगर यह समस्या गंभीर है, तो महिला को गर्भावस्था से बचना चाहिए। अब जान लेते हैं इस हार्ट प्रॉब्लम से बचाव के बारे में।

Quiz : कितना जानते हैं अपने दिल के बारे में? क्विज खेलें और जानें

और पढ़ें : ट्रायकसपिड अट्रीशिया : इस तरह से बचाएं अपने बच्चों को इस जन्मजात हार्ट डिफेक्ट से!

पेटेंट डक्टस आर्टेरियोसस से बचाव (Prevention of Patent Ductus Arteriosus)

पेटेंट डक्टस आर्टेरियोसस (Patent Ductus Arteriosus) से पीड़ित बच्चे इससे कैसे बच सकते हैं, इस बात को लेकर सही जानकारी मौजूद नहीं है। लेकिन, अगर आप गर्भवती हैं, तो इस दौरान अपनी हेल्थ का खास ध्यान रखना जरूरी हैं। ताकि इस हार्ट डिफेक्ट या अन्य समस्याओं के जोखिमों से बचा जा सके। इस दौरान आपको आपको इन चीजों का ध्यान रखना चाहिए:

  • गर्भवती होने से पहले ही, प्रीनेटल केयर (Prenatal Care) पर ध्यान दें जैसे धूम्रपान छोड़ना, तनाव से बचना आदि। इन सभी चीजों के बारे में आपको गर्भवती होने से पहले अपने डॉक्टर से बात करनी चाहिए। आप जो दवाएं ले रहे हैं, उन पर भी चर्चा करें।
  • हेल्दी डायट लें। जिसमें फल,हरी सब्जियां, साबुत अनाज के साथ ही विटामिन सप्लीमेंट (Vitamin Supplements) जिसमें फोलिक एसिड शामिल है, उन्हें लेना चाहिए।
  • नियमित व्यायाम करें। आपको कौन से व्यायाम करने चाहिए इस बारे में अपने डॉक्टर की सलाह लें।
  • जोखिमों से बचें, इसमें हार्मफुल सब्सटांस जैसे एल्कोहॉल, सिगरेट्स और अन्य हानिकारक ड्रग भी शामिल हैं।
  • गर्भावस्था से पहले वैक्सीनेशन के बारे में भी अपने डॉक्टर से जान लें। क्योंकि कुछ खास इंफेक्शन शिशु के विकास के लिए हानिकारक हो सकते हैं।
  • डायबिटीज को कंट्रोल करें। अगर आपको डायबिटीज है, तो गर्भावस्था से पहले और इस दौरान इस स्थिति को मैनेज करने के लिए अपने डॉक्टर से भी बात करें।
  • अगर आपको हार्ट डिफेक्ट्स या अन्य जेनेटिक डिसऑर्डर्स की फैमिली हिस्ट्री है, तो गर्भवती होने से पहले जेनेटिक काउंसलर से सलाह लें।

और पढ़ें : कैल्शियम चैनल ब्लॉकर्स: कई प्रकार की हार्ट डिजीज को मैनेज करने में करते हैं मदद

अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन (American Heart Association) के अनुसार हर बच्चा पेटेंट डक्टस आर्टेरियोसस (Patent Ductus Arteriosus) के साथ जन्म लेता है। जन्म के बाद इस ओपनिंग की जरूरत नहीं होती। यह शिशु के जन्म के कुछ दिनों के बाद ही तंग और बंद हो जाती है। लेकिन, कई मामलों में यह जन्म के बाद बंद नहीं होती है। डक्टस का बंद न होना प्रीमैच्योर नवजात शिशुओं में सामान्य है और यह अन्य बच्चों में दुर्लभ है। यही नहीं, अधिकतर बच्चों में इसका कारण भी पता नहीं होता। कुछ बच्चों में पेटेंट डक्टस आर्टेरियोसस के साथ अन्य हार्ट डिफेक्ट्स भी हो सकते हैं। अगर आपको हार्ट डिफेक्ट है, तो फैमिली प्लानिंग से पहले अपने डॉक्टर से सलाह लें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
AnuSharma द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 28/06/2021 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड