हानिकारक बेबी प्रोडक्ट्स से बच्चों को हो सकता है नुकसान, जाने कैसे?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट अगस्त 27, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

आजकल मार्केट में बच्चों के लिए कई तरह के बेबी प्रोडक्ट्स आ गए हैं। वैसे तो इन्हें बनाने वाली कंपनियां इनके सुरक्षित होने का दावा करती हैं लेकिन ये पूरा सच नहीं है। बच्चों के लिए उपलब्ध कॉस्मेटिक्स में ऐसे कई तरह के केमिकल्स होते हैं जो बच्चों की त्वचा और सेहत को नुकसान पहुंचा सकते हैं। ऐसे ही कुछ प्रोडक्ट्स के बारे में हम आपको यहां बताने जा रहे हैं।

सभी को लगता है कि बच्चों की देखभाल के लिए कॉस्मेटिक बेहद आवश्यक होते हैं। जबकि इसके विपरीत मार्कट में ऐसे कई हानिकारक प्रोडक्ट्स हैं जो आपके बच्चे को फायदे से ज्यादा नुकसान पहुंचा सकते हैं।

बच्चों के लिए बेबी प्रोडक्ट्स का सबसे अधिक इस्तेमाल एक्जिमा के इलाज के लिए किया जाता है। हालांकि, कई माता-पिता इस बात से अनजान होते हैं कि इन्हीं हानिकारक बेबी प्रोडक्ट्स के कारण शिशु को एक्जिमा जैसी गंभीर बीमारी हो सकती है। अक्सर लोग बच्चों की देखभाल के लिए साबुन, पाउडर, बाथ फोम, तेल और लोशन का इस्तेमाल करते हैं।

हानिकारक बेबी प्रोडक्ट्स क्या हैं?

आमतौर पर हानिकारक बेबी प्रोडक्ट्स पर वह प्रोडक्ट्स होते हैं जो 3 वर्ष से कम आयु वाले शिशुओं के लिए इस्तेमाल किए जाते हैं। बेबी प्रोडक्ट्स में रसायनों की मात्रा कम रखी जाती है और वह कम नुकसानदायक भी होते हैं। 

बच्चों को स्वस्थ रखने के लिए माता-पिता क्या कुछ नहीं करते। शिशु की त्वचा, बाल और सभी कुछ बेहद नाजुक होता है जिसे ज्यादा देखभाल की जरूरत होती है। इस एक्स्ट्रा केयर के लिए माता-पिता अपने बच्चों पर कई प्रकार के कॉस्मेटिक का इस्तेमाल करते हैं। मुलायम त्वचा के लिए लोशन, घने बालों के लिए बेबी शैम्पू और यहां तक कि खुशबु के लिए परफ्यूम।

यह भी पढ़ें – गर्भावस्था में कार्पल टनल सिंड्रोम की समस्या से कैसे बचें?

हानिकारक बेबी प्रोडक्ट्स और उनके नुकसान

बच्चों की देखभाल के लिए कई प्रकार के कॉस्मेटिक्स बनाए जाते हैं और इसकी इंडस्ट्री इस समय अरबों की है और लगातार बढ़ती चली जा रही है। बेहद आश्चर्य की बात तो यह है कि दुनिया को इस इंडस्ट्री की कोई आवश्यकता ही नहीं है। लोग सबसे अधिक कॉस्मेटिक्स बच्चों की त्वचा के लिए खरीदते हैं जबकि उनकी त्वचा इन हानिकारक बेबी प्रोडक्ट्स के बिना अधिक सुरक्षित होती है। आप अपने शिशु पर जितना कम शैम्पू, बॉडी लोशन, ऑयल और परफ्यूम लगाएंगे उनकी त्वचा को उतना ही ज्यादा फायदा होगा।

सबसे ज्यादा बिकने व आवश्यक माने जाने वाले बेबी प्रोडक्ट्स में कई प्रकार के टॉक्सिक पदार्थ होते हैं। इनके इस्तेमाल से ये पदार्थ शिशु के शरीर में जा सकते हैं। मार्केट में अपने शिशु के लिए सही कॉस्मेटिक प्रोडक्ट्स चुनना बेहद मुश्किल होता है खासतौर से तब जब सभी कंपनी अपने प्रोडक्ट्स को नेचुरल, शुद्ध और टॉक्सिक फ्री बताने का दावा करती हैं लेकिन असलियत कुछ और ही होती है।

तो हमने आपके लिए एक ऐसी लिस्ट तैयार की जिसकी मदद से आप हानिकारक बेबी प्रोडक्ट्स से अपने शिशु को बचा सकेंगे। निम्न हानिकारक बेबी प्रोडक्ट्स को अपने शिशु पर कभी न आजमाएं :

पाउडर

पाउडर एक ऐसा बेबी प्रोडक्ट है जो बच्चों की त्वचा का ख्याल रखने व खुशबु के लिए सबसे अधिक इस्तेमाल किया जाता है। बच्चों में डायपर रैश होना बेहद आम होता है जिसकी रोकथाम के लिए लोग अक्सर पाउडर का इस्तेमाल करते हैं। पाउडर में टाल्क नामक खनिज पदार्थ होता है जो कई गंभीर स्वास्थ्य स्थितियों का कारण माना जाता है। कई अध्ययनों के मुताबिक टाल्क के कारण कैंसर का खतरा बढ़ सकता है और इसमें अक्सर ऐस्बेटस नामक दूषित पदार्थ भी मिलाया जाता है।

मिनरल ऑयल

हम सभी ने हमेशा से सुना है कि शिशु की मांसपेशियों और हड्डियों को मजबूत बनाने के लिए मिनरल ऑयल का इस्तेमाल करना चाहिए। हालांकि, हकीकत में जरूरी नहीं है की आप इसके लिए केवल मिनरल ऑयल का ही इस्तेमाल करें। इस प्रकार के तेल पेट्रोलियम से बने होते हैं। ऐसा माना जाता है कि पेट्रोलियम त्वचा को कोई फायदा नहीं पहुंचाता है। इसलिए कोशिश करें कि आप अपने शिशु की मालिश के लिए प्राकृतिक तेल का इस्तेमाल करें न की पेट्रोलियम युक्त।

यह भी पढ़ें – पेरेंट्स आपके काम की बात, जानें शिशु में अत्यधिक चीनी के सेवन को कैसे करें कंट्रोल

पैराबेन (parabens)

पैराबेन रसायनो का एक समूह है जो ज्यादातर कॉस्मेटिक और बॉडी केयर प्रोडक्ट्स में इस्तेमाल किया जाता है। इस पदार्थ का 1920 से लेकर आज तक 75 से 90 प्रतिशत हानिकारक बेबी प्रोडक्ट्स में इस्तेमाल किया जाता है। हालांकि, यह पदार्थ बेबी प्रोडक्ट्स को बैक्टीरिया और मोल्ड से बचाने का काम करता है लेकिन बच्चों के लिए हानिकारक हो सकता है। अपने शिशु व स्वयं के लिए ऐसे कॉस्मेटिक प्रोडक्ट्स या चयन करें जो पैराबेन मुक्त हों।

परफ्यूम

कई माता-पिता अपने शिशु की सुगंध को बेहतर करने के लिए परफ्यूम का इस्तेमाल करते हैं। हालांकि, इस प्रोडक्ट की भी बच्चों को कोई आवश्यकता नहीं होती है क्योंकि आपके शिशु में पहले से ही उसकी खुद की एक अलग खुशबु होती है जो अपने में ही परफ्यूम से गई गुना बेहतर होती है। परफ्यूम में 3 से 5 प्रतिशत तक कई प्रकार के तेल मिलें होते हैं और 80 से 90 प्रतिशत तक अल्कोहल। अल्कोहल बेहद हानिकारक रसायन होता है जो शिशु की त्वचा को प्रभावित कर सकता है।

थैलेट

थैलेट एक ऐसा रसायन है जो मुख्य रूप से प्लास्टिक के प्रोडक्ट्स में लचीलापन, पारदर्शिता और टिकाऊपन बढ़ाने के लिए डाला जाता है। बच्चों के खिलौनों जैसे गुड्डे-गुड़िया, गाड़ियां और फोन सभी में थैलेट रसायन मिलाया जाता है। बच्चे अक्सर अपने खिलौनों को गलती से मुंह में लेते हैं जिनके कारण कई गंभीर स्थितियां उत्पन्न हो सकती हैं। लेकिन थैलेट के कारण यह जोखिम और भी अधिक बढ़ जाता है। थैलेट निगलने में बेहद हानिकारक होता है जिसके कारण शिशु को विकास संबंधी समस्याएं आ सकती है।

यह भी पढ़ें – बेबी केयर के लिए 10 टिप्स जो हर पेरेंट को जानना है जरूरी

फ्लेम रिटार्डेंट

फ्लेम रिटार्डेंट्स गाड़ियों की सीट से लेकर पजामों के निचले हिस्से व बच्चों के कई प्रोडक्ट्स में इस्तेमाल किया जाने वाला रसायन है। इस रसायन का इस्तेमाल इसलिए किया जाता है ताकि प्रोडक्ट में जल्दी आग न लगे। हालांकि, इस रसायन के संपर्क में आने से शिशुओं के मानसिक विकास पर प्रभाव पड़ सकता है। इसके अलावा इससे हाइपरएक्टिविटी (असामान्य रूप से गतिविधि करना) और ऑटोइम्यून डिसऑर्डर होने का खतरा भी बढ़ जाता है।

बेबी लोशन

क्या आपके शिशु को मॉइस्चराइजर की आवश्यकता है? कुछ शिशुओं की त्वचा सूखी होती है या उन्हें एक्जिमा जैसी गंभीर बीमारी हो सकती है। इन दोनों ही मामलों में आपको अपने शिशु के लिए ऐसे मॉइस्चराइजर की आवश्यकता पड़ सकती है जिनमें निम्न रसायन न हों :

  • प्रोपलीन ग्लाइकोल
  • ग्लाइसेरिल स्टीयरेट
  • ओलिक एसिड
  • स्टीयरिक एसिड
  • आइसोप्रोपिल पामिटेट
  • सॉर्बिटन स्टीयरेट
  • बेंजीन अल्कोहल
  • बेंजीन
  • बीएचटी
  • सोडियम हाइड्रोक्साइड

यह भी पढ़ें – सोशल मीडिया से डिप्रेशन शिकार हो रहे हैं बच्चे, ऐसे करें उनकी मदद

बच्चे के लिए कॉस्मेटिक प्रोडक्ट्स के अन्य विकल्प क्या है?

हालांकि, ऐसा नहीं है कि बच्चों के लिए मार्केट में कोई भी कॉस्मेटिक उपलब्ध न हों। शिशु की देखभाल के लिए आप प्राकृतिक कॉस्मेटिक प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल कर सकते हैं। प्राकृतिक बेबी प्रोडक्ट्स के कोई साइड इफेक्ट्स भी नहीं होते हैं जिसके कारण यह आपके शिशु के लिए एक बेहतर विकल्प होता है। इसके अलावा यह मार्केट में ब्रांडेड कॉस्मेटिक प्रोडक्ट्स के मुकाबले बेहद सस्ते दामों पर उपलब्ध हैं।

केमिकल और गंभीर दुष्प्रभावों वाले हानिकारक बेबी प्रोडक्ट्स से बचने के लिए निम्न प्राकृतिक विकल्पों का चयन करें :

बच्चों के लिए बना खास बेबी पाउडर

बच्चों की त्वचा काफी नाजुक और मुलायम होती है जिसके कारण यह टॉक्सिक पदार्थो के संपर्क में आने से क्षतिग्रस्त हो सकती है। आपको अपने शिशु के लिए ऐसा पाउडर चुनना चाहिए जिसमें न तो खुशबु हो और नहीं टॉल्क रसायन।

यह भी पढ़ें – कम उम्र में प्रेग्नेंसी हो सकती है खतरनाक, जानें टीन प्रेग्नेंसी के कॉम्प्लीकेशन

डाईपर रैश क्रीम की जगह करें नारियल तेल का इस्तेमाल

बच्चों के कूल्हों पर रैश होना एक सामान्य समस्या होती है। हालांकि, लोग अक्सर इसके इलाज के लिए डायपर रैश क्रीम का इस्तेमाल करते हैं जिसमें कई प्रकार के रसायन मौजूद होते हैं। डॉक्टर इस बात की सलाह देते हैं कि 3 वर्ष की आयु से कम वाले शिशुओं की त्वचा पर किसी भी प्रकार के केमिकल का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। ऐसे में डायपर रैश जैसी समस्या के इलाज के लिए आप चाहें तो नारियल तेल का विकल्प चुन सकते हैं।

नारियल तेल को आयुर्वेदिक औषधि भी माना जाता है। इस तेल में एंटीफंगल और एंटीमाइक्रोबियल गुण होते हैं जो शिशु की त्वचा पर हो रहे दानों को ठीक करने में मदद करते हैं।

शिशु की करें तेल से मालिश

शिशु की त्वचा की ही तरह उनके बाल भी बेहद नाजुक होते हैं जो बेहद आसानी से टूट सकते हैं। शिशु पर केमिकल युक्त तेल का इस्तेमाल बिलकुल नहीं करना चाहिए। इसकी जगह आप चाहें तो कुछ प्राकृतिक तेलों का इस्तेमाल कर सकते हैं। शिशु के बालों के लिए सबसे बेहतर नारियल तेल, जैतून का तेल और तिल का तेल माना जाता है। यदि शिशु के सिर पर कोई चोट लगी है तो इनमें से किसी एक तेल से उसके सिर की मालिश करें और समय के लिए तेल को प्रभावित हिस्से पर लगा रहने दें।

मॉइस्चराइजर फॉर किड्स

सच बताएं तो आपके शिशु को किसी प्रकार के मॉइस्चराइजर की कोई आवश्यकता नहीं होती है। हालांकि, स्नान के बात सूखी त्वचा व एक्जिमा के लक्षण दिखाई देने पर ऑलिव ऑयल, कोकोनट ऑयल या जोजोबा ऑयल का इस्तेमाल करना चाहिए।

यह भी पढ़ें – क्या आप भी विश्वास करते हैं सेक्स से जुड़ी इन बातों पर?

बेबी शैम्पू

अपने शिशु के बालों की एक्स्ट्रा केयर के लिए होममेड शैम्पू का इस्तेमाल करें। इसके लिए आपको कैस्टिल साबुन और लैवेंडर तेल व साफ पानी की आवश्यकता पड़ेगी। कैस्टिल साबुन कई प्रकार के प्राकृतिक तेलों से बना होता है। इसलिए मार्केट में इसे खरीदते समय बॉक्स पर लिखी सामग्री को ध्यान से पढ़ लें। आप चाहें तो लैवेंडर ऑयल के बिना भी इसका इस्तेमाल कर सकते हैं।

बच्चों के लिए तेल

मार्केट में बच्चों के लिए मिलने वाले अधिकतर तेलों में मिनरल ऑयल होता है। यह शिशु की मुलायम त्वचा के लिए इर्रिटेटिंग हो सकता है। प्राकृतिक विकल्प के लिए आपको अपने शिशु के लिए ऑर्गेनिक नारियल तेल या कोल्ड प्रेस ऑलिव ऑयल का इस्तेमाल करना चाहिए।

बेबी प्रोडक्ट्स : डायपर

भारत में लोग बच्चों के लिए डायपर का बहुत इस्तेमाल करते हैं। हालांकि, कुछ अध्ययनों की माने तो कई ऐसे भी लोग हैं जो इनकी महंगी कीमत के कारण इन्हें अफोर्ड नहीं कर पाते हैं। आज हम आपको इन महंगे डायपर कॉस्मेटिक का एक घरेलू नुस्खा बताने जा रहे हैं जो सस्ते होते हैं। आप डाइपर की जगह चाहें तो पेपर टॉवल, कैस्टिल ऑयल और एलोवेरा जूस का इस्तेमाल कर सकते हैं। इन सभी सामग्री की मदद से शिशु की त्वचा भी सुरक्षित रहती है।

अपने शिशु की एक्स्ट्रा देखभाल के लिए हमेशा प्राकृतिक विकल्पों का ही चयन करें। मार्केट में उपलब्ध हानिकारक बेबी प्रोडक्ट्स न केवल महंगे होते हैं बल्कि उनके आपके शिशु पर कई साइड इफेक्ट्स भी पड़ सकते हैं। प्राकृतिक विकल्पों की मदद से आपके शिशु को बीमारियां भी कम होंगी और जिसकी वजह से उनके विकास में देरी नहीं आएगी।

और पढ़ें – बेबी शॉवर के लिए 7 सबसे आसान टिप्स और गेम

और पढ़ें – First time Sex: महिलाओं के पहली बार सेक्स के दौरान होने वाले शारीरिक बदलाव

और पढ़ें – कैसे करें वजायना की देखभाल?

और पढ़ें – MTHFR गर्भावस्था: पोषक तत्व से वंचित रह सकता है आपका शिशु!

और पढ़ें – नवजात शिशु की नींद के पैटर्न को अपने शेड्यूल के हिसाब से बदलें

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

संबंधित लेख:

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    कैसे करें आईसीयू में एडमिट बच्चे की देखभाल?

    how to care your child in ICU in hind, ICU में बच्चे की देखभाल कैसे करें?मां-बाप के लिए कितना मुश्किल होता है अपने बच्चे को आईसीयू में देखना।

    के द्वारा लिखा गया shalu
    बच्चों की देखभाल, पेरेंटिंग मई 13, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

    गर्भावस्था में पिता होते हैं बदलाव, एंजायटी के साथ ही सेक्शुअल लाइफ पर भी होता है असर

    गर्भावस्था में पिता को कई बदलावों से गुजरना पड़ता है। यह शारीरिक होने के साथ ही मानसिक भी होते हैं। इस आर्टिकल में हम आपको कुछ ऐसे बदलावों के बारे में बता रहे हैं जो प्रेग्नेंसी के दौरान भावी पिता में दिखाई देते हैं।

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha

    क्या है पतली आईब्रो को माइक्रोब्लेडिंग कर मोटा करने की प्रक्रिया, जाने पूरी जानकारी

    माइक्रोब्लेडिंग करवाने के खर्च से लेकर आखिर कौन करवाता है इसे, मौजूदा समय में कास्मेटिक ट्रीटमेंट में क्यों हो रहा है पॉपुलर, जाने पूरी जानकारी।

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Satish singh
    ब्यूटी/ ग्रूमिंग, स्वस्थ जीवन मई 5, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें

    लॉकडाउन के दौरान पेरेंट्स को डिसिप्लिन का तरीका बदलने की है जरूरत

    लॉकडाउन में पेरेंटिंग टिप्स: लॉकडाउन को 42 दिन हो चुके हैं। घर में कैद बच्चे मानसिक रोग के शिकार हो रहे हैं। एक्सपर्ट्स ने बताया बच्चों का कैसे रखें ख्याल?

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Mona narang
    कोविड-19, कोरोना वायरस मई 5, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

    Recommended for you

    Online Education- बच्चों के लिए ऑनलाइन एज्युकेशन

    कोविड-19 के दौरान ऑनलाइन एज्युकेशन का बच्चों की सेहत पर क्या असर हो रहा है?

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
    के द्वारा लिखा गया Kanchan Singh
    प्रकाशित हुआ अगस्त 12, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
    मानसिक मंदता

    क्या मानसिक मंदता आनुवंशिक होती है? जानें इस बारे में सबकुछ

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
    प्रकाशित हुआ अगस्त 7, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
    न्यू मॉम के लिए सेल्फ केयर व पेरेंटिंग हैक्स और बॉडी इमेज - Parenting Hacks, Self Care for New Moms, Body Image

    न्यू मॉम के लिए सेल्फ केयर व पेरेंटिंग हैक्स और बॉडी इमेज

    के द्वारा लिखा गया Sanket Pevekar
    प्रकाशित हुआ अगस्त 1, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें
    बॉडी शेमिंग -body shaming

    बच्चों को बॉडी शेमिंग से कैसे बचाएं?

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया sudhir Ginnore
    प्रकाशित हुआ मई 19, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें